सोनारी के सुनील 45 दिनों से निस्वार्थ बेसहारों को खिला रहे खाना, - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 9 मई 2020

सोनारी के सुनील 45 दिनों से निस्वार्थ बेसहारों को खिला रहे खाना,

  • सातों दिन होते हैं अलग-अलग व्यंजन

जमशेदपुर में सुनील आनंद और उनका परिवार बिना किसी स्वार्थ के लगभग 100 लोगों को प्रतिदिन खाना खिलाने का काम करते हैं. सुनील का कहना है कि जब तक लॉकडाउन चलेगा वो तब तक यह काम करेंगे.
sunil-from-sonari-serving-food-in-lock-down
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता) सरकार ने लाॅकडाउन की अवधि को एक बार फिर बढ़ा दिया है. इस बार लाॅकडाउन की अवधि में जरूरतमंद लोगों को भोजन या कच्चा राशन देनेवाली कई समाजिक और राजनितिक संस्थानों ने भी हाथ खींच लिए हैं.अब गिने चुने संस्था ही इस कार्य में रह गए हैं. व्यक्ति विशेष में तो शायद ही कोई सेवा कर रहा है. लेकिन जमशेदपुर के सोनारी के रहने वाले सुनील आनंद ऐसे व्यक्ति हैं जो बिना किसी स्वार्थ के लाॅकडाउन के शुरूआती दिनों से एक सौ लोगों को दोपहर का हाईजिनिक भोजन उपलब्ध करा रहें हैं. वो भी वैसे लोगों को जो भीख मांग कर अपना जीवन गुजर बसर करते हैं और मानसिक रूप से बीमार हैं. सुनील का कहना है कि वे इस प्रकार का कार्य तब तक करेंगे जब तक लाॅकडाउन चलेगा. सुनील परिवार के सदस्यों की मदद से खाना तैयार करते हैं और उसके बाद अकेले अपनी बाइक से खाना बांटने निकल पड़ते हैं. सुनील की ओर से दिया जाने वाला खाना सातों दिन अलग प्रकार का होता है. सभी को बढ़िया तरीके से पैक करके बाइक से अकेले ही खाना बांटने निकलते हैं. यही नहीं सुनील ने तो ऐसे लोगों को खाना खाने के पहले हाथ धोना और मास्क पहनना तक सिखा दिया है. इस वैश्विक महामारी में सुनील आनंद का प्रयास निश्चय ही काबिले तारीफ है. ईटीवी भारत सुनील आनंद के कार्यों को सलाम करता है.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...