मधुबनी : दुबारा लाॅकडाउन बढ़ने से सामाजिक संगठनों की बढ़ी जिम्मेदारियांः फहीम बकर मुसा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 16 अप्रैल 2020

मधुबनी : दुबारा लाॅकडाउन बढ़ने से सामाजिक संगठनों की बढ़ी जिम्मेदारियांः फहीम बकर मुसा

second-lock-doen-encrease-responsiblity
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) कोरोना वायरस जैसी महामारी को हराने के लिए आज पूरा देश एकजुट होकर लड़़ रहा है। इस महामारी से निपटने के लिए गरीब मजदूर विशेष रूप से रोजाना कमाने खाने वालों को कठिनाइयों का सामना भी बड़े पैमाने पर करना पड़़ रहा है। ऐसी महामारी में जो लोग परेशान हैं हमारी आपकी जिम्मेदारी है कि ऐसे लोगों की मदद करें।  बिहारयूवासमाजिकसगंठन* के कार्यकर्ताओं के हाथों सैकड़ों गरीब बेसहारा लोगों के बीच राहत सामग्री वितरण किया गया और यह कार्य लगातार जारी है और रहेगा। उक्त जानकारी देते हुए बिहार यूवा समाजिक सगंठन के अध्यक्ष फहीम बकर मुसा  ने बताया कि 21 दिनों के लाॅकडाउन के बाद फिर से दुबारा 19 दिनों का लाॅकडाउन बढ़ा दिया गया है जिससे सामाजिक संगठनों की जिम्मेदारियां बढ़ गई हैं। अधिक संख्या में सामाजिक संगठनें और सामाजिक कार्यकर्त्ता राहत कार्य में लगे हैं हम उनके जज्बे को सलाम करते हैं और उम्मीद करते हैं कि यह सिलसिला आगे और मजबूती के साथ जारी रखेंगे क्योंकि सरकारें सिर्फ एलान तक ही सिमित हैं। गरीबों तक राशन उपलब्ध कराने में सरकारें नाकाम साबित हो रही हैं। करोड़ों की संख्या में गरीब बेसहारा विशेष रूप से रोजाना कमाने खाने वाले लोगों को इस लाॅकडाउन से काफी परेशानियां हो रही हैं। लाखों की संख्या में गरीब मजदूर भटक रहे हैं इसलिए हम चाहते हैं कि इस परेशानी की घड़ी में जो लोग भी हर स्तर पर मजबूत हैं और अल्लाह ने उन्हें हर प्रकार की सहुलियात से नवाजा है ऐसे लोग आगे आएं और गरीब बेसहारा लोगों की मदद करें। बिहार यूवा सामाजिक संगठन इस मुहिम से जुड़ने की अपील करता है। BYSS ने अपने सभी जिम्मेदारो जैसे राशिद खलील,इनायत हन्नान,कबीर अंसारी,अखलाक,गुड्डू शैख़,समीउल्लाह,अकील बाबू,आकिब,आदिल, नेहाल,समी,रेयाज,कमरुल,रहमत आजम आदि का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि सभी जिम्मेदारान मुबारकबाद के मुस्तहिक हैं लगातार राहत कार्य में लगे हैं और हम उम्मीद करते है कि कोरोना को हराने तक और अगर कोरोना को हराने के बाद भी अगर कोई भूखा है तो हमलोग उन सभी को राशन पहुचाने का कार्य करेंगे इस मुहिम को सभी लोग मिलकर पूरी तरह से भखमरी से आजाद करने तक तक जारी रखेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: