झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 07 जून - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 8 जून 2020

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 07 जून

कला, साहित्य एवं संस्कृति मंच द्वारा राष्ट्रीय काव्य गोष्ठी का किया गया आयोजन, झाबुआ जिले के कवियों ने भी बांधा समां

jhabua news
झाबुआ। कला, साहित्य एवं संस्कृति मंच द्वारा कच्छ (गुजरात) की कवयित्री डॉ. संगीता पाल ‘‘पहल’’ एवं धार जिले के वरिष्ठ साहित्यकार श्रीराम शर्मा ‘‘परिंदा’’ के मार्गदर्शन में प्रथम ऑनलाइन राष्ट्रीय काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ ग्रुप संचालक रचनाकार प्रदीपकुमार अरोरा ‘पीकूू भैया’ द्वारा मां सरस्वतीजी के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलन तथा आशुतोष पाल ‘आशु’ द्वारा सरस्वती वंदना के साथ किया गया । गोष्ठी में शामिल रचनाकारों में, जिनमे सर्वप्रथम जोनपुर उप्र से आशुतोष पाल ‘‘आशु’’ ने ‘बात उसकी सही नहीं जाती, फिर भी दिल की लगी नहीं जाती....’’, कच्छ गुजरात से डॉ संगीता पाल ने  सम-सामयिक रचना ‘कोरोना से कैसी मुसीबत है आई ,बेबस हुए हैं मजदूर भाई....’, उदयपुर राजस्थान से डॉ. रेणु सिरोया ने प्रेमगीत ‘किसी की याद का दीपक जलाकर आज बैठी हुँ ....’. जयपुर से तरुण सोनी ‘‘तनवीर’’ ने ‘मै शांति चाहता हुँ, वे युद्ध चाहते हैं ....’, मुम्बई से डॉ अर्चना दुबे ने ‘जो जीवन करे समर्पित उसे इंसान कहते है ....’,  भिंड से विमल भारतीय ‘‘शुक्ल’’ ने ‘एक शहर था हंसता हुआ, लोग अब तो डर गए ....’, खरगोन से कांता प्रसाद ‘‘कमल’’ ने ‘प्रेम के बिना नहीं, साथ प्रेम का सही हैं....’’, मनावर से विश्वदीप मिश्र ने ‘देखो यह कैसा मंजर है, चारों ओर कोरोना का कहर है ....’ प्रस्तु की।

झाबुआ के कवियों ने भी अपनी रचनाएं प्रस्तुत की
वरिष्ठ रचनाकार श्री राम शर्मा ‘परिंदा’ ने टीवी और मोबाइल नहीं था, ना पबजी का फंडा, एक हाथ में गिल्ली थी और एक हाथ में डंडा...’, .झाबुआ से रत्नदीप खरे ने ‘इधर हल्की नहीं रखी, उधर भारी नहीं रखी , बराबर सबको दहशत की तरफदारी नहीं रखी.....’, डॉ. अनिल श्रीवास्तव ‘पारा’ ने उंगलियां लट पर ना तुम यूं फेरो कभी....., .श्रीमती भारती सोनी ने शब्दों की अथक यात्राएं समुद्र की गहराइयों से,....  प्रदीप कुमार अरोरा ने टूटी हुई चप्पल जगह-जगह तार से बंधी हुई एवं अंत मे प्रवीणकुमार सोनी ‘‘पुष्प’’ झाबुुआ ने ‘खबरदार हुँ मैं, पत्रकार हुँ मैं’ जैसी पत्रकारों के मनोभाव को दर्शाती कविता प्रस्तुत की। इस प्रकार देश के कई राज्यों से गोष्ठी में शामिल हुए रचनाकारों ने विविध विषयों पर अपनी सुंदर रचनाओं की प्रस्तुति दी । कार्यक्रम के अंत में रचनाकार और श्रोताओं का आभार ग्रुप संचालक प्रदीपकुमार अरोरा ने माना।

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के एक वर्ष पूर्ण होने पर भाजपा ने किया वर्चुअल रैली का आयोजन
झाबुआ में भी भाजपा ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिग और वर्चुअल रैली का आयोजन कर केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं को जनता तक पहुंचाना लक्ष्य-जिला अध्यक्ष नायक
jhabua news
झाबुआ। मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के एक वर्ष पूर्ण होने पर प्रदेश भाजपा संगठन सभी जिलों में वर्चुअल रैली कर रही है,वही झाबुआ में भी भाजपा ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिग और वर्चुअल रैली का आयोजन कर केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं को जनता तक पहुंचाने में लग गई,उसी को लेकर आज इंदौर सांसद शंकर ललवानी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से झाबुआ विधानसभा के पदाधिकारियों से संवाद किया और मोदी के दूसरे कार्यकाल के प्रथम वर्ष की ऐतेहासिक फैसलों और योजनाओं को आमजन के पास जाकर बताना है और समझाना है की बात वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कही,वही आमजन के बीच मे जानकारी शोशल डिस्टेन्स को देखते हुए पहुँचना है,भाजपा जिला अध्यक्ष लक्ष्मण सिंह नायक ने बताया कि 6 जून से 9 जून तक वीडियो कॉन्फ्रेंसिग और वर्चुअल रैली आयोजित किया जाएगा,और इसके जरिए कार्यकर्ता केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं और फैसलों का प्रचार प्रसार करेंगे,राम मंदिर, अनुच्छेद 370 हटाने आदि कई निर्णयों के अच्छे परिणाम जनता को बताए जाएंगे,वही जिला अध्यक्ष लक्ष्मण सिंह नायक ने भाजपा कार्यकर्ताओ से कहा की सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मास्क पहनकर आमजन को मोदी के कार्यकाल की योजनाओं और फैसलों को बताना है,वही नेता स्थानीय और स्वदेशी उत्पाद अपनाने के लिए घर-घर जाकर संकल्प लेंगे,आज हुए वर्चुअल रैली में इंदौर सांसद शंकर ललवानी के साथ भाजपा जिला अध्यक्ष लक्ष्मण सिंह नायक,प्रदेश कार्यसमिति सदस्य दौलत भावसार,जिला उपाध्यक्ष अजय पोरवाल,प्रविण सुराणा,भाजयुमो जिला अध्यक्ष भानु भुरिया,आई टी सेल जिला संयोजक अर्पित कटकानी,आई टी सेल जिला सहसंयोजक नवेद रजा,अजय सैठिया,कुन्दन विश्वकर्मा,अजय पोरवाल,बबलू सकलेचा,अंकुर पाठक,राजेश मेहता,कांजी भूरिया,रामेश्वर नायक,हरू भुरिया,पंडित महेंद्र तिवारी, ,पर्वत मकवाना,नाना राठौर,सायरा खान,सत्यन यादव सहित अन्य भाजपा कार्यकर्ता शामिल हुए ।

कोरोना संक्रमण के एक भी मरिज नही होने पर जिले के लिये खुषखबरी आखरी तीन लोगो की नेगेटिव रिपोर्ट आने पर छुट्टी हुई 

झाबुआ। जिले में कोरोना के कुल 13 केस थे। जिसमें से पूर्व में एक की मृत्यु के बाद 9 पूर्व में डिस्चार्ज हो चुके थे, बचे 108 एंबुलेंस के 3 चालक, जिसमें गोपाल कॉलोनी के 2 एवं 1 पिटोल स्वास्थ्य केंद्र का चालक भी शनिवार को सुबह डिस्चार्ज किया जा चुका है। स्वास्थ्य विभाग ने तीनों चालकों के बाडकुआं कवारनटाईन सेंटर एवं गोपालपुरा हवाई पट्टी स्थित सेंटर से छुट्टी मिलने पर तालियां बजाकर स्वागत किया। फिलहाल झाबुआ जिला कोरोना के एक भी मरिज वर्तमान में नही है। जिला चिकित्सालय के आईसोलेशन वार्ड मे अभी फिलहाल तीन लोगो को कोरोनटाईन कर रखा है, लेकिन खतरा अभी भी टला नहीं है। जिला चिकित्सालय एवं समीपस्थ स्वास्थ्य केंद्रों पर अभी भी सर्दी-जुकाम, बुखार के मरीज आ रहे है। जिनके स्वास्थ्य विभाग सेंपल लेकर जांच हेतु इंदौर एमजीएम भेज रहा है, सावधानी अभी भी बेहद जरूरी है।  झाबुआ जिले मे अभी कोरोना संक्रमण के एक भी मरिज नही है। जिस पर से यह नही कहा जा सकता है कि कोरेना झाबुआ जिले से चला गया है। जिला प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे सख्त निर्देशो का पालन करने के लिये पुरे झाबुआ जिले की जनता से अभी भी अपील की जा रही है। वही उनसे सोश्यल डिस्टेसिंग का पालन कर मुंह पर मास्क लगाने के लिये भी प्रेरित किया जा रहा है। वही नगर मे मिली छूट के बाद भी जिला प्रशासन के द्वारा सभी को निर्देशो का पालन करने के सख्ती से आदेश दिये गये है। वही इसका उल्लंघन करने पर उचित कार्यवाही भी की जायेगी।  

तहसीलदार ने थांदला तहसील परिसर में किया पौधारोपण

jhabua news
थांदला। तहसील परिसर में स्थानीय तहसीलदार ललिता गड़रिया ने अपने सहयोगी स्टॉफ के साथ मिलकर पौधारोपण कर पर्यावरण सुरक्षा का संदेश दिया। विश्व पर्यावरण दिवस पर पौधारोपण करते हुए तहसीलदार ललित गडरिया ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना ने हमें बड़ा सबक दिया है। प्रकृति के साथ खिलवाड़ जंगलों की अंधाधुंध कटाई से धरती का संतुलन बिगड़ सकता है यही कारण है कि आज का दिन शासन प्रशासन ने पर्यावरण दिवस के रूप में मनाकर पर्यावरण बचाने का संदेश दिया है। उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति को शीतल बयार व छाया चाहिए लेकिन यह उसे तभी मिल सकती है जब वह अपने जीवन में कम से कम एक पौधा रोपकर उसे सुरक्षित रखने का प्रयास करें। आनेवाली पीढ़ी का हवाला देते हुए कहा कि यदि हमने आज पर्यावरण के प्रति उदासीनता दिखलाई तो हम आने वाली पीढ़ी अपने बच्चोँ के लिये निश्चित जहर भरी सांसे छोड़ जाएंगे।

मलेरिया रथ से जागरूकता लाएगा स्वास्थ्य विभाग - जिलें में कोरोना नेगेटिव में इस अभियान का अहम योगदान

jhabua news
थांदला। प्रतिवर्षानुसार जून माह में मलेरिया रोकथाम हेतु मलेरिया जागरूकता माह मनाया जाता है। जिलें के स्वास्थ्य विभाग की अहम भागीदारी के कारण ही यह अभियान हमेशा से सफल रहा है व वर्तमान समय मे कोरोना नेगेटिव होकर जिला ग्रीन झोन में है तो उसके लिये भी कही न कही मलेरिया जागरूकता अभियान का अहम रोल रहा है। थांदला विकासखण्ड में वर्तमान महामारी कोविड 19 के संक्रमण से बचाव को लक्ष्य में रखकर इसी के साथ मलेरिया, चिकनगुनिया, डेंगू जैसी घातक बीमारी से बचाव के लिये मलेरिया रथ का शुभारंभ बीएमओ डॉ. अनिल राठौर, शिशु रोग विशेषज्ञ वरिष्ठ डॉ. कमलेश परस्ते द्वारा हरी झंडी दिखाकर किया गया। इस अवसर पर मलेरिया विभाग के हिम्मतसिंह परमार, निशा सोलंकी, जॉन खराड़ी, कालूसिंह परमार आदि स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी उपस्थित थे।

कोरोना जांच की सभी रिपोर्ट आई नेगेटिव
विगत दिनों थांदला विकास खण्ड के 106 सेम्पल लिये गए थे जिनमें से 43 रिपोर्ट पूर्व में आ गई थी शेष 63 रिपोर्ट का लोगो को बेसब्री से इंतजार था वह भी नेगेटिव आई है। थांदला बीएमओ अनिल राठौर स्वयं ने भी अपना कोरोना टेस्ट दिया था उनकी भी रिपोर्ट नेगेटिव आई है। नगर के लिये यह राहत भरी खबर है। विगत 3 दिनों में महज 3 टेस्ट और किये गए है जिनकी रिपोर्ट का इंतजार है।

संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों ने काला दिवस मनाया - हाथ पर काली पट्टी बांध किया विरोध प्रदर्शन

jhabua news
थांदला। प्रदेश संविदा स्वास्थ्य संगठन के आहवान पर विकास खण्ड थांदला संगठन के सभी संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों ने विगत 20 वर्षों से संविदा पर अपनी सेवाएं दे रहे है बावजूद इसके उन्हें नियमित नही किया गया है जबकि वर्तमान समय में वैश्विक महामारी नोवल कोविड 19 (कोरोना) के संक्रमण से बचाव हेतु अपनी जान जोखिम में डाल कर अपनी सेवाएं दे रहे है। उनके साथ अन्याय को लेकर अपनी आवाज मध्यप्रदेश शासन तक पहुँचाने के लिये संगठन के माध्यम से सभी संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों ने आज का दिन काला दिवस के रूप में मनाते हुए अपने हाथों पर काली पट्टी बांध कर विरोध दर्शाया गया। उन्होंने नियमितीकरण एवं संविदानीति लागू करने की मांग की है।

पर्यावरणविद् पं. राजकुमार देवल शहर सहित जिलेभर में वाटिकाओं का निर्माण कर जिले को हरा-भरा करने के क्षेत्र में 15 वर्षों से अधिक समय से सक्रिय, शहर के प्रतिष्ठित एवं सेवाभावी लोगों को मिल रहा सहयोग

jhabua news
झाबुआ। पर्यावरण ही जीवन है .... पर्यावरण की सुरक्षा करना हम सभी का नैतिक दायित्व है ... इस संदेष को साकार करने में शहर के षिक्षाविद्, सर्व ब्राम्हण समाज के वरिष्ठ पं राजकुमार देवल लगे हुए है। उन्हें पर्यावरण प्रेमी एवं पर्यावरणविद् की उपाधि ही दी जा सकती है। पं. देवल पिछले 15 वर्षों से अधिक समय से झाबुआ शहर सहित संपूर्ण जिले में पर्यावरण के क्षेत्र में अनूठा कार्य कर रहे है। वह जगह-जगह पौधारोपण कर उन्हें पेड़ों और वृक्षों का रूप देकर वहां सर्व-सुविधायुक्त वाटिका का निर्माण कर रहे है। उन्हें इस कार्य में शहर के प्रतिष्ठि नागरिकों एवं सेवाभावी लोगो का भी सहयोग निरंतर प्राप्त हो रहा है। स्थानीय सिद्धेष्वर काॅलोनी निवासी पं. राजकुमार देवल ने बताया कि उनका ध्येय पर्यावरण को बढ़ावा देना है। आज जिस तरह से पर्यावरण का दोहन हो रहा है, ऐसे में ंआने वाले समय में पेड़-पौधे पूरी तरह से नष्ट होकर प्रकृति को आगाध पहुंचने से प्राकृतिक आपदाओं का प्रकोप बढ़ना तय है। वर्तमान में भी देष के कई शहरों में प्राकृतिक आपदाएं आ रहीं है। देष के मुंबई, दिल्ली एवं नोएडा जैसे बड़े शहर के लोग भूकंप, निसर्ग तूफान, तेज बारिष जैैसी विपदाओं से जूझ रहे है, इससे झाबुआ जिला भी अछूता नहीं है। पं. देवल के अनुसार यदि समय रहते हमने वृक्ष संवर्धन और संरक्षण (पर्यावरण सुरक्षा) के क्षेत्र में कार्य करना शुरू नहीं किया तोे हालात ओर भी बुरे हो सकते है।

इन काॅलोनियों में वृक्षारोपण कर वाटिका का निर्माण किया
पं. राजकुमार देवल के साथ उनके साथ मुख्य सहयोगकर्ता में अंतिम मालवीय (कलाकार), कमलेष जैन,, सुनिल शर्मा, सुनिल कटकानी, पारस जैन, देवेन्द्र पंचाल, सुभाष राठौर, चेतन पंचाल, मुज्जमिल खान लालाभाई, सत्यनारायण सोनगरा, सुरेन्द्र कुमावत, दीपक घूूमरे, प्र्रमोद सिसौदिया आदि ने मिलकर अब तक शहर के गोपाल काॅलोनी, बसंत काॅलोनी, किषनपुरी, कर्मचारी आवास काॅलोनेी, माधोपुरा, मेघनगर नाका, सुखदेव विहार काॅलोनी, उदयपुरिया क्षेत्र, डाक कर्मचारी काॅलोनी आदि स्थानों पर अब तक सैकड़ों पौधे लगाकर उन्हें पेड़ों और वृक्षो का रूप देकर निरंतर सींचने का कार्य किया है। बाद इन्हें वाटिका के रूप मंें भी डेवलपमेंट कर यहा लोगों के बैठने, पानी के लिए टंकी, बाउंड्रवाल, तार फेसिंग का निर्माण, गेट लगाने, डेम बनाने जैसे कार्य प्राथमिकता से किए है।

मेघनगर नाका तिराहे पर किया रोटरी का निर्माण
पं. राजकुमार देवल, अंतिम मालवीय एवं अन्य सभी सहयोगियों द्वारा मिलकर शहर के मेघनगर नाका तिराहे पर ही बीचो-बीच पेड-पौधे लगाकर, बाद यहां सुदंर रोटरी का निर्माण किया है। अंदर पानी के लिए टंकी भी निर्मित की है। यह रोटरी बाहर से बसों एव विभिन्न वाहनों से सफर कर आने वाले लोगों के लिए काफी सुंदरता को प्रदर्षित करती है एवं मेघनगर नाका के सौंदर्य को भी बढ़ाती है।

उदयपुरिया में नवगृह वाटिका निर्मित की
इसी प्रकार आगे जाने पर उदयपुरिया में नवग्रह वाटिका का निर्माण किया गया है। जिसमें अलग-अलग प्रजातियों के सेकड़ों पेड-पौधों लगे हुए है। इस वाटिका का निर्माण नवग्रह इसलिए रखा गया है, क्योकि यहां नवग्रह के अनुसार पौधे भी मौजूद है। बकायदा अंदर बैठने की व्यवस्था के साथ यहां पर समय-समय पर विचरने के लिए राष्ट्रीय पक्षी मोर आने के अतिरिक्त प्रातःकाल कोयल की कूहू-कूहू की समधुर आवाज भी सुनाई देती है। यहां आगामी दिनांे में डेम का भी निर्माण किया जाना है, जिसमें ंपानी के लिए वाटिका के संचालक पं. राजकुमार देवल एवं अंतिम मालवीय ने पीएचई एवं स्थानीय प्रषासन से वाटिका के आसपास कहीं भी हैंडपंप खनन करवाएं जाने की मांग रखी है।

स्कूलों के परिसरों में भी रोपे जाते है पौधे
इसके अलावा पं. राजकुमार देवल समय-समय पर शहर सहित ग्रामीण क्षेत्रों की स्कूलों के परिसरों में भी पौधारोपण करते एवं करवाते है, ताकि हरियाली को बढ़ावा मिल सके। वह षिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास से जुडे़ होकर पर्यावरण विषय के क्षेत्र में ही प्रांत सह-संयोजक है। इस संपूर्ण कार्य में उन्हें शहर के वरिष्ठ एवं गणमान्य नागरिकों में डाॅ. केके त्रिवेदी, प्रदीप रूनवाल, हेमेन्द्र द्विवेदी, महेष जैैन आदि का भी सहयोग प्राप्त होता है। वह षिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास से जुड़कर पूरे इंदौर संभाग में पर्यावरण के क्षेत्र में ंजागरूकता एवं अलख जगाने का कार्य वर्षों से करते आ रहे है। उन्होंने जिले के अन्य लोगों से भी इस कार्य मंे सहयोग की अपेक्षा की है। साथ ही बताया कि आगामी आने वाले वर्षाकाल में भी वह एक लक्ष्य के साथ संपूर्ण जिले में पर्यावरण के क्षेत्र में एक अभिनव पहल करेंगे।

मंदसौर गोली कांड की तीसरी बरसी पर अभा किसान संघर्ष समन्वय समिति ने संपूर्ण देष में ंचलाया ‘‘कर्जा मुक्ति पूरा दाम’’ अभियान, जिला मुख्यालय पर प्रदेष के मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर को प्रस्तुत किया ज्ञापन

jhabua news
झाबुआ। किसान संघर्ष समिति के प्रदेश सचिव राजेश वैरागी एवं जिला अध्यक्ष गोपाल डामोर ने 6 जून, शनिवार को दोपहर जिला कलेक्टर प्रबल सिपाहा को प्रदेष के मुख्यमंत्री नाम ज्ञापन प्रेषित किया। किसान संगठनों के अखिल भारतीय कसान संघर्ष समन्वय समिति के आव्हान पर देशभर में मंदसौर गोली कांड की तीसरी बरसी पर 6 शहीद किसानों की स्मृति में ‘‘कर्जा मुक्ति पूरा दाम’’ अभियान चलाया गया। इस दोरान मप्र के विभिन्न जिलों में किसान संघर्ष समिति ने अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के घटक संगठनों के साथ 20 जिलों में मुख्यमंत्री के नाम प्रषासन को ज्ञापन प्रस्तुत किया। जिला मुख्यालय झाबुआ पर राजेष बैरागी एवं गोपाल डामोर द्वारा प्रदेष के मुख्यमंत्री के नाम दिए  गए ज्ञापन में षिवराजसिंह चैहान से कहा गया कि आपके मुख्यमंत्री बनने के बाद किसानों को उम्मीद थी कि किसानों की कर्जा मुक्ति होगी तथा फसलों के पूरे दाम मिलेंगे, लेकिन ना तो किसानों की कर्जा मुक्ति हुई ना ही किसानों को फसल का पूरा दाम मिला। कांग्रेस की सरकार ने 2 लाख रूपए की कर्जा माफी के वादे को पूरा नही किया। जिसके चलते बड़े पैमाने पर किसान बैकों द्वारा डिफाल्टर घोषित कर दिए गए। आपसे उम्मीद थी कि आप डिफाल्टर किसानों को भी खाद्, बीज बिना ब्याज के दिलाने का फैसला करेगें, लेकिन इस सम्बंध में अभी तक कोई निर्णय ना होने के कारण किसान काफी चिंतित और परेशान है।

टिड्डी पीड़ित किसानों के प्रकरण भी अब तक सर्वे के बाद तैयार नहीं हुए
भाजपा सरकार द्वारा किए गए मडी संशोधन के चलते किसानों के साथ ठगी और बढ़ गई है। आपकी जानकारी में आया होगा कि 2100 रूपए क्विंटल की गेंहू की खरीद की आपकी घोषणा पर अमल नही हुआ है। व्यापारियों ने 1500 से 1700 रूपए क्विंटल पर खरीदी की है। मंडियों में भी समर्थन मूल्य पर किसानों का पूरा गेंहू नही खरीदा गया है। मक्का की फसल बोने वाले किसानों की हालत बहुत ही खराब है। 1760 रूपए क्विंटल समर्थन मूल्य होने के बावजूद 900 रूप्ए क्विंटल पर व्यापारियों द्वारा मक्के की खरीदी गांव-गांव में की जा रही है। सब कुछ आपकी जानकारी में होने के बाद भी सरकार मौन है एवं व्यापरियों पर कोई कार्रवाई नही की जा रहीं है। जिन किसानों की फसले खराब हुई थी, उन किसानों को भी फसल बीमा का पैसा नही मिला है। टिड्डी पीड़ित किसानों के प्रकरण भी अब तक सर्वे के बाद तैयार नही हुए है।

मंदसोर गोली कांड में आरोपियांे पर हत्या के मुकदमे दर्ज नहंी हुए
मंदसौर पुलिस गोली कांड की 6 जून 2020 को तीसरी बरसी है, लेकिन किसानोंपर गोली चलाने वाले पुलिसकर्मियों पर ना तो हत्या के मुकदमेे अब तक दर्ज किए गए है और ना ही किसानों पर लादे गए फर्जी मुकदमों का खात्मा किया गया है। मंदसौर के 6 शहीद किसानों का स्मारक भी नही बना है। मंदसौर के किसानों ने कर्जा मुक्ति एवं पूरे दाम सहित जिन समस्याओं को लेकर तीन वर्ष पहले आंदोलन किया था, उनका निराकरण भी नही हुआ है। किसानों के दूध का दाम घटाकर सरकार ने किसानों की कमर तौड़ दी है। लाॅकडाउन के दौरान किसानों कीे सब्जी खेत मे ही सड़ जाने की भरपाई भी सरकार ने नही दी। इन परिस्थितियों में अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के बैनर तले मंदसौर शहीद किसान स्मृति दिवस पर आज पूरे देष में अभियान चलाया जा रहा है।

ज्ञापन में यह रखी गई मांगे
ज्ञापन में मंदसौर तथा मुलताई में गोली कांड में मृत हुए किसानों को शहीद का दर्जा देने तथा उनकी स्मृति में स्मारक बनाने, किसानों पर लादे गए सभी फर्जी मुकदमे वापस लाने तथा खात्मा दर्ज करने, किसानों पर गोली चलाने वाले पुलिस अधिकारीयों पर हत्या का मुकदमा दर्ज करने, जन आंदोलन करने पर गोली चलाने पर प्रतिबंध लगाने के लिए कानून बनाने, प्रत्येक किसान, खेतीहर मजदूर परिवार को 10 हजार रूपए मासिक पेंशन देने, किसान सम्मान निधि देने, किसानों द्वारा उत्पादित सभी फसलों का समर्थन मूल्य (लागत से ढेड़ गुना) तय कर खरीदी सुनिश्चित करने, हर ग्राम पंचायत में कृषि उत्पाद सुरक्षित रखने हेतु भंडारण की व्यवस्था करने आदि सहित अनेक मांग ज्ञापन में रखी गई। ज्ञापन दते समय किसान सघर्ष समिति के गणपत पाटीदार, रतना हिहोर रायसिंह चैहान, बाबू हटीला आदि सदस्य भी उपस्थित थे।

जिला जल एवं स्वच्छता मिशन का पुरर्गठन

झाबुआ। कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा ने जिला जल एवं स्वच्छता मिशन का पुर्नगठन किया है।  कलेक्टर इस मिशन के अध्यक्ष होंगे। मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत को उपाध्यक्ष बनाया गया है। इसके अलावा कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी को सदस्य सचिव बनाया गया है। वन मण्डाधिकारी, परियोजना प्रशासक आई.टी.डी.पी., मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी, उप संचालक कृषि, सहायक संचालक जन सम्पर्क तथा महा प्रबंधक परियोजना क्रियांवयन इकाई (संबंधित) म.प्र. जल निगम इंदौर सदस्य रहेंगे।

उर्वरक, बीज एवं कीटनाशक निरीक्षक के नियुक्ति आदेश में आंशिक संशोधन

झाबुआ। उप संचालक, किसान कल्याण एवं कृषि विकास श्री एन.एस.रावत ने पूर्व में जारी उर्वरक, बीज एवं कीटनाशक निरीक्षक के नियुक्ति आदेश में आंशिक संशोधन किया है। वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी  श्री डी.सी.सेन्चा को राणापुर विकास खण्ड, वरिष्ठ कृषि अधिकारी श्री उदा काग को पेटलावद, थांदला, एवं मेघनगर विकास खण्ड के लिये तथा कृषि विकास अधिकारी श्री एल.एल. चैबे को रामा विकास खण्ड के लिये उर्वरक, बीज एवं कीटनाशक निरीक्षक नियुक्त किया है। ये अधिकारी अपने- अपने विकास खण्ड के अंतर्गत उर्वरक, बीज एवं कीटनाशक विक्रेता के फ्रर्म परिसरों का निरीक्षण, विश्लेषण के लिये नमूने लेने एवं अनियमितता पाये जाने पर आवश्यक कार्यवाही कर सकेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...