बिहार : जमालपुर इंस्टीट्यूट फॉर मैकेनिकल एंड इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग नहीं हटेगा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 8 मई 2020

बिहार : जमालपुर इंस्टीट्यूट फॉर मैकेनिकल एंड इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग नहीं हटेगा

railway-technical-institute-will-not-remove-from-jamalpur
अरुण शाण्डिल्य (बेगूसराय) कल यानी 8 मई 2020 को जमालपुर रेल कारखाना ने सफलता पूर्वक मनाई अपना 154वां स्थापना दिवस।इस मौके पर रेलवे का रेल मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि आईआरआईएमईई को जमालपुर से लखनऊ स्थानांतरित नहीं किया जा रहा है। रेलवे ने एक बयान जारी कर कहा है कि ऐसी कोई बात नहीं है। समाचार माध्यमों में आई खबरों का खंडन करते हुए रेलवे ने कहा है कि इस आशय का कोई भी दावा गलत और भ्रामक है, इसके लिए रेल मंत्रालय की मंजूरी नहीं है।रेलवे के द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि मीडिया के द्वारा बताया गया है कि इंस्टीट्यूट फॉर मैकेनिकल एंड इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग (आईआरआईएमईई) जमालपुर से लखनऊ के लिए स्थानांतरित किया जा रहा है, जो गलत है। इसके लिए रेलवे ने कोई संस्तुति मंजूर नहीं की है।अपने बयान में रेलवे ने आगे कहा है कि रेल मंत्रालय ने परिवहन प्रौद्योगिकी और प्रबंधन में शैक्षिक कार्यक्रम प्रदान करने के लिए आईआरआईएमईई की गतिविधियों को बढ़ाने की योजना बनाई है। इस योजना के तहत जमालपुर में 1 वर्षीय डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के साथ शुरू होने वाले कई अतिरिक्त शैक्षिक कार्यक्रमों को शुरू करने पर विचार किया जा रहा है। इसके लिए पाठ्यक्रम विकास और डिजाइन का काम चल रहा है।रेलवे ने कहा है कि भारतीय रेलवे को आईआरआईएमईई के इतिहास और विरासत पर बहुत गर्व है। इसके वर्तमान स्थान से स्थानांतरित होने का कोई सवाल ही नहीं है। वास्तव में, सभी प्रयास इसे और मजबूत बनाने और मौजूदा स्थान पर अपनी भूमिका बढ़ाने के लिए किया जा रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं: