बिहार : सोशल डिस्टेंसिंग व सतर्कता ही कोरोना से सुरक्षित रखेगी : नीतीश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 1 अप्रैल 2020

बिहार : सोशल डिस्टेंसिंग व सतर्कता ही कोरोना से सुरक्षित रखेगी : नीतीश

social-distancing-makes-u-safe-corona-nitish-kumar
पटना (आर्यावर्त संवाददाता) कोरोना वायरस के संकट से निपटने के लिए बिहार सरकार अपने स्तर से हर संभव प्रयास कर रही है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सभी मामलों पर पैनी नजर बनाए हुए हैं। इसको लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपने आवास पर लगातार बैठकें कर रहे हैं। आज बैठक संपन्न करने के बाद मुख्यमंत्री ने बिहारवासियों के लिए संदेश जारी करते हुए कहा कि बिहार में कोरोना से एक व्यक्ति की मौत हुई थी, जो कि मुंगेर के रहने वाले थे। साथ ही साथ उन्होंने कहा कि उस एक शख्स से संपूर्ण बिहार में 11 लोग संक्रमित हुए। जो कि फिलहाल मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कहर पूरी दुनिया में है, इस आपदा से घबराना नहीं है इसका डटकर सामना करना है। नीतीश कुमार ने यह भी कहा कि अब बिहार की जनता जागरूक हो गई है। पहले दिन भर में कुल मिला 600 फोन कॉल आते थे अब उसमें कमी आई है। साथ ही उन्होंने कहा कि राज्य में कोरोना से संक्रमित लोगों के इलाज का खर्च सरकार वहन करेगी। मुख्यमंत्री ने इस संकट से निपटने के लिए जनप्रतिनिधियों और अधिकारीयों से सहयोग मांगा है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार सरकार कोरोना वायरस से लड़ने के लिए विभिन्न प्रकार के कोषों का निर्माण कर चुकी है। बिहार में कोरोना उन्मूलन कोष का भी गठन कर दिया गया है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री राहत कोष के तरफ से अब तक 100 करोड़ रुपए दिए जा चुके हैं अगर जरूरत पड़ी तो और भी रकम दी जाएगी। बिहार के बाहर रह रहे बिहारी लोगों को मुख्यमंत्री राहत कोष से ही मदद की जाएगी। इसके अलवा नीतीश कुमार ने सभी डीएम को निर्देश दिया ही अपने जिले के हर एक से जरूरत पड़ने पर बातचीत कर फीडबैक लेने की कोशिश करे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...