विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 03 जून - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 3 जून 2020

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 03 जून

किसानों के साथ शासन-प्रशासन की उदासीनता पर कांग्रेस पार्टी ने किया कलेक्ट्रेट का घेराव

vidisha news
विदिशाः- विदिशा जिले में अपनी उपज तुलाई के लिए किसान विगत कई दिनों से परेशान हो रहे है। कई किसानो के पास एस.एम.एम आने के बाद भी उनकी गेंहू की उपज नही खरीदी जा रही है। किसानों के साथ दोयम दर्जें का व्यवहार किया जा रहा है। किसानो की फसल नही तोलने के लिए जिला प्रशासन जिम्मेदार है। जिला प्रशासन के पास सारी जानकारी है कि कितने पंजीकृत किसानों की फसल तुलाई नही हुए है। फसल तुलाई के आदेश के नाम पर सर्वे की नौटंकी जा रही है। किसानो के परेशान करने के नये-नये तरीके खोजे जा रहे है। अपनी आंशिक फसल तुलवा चुके किसान को दोवारा तुलाई करने से ये कह कर मना कर दिया जाता है कि आपकी फसल तुलाई हो चुकी है जबकि सच्चाई यह कि हिन्दुस्तान के किसी किसान के पास एक साथ 200-500 क्विंटल गेंहू तुलावाने के लिए संसाधन उपलब्ध नही होते है। सरकार की अदूरदर्शिता के कारण किसानो को परेशानी उठानी पड रही है।  किसानो की समस्याओं को लेकर विदिशा विधायक शशांक भार्गव ने कई पत्र शासन प्रशासन को लिखे व समाधान नही होने पर किसानो के साथ प्रदर्शन की चेतावनी भी दी थी लेकिन इसके बाद भी जिला प्रशासन की ओर से कोई सकारात्मक प्रयास नही लेने पर आज विधायक शशांक भार्गव के नेतृव में सैकड़ो किसान विवेकानंद चैराहा (ईदगाह) पर एकत्रित हुए एवं कलेक्ट्रेट कार्यालय तक नारे लगाते हुए पहुंचे। ए.डी.एम वृंदावन सिंह को ज्ञापन सौंपते हुए विधायक शशांक भार्गव ने उन्हे स्मरण कराया कि वे किसानो की समस्या हल करने के लिए 5 मई को माननीय कृषि मंत्री भारत सरकार, 19 मई, 25 मई, 28 मई को माननीय मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश शासन को पत्र लिखकर आग्रह कर चुके है लेकिन आज तक कोई संतोषजनक कार्यवाही नही हुई है। इसलिए किसानों के अधिकारो की रक्षा के लिए कोरोना संकट के बीच हमे प्रदर्शन करने के लिए विवश होना पडा है। ज्ञापन के माध्यम से कांग्रेस पार्टी ने मुख्य रूप से मांग की है कि -

1. किसान भाईयों की पूर्व में भाजपा सरकार के शासनकाल में प्राकृतिक आपदा आने पर के.सी.सी. ऋण राशि की तीन किश्ते बनाई गईं थी। इस वर्ष सरकार के तुगलकी फरमान से किसानों को कनवर्जन की किश्तो पर जमा की हुई किश्त पर, ड्यू हुई किश्त पर एवं आंगे आने वाली किश्त पर 11 से 14 प्रतिशत ब्याज लेकर सम्पूर्ण राशि की वसूली की जा रही है जबकि कनवर्जन की किश्त बनाते समय यह आश्वासन दिया गया था कि कनवर्जन की राशि पर बैंक ब्याज नहंी लेगा। इस विसंगति को दूर किया जाये।
2. सरकार द्वारा विदिशा जिले में 587 पटवारी हल्कों में से मात्र 148 हल्कों में ही बीमे की क्षतिपूर्ति राशि किसानों को दी गई है। किसी हल्के में 90 रूपये प्रति बीघा और किसी हल्के में 3300 रूपये बीघा के मान से बीमा राशि का वितरण किया गया है। पूरे विदिशा जिले में अवर्षा, अतिवर्षा के कारण सम्पूर्ण जिले कि फसले पूर्णरूप से नष्ट हुईं थी। जैसा कि आपको विदित है कि जिले के प्रत्येक किसान भाई द्वारा प्रत्येक वर्ष बीमे की राशि प्रिमियम के रूप में बैंको द्वारा पूर्व में ही काट ली जाती है तो फिर बीमा की राशि का असमानतापूर्ण वितरण क्यों किया जा रहा है इसकी जानकारी किसानों को उपलब्ध कराई जाये व बचे हुये किसानों के खातों में एक समान क्षतिपूर्ति की राशि डाली जाये।
3. पिछले वर्ष सरकार द्वारा गेहूॅ की उपज पर 160 रूपये बोनस देने का बादा किया था, पूर्व में सरकार द्वारा बयान जारी कर 1 अपै्रल 2020 से किसानों के खाते में बोनस की राशि डाले जाने का आश्वासन दिया था जो अभी तक नहंी डाली गई है इस संबंध में भी सरकार अपना स्पष्टीकरण दे।
4. म.प्र. में कांग्रेस की सरकार द्वारा किसानो के हित में 2 लाख रूपये तक का कर्ज माफ किया था जिसमें से 2 लाख के एन.पी.ए ऋण व 1 लाख तक के चालू खाते के ऋण माफ हो चुके है जिसके क्रम में जिन किसान भाईयो के खाते में बैकों द्वारा राशि जमा नही कि गई है उन किसानों के खाते में ऋण की राशि तुरंत जमा कर कृषको को व प्रेस विज्ञप्ती के माध्यम से अवगत कराये।
विधायक भार्गव ने कहां कि जिले के सांसद एवं चारो विधायको को किसानों की परेशानी में उनके साथ खडे होना चाहिए। आज हम प्रशासन के समक्ष जबाव चाहते है कि पंजीकृत किसानों की गेहॅू की तौल होगी या नहीं। चने में पिछले वर्ष की भांति दो प्रतिशत तेवडे की मात्रा मान्य की जावेगी या नहीं । सरकार द्वारा काटी हुई रकम मय ब्याज के कब तक किसानों के खाते में आयेगी या नहीं एवं किसानों को एक समान फसल क्षतिपूर्ति की बीमा राशि कब तक दी जायेगी अथवा नहीं दी जायेगी के साथ ही गेहूॅ की उपज पर 160 रूपये बोनस की राशि कब तक किसानों के खाते में डाली जायेगी के संबंध में स्पष्ट तौर से जबाव दिये जाने का अनुरोध है, साथ ही पीडित एवं परेशान कृषकों की समस्याओं का निराकरण कब तक किया जायेगा, इस संबंध में भी निश्चित स्थिति से दो दिन के भीतर अवगत करावे अन्यथा कांग्रेस पार्टी जिले भर में उग्र प्रदर्शन करने के लिए बाध्य होगी। इस अवसर पर प्रमुख रूप से रघुवीर सिंह रघुवंशी, रतनसिंह यादव, मनोज कपूर, वीरेन्द्र पीतलिया, मोहरंिसंह रघुवंशी, नरेन्द्र रघुवंशी, दीवान किरार, वीरंिसह रघुवंशी, विजय जैंन डल्लन, अजय सिंह रघुवंशी, किशन सिंह दांगी, जसबंत सिंह दांगी, राजेश दुबे, देवेन्द्र दंागी, सुजीत देवलिया, गौरव दांगी, डाॅ राजेन्द्र दांगी, मनोज जैंन, गोविंद सिंह राजपूत, सोनू राजपूत, यशपाल सिंह रघुवंशी, शिवचरण शर्मा, सतेन्द्र पवार, कपिल दुबे, धर्मेंन्द्र जादौन, नरेन्द्र ंिसह दांगी, घनश्याम शर्मा रामभरोसे लोधी, मेहमूद कामिल, सोहेल अहमद, पुनीत राठी, विनीत दांगी, जोहर भाई, अजय कटारे, गोविंद भार्गव, रवि साहू, वेभव भारद्वाज, विजयकांत रैकवार, डालचंद अहिरवार, शेरा मालवीय, हेमंत शर्मा मनोज कुशवाह, मोनूपाल, जसबंत यादव, धन्नालाल कुशवाह, नूर भाई, लालू लोधी, दशन सक्सेना, संजीव प्रजापति, शंकर सिंह तोमर, कमलेश शर्मा, मनीष विश्वकर्मा, जावेद मंसूरी, ओ.पी. सोनी, उमेश चतुर्वेदी, अभिराज शर्मा, राजकुमार डीडोंत, भानू दरबार, दीपक दुबे, शैलेन्द्र दांगी, अमन दीक्षित,

चितौरिया में चार बच्चे कोरोना पॉजिटिव चिन्हित 

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ केएस अहिरवार ने बताया कि ग्राम चितौरिया में कोरोना वायरस से प्रभावित परिवार के कांटेक्ट सूची में शामिल चार बच्चे भी कोरोना पॉजिटिव चिन्हित हुए है दो जून की मध्य रात्रि को प्राप्त सेम्पलों की रिपोर्ट अनुसार ग्राम चितौरिया में आठ वर्ष का बालक एवं 13, 14 वर्ष की बालिकाएं तथा 22 वर्ष की युवती नेशनल पोर्टल पर कोरोना पाजिटिव रिपोर्ट प्रदर्शित होने पर ग्राम चितोरिया से चिन्हित चारो को उपचार हेतु कोविड केयर सेन्टर मेडीकल कॉलेज विदिशा में भर्ती कराया गया है। ज्ञातव्य हो कि ग्राम चितौरिया में एक ही परिवार के छह सदस्य पूर्व में कोरोना पाजिटिव प्रभावित हुए है इन सभी का इलाज भी मेडीकल कॉलेज के कोविड केयर सेन्टर में जारी है।  

आर्थिक मदद जारी 

कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने हिट एण्ड रन के एक प्रकरण में आर्थिक मदद के आदेश जारी कर दिए है। जारी आदेश में उल्लेख है कि त्योंदा तहसील में ग्राम भिलाय के श्री रमेश पुत्र सनमान आदिवासी की सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो जाने पर मृतक की पत्नी श्रीमती सावित्री बाई को 15 हजार रूपए की आर्थिक सहायता जारी की गई है। 

स्वरोजगार हेतु आवेदन आमंत्रित

प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (पीएमईजीपी) के अंतर्गत वर्ष 2020-21 के लिए क्रियान्वित ऐजेन्सी जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र तथा खादी ग्रामोद्योग आयोग व खादी ग्रामोद्योग बोर्ड को प्राप्त लक्ष्यों की पूर्ति हेतु पात्र आवेदकों से सेवा उद्यम इकाई स्थापनार्थ योजना के पोर्टल पर ऑन लाइन ऋण आवेदन आमंत्रित किए गए है। जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक श्री पीडी वंशकार ने बताया कि जिले के मूल निवासी ऐसे युवा जो 18 वर्ष से अधिक आयु के तथा न्यूनतम आठवीं पास अथवा आईटीआई उत्तीर्ण होना चाहिए। वे सभी आवेदन कर सकते है। 
परियोजना लागत 
निर्माण क्षेत्र के लिए अधिकतम 25 लाख रूपए एवं सेवा क्षेत्र के लिए अधिकतम दस लाख रूपए की लागत परियोजना का अनुमोदन किया जाएगा। निजी अंशदान - प्रत्येक परियोजना के लिए निजी अंशदान निर्धारण किया गया है तदानुसार सामान्य श्रेणी के आवेदकों हेतु परियोजना लागत का दस प्रतिशत तथा अनुसूचित जाति, जनजाति, पिछडा वर्ग, अल्पसंख्यक, महिला, भूतपूर्व सैनिक एवं दिव्यांग हेतु पांच प्रतिशत निजी अंशदान देय होगा। सामान्य वर्ग को शहरी क्षेत्र में परियोजना लागत का 15 प्रतिशत, जबकि ग्रामीण क्षेत्र में 25 प्रतिशत वही अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, पिछडा वर्ग, अल्पसंख्यक, महिला, भूतपूर्व सैनिक व दिव्यांग आवेदक को शहरी क्षेत्र में 25 प्रतिशत व ग्रामीण क्षेत्र में 35 प्रतिशत अनुदान देय होगा। इच्छुक आवेदक अपने आवेदन के साथ स्वंय का फोटो, आधार कार्ड, शैक्षणिक योग्यता संबंधी प्रमाण पत्र जिसमें जन्म तिथि अंकित हो। ग्राम पंचायत, नगरपालिका का जनसंख्या एवं स्थापना संबंधी अनापत्ति प्रमाण पत्र संलग्न करना होगा। इसके अलावा अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं पिछडा वर्ग होने की स्थिति में एसडीएम स्तर के अधिकारियों द्वारा जारी जाति प्रमाण पत्र तथा प्रस्तावित उद्योग, सेवा की विस्तृत प्रोजेक्ट रिपोर्ट एवं मशीन उपकरणों के कोटेशन आवेदन के साथ संलग्न करने होंगे। 

आंशिक छूट संबंधी आदेश जारी

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी डॉ पंकज जैन के द्वारा आंशिक छूट संबंधी आदेश पुनः जारी किया गया है जिसके अनुसार विदिषा जिले में रात्रि नौ बजे से प्रातः पांच बजे तक कर्फ्यू घोषित किया गया है उक्त अवधि में चिकित्सीय कार्य को छोडकर जनमानस का अकारण घर से निकलना पूर्णतः प्रतिबंधित किया गया है। इसके अलावा प्रातः सात बजे से रात्रि आठ बजे तक फल-संब्जी का विक्रय किया जावेगा। किंतु सब्जी मंडी से फुटकर फल एवं सब्जी का विक्रय पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। सब्जी एवं फल का विक्रय चलित ठेले के माध्यम से किया जा सकेगा। दूध डेयरी, चाय-नाष्ते की दुकाने, हेयर सैलून प्रातः 07.00 बजे से तथा दवा दुकाने प्रातः 09.00 बजे से और शेष समस्त दुकाने/व्यवसायिक प्रतिष्ठान प्रातः 10.00 बजे से रात्रि 08.00 बजे के मध्य खोले जा सकेगे। यह यहॉ स्पष्ट किया जाता है, कि रात्रि 08.00 बजे तक समस्त व्यवसायिक प्रतिष्ठान पूर्णतः बंद हो जाना चाहिए। रेस्टोरेंट तथा भोजनालय पूर्व अनुसार पूर्णतः बंद रहेगे, किंतु उनकी किचन संचालित होती रहेगी जिसके माध्यम से वे होम टिफिन/पार्सल सेवाये (घर पहुंच सेवा) प्रदान कर सकेगे। शैक्षाणिक, प्रषिक्षण, कोचिंग संस्थान, सिनेमा हॉल, शॉपिग मॉल, व्यायामषाला, स्विमिंग पूल, थियेटर, बार और ऑडिटोरियम, असेंबली हॉल, पूर्णतः बंद रहेगे। स्टेडियम/धार्मिक स्थल/उपासना स्थल आम जनमानस के लिये बंद रहेगे तथा धार्मिक, सामाजिक, राजनैतिक, खेलकूद, मनोरंजन, एकेडमिक, संस्कृतिक समारोह/कार्यक्रम का आयोजन एवं भीड का जमावडा पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। संबंधित दुकान संचालक अपनी-अपनी सामग्री का विक्रय, दुकान की सीमा में रखकर ही करेगे तथा रोड/रास्ता पर अतिक्रमण नही करेगे। यदि प्रतिष्ठान संचालक चाहे, तो उक्त सामग्री की वह होम डिलेवरी भी कर सकेगा। साथ ही दुकान संचालक/क्रेता को सोषल डिस्टेनषिंग का पालन करना तथा मॉस्क लगाना अनिवार्य होगा, उल्लंघन की दषा में दुकान को 07 दिवस की अवधि की लिए सील किया जावेगा।   आदेश सर्वसाधारण को संबोधित है और चूंकि वर्तमान मे मेरे समक्ष ऐसी परिस्थितियॉ नही है और न ही यह संभव है इस आदेष की पूर्व सूचना प्रत्येक व्यक्ति को दी जाये । अतः यह आदेष एक पक्षीय रूप से पारित किया जाता है। इस आदेष का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भादवि की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही संपादित की जावेगी। यह आदेष दो जून से आगामी आदेष पर्यन्त तक प्रभावषील होगा।  

मेडीकल कॉलेज में कोविड-19 के सेम्पलों की जांच शुरू हुई

कलेक्टर डॉ पंकज जैन की पहल पर अटल बिहारी वाजपेयी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय विदिशा में कोरोना वायरस कोविड-19 के सेम्पलों की जांच कार्य शुरू हो गया है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ केएस अहिरवार ने बताया कि विदिशा मेडीकल कॉलेज से मंगलवार दो जून को दस सेम्पलों की निगेटिव रिपोर्ट प्राप्त हुई है। चिकित्सा महाविद्यालय के डीन डॉ सुनील नंदेश्वर ने बताया कि कोविड-19 की जांच हेतु लिए जाने वाले विदिशा जिले के सेम्पलों का परीक्षण चिकित्सा महाविद्यालय के अधिकृत चिकित्सा विशेषज्ञों के द्वारा किया जा रहा है। अन्य जिलो के सेम्पलों की प्राप्ति हेतु कलेक्टर स्तर पर टाइअप की कार्यवाही क्रियान्वित है। क्रमांक 20

प्रवासी श्रमिको का पंजीयन, सत्यापित पंजीकृत श्रमिकों को स्थानीय स्तर पर रोजगार व योजनाओं का लाभ  

अन्य राज्यों में फंसे हुए मध्यप्रदेश के श्रमिक एवं अन्य राज्यों से मध्यप्रदेश लौट रहे अथवा लौट चुके मध्यप्रदेश के श्रमिकों के पंजीयन सत्यापन हेतु श्रमिक सेवा एप मध्यप्रदेश सरकार द्वारा जारी किया गया है। सत्यापन एवं पंजीयन का कार्य ग्राम पंचायत सचिव द्वारां  sambal.mp.gov.in पर किया जा रहा है।  श्रमिक सेवा एप को गूगल प्ले स्टोर से या संबल पोर्टल से डाउनलोड किया जा सकता है। श्रमिक सेवा एप का उपयोग से पंचायत सचिव, वार्ड प्रभारी अपने क्षेत्र के प्रवासी श्रमिकों का पंजीयन, सत्यापन कर सकेंगे। अन्य राज्यों में फंसे हुए मध्यप्रदेश के श्रमिक सेवा एप का उपयोग कर अपनी जानकारी दर्ज कर सकते है। ऐसे श्रमिक जिनका पंजीयन सत्यापन की प्रक्रिया से विभिन्न कारणों से यदि वंचित रह जाते है तो वे स्वंय की जानकारी भी प्रविष्टि कर सकते है जो कि पंचायत सचिव, वार्ड प्रभारी को सत्यापन हेतु उपलब्ध होगी। सत्यापित पंजीकृत श्रमिकों की जानकारी का उपयोग उन्हें उनकी दक्षता अनुसार उनके ही स्थान पर रोजगार दिलाने एवं उनकी पात्रतानुसार शासन की विभिन्न योजनाओं का लाभ दिलाने हेतु किया जाएगा। 

चाइल्ड लाइन 1098 से परामर्श

कोरोना वैश्विक महामारी एवं निरंतर लॉकडाउन के चलते प्रदेश के अनेक परिवारों के बच्चों में मानसिक तनाव, व्यग्रता इत्यादि की समस्याएं परलिक्षित हो रही है ऐसे परिवार के बच्चों व अभिभावको को सलाह परामर्श की आवश्यकता पड़ रही है। महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री बृजेश शिवहरे ने बताया कि विदिशा जिले में चाइल्ड लाइन नम्बर 1098 के माध्यम से परामर्श सेवाएं पूर्व से ही संचालित है। इसके अलावा जिले में टेलीफोन, साइको सोशल हेल्प डेस्क के प्रभारी उमेश साहू, परामर्शदाता मोबाइल नम्बर 7000503723 से कार्यालयीन अवधि में परामर्श प्राप्त किया जा सकता है। 

कोई टिप्पणी नहीं: