विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 13 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 13 अप्रैल 2020

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 13 अप्रैल

जिले में उपार्जन कार्य 15 अपै्रल से  प्रत्येक केन्द्र हेतु छह-छह एसएमएस जारी होंगे, एसएमएस से सूचित कृषकों की ही उपज तुलाई 

विदिशा जिले में समर्थन मूल्य पर रबी उपार्जन कार्य 15 अपै्रल से शुरू होगा। इसके लिए जारी निर्धारित मापदण्डों का अक्षरशः पालन सुनिश्चित कराए जाने के निर्देश कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वारा संबंधितों को दिए गए है। प्रत्येक उपार्जन केन्द्र पर सोशल डिस्टेन्सिग का पालन किया जाएगा जिसमें मास्क अथवा चेहरे पर गमछा या रूमाल बांधकर आना आवश्यक होगा। किसानो से आग्रह किया गया है कि एसएमएस के माध्यम से सूचना प्राप्त होने पर उपार्जन केन्द्र पर उपस्थित हो ऐसे किसानबंधु उपार्जन केन्द्र पर ना आए जिन्हें एसएमएस प्राप्त नही हुए है। कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने राज्य शासन के निर्देशानुसार समितियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं कि उपार्जन केन्द्र पर केवल एसएमएस प्राप्त किसानों से ही उपज की तौल की जाए ताकि केन्द्र पर अधिक भीड़ न हो। एक उपार्जन केन्द्र पर गेहूं की तुलाई हेतु प्रारंभ में 06 किसानों को एसएमएस प्रतिदिन प्रेषित किये जाएँगे, जिसमें प्रथम पाली (समय प्रातरू 10रू00 बजे से 01रू30) 03 एवं दवितीय पाली (समय अपरान्ह 02रू00 से 05रू30) में 03 किसानों की उपज की तौल की जाएगी। लघु एवं सीमांत कृषकों को प्राथमिकता देते हुए एनआईसी भोपाल द्वारा एसएमएस प्रेषित किये जाएंगे। एसएमएस प्राप्त किसानों के नाम एवं मोबाइल नंबर उपार्जन केन्द्र के लॉगिन में प्रदर्शित कराये गये है। उपार्जन केन्द्र प्रभारी द्वारा एसएमएस प्राप्त किसानों के मोबाइल पर फोन कर उपज विक्रय करने तथा केन्द्र पर अकेले उपस्थित होने एवं वृद्ध बच्चों/अस्वस्थ जनों को उपार्जन केन्द्र पर न लाने की सूचना देंगे। ग्रामीण क्षेत्र के उपार्जन केन्द्र प्रभारियों द्वारा एसएमएस प्राप्त किसानों की सूची पटवारी/पंचायत सचिव/रोजगार सहायक को उपलब्ध कराई जावे तथा उनके माध्यम से एसएमएस प्राप्त किसान ही उपज विक्रय करने हेत् उपार्जन केन्द्र पर आवें, एवं शेष किसानों को एसएमएस प्राप्त होने पर ही उपज विक्रय करने हेतु उपार्जन केन्द्र पर जाने की समझाइश दी जावे। उपार्जन केन्द्रों पर जाने हेतु मात्र उन किसानों को ही अनुमति दी जाएगी, जिनके मोबाईल पर खाद्य विभाग द्वारा उस दिन आने की सूचना भेजी गई हो। उपार्जन केन्द्रों पर जाने के मार्गों पर पुलिस प्रशासन द्वारा जाँच की जाएगी।यदि किसी कारण से कृषक निर्धारित तिथि को उपार्जन केन्द्र पर नहीं पहुंच पाते है, तो उन्हें शीघ्र ही पुनः अवसर दिया जावेगा। कलेक्टर ने यह भी निर्देश दिए हैं कि उपार्जन केन्द्र निर्धारित समय एवं नियमित रूप से संचालित करें, ताकि किसान को अपनी उपज की तौल हेतु अधिक समय तक केन्द्र पर इंतजार न करना पड़े। उपार्जन केन्द्र पर आने वाले किसानों तथा केन्द्र पर कार्यरत कर्मचारियों के मध्य न्यूनतम 3 मीटर की दूरी बनाए रखने हेतु अवगत कराया जाए। स्कंध की गुणवत्ता परीक्षण एवं कृषक तौल पर्ची/बिल जारी करने वाले कर्मचारियों/आपरेटर के पास एक समय में एक से अधिक किसान उपस्थित न हो। इसके लिये काउंटर के सामने 3-3 मीटर की दूरी पर चूने के गोले बनाए जाए। गुणवत्ता परीक्षक, नोडल अधिकारी, उपार्जन प्रभारी, आपरेटर एवं हम्मालों द्वारा मास्क का उपयोग आवश्यक रूप से किया जावे तथा इनके हाथ सेनेटाइजर अथवा साबुन से समय-समय पर साफ कराए जाए।

जेल में आयुष औषधियों का वितरण

जिला आयुष अधिकारी डॉ  दिनेश कुमार अहिरवार ने बताया कि आयुष विभाग द्वारा जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण को कम करने के उपायों से अवगत कराया जा रहा है वही लोगो में प्रतिरोध क्षमता बढ़ाने की औषधियां निःशुल्क प्रदाय की जा रही है। विदिशा जिला जेल प्रागंण में सोमवार को आयोजित कार्यक्रम में आयुष विभाग के माध्यम से जेल स्टाप व कैदियों सहित कुल तीन सौ लोगो को आयुष औषधियों का वितरण किया गया है। जिला आयुष अधिकारी डॉ अहिरवार ने बताया कि जिले के विभिन्न ग्र्रामों में अब तक 88 हजार से अधिक लोगो को प्रतिरोध क्षमता बढाने वाले आयुष औषधियों का वितरण किया जा चुका है। 

विद्युत देयक ऑन लाइन अपलोड 

मध्यप्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी लिमिटेड के उप महाप्रबंधक श्री अवधेश त्रिपाठी ने बताया कि विदिशा संभाग के समस्त उपभोक्ताओं के अपै्रल 2020 के विद्युत देयक भुगतान हेतु ऑन लाइन अपलोड किए जा चुके है। लॉकडाउन होने के कारण विद्युत देयक भुगतान हेतु वितरित नही किए जा रहे है। जिले के विद्युत उपभोक्ता से अपील की गई है कि विद्युत देयक ऑन लाइन के माध्यम से देखकर भुगतान किए जा सकते है। ऑन लाइन अपलोड करने हेतु कंपनी के द्व़ारा वाट्स-एप, चेटवाट की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। इसके लिए उपभोक्ता 0755-2551222 को अपने मोबाइल में सेब करके अपना कस्टमर आईडी डालकर या रजिस्टर्ड मोबाइल का उपयोग करके अपने विद्युत देयक देख सकते है। विदिशा शहर के अंतर्गत विद्युत देयकों का भुगतान कंपनी की बेवसाइट डर्च्ब्ण्ब्व्ड से पेटीएम के माध्यम से देयकों का भुगतान आन लाइन कर सकते है। इसी प्रकार ग्रामीण क्षेत्र में विद्युत देयको का भुगतान कंपनी की बेवसाइट डर्च्ब्ण्ब्व्डध्च्।ल्ज्डध्च्भ्व्छम्च्।ल्ध्न्च्।ल् इत्यादि ऑन लाइन एप से विद्युत बिलो का भुगतान कर सकते है। कंपनी के द्वारा समस्त निम्न दाब एवं उच्च दाब उपभोक्ता को लॉकडाउन के दौरान विशेष छूट का प्रावधान किया गया है। जिसके अंतर्गत उपभोक्ताओं द्वारा लॉक डाउन के चलते अपै्रल माह के विद्युत बिलो का भुगतान सामान्य नियम तिथि तक करने पर एक प्रतिशत की अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि (निम्न दाब उपभोक्ताओं को अधिकतम रूपए दस हजार तक उच्च दाब उपभोक्ताओं को अधिकतम एक लाख रूपए) आगामी बिल में दी जाएगी। ऑन लाइन विद्युत देयक भुगतान में किसी भी प्रकार की दिक्कत हो तो जोन-1 के प्रबंधक श्री राजीव कुमार 8349868225 , जोन -2 के प्रबंधक श्री सुमित सोनी 9691327578 पर इसके अलावा ग्रामीण उपभोक्ता प्रबंधक श्री मृणाल चौधरी के मोबाइल नम्बर 9406913546 पर सम्पर्क कर अवगत करा सकते है। 

रक्तदाताओं ने रक्तदान किया

vidisha news
श्रीमंत माधवराव सिंधिया जिला चिकित्सालय विदिशा के सिविल सर्जन सह अधीक्षक डॉ संजय खरे की अपील पर रक्तदाताओं न आज जिला चिकित्सालय में पहुंचकर रक्तदान की शुरूआत की है। बेतवा संरक्षण और पर्यावरण के लिए निरंतर कार्य करने वाली संस्था मुक्ति सेवा समिति के सचिव  श्री मनोज पांडे ने सोशल मीडिया के माध्यम से रक्तदाताओ्रं को रक्तदान करने हेतु प्रेरित किया। उन्होंने रक्तदान महादान के सारगर्भित प्रेरणादायी मंत्र को जन-जन तक पहुंचाने का प्रयास किया है। विदिशा शहर के युवा उद्यमी एवं पत्रकार, समाजसेवी ने बढ़ चढ़कर रक्तदान की मंशा से ब्लड बैंक में पहुंचकर रक्तदान की प्रक्रिया में सहभागी बने है। इस दौरान बताया गया कि दोपहर तीन बजे तक 21 यूनिट ब्लड रक्तदान रक्तदाताओं के द्वारा जमा कराया गया है। ब्लड बैंक प्रभारी डॉक्टर डीएस रघुवंशी के मुताबिक दोपहर 3रू00 बजे तक 21 यूनिट रक्त इस मुहिम के तहत रक्त दाताओं ने रक्त का दान करके इस मुहिम को सफल बनाया है हमारे पास अभी मात्र 28 मिनट रक्त था जो 1 या 2 दिन में समाप्त हो जाता लेकिन मुक्ति धाम सेवा समिति के सचिव की पहल कारगर साबित हुई और हमने तुरंत जी थैलेसीमिया से पीड़ित 2 लोगों को रक्त उपलब्ध भी करा दिया।सबसे पहले अपना 129 वा रक्तदान करने वाले कलेक्टर के रीडर उदय हजारी सहित फिजियोथैरेपिस्ट डॉ अमित नेमा ने अपने तीन अन्य भाइयों अंकित नेमा अर्पित नेमा अनुज नेमा के साथ रक्तदान किया तो डॉक्टर सुनील सिंह चौहान डॉक्टर संजीव साहू भाजपा नेता सचिन ताम्रकार उनकी बेटी वैदेही ताम्रकार सुंदर सोनी विक्रम सिंह चौहान पुरुषोत्तम कुशवाह पत्रकार सुरेंद्र सिंह रघुवंशी समुंदर सिंह कुशवाह रजत दुबे रौनक द्विवेदी अरविंद ओझा जयेश चावला  नितिन नेमा महेश सोनी ओम प्रकाश गोस्वामी सहित अन्यु ने रक्तददान किया है।

विधायक ने कलेक्टर को दिए सुझाव, ताकि लॉकडाउन में जनता को मिले सहूलियत

विदिशा। टोटल लॉकडाउन के कारण लोग परेशान हैं। हालाकि प्रशासन ने जनता की सुविधाएं और बुनियादी जरूरतों को ध्यान में रखते हुए कफ्र्यू और लॉकडाउन में कुछ समय के लिए छूट दी है। जिससे वह जरूरी सामान खरीद सकें। इसके बाद भी एक बड़ा वर्ग लॉकडाउन से प्रभावित है। विधायक शशांक भार्गव के पास कई लोग अपनी समस्याएं बता रहे हैं। जिन पर प्रशासन की नजर नहीं पहुंची। इन्ही समस्याओं के आधार पर विधायक ने कलेक्टर को 10 सुझाव दिए हैं। जिससे लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए कोरोना संक्रमण से जीत की जंग के साथ जनता को सहूलियतें भी मिल सकें। कलेक्टर डॉ पंकज जैन को सोमवार को विधायक शशांक भार्गव ने 10 सूत्रीय सुझावों का पत्र भेजा है। जिसमें कंटेनमेंट जोन, सब्जी मंडी, राशन, मेडिकल स्टोर की दुकानें, होम डिलेवरी, जिला अस्पताल और शहर की सीमाएं सील करने से उपजी लोगों की समस्याओं का जिक्र किया है। पुलिस की चालानी कार्यवाही में सुधार के साथ और कोरोना संक्रमण से निपटने जुटे अमले की सुरक्षा के लिए बीमा कराए जाने की मांग की है। विधायक ने सोशल डिस्टेंसिंग के प्रचार-प्रसार के लिए मुनादी का उपयोग करते हुए फिजिकल डिस्टेंसिंग शब्द का प्रयोग करने कहा है। कंटेनमेंट जोन को एक किलोमीटर के दायरे में सील करने की जगह उन्होंने कोरोना पॉजिटिव पाए गए मरीज के आवास की गली को सील करने की सलाह दी है। वहीं इस क्षेत्र की राशन, दूध, चक्की, मेडिकल की दुकानें और डिस्पेंसरी खोलने कहा है। जिससे कंटेनमेंट जोन के लोग खुद को बंधक महसूस न करते हुए सुलभ और सुरक्षित तरीके से अपनी जरूरतें पूरी कर सकें। विधायक का कहना है सब्जी मंडी में फुटकर बिक्री को बंद करने से सब्जियों के दाम बढऩे और दोगुने दामों में सब्जी खरीदने की लोगों की मजबूरी का जिक्र करते हुए उन्होंने सब्जी मंडी में फुटकर बिक्री शुरू करने को कहा है। इसके लिए फुटकर सब्जी के ठेलों को अस्पताल रोड और सिटी हॉस्पिटल कैंपस में शिफ्ट करने की सलाह दी है।उन्होंने राशन, ट्रेक्टर पार्ट्स, मेडिकल, नर्सिंग होम, मिल्क पार्लर और कृषि संबंधित उपकरणों की दुकानें खोलने का समय बढ़ाने की सलाह देते हुए कहा है कि राशन और मेडिकल की होम डिलेवरी एक हजार से अधिक के सामान की बुकिंग पर दी जा रही है। ऐसे में आम गरीब जिसे 50-100 रूपए का सामान खरीदने परेशान है। इसके अलावा विधायक ने उचित मूल्यों की दुकानों से एक माह का एक मुश्त राशन पात्र व्यक्तियों को बांटने की सलाह देते हुए यह भी कहा है कि कई राशन कार्डों में परिवार के सदस्यों की पूर्ण संख्या दर्ज नहीं है। इस ओर ध्यान देते हुए 10 किलो खाद्यान्न प्रति व्यक्ति के मान से दिया जाए। साथ ही एक किलो दाल भी दी जाए।

पुलिस उठक-बैठक न लगवाए, न चालान बनाए, समझाए
लॉकडाउन में पुलिस की सख्ती और बेजा कार्यवाही को विधायक शशांक भार्गव ने रोकने और पुलिस की कार्यप्रणाली का तरीका बदलने को कहा है। विधायक का कहना है कि कई लोगों पर पास नहीं हैं। जरूरी काम आने, सामान लेने या अस्पताल जाने के लिए उन्हे निर्धारित अवधि के बाद बाहर निकलना पड़ रहा है। पुलिस का ऐसे लोगों के प्रति अच्छा बर्ताव नहीं है। उनके चालान बनाए जा रहे हैं। उठक-बैठक लगवाई जा रही हैं। डंडे मारे जा रहे हैं। यह संकट के इस दौर में अमानवीयता है। जिससे आम आदमी आहत है। लिहाजा पुलिस लोगों को प्रताडि़त करने और चालान बनाने की जगह समझाइश दे।

कर्मचारियों का कराएं 50 लाख का बीमा
स्वास्थ्य, महिला बाल विकास विभाग और पुलिस का अमला कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने में जान की बाजी लगाकर काम कर रहा है। उनकी सेवा को सराहनीय बताते हुए विधायक शशांक भार्गव ने कहा है कि कोरोना संक्रमण को रोकने में जुटे सभी कर्मचारियों का 50 लाख रूपए का बीमा कराया जाए। वहीं ऐसे सभी कर्मचारियों को मास्क, सेनेटाइजर और पीपीई किट दी जाए। जिससे वह सुरक्षित रहते हुए काम कर सकें। राज्य सरकार ने भी ऐसे कर्मचारियों का बीमा कराने निर्देशित किया है।

कोई टिप्पणी नहीं: