सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 20 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 20 अप्रैल 2020

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 20 अप्रैल

स्व- सहायता समूह की पहल: जरूरतमंदों को दी जा रही है  खाद्य सामग्री (अच्छी खबर)

कोविड-19 कोरोना महामारी का प्रकोप प्रदेश में दिनों दिन बढ़ रहा है। इसके रोकथाम हेतु म.प्र. राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन जिला सीहोर एवं जिले के पांचों विकासखण्ड में जुड़ी स्व सहायता समूह की महिलाओं ने कोरोना महामारी से निपटने के लिये पहल करते हुये दिन-रात मेहनत कर मास्क एवं सेनेटाईजर का निर्माण कार्य तीव्र गति से किया जा रहा है। सीहोर जिले के विकासखण्ड सीहोर, बुदनी एवं नसरूल्लागंज में ग्राम बिजोरी, पतलोना, सैकड़ाखेड़ी, देहरी, हैदरगंज, गिल्लौर, सतार में स्व सहायता समूह की दीदियों द्वारा यह सराहनीय कार्य किया जा रहा है। ग्राम पंचायत गिल्लोर में राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत गठित दुर्गा शक्ति आजीविका ग्राम संगठन की स्व सहायता समूहों की महिलाओ द्वारा भोजन हेतु अपना सहयोग दिया जा रहा है। कोरोना महामारी के संकट के चलते लोग बड़ी संख्या में शहर से गांव की ओर पलायन कर रहे हैं जनपद पंचायत नसरुल्लागंज द्वारा उत्तर प्रदेश से आये हुये 125 श्रमिको के लिए कैंप का आयोजन किया गया है जिसमे उन्हें आवासएभोजन आदि की सुविधा उपलब्ध करायी जा रही है दरअसल कोरोना वायरस से बचाव के लिये देश भर में अपने.अपने स्तर पर प्रयास चलाये जा रहे हैं ऐसे में नसरुल्लागंज के ग्रामीण क्षेत्र की स्व सहायता समूह की महिलाओं के लिये यह एक ओर पहल की गयी है एग्राम पंचायत गिल्लोर में मण्प्रण्राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत गठित दुर्गा शक्ति आजीविका ग्राम संगठन की स्व सहायता समूहों की महिलाओ द्वारा कैंप में सहयोग करने के उदेश्य से ग्राम संगठन की महिलाओं द्वारा भोजन हेतु 107 किलो गेहूं, 10 किलो आलू, 10 किलो बैगन, 5 किलोएटमाटर, 27 किलो हरी मिर्च 1 किलो धनिया आदि उपलब्ध कराया गया। दुर्गा शक्ति आजीविका ग्राम संगठन की अवन्ती बाई, गुलता बाई, तारा बाई, श्वेता इवने, कुसुम बाई दावर बताया गया की यह हमारे ग्राम संगठन की महिलाओं ने सभी समूह सदस्यों से चर्चा कर बहार से आये लोगो के लिए के लिए सहायत हेतु कुछ सहायता करने हेतु कहा गया जिस पर सभी ने सुखा अनाज देने का निर्णय लिया  साथ ही आस पास के गाँव में भी इस तरह की सेवा हेतु सभी ने अपनी सहमती दी। स्थानीय स्तर पर स्व सहायता समूह की दीदियों द्वारा ग्राम पंचायत के ग्रामों में भ्रमण कर उनके जीवन निर्वाहन हेतु गरीब परिवारों को आवश्यक वस्तुओं एवं खाने का सामान उपलब्ध कराया जा रहा है जिससे उन्हें परेशानी का सामना न करने पड़े।

पिछले 24 घंटों में की गई 362 लोगों की स्कीनिंग  

स्वास्थ्य विभाग के अमले द्वारा मैदानी स्तर पर ग्राम एवं शहरी वार्डो में निरंतर घर-घर सर्वे कर विदेश से सीहोर जिले में लौटे तथा अन्य जिलों व राज्यों से व्यक्तियों की खोजबीन की जा रही है। पिछले 24 घंटे के दौरान जिले में अन्य राज्यों व अन्य जिलों से आए हुए करीब 74 व्यक्तियों की पहचान व पता लगाकर उनकी तत्काल स्क्रीनिंग की गई तथा उन्हें होम क्वारेंटाईन किया गया है। सीहोर जिले में अन्य जिलों अथवा राज्यों से लौटे हुए यात्रियों की संख्या अब तक कुल 27557 है। उन्हें होम कोरेंटाईन से संबंधित गाईड लाईन की जानकारी प्रदान कर सख्त हिदायत दी गई है कि होम कोरेंटाइन गाइड लाइन का कड़ाई से पालन करेंगे। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सुधीर डेहरिया ने जानकारी दी कि जिले में अन्य देशों से सीहोर पहुंचे कुल व्यक्तियों की संख्या 232 है जिनमें से 184 लोगों की अब तक स्क्रीनिंग स्वास्थ्य विभाग द्वारा की जा चुकी है। पिछले 24 घंटों के दौरान 74 ऐसे व्यक्तियों की पहचान की गई जो अन्य राज्यों और अन्य जिलों से लौटे थे इन सभी व्यक्तियों की तत्काल स्क्रीनिंग कर इन्हें 20 अप्रैल को ही होम कोरेंटाईन कर दिया गया है जिले में अब तक होम कोरेंटाईन किए गए व्यक्तियों की संख्या 27557 है। डॉ.डेहरिया ने बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान ऐसे व्यक्ति जो विदेश से सीहोर जिले में नहीं लौटे थे परंतु अन्य जिलों एवं राज्यों से लौटे थे और विभागीय अधिकारियों कर्मचारियों द्वारा घर-घर सर्वे के दौरान चिन्हित किए गए। पिछले 24 घंटों में होकोंरेटाईन की अवधि से 362 लोग बाहर आ चुके हैं जबकि अब तक 21015 व्यक्तियों का होम कोरेंटाइन पूर्ण किया जा चुका है। जिले से अब तक 120 सेम्पल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 85 की रिपोर्ट अब तक निगेटिव प्राप्त हुई है। सोमवार को ही 10 सेम्पल जांच के लिए भोपाल भेजे गए है। 10 सेंपलों सहित कुल 31 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। आज की स्थिति में हास्पिटल आईसोलेशन में भर्ती मरीजों की संख्या, कोरोना संक्रमण पाजीटिव मरीजों की संख्या शून्य है। विभाग की ओर से मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर 7247704181 है इस नंबर पर बाहर से बाहर से आए हुए व्यक्तियों की जानकारी 24 घंटे दी जा सकती है। वहीं कलेक्ट्रेट कार्यालय में भी 24 घंटे के लिए काल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 9893635076 है इस नंबर पर संपर्क कर कोविड-19 के संबंध में किसी प्रकार की सलाह ली जा सकती है 24 घंटे संचालित उक्त काल सेंटर में चिकित्सा अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है जिनके द्वारा विदेश, अन्य राज्यों व जिलों से आकर होम कोरेंटाइन किए गए व्यक्तियों को फोनकर  प्रतिदिन फीडबैक लिया जाता है तथा इसकी जानकारी जिला स्तरीय नोडल अधिकारी, संबंधित ब्लाक मेडिकल आफिसर को तत्काल दी जाती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसिन सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-401259 है यहां पर टेलीमेडिसिन के संबध में उचित सलाह ली जा सकती है।

बैंक बीसी सखियाँ बनी कोरोना वारियर्स अब तक किया 1 करोड़ से अधिक का ट्रांजेक्शन

sehore news
सीहोर जिले में महिलाओं के जनधन खाते में जारी की गई राहत राशि का वितरण बैंक बीसी सखियों के माध्यम से जारी है । बैंकों द्वारा बैंक सखियों को आवश्यक सेवा प्रदाता माना गया है। वहीं एक और स्व-सहायता समूह की महिलाओं का एक बड़ा वर्ग मास्क निर्माण में जुटा है तो दूसरी और यह बैंक सखी इस मुसीबत के समय में जरूरतमंद लोगों को सुविधाएं उपलब्ध करा रही है। उल्लेखनीय है कि सरकार द्वारा महिलाओं के जनधन बैंक खातों में राहत राशि जमा की घोषणा की गई है। जो खातों मे आना शुरू हो गई है एवं जिसकी निकासी का कार्य शुरू हो गया है। बैंकों ने भी बैंक शाखा में लगने वाली भीड़ को परिवर्तित करते हुए यह जिम्मेदारी बैंक बीसी सखियों को भी दी है। मप्र राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन द्वारा बैंक बीसी सखी माडल का नवाचार किया गया था जिससे ग्रामीण क्षेत्र में स्व सहायता समूह की महिलाओं एवं अन्य लोगों को घर पर ही बैंकिंग सेवाओं का लाभ मिल सके। इसलिए  बैंक बीसी सखी की नियुक्ति ग्रामीण क्षेत्रों में बैंक के सहयोग की गई। हाल ही में 50 महिलाओं का  चयन किया गया है जो शीघ्र ही कियोस्क के रूप में ग्रामीण क्षेत्रों में राशि आहरण एवं निकासी का काम करेंगी। अब ये बैंक सखी बैंक शाखाओं के  सहयोगी के रूप में कार्य कर रही है  इन बैंक से कोरोना की महामारी के चलते आवश्यक एहतियात को अपनाया है। बैंक सखियां सभी ग्राहकों को सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजर एवं मास्क का उपयोग करने हेतु प्रेरित कर रही हैं। कोरोना वायरस संक्रमण के कारण हुए लॉकडाउन में मप्र राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन की 17 बैंक बीसी सखियों ने माह अप्रैल में अब तक 1 करोड़ 10 लाख रुपये का लेनदेन किया है जिसमें ग्रामीणों को पेंशन एजनधन खातों से रुपये का आहरण, छात्रवृत्ति का भुगतान, जनधन बीमा आदि किया जा रहा है। लॉकडाउन को सफल बनाने के लिये घर-घर पहुंच सेवा कर पेंशन व अन्य योजनाओं का लाभ पहुंचा रहे है यह सब नि:स्वार्थ भाव से सहयोग से ग्रामीणों की मदद हो रही है। सखियों का कहना है कि ऐसा करने से हमें ग्रामीणों का खूब आशीष मिल रहा है साथ ही हमें कमाई भी हो रही है एवं ग्राम में सभी को सोशल डिस्टेंसिंग रखने के बारे में भी लोगों को जागरूक करना एवं सैनिटाइजर एवं मास्क का उपयोग करने हेतु प्रेरित कर रहे हैं।

जिला स्तरीय अधिकारियों ने सघन भ्रमण कर देखी व्यवस्थाएं, मोबाइल मेडिकल यूनिट तथा मैदानी अमले से रूबरू हुए सभी नोडल अधिकारी

sehore news
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.सुधीर डेहरिया के निर्देश पर कोविड-19 के लिए नियुक्त किए सभी विकासखण्ड स्तरीय नोडल अधिकारियों से अपने-अपने प्रभार वाले विकासखण्डों का सघन भ्रमण कर मैदानी स्थिति का जायजा लेकर एस.आर.आर.टी. तथा मोबाइल मेडिकल यूनिट्स का सभी जरूरी दिशा निर्देश दिए इस दौरान उन्होंने होम क्वारंटाइन किए गए व्यक्तियों को भी सभी जरूरी दिशा निर्देश दिए। विकासखण्ड बुदनी  में नोडल अधिकारी डीएचओ-2 डॉ.जोगेश्वर दयाल कोरी द्वारा ग्राम हथनौरा, दोहा तथा मुरारी का सघन भ्रमण किया गया। ग्राम हथनौरा में एक ऐसे व्यक्ति की जानकारी मिली थी जो भोपाल में किसी संक्रमित व्यक्ति के भाई के सीधे संपर्क में आया था तथा गांव हथनौरा पहुंचकर उसने 3 व्यक्तियों से संपर्क किया। सूचना पर ग्राम हथनौरा पहुंचकर उक्त व्यक्ति की तुरंत पहचान की गई तथा उसके तथा उससे संपर्क में आने वाले व्यक्तियों तथा उनसे संपर्क में आए  ग्राम मुरारी, खोहा, मुरारी के करीब 31 व्यक्तियो की कांटेक्ट ट्रेसिंग कर सभी को  होम क्वारंटाइन किया गया है तथा गांव में बेरिकेटिंग कर पुलिस का पहरा लगा दिया गया है। भ्रमण के दौरान बीएमओ बुदनी डॉ.अंकुश शर्मा तथा मोबाइल मेडिकल यूनिट दल के डॉ.कमल मालानी, डॉ.अजय अवस्थी सहित पूरे दल ने सभी व्यक्तियों का स्वास्थ्य परीक्षण कर उनकी स्क्रीनिंग की। विकासखण्ड श्यामपुर की नोडल अधिकारी डीटीओ डॉ.नमीता नीलकंठ ने बीएमओ श्यामपुर डॉ.एच.पी.सिंह के साथ श्यामपुर तथा दोराहा का सघन भ्रमण किया उन्होंने जानकारी दी कि श्यामपुर विकासखण्ड में 12 संस्थागत क्वारंटाइन सेंटर बनाए गए है जिनमें 20 व्यक्ति संस्थागत क्वारंटाइन है। बाहर से आए हुए व्यक्तियों को संस्थागत क्वारेंटाइन में रखा गया तथा उनका दैनिक परीक्षण किया जा रहा है। विकासखण्ड इछवर के नोडल अधिकारी जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.टी.आर.उईके ने जानकारी दी कि उनके द्वारा सेमलीजदीदी का भ्रमण किया गया वहां हैदराबाद से आए हुए 7 लोगों को कस्तूरबा गांधी आश्रम में क्वारेंटाइन किया गया है। सभी का स्वास्थ्य परीक्षण कर उनकी स्क्रीनिंग मोबाइल मेडिकल यूनिट भाउखेडी द्वारा की जा रही है। भ्रमण के दौरान उनके साथ एमएमयू प्रभारी डॉ.अमृता श्रीवास्तव सहित सहयोगी स्टाफ उपस्थित रहा। विकासखण्ड आष्टा अंतर्गत सिद्धिकगंज अंतर्गत सामरी बोंदा तथा सामरी गुलाब्की गांव का भ्रमण नोडल अधिकारी डीएमओ डॉ.क्षमा बर्वे द्वारा किया गया जहां ग्राम बोंदो में राजस्थान से आए 81 लोगों तथा सामरी गुलाब्की के 31 व्यक्तियों का स्वास्थ्य परीक्षण एवं स्क्रीनिंग कर सभी को  होम क्वारंटाइन किया गया भ्रमण के दौरान बीएमओ डॉ.प्रवीर गुप्ता तथा सिद्धिकगंज की मोबाइल मेडिकल यूनिट द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण के संबंध में सभी जरूरी कार्यवाही पूरी की गई। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र नसरूल्लागंज अंतर्गत पाचैर, लाड़कुई, रिठवाड़, गोपालपुर का सघन भ्रमण नोडल अधिकारी डीआईओ डॉ.एम.चंदेल द्वारा बीएमओ डॉ. मनीष सारस्वत के साथ किया गया। उन्होंने मोबाइल मेडिकल यूनिट को होम क्वारंटाइन किए गए व्यक्तियों के नियमित स्वास्थ्य परीक्षण एवं स्क्रीनिंग के संदर्भ में सभी जरूरी दिषा निर्देष दिए नसरूल्लागंज में आज 08 सेम्पल लेकर जांच के लिए भेजे गए है।  सीहोर शहरी नोडल अधिकारी डॉ.अमित राजवानी ने बताया कि आज उन्होंने शहर के विभिन्न वार्डों का भ्रमण किया इस दौरान उन्हें जानकारी मिली कि गंगा आश्रम में एक व्यक्ति इंदौर से आया हुआ है उसे तत्काल होम क्वारेंटाइन किया गया तथा सख्त हिदायत दी गई कि क्वारेंटाइन के नियमों का पालन करें। 

हितग्राहियों की राशि उनके बैंक खाते में ही जमा रहेगी

भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा  कोरोना बीमारी को दृष्टिगत रखते हुए वभिन्न वित्तीय पैकेजों के माध्यम से विभिन्न योजनाओं के तहत हितग्राहियों के बैंक खाते में राशि जमा की जा रही है। समहिलाओं के प्रधानमंत्री जन-धन खाते में तीन माह तक प्रतिमाह 500 रूपये जमा किये जाएगें। इसी प्रकार प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना के तहत किसानों के खाते में 2000 रूपये जमा किये जायगें और निर्माण मजदूरों के खाते में 1000 रूपये की राशि जमा की जायेगी। इस राशि  का आहरण खातेदार स्वयं कर सकता है। यदि खाते दार की मृत्यु हो जाने पर नामिनी व्यक्ति या वैध उत्तराधिकारी इस राशि को आहरित कर सकेगा। भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा कोविद-19 को देखते हुए विभिन्न वित्तीय पैकेज के द्वारा आर्थिक सहायता के रूप में यह राशि प्रदाय की जा रही है। हितग्राही इस राशि का उपयोग कभी भी कर सकता है। बैंक द्वारा इस राषि का हितग्राही द्वारा बैंक से ली गई ऋण राशि की वसूली के लिए समायोजन नहीं किया जायेगा।

उपार्जन केन्द्रों, भण्डारण केन्द्रों पर गुणवत्ता परीक्षण के संबंध में निर्देश

वर्तमान में कृषि विभाग के मैदानी अमले द्वारा मुख्यतः फसल कटाई, फसल कटाई प्रयोगए जायद फसलों का क्रियान्वयन, खरीफ फसल की तैयारियां सहित अन्य कार्य किए जा रहे हैं। किसान कल्याण एवं कृषि विकास विभाग के प्रमुख सचिव ने सभी कलेक्टर्स से कहा है कि उपार्जन तथा कृषि के अन्य महत्वपूर्ण कार्यो को दृष्टिगत रखते हुए तथा जिले की अन्य प्राथमिकताओं को देखते हुए अल्प समय के लिए कृषि विभाग के मैदानी कर्मचारियों को गुणवत्ता परीक्षण के लिए अतिरिक्त कार्य हेतु लगाया जा सकता है। उल्लेखनीय है कि मार्कफेड एवं नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा उपार्जन के लिए स्थापित केन्द्रों पर आवश्यकतानुसार सर्वेयर की व्यवस्था की जा रही है। कोविड-19 संक्रमण की वजह से सर्वेयर्स के आवागमन में कठिनाई महसूस हो रही है। साथ ही उपार्जन केन्द्रों की संख्या में भी वृद्धि की गई है।

संभाग के सभी जिलों द्वारा मान्य किया जाएगा ई- पास

जिलों में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति संबंधी ई- पास यदि प्रदेश में 1 जिले के सक्षम प्राधिकारी द्वारा किसी  व्यक्ति या संस्था के पक्ष में जारी किया जाता है तो उसे प्रदेश के अन्य सभी जिलों द्वारा भी स्वीकार किए जाएंगे जो रास्ते में आएंगे। यह निर्देश संभाग में करुणा संक्रमण के दौरान आमजनों को आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता एवं आपूर्ति नियमित रूप से कराने को सुनिश्चित करने हेतु दिए गए हैं। उल्लेखनीय है कि  प्रदेश के समस्त जिलों के थोक व्यापारी संघ परिवहन करता संघ व सब्जी व्यापारी संघ के प्रमुख व्यक्तियों व संबंधित अधिकारियों से चर्चा करने के दौरान यह तथ्य सामने आया कि जिलों में परिवहन कर्ताओं को आवश्यक वस्तुओं के परिवहन में अभी भी पास संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। लॉकडाउन के दौरान मध्यप्रदेश शासन गृह मंत्रालय वल्लभ भवन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों में जिले के भीतर आवागमन और प्रदेश के 1 जिले से अन्य जिले व राज्य में आवागमन हेतु सक्षम अधिकारी द्वारा पास जारी करने के स्पष्ट निर्देश प्रसारित किए गए हैं तथा यह भी स्पष्ट किया गया है कि ऐसे परिवहन कर्ता जिन्हें विभिन्न प्रकार की सामग्रियों को मध्य प्रदेश के एक जिले से दूसरे जिले अथवा अन्य राज्यों से मध्यप्रदेश में सामग्री लाने अथवा मध्य प्रदेश से सामग्री अन्य राज्यों में ले जाने के लिए परिवहन करना हो तो विशेष रूप से निर्मित पोर्टल पर ई-पास प्राप्त करने हेतु आवेदन कर सकेंगे और सक्षम प्राधिकारी द्वारा जारी किया जा सकेगा। यही पास प्रदेश के उन सभी जिलों द्वारा भी स्वीकार किए जाएंगे जो परिवहन के दौरान रास्ते में आएंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: