67 दिनों बाद टाटानगर रेलवे स्टेशन से पहली ट्रेन दानापुर के लिए हुई रवाना, यात्रियों में खुशी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 2 जून 2020

67 दिनों बाद टाटानगर रेलवे स्टेशन से पहली ट्रेन दानापुर के लिए हुई रवाना, यात्रियों में खुशी

लॉकडाउन के पांचवे चरण में टाटानगर रेलवे स्टेशन से बिहार के लिए पहली ट्रेन टाटा-दानापुर एक्सप्रेस रवाना हुई है. इस ट्रेन में कुल 875 यात्री रवाना हुए. लोगों ने अपनी खुशी जाहिर करते हुए कहा कि ट्रेन से अपने घर जा रहे हैं तो अच्छा लग रहा है.
after-lock-down-train-depart-from-tata
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता) लॉकडाउन 5.0 के पांचवें चरण में देश भर में रेल मंत्रालय ने सौ जोड़ी ट्रेन चलाने की शुरुआत की है. जिसके तहत टाटानगर रेलवे स्टेशन से बिहार के लिए पहली ट्रेन टाटा-दानापुर एक्सप्रेस रवाना हुई है. बिहार जाने वाले यात्रियों ने खुशी जाहिर करते हुए कहा है कि लॉकडाउन में फंसे थे, लंबे समय बाद अपने घर जाने का मौका मिला है तो अच्छा लग रहा है.  रेल मंत्रालय ने देश भर में 1 जून से सौ जोड़ी यानी दो सौ ट्रेन शुरू की है. जिसके तहत चक्रधरपुर रेल मंडल अंतर्गत टाटानगर से बिहार के लिए टाटा-दानापुर एक्सप्रेस ट्रेन चलाने की स्वीकृति मिली. जो टाटानगर से सुबह 8 बजकर 15 मिनट पर प्लेटफॉर्म नंबर 1 से रवाना हुई है.  बता दें कि ट्रेन में 15 कोच हैं जिसमें 875 यात्री बिहार के लिए रवाना हुए हैं. इसमें 2 एसी कोच हैं जिसमें 97 यात्री सवार हैं. रेलवे के जारी गाइड लाइन के तहत रेलवे की मेडिकल टीम ने सभी यात्रियों की स्टेशन पर थर्मल स्क्रीनिंग की. सभी यात्री मास्क पहनकर ट्रेन से रवाना हुए हैं.
 ट्रेन से बिहार जाने वाले यात्रियों ने बताया है कि लंबे समय से जमशेदपुर में लॉकडाउन में फंसे थे. कोई सुविधा नहीं थी. ट्रेन चलने का इंतज़ार कर रहे थे. यात्रियों ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि ट्रेन से अपने घर जा रहे हैं अच्छा लग रहा है. वहीं कुछ यात्रियों ने बताया कि काफी परेशानी हुई लेकिन यहां अंजान लोगों ने भी मदद की है. अब घर जाने का मौका मिला है, इतनी खुशी है कि बता नही सकते.

कोई टिप्पणी नहीं: