सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 04 जून - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 5 जून 2020

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 04 जून

बिलकिसगंज का फ्रीगंज हुआ कंटेंमेंट एरिया से मुक्त    

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री अजय गुप्ता द्वारा आदेश जारी किया गया है कि ग्राम पंचायत बिलकिसगंज के वार्ड क्रमांक 17 फ्रीगंज को कंटेंनमेंट एरिया से मुक्त कर दिया गया है। 3 सप्ताह पूर्व ग्राम पंचायत बिलकिसगंज के वार्ड क्रमांक 17 फ्रीगंज को कंटेंमेंट एरिया घोषित किया गया था। अंतिम पुष्ट मामला मिलने के बाद निरंतर 3 सप्ताह तक लैब द्वारा कोई पुष्ट मामला नहीं मिलने पर तथा उस पॉजीटिव मामले के सारे संर्पकों का 21 दिन तक फालोअप पूरा होने के बाद कंटेंमेंट एरिया की गतिविधियों को बंद कर कंटेंनमेंट एरिया से मुक्त कर दिया है।    

शेष बची बोर्ड परीक्षाएं संपन्न कराने डीईओ ने ली केन्द्राध्यक्षों की बैठक    

sehore news
कोरोना महामारी के चलते अचानक हुए लॉकडाउन के कारण कक्षा 12 वीं की शेष बची बोर्ड परीक्षाएं संपन्न कराने के लिए शासन द्वारा जारी दिशा निर्देशों के पालन कराते हुए परीक्षा संपन्न कराने के लिए जिला शिक्षा अधिकारी श्री एसपीएस बिसेन ने केन्द्राध्यक्षों की बैठक ली। बैठक का दो चरणों में किया गया पहले चरण में सीहोर और आष्टा ब्लाक के केन्द्राध्यक्ष तथा दूसरे चरण में बुदनी, नसरुल्लागंज एवं इछावर के केन्द्राध्यक्ष उपस्थित हुए। बैठक में जिला शिक्षा अधिकारी श्री बिसेन ने शिक्षा विभाग द्वारा सुरक्षा की दृष्टि से जारी आदेशों से सभी को अवगत कराया एवं सभी से सत्यापन कराकर ओके रिपोर्ट जमा कराने को कहा गया। जारी निर्देशों में परीक्षा केन्द्रों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने, मास्क लगाकर परीक्षा देने, परीक्षा के पूर्व सभी परीक्षार्थियों की थर्मल स्क्रनीनिंग कराने और प्रत्येक केन्द्र पर स्क्रीनिंग मशीन, मास्क और सेनेटाईजर की व्यवस्था कराने के निर्देश दिए। इसके साथ ही परीक्षा केन्द्र पर एक आईसोलेशन कक्ष बनाने के लिए भी निर्देश दिए जिससे कि यदि कोई परीक्षार्थी को हल्की बीमारी हो तो ऐसी स्थिति में आईसोलेशन कक्ष में उसकी परीक्षा कराई जाए। शासन द्वारा जारी नवीन निर्देशों के अनुसार जिले या अन्य जिले का कोई भी परीक्षार्थी सुविधा अनुसार वह जहां है उसी केन्द्र पर परीक्षा दे सकता है। अभी तक ऐसे 244 छात्रों की सूची तैयार की गई है जो अन्य स्थानों से यहां परीक्षा देंगे। ऐसे परीक्षार्थी केलिए एक्सीलेंस एवं सुभाष स्कूल में परीक्षा की व्यवस्था की गई है। शेष सभी नियम बोर्ड परीक्षा द्वारा निर्धारित नीति के तहत यथावत रहेंगे।  बैठक में डीपीसी श्री अनिल श्रीवास्तव, प्राचार्य उत्कृष्ट विद्यालय श्री आरके बांगरे, जिला संयोजक आदिम जाति कल्याण विभाग श्री हरजीत सिंह सहित सभी केन्द्रायक्ष उपस्थित थे।

अभी तक कुल 944 सेंपल जांच के लिए भेजे गए

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सुधीर डेहरिया ने जानकारी दी कि जिले में अन्य देशों से सीहोर पहुंचे कुल व्यक्तियों की संख्या 232 है जिनमें से 184 लोगों की अब तक स्क्रीनिंग स्वास्थ्य विभाग द्वारा की जा चुकी है। पिछले 24 घंटों के दौरान 225 ऐसे व्यक्तियों की पहचान की गई जो अन्य राज्यों और अन्य जिलों से लौटे थे इन सभी व्यक्तियों की तत्काल स्क्रीनिंग कर इन्हें  होम कोरेंटाईन कर दिया गया है जिले में अब तक होम कोरेंटाईन किए गए व्यक्तियों की संख्या 43716 है। डॉ. डेहरिया ने बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान ऐसे व्यक्ति जो विदेश से सीहोर जिले में नहीं लौटे थे परंतु अन्य जिलों एवं राज्यों से लौटे थे और विभागीय अधिकारियों कर्मचारियों द्वारा घर-घर सर्वे के दौरान चिन्हित किए गए। पिछले 24 घंटों में होमकोंरेटाईन की अवधि से 198 लोग बाहर आ चुके हैं जबकि अब तक कुल 41039 व्यक्तियों का होम कोरेंटाइन पूर्ण किया जा चुका है। जिले से अब तक कुल 944 सेम्पल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 909 सेंपलों की रिपोर्ट अब तक निगेटिव प्राप्त हुई है। गुरुवार को एक भी सेंपल जांच के लिए नहीं भेजा गया। आज 80 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 16 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। अभी तक हास्पिटल आईसोलेशन में भर्ती मरीजों की कुल संख्या 14 है। कोरोना संक्रमण पाजीटिव मरीजों की संख्या 11 है। कोरोना संक्रमण के कारण मृत्यु संख्या 2 है। कुल कंटेंमेंट एरिया 2 हैं। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 8 है। वहीं विदेश से आए यात्री जो गृह जिला या निवासरत जिला में वापस नहीं आए उनकी संख्या 48 है। कोरोना संक्रमित उपरांत ठीक हुए मरीजों की संख्या 4 है। जिले में वर्तमान कुल कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 5 है जिसमें 2 युवक और 3 महिलाएं शामिल हैं। जिनका उपचार कोविड केयर सेंटर में चल रहा है। जिले में कुल कंटेंमेंट एरिया आष्टा में है जिनकी संख्या 2 हैं आष्टा में कंटेंमेंट तथा बफर एरिया में सर्वे के लिए 10 दल लगाए गए हैं। आज आष्टा के कंटेंमेंट एरिया में वार्ड नंबर 16 में सर्वे दलों द्वारा 30 लोगों का स्वास्थ्य फालोअप लिया गया जिसमें बफर जोन के 18 व्यक्ति तथा कंटेंमेंट के 12 व्यक्ति शामिल हैं। अलीपुर स्थित कंटेंमेंट एरिया वार्ड नंबर 1 में 19 लोगों का स्वास्थ्य फालोअप लिया गया। जिसमें कंटेंमेंट एरिया के 11 तथा बफर जोन के 8 व्यक्ति शामिल हैं। दोनों कंटेंमेंट एरिया में कुल 49 व्यक्तियों का फालोअप लेकर स्वास्थ्य संबंध में जानकारी प्राप्त की गई। बिल्किसगंज अंतर्गत फ्रीगंज कंटेनमेंट एरिया के वार्ड क्रमांक 16 एवं 17 में  3 स्वास्थ्य सर्वे दलों द्वारा 181 घरों का सर्वे कर 1045 व्यक्तियों से स्वास्थ्य संबंधी जानकारी ली गई सभी स्वस्थ है। वहीं इंदिरा नगर कंटेनमेंट एरिया वार्ड नंबर 2 के 175 घरों का सर्वे कर 556 व्यक्तियों से स्वास्थ्य संबंधी फालोअप लिया गया। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में है उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 काल सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर-7247704181 है कोविड-19 से संबंधित जानकारी इस संपर्क नंबर पर ली व दी जा सकती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसीन के लिए संपर्क नंबर 07562-401259 जारी किया गया है तथा राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर काल करके भी टेलीमेडिसीन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104  नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। ई-संजीवनी ओपीडी सेवा हेतु www.esanjeevaniopd.in पंजीयन कराया जा सकता है। कलेक्ट्रेट कार्यालय में भी जिला स्तरीय काल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-226470 है तथा होम क्वारंटाइन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है। जिस पर संस्थागत क्वारंटाइन अथवा होम क्वारंटाइन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साईकोलाजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से निःशुल्क प्राप्त कर सकते है। 

जिले में अब तक 34.4 मि.मी. औसत वर्षा

जिले में आज 04 जून, 2020 की प्रात:8 बजे समाप्त पिछले चौबीस घन्टों में 34.4 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है। इसे मिलाकर 1 जून से अभी तक जिले में 34.4 मि.मी औसत बारिश रिकार्ड की जा चुकी है जबकि गत वर्ष इस अवधि में बारिश बिल्कुल भी नहीं हुई थी। अधीक्षक, भू-अभिलेख से मिली जानकारी के अनुसार पिछले चौबीस घन्टों में सीहोर में 15, श्यामपुर में 28, आष्टा में 80, जावर में 57, इछावर में 34, नसरुल्लागंज में 18, बुधनी में 36 तथा रेहटी में 7 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई।

मध्यप्रदेश वापस आये श्रमिकों का सर्वे अब 6 जून तक हो सकेगा    

मध्यप्रदेश वापस आये श्रमिकों को रोजगार सुनिश्चित कराने के लिये किये जा रहे सर्वे की तिथि बढ़ाकर 6 जून कर दी गई है। यह सर्वे 27 मई से प्रांरभ हुआ था, जिसकी अंतिम तिथि 3 जून निर्धारित की गई थी। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अन्य राज्यों से वापस आये सभी श्रमिकों का सर्वे कर रोजगार सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं। इस संबंध में श्रम विभाग द्वारा समस्त कलेक्टर्स को यह अभियान सुचारू रूप से चलाने की कार्ययोजना तैयार कर भेजी है। अभियानन्तर्गत श्रमिकों के सर्वे का कार्य ग्राम पंचायतों में सचिव, रोजगार सहायक तथा नगरीय क्षेत्रों में वार्ड प्रभारियों द्वारा एनआईसी से विकसित मोबाइल एप के माध्यम से किया जा रहा है। प्रवासी श्रमिक जो मध्यप्रदेश के मूल निवासी हैं, किन्तु जिनका समग्र आईडी नहीं है, नियत प्रक्रिया अनुसार समग्र पोर्टल पर आईडी जनरेट की जाएगी। इसके बाद ही इन श्रमिकों का सर्वे, सत्यापन एवं पंजीयन कार्य पोर्टल पर समग्र आईडी का उल्लेख करते हुए सुनिश्चित किया जाएगा। निर्देशों के अनुसार पोर्टल पर समग्र आईडी तथा आधार कार्ड नंबर अंकित किया जाना अनिवार्य होगा। सर्वे, सत्यापन और पंजीयन उन्हीं श्रमिकों का किया जायेगा जो ''''मुख्यमंत्री जन-कल्याण (संबल) योजना'' अथवा ''भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण मंडल'''' में पंजीयन की पात्रता रखते हैं।

मनरेगा में काम और नि:शुल्क खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाएगा
संबल पोर्टल में प्रवासी श्रमिकों के पंजीयन के बाद उनको योजनाओं का लाभ दिया जायेगा। पंजीयन की जानकारी ग्रामीण विकास विभाग को भी उपलब्ध करायी जायेगी जिससे इच्छुक श्रमिकों को मनरेगा में काम दिया जा सके। साथ ही खाद्य विभाग द्वारा पात्र श्रमिकों को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में नि:शुल्क खाद्यान्न उपलब्ध कराया जायेगा। सभी जिला कलेक्टर्स को श्रमिकों का सर्वे सर्वोच्च प्राथमिकता के साथ समय-सीमा में सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं।  

लॉकडाउन खुलने का मतलब असावधानी नहीं- मुख्यमंत्री
मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण की गति सबसे धीमी.डबलिंग रेट 31 दिन, रिकवरी रेट 63.4, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की    
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि लॉकडाउन खुलने का मतलब असावधानी नहीं है। हर व्यक्ति को पूरी सावधानी रखनी है, नहीं तो हम संक्रमण को रोक नहीं पायेंगे। हमें आर्थिक गतिविधियाँ करनी हैं, जीवन को सामान्य बनाना है, परन्तु पूरी सावधानी एवं सतर्कता के साथ। इस संबंध में जनता को अधिक से अधिक जागरूक किया जाए। यदि हम जागरूक रहे तो शीघ्र ही कोरोना को पूरी तरह परास्त कर देंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण की मध्यप्रदेश में गति देश में सबसे धीमी है। मध्यप्रदेश की डबलिंग रेट 31 दिन है। वहीं कोरोना रिकवरी रेट निरंतर बढ़ रहा है, जो अब 63.4 प्रतिशत हो गया है। मध्यप्रदेश में कोरोना के एक्टिव प्रकरणों में भी निरंतर कमी आ रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान मंत्रालय में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। हाई फ्लो ऑक्सीजन मशीन उपलब्ध कराई जाएंगी- एसीएस हैल्थ श्री सुलेमान ने बताया कि कोरोना के इलाज में हाई फ्लो ऑक्सीजन मशीन ज्यादा प्रभावी है। सामान्य मशीन से एक दिन में 5 से 10 लीटर ऑक्सीजन दिया जा सकता है, वहीं हाई फ्लो मशीन से 60 लीटर तक ऑक्सीजन दिया जा सकता है। सभी जिला अस्पतालों एवं अन्य कोविड अस्पतालों को शीघ्र ही ये मशीनें उपलब्ध कराई जायेंगी। पुलिस के कार्य की सराहना- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संकट के इस दौर में मध्यप्रदेश की पुलिस ने जो सेवा कार्य किया है, वह अत्यंत सराहनीय है। अत्यंत प्रतिकूल परिस्थितियों में पुलिस द्वारा इन दिनों श्रेष्ठ कार्य किया गया। एक्टिव प्रकरणों में निरंतर कमी- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि प्रदेश में कोरोना के एक्टिव प्रकरणों में निरंतर कमी आ रही है। प्रदेश में कोरोना के एक्टिव प्रकरणों की संख्या 2772 रह गई है। नए पॉजीटिव प्रकरणों की तुलना में स्वस्थ हो रहे मरीजों की संख्या ज्यादा है। 3 जून को 168 नए पॉजीटिव मरीज बढ़े जबकि 224 मरीज डिस्चार्ज होकर घर गए। फीवर क्लीनिक्स को प्रभावी बनाएं- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि प्रदेश में फीवर क्लीनिक्स को प्रभावी बनाया जाए। ये शासकीय एवं निजी दोनों हों, जो जनता को प्राथमिक स्वास्थ्य सुविधा सुगमता से प्रदाय करने में अत्यंत उपयोगी होंगी। बचे सभी किसानों का गेहूँ खरीदें- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि जो किसान गेहूँ उपार्जन से शेष रह गए हैं, उनका गेहूँ क्रय किए जाना सुनिश्चित करें। खरीदे गये गेहूँ का शत-प्रतिशत परिवहन शीघ्रता से किया जाये, ताकि कहीं भी गेहूँ भींगे नहीं।

5 जून से शिक्षक पद के अभ्यर्थी अपलोडेड दस्तावेजों में कर सकेंगे सुधार   

स्कूल शिक्षा विभाग के अंतर्गत उच्च माध्यमिक शिक्षक एवं माध्यमिक शिक्षक पदों की सीधी भर्ती के तहत प्रावधिक चयन सूची एवं प्रावधिक प्रतीक्षा सूची के अभ्यर्थियों के लिये दस्तावेज अपलोड करने अथवा पूर्व में अपलोड किये दस्तावजों में हुई त्रुटि में सुधार करने अथवा सत्यापन के लिये पूर्व में चयनित जिले में परिवर्तन की सुविधा एमपी ऑनलाइन पोर्टल पर क्रमश: 5 से 12 जून तक तथा 10 से 24 जून तक उपलब्ध रहेगी। अभ्यर्थी अपनी सुविधा अनुसार उक्त तिथियों में ऑनलाइन सुधार कर सकते हैं।  

श्रमसिद्धि अभियान अन्तर्गत कंट्रोल रूम स्थापित

मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री अरुण कुमार विश्वकर्मा द्वारा श्रमसिद्धि अभियान के अन्तर्गत जिला स्तरीय कंट्रोल स्थापित किया गया है। कंट्रोल रूम प्रभारी परियोजना अधिकारी मनरेगा जिला पंचायत सुश्री किरण बारसे को बनाया गया है। कंट्रोल रूम के हेल्प लाईन नंबर 07562-22236 पर श्रमिक कॉल करके जॉबकार्ड या अकुशल श्रम के लिए मांग दर्ज करा सकते हैं। कंट्रोल रूम के लिए प्रात:8 से दोपहर 1 बजे तक लेखाधिकारी मनरेगा श्रीमती संगीता कन्नोजिया तथा ऑडिटर श्री सोहेल अनवर को एवं दोपहर 1 बजे से सांय 6 बजे तक वरिष्ट डाटा मैनेजर श्री हीरालाल वर्मा एवं श्री धर्मेन्द्र चौरसिया को नियुक्त किया गया है।  वर्तमान में कोविड-19 संक्रमण से उत्पन्न परिस्थितियों से जिले में अपने गृह ग्राम वापस लौटने वाले प्रवासी श्रमिकों एवं ग्रामीण क्षेत्रों में पूर्व से निवासरत अन्य श्रमिकों को मनरेगा अन्तर्गत जॉबकार्ड देकर रोजगार में नियोजित किए जाने के उद्देश्य से प्रदेश में श्रमसिद्धि अभियान प्रारंभ किया गया है। इस अभियान के अन्तर्गत नवाचार के तहत श्रमिकों को मनरेगा अन्तर्गत निर्बाध रूप से रोजगार उपलब्ध कराया जा सके। इसके लिए जिला स्तर पर निवासरत श्रमिकों को दो प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। एक जिन श्रमिकों के पास जॉबकार्ड पंजीयन नहीं है अथवा जॉबकार्ड पंजीयन निष्क्रिय हो चुका है उन्हें जॉबकार्ड मुहैया कराया जाएगा। दूसरी मनरेगा के तहत अकुशल श्रम के लिए रोजगार की मांग करने वाले श्रमिकों को अधिनियम के प्रावधानों के तहत त्वतरित गति से रोजगार मुहैया कराया जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं: