टाटा स्टील नोवामुंडी में ठेकेदार और मजदूरों ने किया प्रदर्शन, काम ठप करने की दी धमकी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 12 मई 2020

टाटा स्टील नोवामुंडी में ठेकेदार और मजदूरों ने किया प्रदर्शन, काम ठप करने की दी धमकी

चाईबासा के स्थित नोवामुंडी के टाटा स्टील में कार्यरत ठेका कंपनी टाटा प्रोजेक्ट लिमिटेड के खिलाफ विभिन्न मांगों को लेकर टीपीएल के ठेकेदारों और मजदूरों ने अपने वेतन और अन्य विभिन्न मांगों को लेकर कार्य ठप कर प्रदर्शन किया.
tata-worker-protest
चाईबासा: पश्चिम सिंहभूम जिला स्थित नोवामुंडी के टाटा स्टील में कार्यरत ठेका कंपनी टाटा प्रोजेक्ट लिमिटेड के खिलाफ विभिन्न मांगों को लेकर मजदूरों की ओर से दर्जनों बार आंदोलन किए जाने के बावजूद ठेका कंपनी के क्रियाकलापों में कोई सुधार होता नजर नही आ रहा है. टीपीएल के ठेकेदारों और मजदूरों ने अपने वेतन और अन्य विभिन्न मांगों को लेकर कार्य ठप कर प्रदर्शन किया. टीपीएल के ठेकेदारों और मजदूरों ने अपने विभिन्न मांगों को लेकर यूथ इंटक के जिलाध्यक्ष हसलुद्दीन खान और संदीप दास के नेतृत्व में टीपीएल के अधीन कार्यरत 680 मजदूरों का अप्रैल महीने का बकाया, 19 ठेकेदारों को एक वर्ष से लंबित उन्हें मिलने वाली 6 प्रतिशत कमीशन के भुगतान, मजदूरों का एक वर्ष से पीएफ काटे जाने के बावजूद वेबसाइट पर शो नही किए जाने को लेकर कर प्रदर्शन किया. ठेकेदारों ने कहा कि उन्हें टीपीएल से उनका फाइनल पैसों का भुगतान करवा दिया जाए तो उन्हें ऐसे विवादित कंपनी के अधीन काम नही करना पड़ेगा. कार्य ठप होने और प्रदर्शन की जानकारी मिलते ही टाटा स्टील के सिक्युरिटी हेड दामोदर पंडा तत्काल मौके पर पहुंच कर आंदोलनकारियों को समझाने का भरसक प्रयत्न करते रहे. किंतु आंदोलनकारी नेता और ठेकेदार मौके पर टाटा स्टील और टीपीएल के अधिकारियों को बुलाने पर अड़े रहें. अंत में पंडा को अधिकारियों को बुलाना पड़ा. दोनों ओर से काफी देर तक बहस चलती रही. काफी जद्दोजहद के बाद त्रिपक्षीय पक्षों के बीच हुई वार्ता में मौके पर उपस्थित अधिकारियों ने मामले को सुलझाने के लिए दो दिनों का वक्त मांगा जिस पर आपसी सहमति बनी. इस संबंध में यूथ इंटक के जिला अध्यक्ष हसलुद्दीन खान और अमीर अंसारी ने कहा कि यदि अधिकारियों की ओर से मांगे गए निश्चित समय सीमा दो दिनों के अंदर खून पसीना बहाने वाले मजदूरों के बकाए मजदूरी और ठेकेदारों के बकाए 6 प्रतिशत कमीशन का भुगतान नही किया जाता है. तो टाटा स्टील के अधीन कार्यरत ठेका कंपनी टाटा प्रोजेक्ट लिमिटेड के कार्य को पूरी तरह ठर करवा दिया जायगा. त्रिपक्षीय वार्ता में टाटा स्टील के आरएमपी हेड निशिकांत दुबे, सिक्युरिटी हेड दामोदर पंडा, टीपीएल के आर सी एम सुधीर सतरूपा, टीपीएल एचआर हेड राकेश रंजन,यूथ इंटक के हसलुद्दीन खान,सन्दीप दास अमीर अंसारी,नसीम खान एवं कई ठेकेदार शामिल थे.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...