लॉक डाउन एवं सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करवाने पर अमादा है शिक्षा विभाग : ब्रजनंदन शर्मा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 6 मई 2020

लॉक डाउन एवं सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करवाने पर अमादा है शिक्षा विभाग : ब्रजनंदन शर्मा

हड़ताली शिक्षकों के योगदान एवं उनके वेतन भुगतान के विभागीय निर्देश से संबंधित श्री गिरवर दयाल सिंह अपर सचिव द्वारा जारी किया गया पत्र संगठन एवं सरकार के बीच समझौता की मर्यादा के विरुद्ध
bihar-teacher-leader-oppose-government-letter
पटना 6 मई,  हड़ताल पर गए  वर्ग 1 से 12 तक के शिक्षकों को हड़ताल से वापस आने के उपरांत योगदान कराने एवं उनके वेतन आदि भुगतान के संबंध में आज  श्री गिरवर दयाल अपर सचिव शिक्षा विभाग द्वारा जारी दिशा निर्देश से संबंधित पत्र के विरुद्ध विज्ञप्ति जारी कर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के राज्य संयोजक श्री बृजनंदन शर्मा ने  कहां की श्री गिरवर दयाल सिंह जी द्वारा जारी यह पत्र पूरी तरह सांगठनिक समझौता की मर्यादा के विरुद्ध है एवं निंदनीय है उन्होंने कहा कि एक तरफ माननीय प्रधानमंत्री एवं माननीय  मुख्यमंत्री बिहार कोरोना  वायरस के खतरे को देखते हुए सोशल  डिस्टेंसिंग की बात करते हैं पूरे बिहार में लॉक डाउन है यातायात पूरी तरह बाधित है ऐसे में दूर-दराज में फंसे शिक्षकों को मुख्यालय में योगदान करने के लिए बुलाना कहीं से न्यायोचित नहीं है

वह भी उन शिक्षकों को जिनका तीन तीन महीना से वेतन बंद है
श्री शर्मा ने कहा कि जब  तक समझौता नहीं हुआ था और हड़ताल स्थगित नहीं किया गया था तब तक शिक्षा विभाग द्वारा शिक्षकों को व्हाट्सएप पर योगदान करने की छूट सिर्फ आंदोलन को कमजोर करने के लिए दी जा रही थी अब जब समझौता हो गया और कोरोना वायरस से खतरे को देखते हुए सामाजिक दायित्व के तहत हम लोगों ने अपना हड़ताल वापस ले लिया तब इस तरह का फरमान जारी करना कहीं से न्यायोचित नहीं है उन्होंने कहा कि समझौता के वक्त यह बातें हुई थी की शिक्षक व्हाट्सएप के माध्यम से अपने-अपने प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी के यहां योगदान करेंगे लेकिन बाद में सशरीर उपस्थित होकर योगदान करने हेतु आदेश निर्गत करना पूरी तरह से लॉक डाउन का उल्लंघन एवं सोशल डिस्टेंसिंग के कानून का भी उल्लंघन  होगा लॉक डाउन की स्थिति में बाजार में भाड़े की गाड़ियां भी उपलब्ध नहीं है हमारे शिक्षक जिला से बाहर दूर-दराज में कहीं फंसे हुए हैं जो किसी भी परिस्थिति में मुख्यालय आने से असमर्थ है जब तक की लॉक डाउन समाप्त नहीं हो जाता उन्होंने अपने विज्ञप्ति के माध्यम से सभी शिक्षकों से अपील की है कि कोई भागदौड़ करने की आवश्यकता नहीं जो जहां है वही रहे और व्हाट्सएप के माध्यम से पूर्व की भांति अपने अपने प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी विद्यालय अवर निरीक्षक के यहां योगदान से संबंधित पत्र लिख कर भेज दे और माननीय शिक्षा मंत्री  तथा शिक्षा विभाग के आला अधिकारियों  से अनुरोध किया है कि समझौता के आलोक में मानवता के आधार पर शिक्षकों के योगदान हेतु लॉक डाउन  समाप्त होने तक व्हाट्सएप के माध्यम से ही योगदान कराने की प्रक्रिया को जारी रखने का निर्देश शिक्षा विभाग बिहार सरकार को जारी करना चाहिए साथ ही विभाग को यथाशीघ्र हड़ताली शिक्षकों के वेतन आदि के भुगतान का निर्देश जारी कर देना चाहिए  जिससे कि आम शिक्षकों में उहापोह की स्थिति उत्पन्न ना हो और शालीनता पूर्वक शिक्षक अपने दायित्व का निर्वहन कर सकें श्री बृजनंदन शर्मा ने हड़ताल अवधि में बर्खास्त किए गए तथा निलंबित किए गए शिक्षकों को दंडात्मक कार्रवाई से एवं उन पर किए गए मुकदमों से मुक्त करते हुए यथाशीघ्र  उनके अंचल के प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी के यहां योगदान कराने हेतु  विभागीय निर्देश जारी  किया जाना चाहिए बर्खास्त एवं  निलंबित किए गए शिक्षक अगर मुख्यालय से बाहर है और मुख्यालय में आने में असमर्थ हैं तो उन्हें भी व्हाट्सएप पर योगदान करने की सुविधा प्रदान की जानी चाहिए जब तक की लॉक डाउन समाप्त नहीं हो जाता शिक्षा विभाग द्वारा मेरे सलाह के मुताबिक पत्र निकाला जाता है तो उससे सरकार के प्रति शिक्षकों में विश्वसनीयता बढ़ेगी श्री गिरवर दयाल जी अपर सचिव द्वारा आज जारी किया गया पत्र पूरी तरह लॉक डाउन का उल्लंघन करने तथा  सामाजिक दूरी का शिक्षकों द्वारा खुला उल्लंघन करवाने  के लिए उकसाने वाला अमानवीय एवं सरकार के प्रति शिक्षकों में आक्रोश पैदा करने  बाला प्रतीत होता हैl  इसलिए सरकार शिक्षा मंत्री एवं विभागीय पदाधिकारियों से अनुरोध है की यथाशीघ्र उपर्युक्त पत्र को निरस्त करते हुए मेरे द्वारा सुझाए गए बिंदुओं के अनुसार विभाग उपर्युक्त संदर्भ में पत्र निर्गत करने की कार्रवाई सुनिश्चित करें जो हड़ताल से वापस आने वाले बिहार के 400000 शिक्षकों में सरकार एवं विभाग के प्रति विश्वसनीयता  बढ़ाने वाला  पत्र प्रतीत हो.     

कोई टिप्पणी नहीं: