स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने एमजीएम को सौंपा 3 मोक्ष वाहन, गरीबों को दी जाएगी मुफ्त सुविधा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 2 जून 2020

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने एमजीएम को सौंपा 3 मोक्ष वाहन, गरीबों को दी जाएगी मुफ्त सुविधा

झारखंड सरकार की ओर से स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कोल्हान के सबसे बड़ा सरकारी अस्पताल एमजीएम अस्पताल को तीन मोक्ष वाहन सौंपा है. स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि गरीबों के लिए यह वाहन मुफ्त रहेगा जबकि आम आदमी को इसके लिए शुल्क चुकाना होगा.
banna-gupta-hand-over-death-vhacle-to-mgm
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता)  झारखंड सरकार की ओर से स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कोल्हान के सबसे बड़ा सरकारी अस्पताल एमजीएम अस्पताल को तीन मोक्ष वाहन सौंपा है. अब एमजीएम अस्पताल से शव को मोक्ष वाहन से लाने ले जाने का काम आसान होगा. स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि गरीबों के लिए यह वाहन मुफ्त रहेगा जबकि आम आदमी को इसके लिए शुल्क चुकाना होगा. कोरोना महामारी के वैश्विक संकट के समय झारखंड सरकार की ओर से जमशेदपुर में स्थित कोल्हान के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल एमजीएम अस्पताल को सौगात दिया है. रविवार के दिन झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने एमजीएम अस्पताल में शवों को लाने ले जाने के लिए तीन मोक्ष वाहन का विधिवत उद्घाटन कर एमजीएम अस्पताल को सौंपा है. इस दौरान एमजीएम अस्पताल के अधीक्षक डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मी मौजूद रहे. स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने बताया कि आए दिन एमजीएम अस्पताल से शव को कंधे, रिक्सा या अन्य व्यवस्था से ले जाने की खबर सुर्खियों में रहती थी, अब ऐसा नही होगा. गरीबों के लिए मोक्ष वाहन मुफ्त में उपलब्ध होगा, जबकि आम जनता को मोक्ष वाहन के लिए 10 किलोमीटर तक के दायरे के लिए 5 सौ देने होंगे और 10 किलोमीटर से ज्यादा होने पर 5 सौ के अलावा 9 रुपये प्रति किलोमीटर देना होगा. उन्होंने बताया कि मोक्ष वाहन की देखरेख का काम एनजीओ को सौंपा गया है. उन्होंने बताया कि अस्पताल में संशाधन की कमी है लेकिन हौसला बुलंद है. एमजीएम अस्पताल सुधार के रास्ते आगे बढ़ रहा है आने वाले दिनों में लॉक डाउन के बाद यहां की बेहतर व्यवस्था होगी.

कोई टिप्पणी नहीं: