जमशेदपुरः घूस लेते पकड़े गए अधिकारी के मामले ने तूल पकड़ा, बेटे ने लगाया पिता को फंसाने का आरोप - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 28 अप्रैल 2020

जमशेदपुरः घूस लेते पकड़े गए अधिकारी के मामले ने तूल पकड़ा, बेटे ने लगाया पिता को फंसाने का आरोप

टाटानगर रेल थाना में पदस्थापित सहायक अवर निरीक्षक भरत शुक्ला को एसीबी द्वारा घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार करने का मामला तूल पकड़ने लगा है. इस मामले में आरोपी के बेटे ने डीजीपी को पत्र लिखकर फंसाने का आरोप लगाया है. 
officer-son-blame-fake-case-on-his-father
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता)  बीते एक मार्च को टाटानगर रेल थाना में पदस्थापित सहायक अवर निरीक्षक भरत शुक्ला को एसीबी द्वारा घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार करने का मामला अब तूल पकड़ने लगा है. इस मामले में आरोपी के बेटे ने डीजीपी को पत्र लिखकर अपने पिता को फंसाने का आरोप लगाया हैं. इसके साथ डीजीपी को उसके द्वारा स्टिंग ऑपरेशन के एक सीडी भी डीजीपी को भेजी है. इस सबंध में विनय शुक्ला ने बताया कि शिकायतकर्ता सरवन कुमार देवगन ने साजिश के तहत उसके पिता को फंसाया है और इसमें कई लोग भी शामिल हैं. विनय ने बताया कि उनके पिता विगत 4 महीनों से काफी बीमार है, वे किसी से पैसा मांगने घटनास्थल पर नहीं गए थे. बल्कि उन्हें फोन कर बुलाया गया था. विनय का कहना है कि शिकायतकर्ता टाल संचालक नहीं है. विनय ने एसीबी पर भी कई गंभीर आरोप लगाए हैं. विनय का कहना है कि एसीबी द्वारा यह जांच एक बार भी नहीं की गई कि शिकायतकर्ता का स्क्रेप टाॅल आखिर कहां है. वह खुद टाल संचालक हैं भी या नहीं. विनय शुक्ला के अनुसार इस पूरे मामले में चंदन मुखी नामक युवक भी शामिल है, जो उनके पिता को 21 फरवरी से लगातार फोन कर अलग-अलग जगह मिलने की जिद कर रहा था. जबकि उनके पिता उसे जानते तक नहीं थे. विनय ने कहा कि 1 मार्च को उनके पिता बिष्टुपुर स्थित मेडिटेक डायग्नोसिस सेंटर डॉक्टर में एनके गुप्ता से मिलने जा रहे थे. इसी दौरान शिकायतकर्ता श्रवण ने फोन कर उनके पिता को बिष्टुपुर मिलने के लिए बुलाया. वहां उसने यह कहते हुए उनके हाथ में पैसा थमा दिया कि चंदन ने यह पैसे उन्हें देने को कहा है तभी एसीबी की टीम ने उन्हें पकड़ लिया. विनय ने कहा कि इस पूरे प्रकरण की फिर से जांच हो, ताकि सच्चाई का पता चल सके.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...