भारत ने पांच मित्र देशों को चिकित्सा सहायता भेजी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 10 मई 2020

भारत ने पांच मित्र देशों को चिकित्सा सहायता भेजी

india-sent-medical-facility-to-five-nation
नयी दिल्ली, 10 मई, भारत ने मालदीव, मॉरीशस, मेडागास्कर, कोमोरोस और सेशेल्स की ओर से कोरोना वायरस महामारी से निपटने में मदद के अलग-अलग अनुरोध प्राप्त होने के बाद एक नौसैनिक पोत के माध्यम से इन पांचों देशों को चिकित्सा सहायता भेजी है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारतीय नौसैनिक पोत केसरी चिकित्सा दलों, आवश्यक दवाओं और खाद्य सामग्रियों को लेकर इन पांच देशों के लिए रवाना हुआ है। मंत्रालय ने कहा कि क्षेत्र में किसी भी संकट की स्थिति में सबसे पहले मदद का हाथ बढ़ाने की अपनी चिर-परिचित भूमिका को निभाते हुए भारत ने यह कदम बढ़ाया है। मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘कोविड-19 से निपटने में मदद के इन देशों के अनुरोधों के बाद भारत ने भारतीय नौसेना के जलपोत केसरी को मालदीव, मॉरीशस, मेडागास्कर, कोमोरोस और सेशेल्स के लिए रवाना किया है जिसमें दो चिकित्सा सहायता दल, कोविड-19 से संबंधित आवश्यक दवाओं की खेप तथा जरूरी खाद्य सामग्री है।’’  उसने कहा कि चिकित्सा सहायता दलों को मॉरीशस और कोमोरोस में तैनात किया जाएगा। कोमोरोस में तैनात दल वहां डेंगू बुखार से निपटने में भी मदद करेगा। विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘‘जहाज कोविड-19 से संबंधित आवश्यक दवाओं की खेप मॉरीशस, मेडागास्कर, कोमोरोस और सेशेल्स में उतारेगा तथा करीब 600 टन खाद्य सामग्री मालदीव पहुंचाएगा।’’  इनके अलावा आयुर्वेदिक दवाओं की विशेष खेप भी मॉरीशस भेजी जा रही है। बयान के अनुसार, ‘‘मेडागास्कर और कोमोरोस उतरने वाले सामान में हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन टैबलेट भी हैं जिसे पहले ही मॉरीशस, मालदीव और सेशेल्स भेजा जा चुका है।’’  इस जलपोत को महामारी से निपटने में मित्र देशों की मदद के लिए भारत द्वारा शुरू किये गये ‘मिशन सागर’ के तहत भेजा गया है।

कोई टिप्पणी नहीं: