बिहार : सड़क निर्माण मे लापरवाही से हुई एक 23 वर्षीय युवक की दर्दनाक मौत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 9 मई 2020

बिहार : सड़क निर्माण मे लापरवाही से हुई एक 23 वर्षीय युवक की दर्दनाक मौत

one-dead-in-road-construction
अरुण शाण्डिल्य(बेगूसराय)  एक तो कोरोना महामारी की वजह से सम्पूर्ण भारत क्या विस्खोहव इस वक़्त लॉक डाउन की मार से पीड़ित है,कारण कोरोना से मृत्यु का भय,बेरोजगारी की वजह से भुखमरी की चिन्ता, ऐसे में जब कोई काम की तालाश में निकलता है और काम मिल जाता है तो कितनी खुशी होती है यह तो खुश हिनेवाला ही बयां कर सकता है,मगर वही खुशी वक्त की मार कहें या लापरवाही कहें चाहे जैसे भी हो वही खुशी जब गम में तब्दील ही जाता है तो फिर जानेवाला तो चला जाता है पर उसपर जो आश्रित जोता है उसपर किउआ गुजरती है ये स्वसंवेद की बात है।ऐसी एक घटना ओपी थाना क्षेत्र के गाँव शाहपुर ढाला के पास एनएच 31पर कार्यरत एक बड़ी सड़क निर्माण कम्पनी के द्वारा लापरवाही का मामलों के कारण सामने आया है।जिसका खामियाजा एक युवक को अपनी जान गंवा कर भुगतनी पड़ी।बात साफ है सड़क निर्माण कम्पनी के द्वारा एनएच 31 पर फोरलेन का काम चलाया जा रहा था,इतनी बड़ी कम्पनी और बिना सुरक्षा व्यवस्था का काम करवाना या करना दोनों तौर से यह अनुचित ही है।नतीजन बिना सुरक्षा मानक के काम करने के कारण ही एक युवक जो की बिजली के 11000 वोल्टवाली तार के सम्पर्क में आने से युवक की घटनास्थल पर ही दर्दनाक मौत हो गई।मृतक की पहचान धबौली के वार्ड संख्या 01 निवासी मुखो तांती के 23 वर्षीय पुत्र विजय कुमार तांती के रूप में की गयी है।घटना के सम्बंध में परिजनों ने बताया कि एनएच 31 पर फोरलेन का काम चल रहा था, तभी काम करने के दौरान अचानक युवक का सम्पर्क 11000 वोल्ट के तार के साथ हो गया।जिसके कारण उसकी तत्क्षण घटनास्थल पर ही दर्दनाक मौत हो गयी।घटना के बाद परिजनों में अफरा तफरी का माहौल हो गया।घटना की सूचना मिलते ही लाखो ओपी पुलिस घटनास्थल पर पहुँचकर लाश को अपने कब्जे में ले लिया और अंत्यपरीक्षण के लिए सदर अस्पताल भेज दिया।अब सवाल यह उठता है कि ऐसी बड़ी कम्पनीयों से इस तरह की बड़ी लापरवाही कैसे हो सकती है यह अपने आप मे आश्चर्य की बात है।मृतक के परिजनों का हाल रो रो कर बुरा हो गया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...