जमशेदपुर : छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत योगी के निधन पर राजेश शुक्ल ने शोक जताया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 30 मई 2020

जमशेदपुर : छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत योगी के निधन पर राजेश शुक्ल ने शोक जताया

rajesh shukla
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता) भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता और वरिष्ठ अधिवक्ता राजेश कुमार शुक्ल ने छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री श्री अजीत योगी के निधन पर गहरा शोक प्रकट किया है। श्री शुक्ल ने अपने  शोक संदेश में कहा है श्री योगी व्यवहारकुशल जन नेता थे तथा उनमें अदम्य साहस था।  श्री शुक्ल उनकी धर्मपत्नी और विधायक श्रीमती रेणु योगी को भेजे संदेश में कहा है श्री योगी  की  छत्तीसगढ़ की राजनीति में बराबर कमी खलेगी। श्री शुक्ल ने उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रभु से प्रार्थना किया है।

लॉक डाउन के इस समय मे 2 महीने में 5 हजार गरीब और असहाय लोंगो को  राजेश शुक्ल ने बाटी  खाद्यान सामग्री
भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता और राज्य के सुप्रसिद्ध वरिष्ठ अधिवक्ता राजेश कुमार शुक्ल ने  कोरोना जैसी वैश्विक महामारी में पिछले दो महीने में 5 हजार गरीब, असहाय, मजदूरों के बीच कच्चा खाद्यान्न सामग्री सामाजिक दूरी का कड़ाई से पालन करते हुए बटवाये , जिसकी सर्वत्र प्रशंसा हुई। श्री शुक्ल ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जे पी नड्डा के निर्देश पर और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष श्री दीपक प्रकाश के सबल नेतृत्व में इस कार्य को 18 दिनों तक लगातार चलाया और 5 हजार  लोंगो को  राशन सुलभ कराया। श्री शुक्ल जो झारखंड स्टेट बार कौंसिल के वाईस चेयरमैन और अखिल भारतीय अधिवक्ता कल्याण समिति के राष्ट्रीय महामंत्री भी है ने  झारखंड से बाहर बिभिन्न प्रान्तों में इस लॉक डाउन के दौरान झारखंड के फसे 40 अधिवक्ताओ को भी भरपूर मदद की जिसकी पूरे राज्य में अधिवक्ताओ ने सराहना की। वास्तव में श्री शुक्ल जहा एक सफल अधिवक्ता है वही एक कुशल राजनेता भी है जो मानवीय मूल्यों को समझते है तथा सभी लोंगों की मदद के लिए हमेशा तत्पर और तैयार रहते है। उनकी व्यवहार कुशलता की सभी प्रशंसा करते है। श्री शुक्ल जमशेदपुर जिला बार एसोसिएशन के लगातार तीन सत्र तक निर्वाचित उपाध्यक्ष रहे है, वही झारखण्ड स्टेट बार कौंसिल के 2 सत्र से निर्वाचित सदस्य है और झारखंड स्टेट बार कौंसिल के 2 सत्र से निर्वाचित वाईस चेयरमैन है, कुछ महीने झारखंड स्टेट बार कौंसिल के चेयरमैन भी रहे । श्री शुक्ल को झारखंड में अधिवक्ताओ की कल्याणकारी योजनाओं का प्रणेता भी कहा जाता है। श्री शुक्ल  ने राज्य में अधिवक्ताओ की कल्याणकारी योजनाएं चलवाने में निर्णायक भूमिका सदैव निभाई। इसीलिए राज्य के अधिवक्ताओ के बीच श्री शुक्ल बेहद लोकप्रिय है।  श्री शुक्ल के प्रयास से सरायकेला बार एसोसिएशन के सदस्यों को बैठने के लिए भवन मिला, घाटशिला बार एसोसिएशन  का बार भवन बना, राज्य के कई बार एसोसिएशन में पुस्तकालय के लिए अनुदान मिला, झारखंड बार कौंसिल को राज्य  की रघुवर सरकार  से 1 रुपये में भूखण्ड रांची में मिला ।  चांडिल बार एसोसिएशन को भी स्थान मिला।जमशेदपुर के अधिकांश अधिवक्ता श्री शुक्ल से नियमित मिलते है तथा अपनी कठिनाइयों को दूर कराने के दिशा में मदद प्राप्त करते है। जिसके लिए उनकी प्रशंसा होती है। झारखंड स्टेट बार कौंसिल के सदस्य श्री अनिल कुमार महतो , सरायकेला बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष और वरिष्ठ अधिवक्ता  श्री विश्वनाथ रथ, चाईबासा जिला बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष श्री वी एन पांडेय, जमशेदपुर जिला बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष श्री एम पी बनर्जी, घाटशिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री अनादि मित्रा, सचिव अरुण ओझा, चांडिल बार एसोसिएशन के पूर्व सचिव  श्री अशोक झा , वरिष्ठ अधिवक्ता श्री एस एन तिवारी, टी  एन ओझा, जिला बार एसोसिएशन के संयुक्त सचिव श्री पवन कुमार तिवारी, अधिवक्ता  कल्याण समिति के श्री नीलेश कुमार, सुनिस पाण्डेय,  सुनयना  पांडेय, ममता संघानी, रमेश प्रसाद सहित अनेक वरिष्ठ अधिवक्ताओ ने श्री शुक्ल को राज्य के अधिवक्ताओ का गौरव बताते हुए उनके द्वारा अधिवक्ताओ के लिए लगातार किये गए  कल्याणकारी योजनाएं के लिए उनकी भूरी भूरी प्रशंसा किया है और कहा है कि लॉक डाउन के समाप्त होते श्री शुक्ल का कोल्हान के अधिवक्ताओ द्वारा भव्य अभिनंदन  होंगा।

कोई टिप्पणी नहीं: