केजरीवाल ने रोजगार पोर्टल जारी किया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 28 जुलाई 2020

केजरीवाल ने रोजगार पोर्टल जारी किया

नौकरी चाहने वाले, देने वाले आयेंगे एक मंच पर
kejriwal-launches-new-jop-portl
नयी दिल्ली, 27 जुलाई, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को एक रोजगार पोर्टल जारी किया और इसके साथ ही व्यापारियों, उद्योगपतियों और लोगों से दिल्ली की अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने की अपील की। केजरीवाल ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के चलते हाल के दिनों में कई लोगों ने अपना रोजगार खो दिया और कारोबार पर भी इसका बुरा असर पड़ा। यह पोर्टल ‘‘जॉब्स डॉट दिल्ली डॉट गव डॉट इन’’ नियोक्ताओं और रोजगार चाहने वाले दोनों के लिये एक ‘‘रोजगार बाजार’’ की तरह काम करेगा। मुख्यमंत्री ने वर्चुअल संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘ऐसे कई लोग हैं जिन्हें रोजगार की तलाश है, वहीं दूसरी तरफ कई व्यापारी, कारोबारी, पेशेवर, ठेकेदार हैं जिन्हें उनके काम के लिये सही व्यक्ति नहीं मिल पा रहा है। यह पोर्टल दोनों को एक मंच पर आमने सामने लाकर इस कमी को दूर करेगा।’’ केजरीवाल ने कहा कि एक विशेष आदेश जारी किया जा रहा है जिसमें रेहड़ी, ठेले वालों को काम शुरू करने की अनुमति दी जा रही है। उन्होंने कहा कि कई प्रवासी कामगार जो कि लॉकडाउन के दौरान दिल्ली छोड़कर चले गये थे अब वापस आने लगे हैं। दिल्ली के श्रम मंत्री गोपाल राय ने कहा कि इस रोजगार पोर्टल की सेवायें निशुल्क होंगी और किसी भी आवेदक को इसमें पंजीकरण के लिये कोई पैसा देने की जरूरत नहीं है। केजरीवाल ने इस बात पर प्रसन्नता जाहिर की है कि दिल्ली कोरोना वायरस को ‘‘नियंत्रण’’ में लाने में कामयाब रही है और उसे दूसरे राज्यों की तरह फिर से लॉकडाउन लगाने की जरूरत नहीं पड़ी है। उन्होंने कहा कि ऐसे समय जब देश और दुनिया में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं दिल्ली में कोविड-19 के मामलों में लगातार कमी आ रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में कोविड- 19 से ठीक होकर बाहर आने वाले लोगों का प्रतिशत 88 तक पहुंच गया है और परीक्षण के बाद कोरोना संक्रमित पाये जाने वाले लोगों का अनुपात भी जून के 35 से घटकर वर्तमान में पांच प्रतिशत रह गया है। उन्होंने कहा कि जून के मुकाबले इस बीमारी से मरने वालों का आंकड़ा भी कम हुआ है। इस समय राजधानी में कोविड- 19 के अस्पतालों में 2,850 मरीज ही भर्ती हैं जबकि 12,500 बिस्तर खाली हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: