बिहार : वासी मजदूरों की घर वापसी के सवाल पर केंद्र व राज्य सरकार भ्रम की स्थिति बनाए हुए है : माले - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 6 मई 2020

बिहार : वासी मजदूरों की घर वापसी के सवाल पर केंद्र व राज्य सरकार भ्रम की स्थिति बनाए हुए है : माले

  • जो भी प्रवासी मजदूर वापस लौटना चाहते हैं, उन्हें मुफ्त में घर पहुंचाने की गारंटी करे कंेद्र सरकार.
  • वाम दलों के संयुक्त आह्वान पर आज पूरे राज्य में माले कार्यकर्ताओं ने दिया धरना.
  • पटना में माले राज्य सचिव कुणाल, पोलित ब्यूरो सदस्य धीरेन्द्र झा, वरिष्ठ पार्टी नेता केडी यादव सहित कई नेताओं ने दिया धरना.
  • प्रवासियों को घर पहुंचाने में पीएम केयर फंड की राशि का उपयोग करे सरकार.
  • 10 हजार लाॅकडाउन भत्ता, बिना कार्ड वाले सहित सभी गरीबों को 3 महीने के राशन, काम की गारंटी और मारे गए मजदूरों के लिए 20 लाख मुआवजे की भी उठाई मांग.
  • विश्व सर्वहारा के महान शिक्षक कार्ल माक्र्स को उनकी 202 वीं जयंती पर किया गया याद.
cpi-ml-attack-bihar-center-on-lock-down
पटना , विश्व सर्वहारा के महान शिक्षक कार्ल माक्र्स की आज 202वीं जयंती के अवसर पर वाम दलों के संयुक्त आह्वान पर आज पूरे राज्य में भाकपा-माले कार्यकर्ताओं ने अपने घरों और पार्टी कार्यालयों पर धरना दिया. आज का यह धरना प्रवासी मजदूरों को घर पहंुचाने के सवाल पर केंद्र व राज्य सरकार द्वारा भ्रम की स्थिति बनाए रखने के खिलाफ आयोजित था. साथ ही, लौट रहे प्रवासी मजदूरों से भाड़ा वसूलने के घोर अमानवीय आचरण के खिलाफ सभी प्रवासियों को पीएम केयर फंड की राशि से मुफ्त में तत्काल घर पहुंचाने, सभी मजदूरों के लिए 10 हजार लाॅकडाउन भत्ता देने, बिना कार्ड वाले सहित सभी गरीबों को 3 महीने का राशन देने, काम की गारंटी करने और इस बीच मारे गए मजूदरों के लिए 20 लाख रुपया मुआवजा देने की मांग पर आयोजित की गई थी.  आज के राज्यव्यापी कार्यक्रम का आह्वान भाकपा-माले के अलावा सीपीआई, सीपीएम, फारवर्ड ब्लाॅक व आरसपी ने संयुक्त रूप से किया था. पटना के अलावा भोजपुर, पटना ग्रामीण के विभिन्न प्रखंडों, सिवान, जहानाबाद, अरवल, गया, दरभंगा, समस्तीपुर, गोपालगंज आदि जिला केंद्रों, प्रखंड केंद्रों व सैंकड़ों गांवों में भी माले कार्यकर्ताओं ने धरना दिया. पार्टी राज्य कार्यालय में भाकपा-माले राज्य सचिव कॉमरेड कुणाल, ऐपवा की महासचिव मीना तिवारी, ऐपवा की बिहार राज्य अध्यक्ष सरोज चैबे, माले के केंद्रीय कंट्रोल कमीशन के चेयरमैन बृजबिहारी पांडेय, समकालीन लोकयुद्ध के संपादक संतोष सहर, ऐक्टू नेता रणविजय कुमार आदि नेताओं ने शारीरिक दूरी के नियमों का पालन करते हुए धरना दिया. चितकोहरा में पार्टी के पोलित ब्यूरो के सदस्य धीरेन्द्र झा, ऐपवा की बिहार राज्य सचिव शशि यादव, मुर्तजा अली, आबिदा खातून; अपने आवास पर वरिष्ठ पार्टी नेता केडी यादव, कुर्जी में अनीता सिन्हा आदि नेताओं ने धरना दिया. पाटी राज्य कार्यालय में सबसे पहले नेताओं ने कार्ल माक्र्स की जयंती पर उनके जीवन व संघर्षों को याद किया. कामरेड कुणाल ने कहा कि माक्र्स का जीवन सामाजिक-आर्थिक गुलामी से मजदूर वर्ग की मुक्ति के संघर्ष में बीता था. आज हम अपने देश में देख रहे हैं कि भाजपा और काॅरपोरेट घराने प्रवासी मजदूरों के साथ किस प्रकार का अमानवीय रवैया अपना रहे हैं.  गे कहा कि जनांदोलनों के दवाब में केंद सरकार प्रवासी मजदूरों और छात्रों को घर भेजने पर तो सहमत हुई लेकिन अपने आधिकारिक नोटिफिकेशन में वह छलावा कर गई. सिर्फ उन्हीं मजदूरों को वापस आने की इजाजत मिली है जो अचानक हुए लॉक डाउन के कारण देश के दूसरे हिस्से में फंस गये थे. जो पहले से वहां काम कर रहे हैं, उनको नहीं लाया जाएगा. सच्चाई यह है कि लॉक डाउन के बाद फैक्ट्री बंद हो गए और पहले से काम कर रहे मजदूर भी सड़कों पर आ गए और वे तमाम तरह की परेशानी झेल रहे हैं. समझ से बाहर है कि सरकार इन्हें क्यों लाना नहीं चाहती? आखिर वे क्या करेंगे!

खेग्रामस के महासचिव धीरेन्द्र झा ने कहा कि नीतीश कुमार द्वारा प्रवासी मजदूरों के लिए किराया देने वाला बयान भ्रामक और छलावा है. मुख्यमंत्री ने कहा है कि दूसरे राज्यों से आने के बाद मजदूरों को क्वारेंटाइन सेंटर में रखा जाएगा और क्वारंटाइन के बाद जब मजदूर घर जाने लगेंगे उस समय ट्रेन से आने में हुआ खर्च उन्हें दिया जाएगा. मतलब, जो मजदूर अपने पैसे से बिहार लौटेंगे, उनका पैसा ही वापस होगा. जिनके पास पैसा नहीं होगा, वे कैसे लौटेंगे? आज मजदूर दूसरे राज्यों में दाने - दाने को मुहताज हैं. उनसे किराया का पैसा जुटाने को कहना उनके साथ क्रूर मजाक है. केंद्र व राज्य के बीच 85 बनाम 15 प्रतिशत किराया देने की घोषणा का भी कोई नोटिफिकेशन नहीं है. अन्य नेताओं ने कहा कि बिहार के 40 लाख से ज्यादा मजदूर देश के अन्य दूसरे हिस्से में काम करते हैं. खुद बिहार सरकार 29 लाख मजदूरों के बाहर होने की बात स्वीकार कर रही है. आज वे बेहद नारकीय जीवन जी रहे हैं, लगातार कोरोना के संक्रमण के शिकार हो रहे हैं, लेकिन इसकी चिंता सरकारों को बिल्कुल नहीं है.  कर्नाटक में उन्हें कोरोना बम कहा जा रहा है. ये मजदूर अपने राज्य लौटना चाहते हैं, आखिर सरकार उन्हें क्यों नहीं लौटने दे रही है? ऐसा लगता है कि मजदूर आदमी नहीं बल्कि पूंजीपतियों के बंधुआ हैं. यह न केवल मजदूरों का बल्कि बिहार का भी अपमान है. ‘डबल इंजन’ की सरकार का क्या हुआ! जब दिल्ली-पटना में एक ही गठबंधन की सरकार थी, तब तो मजूदरों को घर पहुंचाने में कोई दिक्कत ही नहीं होनी चाहिए थी. राजधानी पटना के दीघा में रामकल्याण सिंह, वशिष्ठ यादव, मीना देवी आदि नेताओं के नेतृत्व में धरना दिया गया. पटना जिले धनरूआ, फतुहा, फुलवारी, मसौढ़ी, दुल्हिजनबाजार, विक्रम, पालीगंज, बिहटा आदि प्रखंडों के सैंकड़ों गांवों में धरना हुआ. धनरूआ में कार्यक्रम का नेतृत्व खेग्रामस के बिहार राज्य सचिव गोपाल रविदास ने किया. भोजपुर में पार्टी जिला कार्यालय में विधायक सुदामा प्रसाद, जिला सचिव जवाहर लाल सिंह के नेतृत्व में धरना दिया गया. तरारी प्रखंड के विभिन्न गांवों में भी धरना हुआ. पीरो, शाहपुर के बेलवानिया, सहार प्रखंड मुख्यालय, गड़हनी प्रखंड कार्यालय व काउप सहित अन्य गांवों, उदवंतनगर, तरारी के गंगटी, उदवंतनगर के छोटकी सासाराम, अगिआंव, कोइलवर, संदेश, बिहिया आदि तमाम प्रखंड मुख्यालयों व गांवों में आज का धरना हुआ. मोतिहारी में माकपा जिला कार्यालय पर भाकपा-माले व अन्य वाम दलों के नेताओं ने धरना दिया. इसमें माले के वरीय नेता भैरव दयाल सिंह व विष्णुदेव यादव ने भाग लिया. समस्तीपुर के ताजपुर में भाकपा-माले नेताओं सहित इनौस व किसान सभा के भी नेता धरना में शामिल हुए. उन्होंने उपर्युक्त मांगों के अलावा किसानों की बर्बाद फसलों के मुआवजे की राशि व अन्य मांगों को भी उठाया. अरवल में अरवल जिला कार्यालय पर माले जिला सचिव महानंद, कलेर में राज्य कमिटी सदस्य जितेन्द्र यादव और करपी में खेग्रामस नेता उपेन्द्र पासवान के नेतृत्व में धरना दिया गया. जहानाबाद में माले जिला कार्यालय पर रामजतन शर्मा, रामबलि सिंह यादव, श्रीनिवास शर्मा आदि नेताओं ने भाग लिया. निघवां में किसान सभा के राज्य सचिव रामाधार सिंह ने धरना दिया. गया में निरंजन कुमार व रीता वर्णवाल ने धरना दिया. नवादा में सावित्री देवी के नेतृत्व में धरना हुआ. नालंदा के सिलाव व अन्य प्रखंड मुख्यालयों पर धरना हुआ. मुजफ्फरपुर में जिला कार्यालय सहित बोचहां, गायघाट व मुसहरी प्रखंड मुख्यालय सहित गांवों में धरना दिया गया. बेगूसराय पार्टी जिला कार्यालय पर तथा मधुबनी जिला कार्यालय व रहिका प्रखंड मुख्यालय पर धरना हुआ. दरभंगा में जिला कार्यालय सहित बहादुरपुर प्रखंड कार्यालय पर भी धरना हुआ. भागलपुर में मूसलाधर बारिश के बावजूद धरना हुआ. जमुई, कैमूर आदि जिला केंद्रों पर भी धरना हुआ. पूर्णिया, अररिया, सुपौल, गोपालगंज, रोहतास, बक्सर, सारण, वैशाली, औरंगाबाद आदि जिला केंद्रों सहित गांवों में भी धरना दिया गया.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...