जानमडीह में बनेगा खेल का मैदान, 4 एकड़ जमीन आम बागवानी के लिए किया गया चिन्हित - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 8 जून 2020

जानमडीह में बनेगा खेल का मैदान, 4 एकड़ जमीन आम बागवानी के लिए किया गया चिन्हित

जमशेदपुर के जानमडीह पंचायत में वीर पोटो हो योजना के तहत खेल मैदान बनाया जाएगा. वहीं, विधायक संजीव सरदार ने कहा कि 4 एकड़ जमीन आम बागवानी के लिए चिन्हित की गई है.
sports-ground-janamdih-jamshedpur
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता) लॉकडाउन के दौरान मनरेगा मजदूरों को गांव में ही रोजगार देने के उद्देश्य से झारखंड सरकार की ओर से कई योजनाओं शुरुआत की गई. वहीं, ‘वीर पोटो हो’ योजना के तहत खेल मैदान निर्माण और बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत जानमडीह पंचायत में चार आम बागवानी योजना की शुरुआत पोटका विधायक संजीव सरदार ने किया. इस दौरान पोटका के बीडीओ कपिल कुमार, मुखिया मालती मार्डी, पूर्व मुखिया सुंदर मोहन मार्डी समेत अनेक लोग उपस्थित रहे. यह योजना जानमडीह पंचायत के निवासी पोलटू मंडल, खितिश मंडल, सतीश मंडल, सेन्टू मंडल, सुधाकर सिंह के एक-एक एकड़ जमीन में लिया गया है. इसके अलावा जानमडीह पंचायत के ही बुकामडीह स्कूल के समीप स्थित मैदान में खेल मैदान का निर्माण वीर पोटो हो योजना से होगा. वहीं, उदघाटन के अवसर पर विधायक श्री संजीव सरदार ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान गांव की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने को लेकर सरकार गंभीर है. इसी उद्देश्य के तहत गांव के लोगों को मनरेगा के तहत रोजगार देने का काम किया जा रहा है. विधायक ने कहा कि झारखंड सरकार के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के जरिए राज्य में तीन प्रमुख योजनाओं को लाया गया है. जिसमें बिरसा हरित ग्राम योजना, पोटो हो खेल विकास योजना और निलाबंर-पितांबर जल समृद्धी योजना शामिल है. इन योजनाओं से जहां गांव में विकास का काम होगा, वहीं गांव की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी. उन्होंने कहा कि वर्तमान में काफी संख्या में प्रवासी मजदूर लौटे हैं, जिन्हें गांव में ही रोजगार दिया जायेगा. गांव के लोगों से अपील है कि वह मनरेगा के तहत काम की मांग करें, तो उन्हें निश्चित रूप से रोजगार उपलब्ध कराया जायेगा. इस अवसर पर बीपीओ अजय कुमार, सहायक अभियंता अभिषेक नंदन, कनीय अभियंता के कुमार, रोजगार सेवक ईश्वर लाल सरदार और अन्य उपस्थित रहे.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...