झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 05 मई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 6 मई 2020

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 05 मई

लाकडाउन मे छुट के दोरान उमडी बाजार मे भीड प्रतिबंधित दुकाने भी खुली 

jhabua news
पारा । कोविड-19 कोराना वायरस के चलते जिला प्रशासन द्वारा पिछले 40 दिनो से जिले भर मे रखे गए टोटल लाकडाउन बाद ग्रीन झोन मे आए झाबुआ जिले को लाकडाउन से छुट दि गई। इसी छुट का लाभ उठाने के लिए ग्रामीण क्षेत्र के बाजार मे खरीददारी करने के लिए आम जन कि लगातार भीेड उमड रही हे। जिला प्रशासन द्वारा जिले भर मे किए गए 40 दिन के सख्त लाकडाउन के कारण केन्द्र व प्रदेश सरकार कि नजर मे झाबुआ जिला ग्रीन झोन मे दिखाई दिया। ग्रीन झोन मे आने के बाद जिला प्रशासन ने सख्ती कम कर आमजनो को राहत देकर नियम व शर्तो पर बाजार खोलने कि अनुमति दि। बावजुद इसके आमजन व दुकानदारो द्वारा किसी भी नियम का पालन नही किया जा रहा है। वही मांेबाईल, चाय नाश्ता कि होटल, हेयर कंटिंग सेलुन व पार्लर कि दुकान के खोलने पर प्रतिबंध होने के बाद भी ये दुकाने कही खुले मे तो कही चोरी छीपे चल रही हे। सभी दुकानो पर बडी भारी संख्या मे प्रति दिन भीड बढती जा रही है। हालत ये कि प्रतिबंधित कोरोना ग्रस्त जिला धार के राजगढ नगर के हेयर कटिग संचालक पारा मे आकर अपना व्यवसाय धडल्ले से चला रहे हे।  नगर मे मनीहारी, कटलरी व सोन्दर्य प्रसाधन कि दुकानो पर महीलाओ कि जबरजस्त भीड प्रति दिन देखी जा सकती हे।  इन दुकानो पर दुकानदारो द्वारा व दुकान पर आए ग्राहक द्वारा न मास्क पहना जा रहा हे न ही सोशल डिस्टंेसिग का पालन किया जा रहा हे। दुकानो पर सेनिटाईजेशन कि भी व्यवस्था नही हे। प्रशासन द्वारा बनाए गए नियम को ताख मे रख कर दुकानो का संचालन किया जा रहा हे।  ऐसे मे कभी भी कोई घटना घट सकती हे। धंघा करने व कमाने कि जल्दबाजी मे कही ऐसा न हो कि हम खुद ही कोरानेा के वाहक बना जाए । ग्रीन झोन मे मीली छुट का इतना भी फायदा मत उठाओ कि आने वाले दिनो मे हम सब को परेशानी का सामना करना पढे। व झोन का रंग पलट जाए ।

42 दिन बाद खुलें बाजारों में जबरदस्त भीड़ कोरोना का डर गायब

jhabua news
थांदला। नोवल कोविड 19 कोरोना महासंक्रमण से देश की अर्थव्यवस्था पर करारा झटका लगा है बावजूद इसके ग्रामीण आदिवासी अंचल में बसे थांदला नगर में सुबह से ही जबरदस्त भीड़ देखी गई। अभी तक लम्बे समय से बन्द कपड़ा, मोबाइल, हार्डवेयर, फुट वियर सहित अनेक दुकानों पर भीड़ देखी गई जिससे ऐसा लग की नगर कभी लॉक डाउन भी था। जिला प्रशासन ने अति संक्रमण वाले होटल, पान आदि कुछ व्यापार को प्रतिबंधित कर शेष सभी व्यापार को प्रातः 8 से दोपहर 2 बजे तक छूट प्रदान की है लेकिन व्यापारियों ने अति उत्साह में 8 बजे पहले ही अपनी दुकानों के शटर ओपन कर दिये। पुलिस प्रशासन नगर में घूमते हुए स्थिति का जायजा लेता रहा।

शहर व होलसेल बाजार बन्द के कारण भाव मे बढ़ोतरी
अंचल में अधिकांश माल इंदौर, रतलाम व दाहोद से आता है जहाँ जाना इस समय प्रतिबंधित है। वही इनमें से अनेक स्थानों पर होलसेल बाजार भी बन्द ही है, वही अधिकांश वस्तुओं के प्रोडक्शन भी बन्द है, जिसके चलते भाव मे आंशिक बढोतरी हुई है। यदि होलसेल बाजार में छूट मिल जाती है तो निश्चित वस्तुओं के दाम पुनः कम व स्थिर हो जाएंगे।

कपड़ा व्यापारियों की बैठक सम्पन्न
कोरोना महमारी के चलते लॉक डाउन खुलते ही व्यापारियों के चेहरे पर उत्साह के साथ नगर में कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा भी साफ दिखाई दिया। व्यापारियों को यह पता है कि एक गलत कदम पुनः लम्बे लॉक डाउन की तरफ धकेल सकता है जिसके चलते कपड़ा व्यापारी संघ के जिम्मेदार पदाधिकारियों ने धारा 144 का पालन करते हुए सोशल डिस्टेंश के साथ एक बैठक का आयोजन एक निजी प्रतिष्ठान पर किया। बैठक में एसोसिएशन के अध्यक्ष नितिन नागर, जितेंद्र चैरड़िया, प्रदीप जैन (झांसी वाले), पवन नाहर, नीरज सोलंकी, अरविंद चैहान आदि की उपस्थिति में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिये। बैठक में प्रमुखता से सभी की सुरक्षा के लिये सभी व्यापारी अपनी दुकानों के बाहर सेनेटाइजर अथवा साबुन व पानी की व्यवस्था रखे। ग्राहक के साथ स्वयं मास्क का उपयोग करें व सोशल डिस्टेंश का भी पालन करें। व्यापारियों के लंबे समय से बन्द दुकानों के कारण आर्थिक संकट से उबारने के लिये निर्णय लिया कि 6 सदस्यीय कमेटी किराया दुकानों के मालिक से मिलकर किराए में कटौती का निवेदन करेगी, यदि दुकान मालिकों का सहयोग मिल जाता है तो यह निर्णय ऐतिहासिक होगा, जिसे आनेवाले समय मे अन्य व्यापारी भी लागू करेंगे। बैठक में मोबाइल स्पीकर के माध्यम से एसडीओपी एम एस गवली ने भी सभी कपड़ा व्यापारियों को महत्वपूर्ण निर्देश व सुझाव देते हुए कहा कि यदि वे इस छूट का कठोरता से पालन करते है तो फिर पुलिस प्रशासन को भी सख्त नही होना पड़ेगा व जिला भी सुरक्षीत रहेगा इसलिए बेहतर होगा कि सोशल डिस्टेंश का पूरा खयाल रखा जाए व दुकानों में फालतू भीड़ ना लगाई जाए व जिसे माल खरीदना हो उसे ही दुकान में बुलाकर माल देने के बाद अन्य ग्राहक को ले। वही कपड़ा व्यापारी संघ ने भी सभी ग्राहकों से अपील की है कि घर पर रहने में ही सुरक्षा है इसलिए बेवजह फालतू घर से ना निकले व घर से एक व्यक्ति ही आकर अपनी व परिवार की जरूरत का सामान ले जाये जिससे हम अपने व अपने परिवार को भी सुरक्षित रख सकेंगे।

गरीबो को फ्री में मिलने वाला चावल पहुँच रहा नेताओं के घर मामला मादलदा का जहाँ चावल के छह कट्टे उतारते हुए ग्रामीणों ने पकड़ा

jhabua news
थांदला । क्षेत्र के भामल खवासा मे इन दिनों गेंहू चावल की कालाबाजारी का कारोबार चरम पर है, गरीबों के लिए सोसायटीयो में पहूँचने वाले गेंहू व चावल पर कालाबाजारी करने वाले माफियाओं का कब्जा है। इतनी तगड़ी सेटिंग जमा कर रखी है कि वेयर हाउस से चावल और गेहूं सोसाइटीयो के लिए भरकर जब परिवहन होता है तो विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों की नजरों के सामने ये काजल चुरा ले जाते है और अधिकारी सब देखते हुए भी अनजान बन जाते है। कुछ ऐसा ही मामला मादलदा में देखने को मिला जहा 12 से 1 बजे के बीच नाकोड़ा ट्रांसपोर्ट का ट्रक डच् 45 ..... आता है और बीच रास्ते बनी झोपड़ी के समीप चावल के कट्टे अवेध तरीके से खाली होते है। जैसे ही गाँव के युवा जयस कार्यकर्ता कलसिंग भूरिया, तूफान डिंडोड, राहुल भूरिया, मनोहर बारिया आदि ट्रक से बोरिया उतारते हुए हम्माल को पकड़ लेते है जिसमे ट्रक ड्रायवर चावल के कट्टे वही छोड़कर ट्रक भगा लेता जाता है मगर 8 चावल की कटिया ग्रामीणों द्वारा पकड़ ली जाती। गरीबो का राशन पर डाका मारकर समाज सेवा का तमगा पहन लिया जाता है, यह जनता को समझने का विषय है वही जिम्मेदार अधिकारी कागजो पर तो पूरा राशन दर्शा रहे है लेकिन धरातल पर ग्रामीणों को राशन नही मिल पा रहा है। सेल्समेन सहीत सोसायटी के संचालक इस अवैध काम को अंजाम देने में लगे हुए हैं। नहीं तो किसी वाहन चालक व हम्मलो की इतनी हिम्मत नहीं की शासकीय राशन आसानी से ठिकाने लगा दे। कोई ना कोई तो इस मामले में बड़ा व्यक्ति जिम्मेदार है तभी जाकर पूरा खेल खेला जा रहा है। गौरतलब है कि पूरे जिले मैं वेयर हाउस से सोसाइटी तक का राशन का परिवहन करने का ठेका मेघनगर के एक बड़े व्यक्ति का बताया जाता है, अब ऐसी स्थिति में नाम भी ट्रांसपोर्ट कंपनी के मालिक का ही बदनाम होगा यदि समय रहते इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो ट्रान्सपोर्ट कंपनी के मालिक के खिलाफ भी कार्यवाही होना लाजमी है। आपको बता दे कि ग्राम मादलदा सहित अनेक गाँवो मे लंबे समय से वहाँ पदस्थ सेल्समेनों की शिकायत ग्रामीणों द्वारा की जा रही है जिसमें विशेषकर गेहूँ की कालाबाजारी का मुद्दा उठाया जाता रहा है। कुछ दिनों पहले भी प्रभारी तहसीलदार ललिता गडरिया व खाद्य आपूर्ति अधिकारी ने मौके पर पहुच कर पंचनाम भी बनाया था और जांच का जिम्मा खाद्य आपूर्ति अधिकारी एस के तोमर को दिया गया था लेकिन जाँच भी रसूखदारों के प्रभाव से अछूती नही है तभी तो अभी तक अधिकारियों ने मीडिया को इस पूरी जानकारी से अवगत नही कराया गया। लेकिन शुक्रवार को जब ग्रामीणों द्वारा खुलेआम चावल उतारते हुए पकड़ा गया तो समझा जा सकता है की किस तरह से गरीबो का राशन कलाबाजरी की भेंट चढ़ रहा होगा, जबकी प्रशासन शत प्रतिशत राशन वितरण का दावा कर रहा है।

जिम्मेदार बोले हमारी जवाबदारी नही -
इस सन्दर्भ में आप खाद्य आपूर्ति अधिकारी निरीक्षक एस के तोमर से चर्चा करें। हमने प्रतिवेदन बना कर दे दिया है। इस सन्दर्भ में जाँच के लिए एक कमेटी बनाई गई है। बाकि एस के तोमर इसे अच्छे से बता पाएंगे। ललिता गड़रिया - तहसीलदार थांदला

हमारी जिम्मेदारी सोसायटी से प्रारम्भ होती है। वहाँ से अनाज बटा या नही यह देखना होता है। बीच मे कौन क्या कर रहा है इसके लिये तो नगरीय आपूर्ति निगम ही जिम्मेदार है। आप उनसे संपर्क करें मेरे पास उनके नम्बर नही है। एस के तोमर - जिला खाद्यान्न अधिकारी, झाबुआ

यूपी बिहार सरकार न अपनेे 178 मजदुरो को वापस लेने से किया इनकार कालिदेवी पुलिस ने किया क्वारंेटाईन

jhabua news
कालिदेवी । गुजरात मजदूरी करने गए यूपी बिहार के मजदूर वापस अपने प्रदेश की ओर जा रहे थे जिन्हें पुलिस ने पकड़ कर शेल्टर हाउस में भेजा रविवार को कालीदेवी थाना क्षेत्र में बड़ी संख्या में गुजरात मजदूरी करने गए यूपी बिहार के लोग वापस अपने प्रदेश की ओर पैदल ही जा रहे थे यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा अपनी सीमा में नहीं लेने के आदेश के बाद इन लोगों को थाना प्रभारी अशफाक खान व चैकी प्रभारी माछलिया नरेंद्र राठौर ने  पकड़ कर कालीदेवी स्थित क्वॉरेंटाइन  सेंटर शेल्टर हाउस कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय छात्रावास व कन्या शिक्षा परिसर में भेजा कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय छात्रावास में कुल 172 लोगों को रखा गया वही कन्या शिक्षा परिसर में 6 लोगों को शेल्टर हाउस में रखा गया कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय छात्रावास में अधिक संख्या होने से 22 लोगों को कन्या शिक्षा परिसर में भेजा गया इस प्रकार यहां कुल 178 लोगों को शेल्टर हाउस में रखा गया शाम 5 बजे तक इनकी जांच स्क्रीनिंग नहीं हुई वही इन्हें सुबह का भोजन भी नहीं दिया गया ।

संघ स्थापना दिवस पर घर घर हुई सामयिक

झाबुआ,। जैन समाज के 24 वे तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी के कर कमलो से वैशाक माह की एकादशी को उनके कर कमलो से चर्तूर्वीद संघ की स्थापना हुई थी ओर संयोग से आज ही के दिन परम पूज्य गच्छादीपती गच्छनायक मोहनखेडा तीर्थ विकास प्रेरक गुरूदेव आचार्य प्रवर श्रीमद् विजयऋषभचन्द्र सुरीश्वरजी की मसा के आचार्य पद पाटोत्सक के तीन वर्ष ऐतिहासिक जीन शासन की अभूतपूर्व शासन प्रभावना करते हुये ओर दादागुरू देव के गुरू गच्छ में चतुर्विद संघ का कुशलता पूर्वक नेतृत्व करते हुये तीन वर्ष पूर्ण होकर चतुर्ष वर्ष के मंगल पदापर्ण पर स्थानीय जैन श्वैताम्बर श्रीसंघ द्वारा श्रद्धा भक्ति समर्पण के साथ उनके पावन चरणो में कोटी कोटी सादर सविधि वंदना करते हुये उनके मंगल कामना करते हुये धार्मिक अनुष्ठान के तहत घर घर में सामयिक की गई। यह जानकारी रिंकु रूनवाल ने दी।

ग्रामीण क्षेत्र में राहत कार्य तत्काल खोलने के निर्देष

jhabua news
झाबुआ,। जिले में प्रत्येक जनपद पंचायतों में मनरेगा के अन्तर्गत 20 हजार से अधिक के कार्य तत्काल खोले जावे। ग्राम पंचायतों में हितग्राही मूलंक अधिक से अधिक कार्य किये जावे। प्रत्येक ग्राम पंचायत में 5 राहत कार्य स्वीकृत किये जावे ताकि जरूरतमंद व्यक्तियों को रोजगार उपलब्ध हो सके। यह निर्देष कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा ने रविवार को यहां कलेक्ट्रेट सभा कक्ष में अधिकारियों की बैठक में दिए। श्री सिपाहा ने अधिकारियों को निर्देष दिए कि वे प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत स्वीकृत कार्यों को तत्काल प्रारम्भ किये जावे। क्षेत्र  में मेड़ बंधान, पत्थरों की पाल बनाने का कार्य हाथ में लिये जावे ताकि जरूरतमंद व्यक्तियों को रोजगार उपलब्ध हो सके। सभी मुख्य कार्यपालन अधिकारी अपने-अपने ग्रामीन क्षेत्र में खेत तालाब, पहाड़ी उपचार, खेल मैदान, सार्वजनिक कूप, बड़े तालाब का काम चालू करें। श्री सिपाहा ने अनुविभागीय अधिकारियों तथा तहसीलदारों को निर्देष दिए कि वे अपने-अपने क्षेत्र में प्रतिदिन भ्रमण कर राहत कार्यों का जायजा ले। इन राहत कार्यों में जे सी बी. का उपयोग न होने दें। निरीक्षण के दौरान यदि जे.सी.बी. का उपयोग करना पाया जाता है तो उसे जप्त किया जावे और नियमानुसार उनके विरूद्ध कार्यवाही सुनिष्चित की जावे। श्री सिपाहा ने निर्देष दिए कि स्कूल भवन, आगनवाड़ी भवन तथा गौषालाओं का निर्माण कार्य षीघ्र पूर्ण कराया जावे। उन्होंने जिले में तेंन्दूपत्ता संग्रहण का कार्य किये जाने के निर्देष दिए। यदि पास की आवष्यकता हों क्योंकि वनोपज संग्रहण के लिए व्यक्तियों द्वारा अंतर जिला मूवमेंट भी होता है तो उन्हें पास दिए जाने की व्यवस्था भी की जाए। जीवन षक्ति योजना के तहत महिला स्वसहायता समूह को मास्क बनाने, हैंडवास, साबुन, बैग बनाने, का कार्य उपलब्ध कराकर उन्हें रोजगार से जोड़ा जावे। श्री सिपाहा ने अधिकारियों से कहा कि विभिन्न षासकीय योजनाओं की राषि हितग्राहियों तक पहुंच जाए ऐसी व्यवस्था सुनिष्चित करें। उन्होंने समर्थन मूल्य पर गेहूं उपार्जन केन्द्रों पर लगे हम्मालों को पारिश्रमिक राषि का भुगतान समय पर हो जाए इसके लिए भी सुनिष्चित करने के निर्देष दिए। बैठक में पुलिस अधीक्षक श्री विनीत जैन, वन मण्डलाधिकारी श्री एम.एल. हरित, अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री दिनेष वर्मा, अुनविभागीय अधिकारी राजस्व पेटलावद श्री जी.एस.बघेल, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व थांदला श्री बी.एल.मालवीय, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व मेघनगर श्री पराग जैन, डिप्टी कलेक्टर श्री एल.एन.गर्ग, परियोजना अधिकारीषहरी विकास अभिकरण, जिले के समस्त जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, तथा मुख्य नगर पालिका अधिकारी, प्रबंधक एन आर एल एम सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

जिले में 17 हजार 590 राहत कार्य प्रगतिरत 43 हजार 281 श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध

झाबुआ,। महात्मा गांधी नरेगा अन्तर्गत जिले में 17 हजार 590 राहत कार्य किये जा रहे हैं। जिसमें 43 हजार 281 श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध हो रहा है। कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा ने अवगत कराया की इस योजना के तहत झाबुआ में 3 हजार 718, मेघनगर में 2 हजार 329, पेटलावद में 3 हजार 383, रामा में 2 हजार 261, रानापुर में 3 हजार 121, और थांदला जनपद पंचायत क्षेत्र में 2 हजार 778, राहत कार्य चल रहे हैं। इन कार्यों में झाबुआ में 5 हजार 091, मेघनगर में 7158, पेटलावद में 11 हजार 685, रामा में 7 हजार 420, रानापुर में 4 हजार 163, और थांदला जनपद पंचायत क्षेत्र में 7 हजार 764 श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। अतिरिक्त  मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री दिनेष वर्मा ने जानकारी देते हुए बतलाया कि जिले में कपील धारा योजना के तहत 2 हजार 929 कूप, 1 हजार 960 सार्वजनिक कूप, 1 हजार 64, नदी पूनर्जीवन कार्य, 1 हजार 352, प्लानटेसन के कार्य, 830 तालाब, 9 खेत तालाब, 1 अन्य बोल्डर चैक का कार्य, तथा 11 अन्य कंाउटर ट्रेंच के कार्य, किये जा रहे हैं।

4 हजार 84 व्यक्तियों को भोजन प्रदाय

झाबुआ,। कोविड-19 (कोरोना वायरस) संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के लिए जिला स्तर से अब तक सर्दी, खांसी के मरीजों के साथ आईसोलेषन वार्ड क्वारेंटाइन केन्द्र एवं बाॅर्डर पर तैनात स्वास्थ्य कर्मी, पुलिस के लोग, आंगनवाडी एवं आषा कार्यकर्ता के कुल 329 सेम्पल जांच के लिए भेजे गये है। जिनमें से 295 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हो गई है। जिनमें से एक भी सैम्पल की जांच रिपोर्ट में कोरोना पाॅजिटिव नहीं पाया गया है। इसी प्रकार 16 सेम्पलों की जाॅंच रिपोर्ट आना षेष है। जिले में कुल 1004 लोगों को कोरेण्टाइन सेन्टर में रखा गया है। ज्ञात हो की जिले में कुल 8 आईसोलेसन वार्ड हैं। 46 क्वारेंटाइन केन्द्र है सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के स्तर पर आर आर टी टीमों की संख्या झाबुआ मुख्यालय पर 2, राणापुर, मेघनगर, थान्दला, तथा पेटलावद में एक-एक और रामा में दो इस प्रकार कुल 8 आर आर टी टीम हैं। कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा ने अवगत कराया कि  सोमवार को 4 हजार 84 जरूरतमंद व्यक्तियों को भोजन प्रदाय किया गया है। पुलिस विभाग द्वारा जिले में अब तक कुल 20 व्यक्तियों के खिलाफ एफ आई आर, धारा 151 के तहत 6 प्रकरण तथा 22 व्यक्तियों को अस्थाई जेल में निरूद्ध किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...