'इश्क़ लम्हें'- ग़ज़ल संग्रह ग़ज़लकार 'अमिता परशुराम' की पुस्तक का लोकार्पण - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 27 मई 2020

'इश्क़ लम्हें'- ग़ज़ल संग्रह ग़ज़लकार 'अमिता परशुराम' की पुस्तक का लोकार्पण

  • ·वाणी प्रकाशन के दास्ताँ कहते-कहते श्रृंखला में अमिता परशुराम पहली शायरा हैं।
  • ·इस श्रृंखला इससे पहले देश-विदेश के 50 अधिक दिग्गज शायरों के नज्म और गजल प्रकाशित हो चुके हैं।
  • ·वाणी डिजिटल  कार्यक्रम  के तहत भजन सम्राट अनूप जलोटा, गजल सम्राट गायक  पंकज उदास तथा मशहूर गायक और संगीतकार  हरिहरन द्वारा पुस्तक लोकार्पण हुआ । 
book-inaugrate-ishq-lamhen
नई दिल्ली  27 मई 2020: कोरोना महामारी के कारण जिस तरह से देशभर में भारत सरकार और राज्य सरकारों द्वारा सतर्कता बरती जा रही है. इसी तत्कालीन परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए, वाणी प्रकाशन समूह ने कवियित्री अमिता परशुराम की नई पुस्तक 'इश्क़ लम्हें', जो कि नज़्म तथा गज़लों का संग्रह है, का ऑनलाइन लोकार्पण  अपने  सभी सोशल मीडिया प्लेटफार्म  पर  किया गया। इस ऑनलाइन आयोजन में, संगीत क्षेत्र से  भजन सम्राट अनूप जलोटा, गजल सम्राट गायक  पंकज उदास तथा मशहूर गायक और संगीतकार  हरिहरन, जैसे  दिग्गजों के अलावा वाणी प्रकाशन ग्रुप के  चेयरमैन और प्रबंध निदेशक अरुण माहेश्वरी  भी इसमें उपस्थित थे। अमिता परशुराम की ‘इश्क लम्हें’ नज्म तथा गजलों का संग्रह दास्ताँ कहते-कहते  श्रृंखला में  वाणी प्रकाशन की पहली किताब है,जिसमें पहलीबार किसी शायरा को  प्रकाशित किया गया है। इससे पहले इस श्रृंखला  में  देश विदेश के 50 से आधिक शायर प्रकाशित हो चुके हैं। यह पहलीबार है जब किसी शायरा का संग्रह प्रकाशित हुआ है और आगे भी वाणी प्रकाशन  दास्ताँ कहते-कहते  श्रृंखला  में कई अन्य शायराओं की नज्मों  और गजलों को प्रकाशित करने जा रहा है ।

कवियत्री अमिता परशुराम  इस मौके पर एक महत्वपूर्ण प्रश्न किया जो कि पाठकों के हित में था, कि उर्दू की शायरी तथा ग़ज़लों की लोकप्रियता जन जन में है, सभी तबके के लोग उसे सुनना एवं पढ़ना पसन्द करते है, परन्तु उसकी उपलब्धता हिंदी देवनागरी में ना होने के कारण, लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ा, इसके बारे में उन्होंने  गीतकारों तथा प्रकाशक के रूप में अरुण माहेश्वरी  से कुछ टिप्पणियाँ जाननी चाही। गजल गायक  पंकज उदास इस सम्बन्ध में बताते हैं कि यह मसला शुरू से ही रहा, परन्तु  साथ ही उन्होंने महत्वपूर्ण जानकारी दी कि कैसे 1982-83 में इस समस्या पर काम किया गया, तथा पुस्तकों में उर्दू के साथ साथ हिंदी देवनागरी में भी ग़ज़लों का छपना शुरू हुआ। ग़ज़लों तथा वाणी प्रकाशन का पुराना रिश्ता रहा है, इस यात्रा पर बात करते हुए अरुण माहेश्वरी बताते हैं कि कैसे कैफ़ी आज़मी, जॉन एलिया, निदा फ़ाज़ली और गुलज़ार जैसे प्रतिष्ठित शायरों की पुस्तकों को हिंदी देवनागरी में छाप कर वाणी प्रकाशन ने कितना महत्वपूर्ण योगदान दिया है।  ग़ज़लों के साथ साथ मौसिकी की एहमियत पर भी बात की गई, ग़ज़ल गाने वालों को अनूप जलोटा, खूबसूरत रथ का घोड़ा बताते हैं। चर्चा के दौरान महसूस किया गया कि गायिकी में नित नए परिवर्तनों के साथ शायर के अल्फाज़ो को महफूज़ रखना कितना आवश्यक है। वहीं हरिहरन ने अपने नए शैली के गीतों के माध्यम से कुछ ग़ज़लें गायीं और समा बाँध दिया। वहीं आजकल की फिल्मों में लुप्त होती ग़ज़लों की गायिकी की कमी पर भी चर्चा की गई। अंत में सभी ने अमिता परशूराम को उनकी पुस्तक के लिए बधाई दी।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...