सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 04 मई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 4 मई 2020

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 04 मई

ग्रीन जोन में जिला केंद्रीय गाईड लाइन के तहत  व्यापारियों को लॉक डाउन से मुक्त करे प्रशासन 
भाजपा नेता गौरव सन्नी महाजन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र 
sehore news
सीहोर। भारत शासन के गृह मंत्रालय द्वारा दी गई गाईड लाईन अनुसार सीहोर जिला ग्रीन जोन में शामिल है लॉक डाउन से परेशान व्यापारियों की परेशानी को देख्ते हुए भाजपा नेता गौरव सन्नी महाजन ने केंद्र सरकार की गाईड लाईन के मुताबिक दुकाने खोलने की अनुमति व्यापारियों को देने की मांग जिला प्रशासन से की है।  भाजपा नेता महाजन ने त्रुटीवश सीहोर व श्यामपुर तहसील के कुछ हल्क ों के फसल बीमा राशि से वचिंत किसानों की परेशानी और लॉक डाउन से प्रभावित नागरिकों के बिजली पानी के बिल माफ करने के संबंध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को ईमेल के माध्यम से भेजे पत्र से अवगत कराया गया है।  महाजन ने कहा की जिले में कोई कोरोना पॉजिटिव मरीज भी नहीं पाया गया है व्यापारी केंद्र की गाईड लाईन के मुताबिक दुकाने खोलने के लिए पात्र है जिला प्रशासन के द्वारा सोशल डिस्टेंसिग का पालन करते हुए समस्त व्यापारियों को व्यवसाय करने की अनुमति दी जा सकती है। महाजन ने कहा की बड़े खातेधारक किसानो के साथ मध्यमवर्गीय व छोटे खातेदार किसानों का गेंहू समर्थन मूल्य पर खरीदारी के मेसेज भेजे जाए जिस से किसानों को राहत मिल सकें। जिले के सम्पूर्ण बिधुत उपभोक्ताओं एवं जल उपभोक्ताओं के दो माह के बिल पूर्ण रूप से माफ़ किए जाए उन्होने कहा की हर वर्ग को लॉक डाउन से आर्थिक हानी का सामना करना पड़ रहा है इसलिए उपभोक्ताओ की आर्थिक परेशानी को ध्यान में रखते हुए दो माह का बिल माफ़  किया जाना चाहिए। शासकीय उचित मूल्य की दुकानों से जरुरतमंद लोगो को पर्याप्त मात्र में चावल का वितरण हो रहा है लेकिन लोगो की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए गेहूं के साथ रोजमर्रा की जीवन में जरुरी अन्य खाद्य पदार्थ भी लॉक डाउन से प्रभावित नागरिकों को वितरित किया जाना चाहिए। 

संभाग आयुक्त ने किया उपार्जन केन्द्रों का निरीक्षण

सोमवार को संभाग आयुक्त श्री कवीन्द्र कियावत ने जिले की बुदनी तहसील अन्तर्गत ग्राम बकतरा एवं बासगहन खरीदी केन्द्र का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने जिले में फसल उपार्जन से संबंधित सभी जिला अधिकारियों को उपार्जन को सुगम और शीघ्र करने हेतु निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि किसानों को किसी प्रकार की असुविधा न होते हुए शीघ्रता से तुलाई की जाए। संभागायुक्त ने कलेक्टर को निर्देशित किया कि आवश्यकता अनुसार विशेष जांच अधिकारी नियुक्त किए जाएं एवं खरीदी केंद्रों के और किसानों के मध्य आपसी सामंजस्य बनाते हुए शीघ्रता से काम किया जाए।

शहरी मोबाइल मेडिकल यूनिट ने कृषि उपज मंडी में किया स्वास्थ्य परीक्षण
मंडी में 190 किसान, व्यापारी व मंडी स्टाफ तथा थाने में 40 पुलिस कर्मियों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया

sehore news
सीहोर शहरी क्षेत्र की मोबाइल मेडिकल यूनिट (एम.एम.यू.) द्वारा कृषि उपज मंडी पहुंचकर करीब 190 किसानों, मंडी स्टाफ व व्ययापारियों की स्क्रीनिंग कर उनका स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। इस दौरान एमएमयू दल द्वारा मंडी थाना पहुंचकर 40 पुलिस स्टाफ की भी स्क्रीनिंग कर उनका  स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। इस दौरान सभी को सोशल डिस्टेसिंग का पूरा पालन किए जाने तथा मास्क का अनिवार्य रूप से उपयोग करने की सलाह दी गई व लाक डाउन के नियमों का पालन कर प्रषासन का पूरा सहयोग करने की अपील की गई। कसानों व व्यापारियों कोरोना संक्रमण से बचाव एवं सावधानियों से संबंधित पाम्पलेट व प्रचार सामग्री का भी वितरण किया गया। मोबाइल मेडिकल यूनिट दल में डॉ.अमृता गुप्ता, सुपरवाइजर श्री रामवृक्ष सिंह, श्री दिनेष सक्सेना, एएनएम रजनी एवं श्री अतहर अली शामिल थे।

अभी तक कुल 31995 लोगों की स्क्रीनिंग की गई आज तक कुल 228 रिर्पोट निगेटिव आई

स्वास्थ्य विभाग के अमले द्वारा मैदानी स्तर पर ग्राम एवं शहरी वार्डो में निरंतर घर-घर सर्वे कर विदेश से सीहोर जिले में लौटे तथा अन्य जिलों व राज्यों से व्यक्तियों की खोजबीन की जा रही है। पिछले 24 घंटे के दौरान जिले में अन्य राज्यों व अन्य जिलों से आए हुए करीब 131 व्यक्तियों की पहचान व पता लगाकर उनकी तत्काल स्क्रीनिंग की गई तथा उन्हें होम क्वारेंटाईन किया गया है। सीहोर जिले में अन्य जिलों अथवा राज्यों से लौटे हुए यात्रियों की संख्या अब तक कुल 31995 है। उन्हें होम कोरेंटाईन से संबंधित गाईड लाईन की जानकारी प्रदान कर सख्त हिदायत दी गई है कि होम कोरेंटाइन गाइड लाइन का कड़ाई से पालन करेंगे। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सुधीर डेहरिया ने जानकारी दी कि जिले में अन्य देशों से सीहोर पहुंचे कुल व्यक्तियों की संख्या 232 है जिनमें से 184 लोगों की अब तक स्क्रीनिंग स्वास्थ्य विभाग द्वारा की जा चुकी है। पिछले 24 घंटों के दौरान 131 ऐसे व्यक्तियों की पहचान की गई जो अन्य राज्यों और अन्य जिलों से लौटे थे इन सभी व्यक्तियों की तत्काल स्क्रीनिंग कर इन्हें 04 मई को ही होम कोरेंटाईन कर दिया गया है जिले में अब तक होम कोरेंटाईन किए गए व्यक्तियों की संख्या 31995 है। डॉ.डेहरिया ने बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान ऐसे व्यक्ति जो विदेश से सीहोर जिले में नहीं लौटे थे परंतु अन्य जिलों एवं राज्यों से लौटे थे और विभागीय अधिकारियों कर्मचारियों द्वारा घर-घर सर्वे के दौरान चिन्हित किए गए। पिछले 24 घंटों में होकोंरेटाईन की अवधि से 456 लोग बाहर आ चुके हैं जबकि अब तक कुल 26206 व्यक्तियों का होम कोरेंटाइन पूर्ण किया जा चुका है। जिले से अब तक कुल 256 सेम्पल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 228 की रिपोर्ट अब तक निगेटिव प्राप्त हुई है। सोमवार को 09 सेम्पल जांच के लिए भेजे गए। 09 सेंपलों सहित कुल 20 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। आज की स्थिति में हास्पिटल आईसोलेशन में भर्ती मरीजों की संख्या 2 तथा कुल 7 है। जांच के लिए भेजे गए 9 सेंपला में जिला चिकित्सालय-2, इछावर-5, आष्टा एवं नसरुल्लागंज से 1-1 सेंपल शामिल हैं। कोरोना संक्रमण पाजीटिव मरीजों की संख्या शून्य है। वहीं विदेश से आए यात्री जो गृह जिला या निवासरत जिला में वापस नहीं आए उनकी संख्या 48 है। विभाग की ओर से मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर 7247704181 है इस नंबर पर बाहर से बाहर से आए हुए व्यक्तियों की जानकारी 24 घंटे दी जा सकती है। वहीं कलेक्ट्रेट कार्यालय में भी 24 घंटे के लिए काल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-226470 है इस नंबर पर संपर्क कर कोविड-19 के संबंध में किसी प्रकार की सलाह ली जा सकती है 24 घंटे संचालित उक्त काल सेंटर में चिकित्सा अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है जिनके द्वारा विदेश, अन्य राज्यों व जिलों से आकर होम कोरेंटाइन किए गए व्यक्तियों को फोनकर  प्रतिदिन फीडबैक लिया जाता है तथा इसकी जानकारी जिला स्तरीय नोडल अधिकारी, संबंधित ब्लाक मेडिकल आफिसर को तत्काल दी जाती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसिन सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-401259 है यहां पर टेलीमेडिसिन के संबध में उचित सलाह लें।

सीहोर जिले के अन्तर्गत सभी बिजली बिल भुगतान केन्द्र शुरु

वैश्विक महामारी कोविड-19 के  संकमण के फैलाव से बचाव के लिए लॉकडाउन के कारण विद्युत वितरण केन्द्रों एवं जोन कार्यालयों में बिल भुगतान केन्द्रों पर नगद बिल जमा करने के कार्य स्थगित रखे गए थे। मध्यप्रदेश क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने बताया कि 4 मई से लॉकडाउन-3 लागू होने के बाद आरेंज एवं ग्रीन जोन के सभी वितरण केन्द्र एवं जोन स्थित बिल भुगतान केन्द्रों ने काम करना शुरु कर दिया है। सीहोर ग्रीन जोन में अर्थात जिले के सभी बिल भुगतान केन्द्रों चालू रहेंगे। इसके अलावा सभी एटीपी मशीन, एमपी ऑनलाईन का संचालन भी प्रारंभ कर दिया गया है। बिजली उपभोक्ताओं से अपील की गई है कि शासन के निर्देशानुसार सुरक्षा नियमों का पालन एवं सोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखते हुए बिल जमा करने की व्यवस्था का लाभ लें। राजस्व संग्रहण के लिए ऑनलाईन व्यवस्था जैसे portal.mpc.in, UPAY एप, नेट बैंकिंग, फोन पे, अमेलन पे, पेटीएम, एचडीएफसी पे एवं अन्य भुगतान विकल्प पूर्ववत चालू रहेंगे।  

भारत सरकार की गाइड लाइन के अनुरूप मदिरा और भांग दुकानों के संचालन के निर्देश जारी

प्रदेश में मदिरा एवं भांग दुकाने भारत सरकार द्वारा जारी की गई गाइड लाइन के अनुसार खोले जाने के लिए आबकारी आयुक्त द्वारा प्रदेश के सभी कलेक्टर को परिपत्र जारी किया गया है। कोरोना की राष्ट्रीय विपदा के दृष्टिगत जिन जिलो में कलेक्टर द्वारा मदिरा एवं भांग दुकाने खोले जाने की अनुमति दी जाएगी वहां सोशल और पर्सनल डिस्टेंसिंग एवं अन्य बचाव उपायों का शत-प्रतिशत पालन किया जाना होगा। कलेक्टर्स से कहा गया है कि 4 मई से इन दुकानों के संचालन की अनुमति देते समय भारत सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन्स के अनुक्रम में ग्रीन-आरेंज एवं रेड जोन के मान से ही निर्णय लिया जाए। आबकारी आयुक्त द्वारा जारी निर्देशों में कहा गया है कि दुकानों का संचालन सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक ही किया जा सकेगा। मदिरा दुकानों से सभी तरह की शासकीय औपचारिकताएँ पूर्ण कराई जाएंगी तथा दुकानों के संचालन के लिए लायसेंसधारी और उनके कर्मचारियों को ही पास जारी किए जाएंगे। मदिरा भंडार गृहों को भी अनुमति जारी करने के संबंध में कलेक्टर्स को निर्देश दिए गए हैं।

सी.एम. हेल्पलाइन से 5 लाख से अधिक लोगों को मिली राहत

प्रदेश में कोरोना के कारण लागू लॉकडाउन में सी.एम. हेल्पलाइन नम्बर 181 आम नागरिकों और सभी जरूरतमंदों के लिये सबसे बड़ा आसरा केन्द्र बन गया है। इस नम्बर पर अब तक 5 लाख 24 हजार 465 लोगों को फोन करने पर भोजन, राशन, दवाओं, परिवहन तथा अन्य प्रकार की राहत उपलब्ध कराई गई है। सी.एम. हेल्पलाइन किसानों के लिये भी मददगार साबित हो रही है। इस पर अब तक किसानों की फसल कटाई, फसल परिवहन आदि की 1023 समस्याओं का तुरंत निराकरण सुनिश्चित किया गया है। प्राप्त विस्तृत जानकारी के अनुसार सी.एम. हेल्पलाइन नम्बर 181 पर अब तक भोजन संबंधी 4 लाख 25 हजार 402, परिवहन संबंधी 29 हजार 361, दवाइयों संबंधी 28 हजार 409, आवश्यक वस्तुएं जैसे दूध, सब्जी आदि संबंधी 14 हजार 713 तथा अन्य प्रकार की 26 हजार 580 समस्याओं की जानकारी मिलते ही त्वरित कार्रवाई कर सहायता मुहैया कराई गई।

सीहोर के संस्थागत क्वारंटाइन सेंटर में रखे गए सभी व्यक्तियों  की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव

sehore news
जिले के लिए एक और राहत भरी खबर है। सीहोर के संस्थागत क्वारंटाइन में रखे गए जनता कॉलोनी निवासी सभी 14 व्यक्तियों की रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त होने के उपरांत उन्हें सोमवार को क्वारंटाइन सेंटर शासकीय बालक छात्रावास सीहोर से सभी को उनके घर भेज दिया गया है। क्वारंटाइन सेंटर में उन्होंने 12 दिन सफलता पूर्वक व्यतीत किए।  14 दिन की क्वारंटाइन अवधि पूर्ण करने के लिए उन्हें 2 दिन घर पर ही क्वारंटाइन के लिए निर्देशित किया गया है तथा क्वारंटाइन गाइड लाइन के सभी नियमों का कड़ाई से पालन करने की सलाह दी गई है। घर भेजे जाने के पूर्व सभी की थर्मल स्क्रीनिंग एवं स्वास्थ्य परीक्षण किया गया सभी स्वस्थ है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.सुधीर कुमार डेहरिया ने जानकारी दी कि  भोपाल के तलैया पुलिस थाने में पदस्थ श्री जितेन्द्र कुमार 22 अप्रैल को कोरोना पॉजीटिव पाए गए थे वे भोपाल में ही निवास कर रहे थे। उनका सेम्पल 16 अप्रैल 2020 को भोपाल में लिया गया था जहां 22 अप्रैल 2020 को उनकी रिपोर्ट पॉजीटिव आई थी। उसका पैतृक निवास सीहोर के जनता कॉलोनी में होने से तथा 12 अपैल को परिजनों के संपर्क में आने के कारण उसके परिवार एवं परिवार के  संपर्क में आए  14 व्यक्तियों के कोरोना सेंम्पल लेकर जांच के लिए भोपाल भेजे गए थे तथा सभी संस्थागत क्वारंनटाइन किया गया था। सभी की रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है। यहां क्वारंटाइन सेंटर में उनकी प्रतिदिन स्क्रीनिंग की जाकर स्वास्थ्य परिक्षण स्वास्थ्य विभाग द्वारा किया जा रहा था आज भी उनकी थर्मल स्क्रीनिंग कर स्वास्थ्य परीक्षण किया गया सभी स्वस्थ है तथा खुशी-खुशी घर लौटे।  

प्रदेश के बाहर फँसे हुए श्रमिकों को रेल से लाने के लिये प्लान का प्रथम चरण तैयार

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देशानुसार प्रदेश के बाहर फँसे हुए श्रमिकों को रेल के माध्यम से वापस बुलाने के प्रथम चरण की कार्य-योजना फायनल कर ली गई है। मध्यप्रदेश शासन सभी श्रमिकों को रेल किराया का भुगतान भी करेगी। प्रथम चरण में 31 रेल गाड़ियाँ महाराष्ट्र, गुजरात, हरियाणा, गोवा एवं दिल्ली में फँसे श्रमिकों को लेकर प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर यथा- भोपाल, जबलपुर, रतलाम, रीवा, कटनी आयेंगी। सभी श्रमिकों का स्वास्थ्य परीक्षण करने के बाद ट्रेन में चढ़ाया जायेगा। महाराष्ट्र से प्रथम चरण में 22 ट्रेनों में (प्रति ट्रेन लगभग 1200) लोग आयेंगे। गुजरात के राजकोट से भोपाल के लिये एक ट्रेन, हरियाणा के रिवाड़ी से कटनी के लिये 2 ट्रेन, नारनोल से कटनी के लिये 2 ट्रेन, दिल्ली से भोपाल के लिये एक ट्रेन, गोवा से भोपाल एक ट्रेन और गोवा से जबलपुर एक ट्रेन आयेगी। इस प्रकार रेल मंत्रालय एवं उक्त राज्यों को 31 रेल गाड़ियों के लिये रीक्वीजेशन दे दी गई है। आगामी सप्ताह में ये रेल गाड़ियाँ प्रदेश में फँसे श्रमिकों को लेकर आयेंगी। अपर मुख्य सचिव श्री आई.सी.पी. केशरी ने बताया है कि उक्त राज्यों के अधिकारियों के साथ लगातार सम्पर्क में हैं एवं श्रमिकों को सुरक्षित प्रदेश एवं घर तक पहुँचाने के लिये समन्वय कर रहे हैं। प्रदेश के रेलवे स्टेशन पर ट्रेन पहुँचने के बाद उनका स्वास्थ्य परीक्षण एवं भोजन/नाश्ते की व्यवस्था संबंधित जिला प्रशासन द्वारा की जायेगी। उसके बाद बसों के माध्यम से उन्हें उनके जिलों तक भेजा जायेगा, जहाँ पुन: उनका स्वास्थ्य परीक्षण किया जायेगा। वापस आने पर सभी श्रमिक 14 दिन तक होम क्वारेंटाइन में रहेंगे। महाराष्ट्र में फँसे मध्यप्रदेश के 26847 श्रमिकों को 22 ट्रेनों से वापस लाने का प्लान तैयार किया गया है। अमरावती से भोपाल एक ट्रेन में 1403, अमरावती से जबलपुर एक ट्रेन में 1202 , औरंगाबाद से रतलाम एक ट्रेन में 1155 ,औरंगाबाद से जबलपुर एक ट्रेन में 1093, नागपुर से भोपाल एक ट्रेन में 1488 , नागपुर से रीवा एक ट्रेन में 944 ,नागपुर से जबलपुर 9 ट्रेन में 10809, नासिक से भोपाल एक ट्रेन में 1066, नासिक से रतलाम 3 ट्रेन में 3628, नासिक से रीवा एक ट्रेन में 1407 और नासिक से जबलपुर एक ट्रेन में 1316 श्रमिकों को लाने का प्लान तैयार किया गया है।

हेयर शैलून की दुकानों पर तालाबंदी से सेन समाज के सामने भूखे मरने की आई नौबत 
मुख्यमंत्री से मांगी प्रति परिवार दस हजार रूपयें की आर्थिक मदद 
सीहोर। जिले में दो हजार से अधिक हेयर शेलून की दुकाने बंद है। छोटी बड़ी हेयर शेलून की दुकाने मुख्य रूप से पिछड़ी जाति में शामिल सेन समाज के द्वारा संचालित की जाती है। लॉक डाउन ने कैशकला व्यावसाय से जुड़े हजारों सेन समाज बंधुओं के समक्ष आर्थिक संकट खड़ा कर दिया है। समाज सुधार उद्धार सेन समाज समिति जिलाध्यक्ष तुलसीराम सेन ने संकट से जूझ रहे सेन परिवारों को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से प्रति परिवार दस हजार रूपये की आर्थिक मदद प्रदान करने की मांग की है।  युवासेन समाज संगठन अध्यक्ष विश्वास बगवैया ने बताया की दुकाने लगातार बंद रहने से कई परिवारों के सामने भूखे मरने जैसे हालात उत्पन्न हो गए है। केंद्र और राज्य सरकार सहित जिला प्रशासन ने अन्य काम धंधा करने वाले नागरिकों को तो लॉक डाउन से समयबंध राहत दी है लेकिन हेयर शेलून संचालकों पर कोई ध्यान नहीं दिया है। प्रति एक दुकान पर दो से दस लोगों तक काम करते है दुकाने बंद होने से हजारों सेन समाज के युवा बेरोजगार हो गए है। कोरोना वायरस से चल रहीं जंग भी सेन समाज भी देश के साथ है। आर्थिक मदद की मांग करने वालों में प्रेमनाराण मालवीय, अशोक बगवैया,मूलचंद्र देहरिया, अरूण श्रीवास,मनोहर बगवैया, सुरेश सेन, धनश्याम सेन,नितिन सेन, ललित सेन, रितेश सेन आदि समाजजन शामिल है। 

कोई टिप्पणी नहीं: