सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 31 जुलाई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 31 जुलाई 2020

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 31 जुलाई

चंदेल अखिल भारतीय बालमीकी महासभा के जिलाध्यक्ष हुए नियुक्त

sehore news
सीहोर। अखिल भारतीय बालमीकी महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ जीएस विश्नार और प्रदेशाध्यक्ष ओपी गोदिया तामोट एवं अत्याचार निगरानी प्रकोष्ठ मध्य प्रदेश  अध्यक्ष सूरज खरे की अनुसंशा पर युवा समाजसेवी रितेश चंदेल को अखिल भारतीय बालमीकी महासभा का सीहोर जिलाध्यक्ष नियुक्त किया है। नव नियुक्त जिलाध्यक्ष श्री चंदेल ने कहा की युवाओं को साथ लेकर समाजहित में लगातार कार्य किए जाएंगे। जल्द ही जिला सहित ब् लाक कार्यकारिणी का गठन किया जाएगा। श्री चंदेल को लालदास श्रवण,चंद्रशेखर डागर, राहुल भेरवे, मोंटी गोहर, जीवन कछवाय, गोलू बोयत, अभिषेक चौहान नितेश चंदेल मनीष खरे आदि ने खुशी व्यक्त कर वरिष्ठों को आभार व्यक्त किया।

10 दिवसीय संभाषण शिविर का समापन।  
  • - 49 देशों में संस्कृत भारती शिविर चला रही है।   
  • -संस्कृत प्रचार प्रमुख उद्देश्य -                      
  • -10 समूहों में संभाषण वर्ग चलाया गया मध्य भारत में       
  • -संस्कृत मंत्री के मुख्य आतिथ्य में वर्ग का समापन                 
  • -10 दिवसीय संभाषण वर्ग के समापन में बोले अखिल भारतीय संगठन मंत्री दिनेश कामत                              सीहोर -संस्कृत भारती द्वारा संपूर्ण मध्य भारत प्रांत में ऑनलाइन संभाषण वर्गों का आयोजित किया गया ,10 दिवसीय इन वर्गों के समापन अवसर पर संस्कृत मंत्री सुश्री उषा ठाकुर ने वर्गों के सफल संचालन पर संस्कृत भारती को बधाई दी ,वही मुख्य वक्ता राष्ट्रीय संगठन मंत्री दिनेश कामत ने संस्कृत किसलिए विषय को समझाते हुए संस्कृत भारती द्वारा देश व विदेशों में किए जा रहे प्रयासों के बारे में बताया ।  गूगल मीट पर समापन वर्ग में क्षेत्रीय संगठन मंत्री प्रमोद पंडित ,प्रांत संगठन मंत्री नीरज दीक्षित ,प्रांत अध्यक्ष डॉ अशोक भदौरिया, प्रांत मंत्री दिवाकर शर्मा, प्रांत शिक्षण प्रमुख डॉ विष्णु नारायण तिवारी , प्रांत प्रचार प्रमुख डमरूधर पति प्रांत कार्यालय प्रमुख बृजेश साहू ,विभाग संयोजक नरवरसिंह, जिला संयोजक राकेश सिंह ठाकुर ,जिलासह संयोजक जितेंद्र राठौर सहित सीहोर जिले से अनेकों प्रशिक्षणार्थी व संस्कृत अनुरागीयों की सहभागिता रही जिला सह संयोजक जितेन्द्र राठौर ने बताया कि 31 जुलाई से 6 अगस्त तक संस्कृत भारती द्वारा संस्कृत सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है जिसमें प्रतिदिन विभिन्न गतिविधियां संचालित की जाएंगी ।

आज 18 की रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई
2 व्यक्ति स्वस्थ होने के उपरांत डिस्चार्ज किए गए, कोरोना पॉजीटिव एक व्यक्ति महिला की मृत्यु, कुल मृत्यु संख्या 10
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकार डॉक्टर सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि सीहोर के 5 व्यक्ति शहरी क्षेत्र है, जो जमशेदनगर, तिलकपार्क, देवनगर, इंग्लिशपुरा तथा इंदौर नाका के निवासी है। नसरूल्लागंज के 5 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव आई है जिसमें सभी स्थानीय शहरी क्षेत्र के कंटेनमेंट से है। इछावर ब्लाक के 5 व्यक्तियों रिपोर्ट पॉजीटिव आई है जिसमें ग्राम धामंदा का 1 तथा शेष इछावर के वार्ड नबर 5 व वार्ड नंबर 11 के निवासी है। श्यामपुर ब्लाक से 2 व्यक्तियों की रिपोर्ट पॉजीटिव आई है जिसमें सुआखेड़ा व भारती नगर (सैकड़ाखेडी) से 1-1 व्यक्ति शामिल है। आष्टा का 1 व्यक्ति है जो जावर का निवासी है। जिले में कोरोना संक्रमित एक्टिव मरीजों की संख्या 164 हो गई है। आज कोविड केयर सेंटर से 2 व्यक्तियों को डिस्चार्ज किया गया है। जिले में अब तक डिस्चार्ज किए गए व्यक्तियों की संख्या 103 है। इछावर के दषहरा मैदान वार्ड नम्बर 11 निवासी एक पॉजीटिव महिला की आज मृत्यु हो गई, उसका कोरोना जांच सैम्पल 28 जुलाई को लिया गया था जिसकी रिपोर्ट आज ही पॉजीटिव प्राप्त हुई थी।  जिले में कोरोना संक्रमण से मृत्यु की संख्या 10 हो गई है। आज 86 व्यक्तियों के  सैम्पल कोरोना जांच हेतु लिए गए है। जिसमें  सीहोर के कुल 41 सैम्पल । बुदनी से 02,श्यामपुर के 13, आष्टा के 5, इछावर के 17, नसरूल्लगंज के 08 सैम्पल शामिल है। जिले में कुल एक्टिव कंटेनमेंट एरिया की संख्या 69 है। आज पॉजीटिव मिले नए कंटेनमेंट जोन सहित समस्त कंटेनमेंट एवं बफर जोन में स्वास्थ्य दलों द्वारा सघन स्वास्थ्य सर्वे किया जा रहा है। वहीं पॉजीटिव मिले व्यक्तियों के करीबी संपर्क वाले व्यक्तियों की पहचान कर उनकी सूची तैयार की जा रही है। प्रत्येक कंटेनमेंट जोन में सर्वे के लिए एक से दो दल लगाए गए है। सर्वे दल के प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को बनाया गया है तथा स्वास्थ्य सर्वे दल में ए.एन.एम., आशा कार्यकर्ता,आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाई गई है। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 276 है जिसमें से 10 की मृत्यु हो चुकी है 103 स्वस्थ्‍ होकर डिस्चार्ज हो गए है तथा वर्तमान में 164 पॉजीटिव व्यक्तियों का उपचार चल रहा है। आज कुल 86 सैंपल जांच हेतु लिए गए। जिले से अब तक कुल 4861 सेम्पल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 3988 सेंपलों की रिपोर्ट अब तक निगेटिव प्राप्त हुई है। आज 71 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 568 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 29 है। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में है उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 काल सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर.7247704181 है कोविड.19 से संबंधित जानकारी इस संपर्क नंबर पर ली व दी जा सकती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसीन के लिए संपर्क नंबर 07562-401259 जारी किया गया है तथा राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर काल करके भी टेलीमेडिसीन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104  नंबर पर ई.परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। ई.संजीवनी ओपीडी सेवा हेतु www.esanjeevaniopd.in पंजीयन कराया जा सकता है। कलेक्ट्रेट कार्यालय सीहोर में भी जिला स्तरीय काल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562.226470 है तथा होम क्वारंटाइन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है। जिस पर संस्थागत क्वारंटाइन अथवा होम क्वारंटाइन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साईकोलाजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से निःशुल्क प्राप्त कर सकते है।

नि:शक्तजनों को किया राशन सामग्री का वितरण

sehore news
राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण एवं मध्य प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर के निर्देशानुसार जिला न्यायाधीश वह अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री राजवर्धन गुप्ता के निर्देशाननुसार सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सीहोर श्री एस.के.नागौत्रा के मार्गदर्शन में रेलवे क्रॉसिंग के पास भोपाल रोड हाउसिंग बोर्ड चौराहा पर में कोविड-19 के कारण लागू समय-समय पर लॉकडाउन एवं कर्फ्यू के हालात में जिले में संचालित स्वयंसेवी संगठन युवा विकास मंडल द्वारा एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पैरा लीगल वालंटियर श्री आबिद खान एवं पैनल अधिवक्ताओं श्री मनोज मालवीय द्वारा गरीब एवं कमजोर वर्ग के निस्सहाय लोगों को राशन सामग्री का नि:शुल्क वितरण किया गया गया। कोविड-19 के संक्रमण एवं बचाव के संबंध में सरकार की कोविड-19 के प्रोटोकॉल एवं सुरक्षा के उपायों के बारे में बताया गया। साथ ही मास्क एवं साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखने के लिए भी लोगों को समझाइश दी गई। शिविर में लोगों को बताया कि कोरोना संक्रमण एवं रोकथाम हेतु सोशल डिस्टेंसिंग एवं मास्क या मुंह में गमछा, रुमाल बांधकर 1 मीटर की दूरी का पालन करें एवं पैरा लीगल वॉलिंटियर द्वारा विधिक सेवा प्राधिकरण सीहोर द्वारा कोविड-19 के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम से संबंधित जानकारी दी गई। साथ ही भोजन स्वास्थ्य सेवाओं एवं समय-समय पर अन्य बुनियादी सुविधाओं संबंधी कठिनाई होने पर नेशनल लीगल फ्री हेल्पलाइन नंबर 15100 पर संपर्क करने के निर्देश दिए।

चिन्हित कुपोषित बच्चों को घर पर दिया जायेगा उपचार

महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती इमरती देवी ने निर्देश दिये हैं कि चिन्हित कुपोषित बच्चों को उनके घर पर ही दवाइयाँ, पोषण-आहार और उपचार उपलब्ध कराया जाये। उन्होंने अधिकारियों को कुपोषण के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान को गति देने के निर्देश दिये। श्रीमती इमरती देवी ने कहा कि कोरोना के कारण अभिभावक अपने बच्चों को पोषण पुनर्वास केन्द्र ले जाने से डर रहे हैं। ऐसे में यह निर्णय लिया गया है कि चिन्हित गंभीर कुपोषित बच्चों को दवाइयाँ और पोषण आहार उनके घर पर ही उपलब्ध कराया जायेगा।

शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों को महिला बाल विकास विभाग की पोर्टल पर पंजीयन कराना होगा अनिवार्य

महिला बाल विकास विभाग द्वारा प्राइवेट क्षेत्र में पूर्व से संचालित एवं नवीन संचालित होने वाले शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों को विभागीय पोर्टल पर पंजीयन कराना अनिवार्य होगा। राष्ट्रीय ईसीसीई पॉलिसी 2013 एवं राष्ट्रीय बाल संरक्षण अधिकार आयोग के निर्देशानुसार प्राइवेट क्षेत्र में पूर्व से संचालित एवं नए संचालित होने वाले शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों के नियमन एवं निगरानी के लिए यह निर्णय लिया गया है। इन शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों की पंजीकरण की सुविधा 4 अगस्त 2020 से प्रारंभ की जा रही है। महिला बाल विकास विभाग के पोर्टल पर पूर्व से संचालित एवं नवीन संचालित होने वाले शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों के लिए ऑनलाइन पंजीयन कराना आवश्यक होगा। बिना पंजीकरण के संचालित पाए जाने पर संबंधित शाला पूर्व शिक्षा केंद्र (नर्सरी स्कूल, प्ले स्कूल, किंडर गार्डन) पर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी

4 अगस्त को वेबीनार
महिला बाल विकास विभाग के पोर्टल पर शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों के पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध कराने संबंधी वेबीनार 4 अगस्त को 3 बजे आयोजित किया गया है । इसमें विभागीय संभागीय संयुक्त संचालक, जिला कार्यक्रम अधिकारी एवं निजी क्षेत्र के शाला पूर्व शिक्षा केंद्र संचालक सम्मिलित होंगे। ऑनलाइन वेबीनार में सम्मिलित होने से संबंधित लिंक विभागीय पोर्टल पर उपलब्ध होगी। उल्लेखनीय है कि बाल अधिकारों के संरक्षण को सुनिश्चित करने के लिए केंद्रीय महिला बाल विकास मंत्रालय ने राष्ट्रीय ईसीसीई (प्रारंभिक बाल्यावस्था देखभाल एवं शिक्षा नीति) 2013 का निर्माण किया था। इस नीति में 3 से 6 वर्ष के बच्चों को शैक्षणिक आवश्यकताओं एवं इस आयु वर्ग के बच्चों के लिए स्कूल पूर्व शिक्षा के महत्व पर जोर दिया गया है। भारत में शाला पूर्व शिक्षा सेवाएं शासकीय निजी एवं अशासकीय संस्थाओं के माध्यम से प्रदाय की जा रही है। शासकीय क्षेत्र में शाला पूर्व शिक्षा सेवा का प्रदाय आंगनवाड़ी केंद्रों एवं अशासकीय क्षेत्रों में नर्सरी स्कूल, प्ले स्कूल, किंडर गार्डन जैसे नामों से संचालित शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों के माध्यम से किया जा रहा है। वर्तमान में प्राइवेट क्षेत्र में संचालित प्ले स्कूल बिना किसी नियमन, मान्यता एवं पंजीकरण के संचालित हो रहे हैं जिससे इन शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों में बाल अधिकारों के संरक्षण की सुनिश्चित्ता प्रभावित होती है।

उच्च गुणवत्ता वाले गौ-भैंस वंशीय पशुओं की होगी वृद्धि, प्रत्येक जिले में 1 अगस्त से शुरू होगा नस्ल सुधार कार्यक्रम

पशुपालन मंत्री श्री प्रेमसिंह पटेल ने कहा कि प्रदेश में गौ-भैंस वंशीय पशुओं की नस्ल सुधार एवं गुणवत्तायुक्त दुग्ध उत्पादन में वृद्धि के प्रयास प्रारंभ किये गये हैं। राष्ट्रीय गोकुल मिशन के तहत 1 अगस्त 2020 से 31 मई 2021 तक कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रम चलाया जाएगा। इससे प्रदेश में अच्छी नस्ल के पालतू पशुओं की संख्या में वृद्धि होगी और पशुपालकों की आय भी बढ़ेगी। मंत्री श्री पटेल ने बताया कि कार्यक्रम क्रियान्वयन के लिये प्रभावी रणनीति तैयार कर विभागीय अधिकारियों को सक्रियता से कार्य करने के निर्देश दिये हैं। कार्यक्रम में प्रत्येक जिले के चयनित 500 गाँव में से प्रत्येक गाँव में 100 गौ-भैस वंशीय पशुओं का कृत्रिम गर्भाधान किया जायेगा। इससे 50 हजार उच्च नस्ल वाले दुधारू पशुओं की प्राप्ति होगी। इस महत्वाकांक्षी नस्ल सुधार कार्यक्रम से आगे आने वाली पीढ़ियों को भी उच्च गुणवत्ता के दुधारू पशु मिल सकेंगे। यू.आई.डी. टैग लगाकर और पशु का पंजीयन कर जानकारी सॉफ्टवेयर पर अपलोड की जायेगी। कृत्रिम गर्भाधान से गर्भधारण सुनिश्चित करने के लिये मार्गदर्शिका और डॉयरेक्टरी केन्द्रीय वीर्य संस्थान तथा राज्य पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम की वेबसाइट पर उपलब्ध है। श्री पटेल ने बताया कि कृत्रिम गर्भाधान कार्यकर्ता को प्रति कृत्रिम गर्भाधान के लिये 50 रुपये और प्रति वत्स उत्पादन प्रोत्साहन राशि के रूप में 100 रुपये दिये जायेंगे।पशुपालन मंत्री श्री पटेल ने पशुपालकों से कार्यक्रम का लाभ लेने की अपील की है।   

महादेव पचमढ़ी मंदिर परिसर क्षेत्र में आवागमन प्रतिबंधित

सहायक परियोजना अधिकारी शहरी विकास अभिकरण सीहोर ने जानकारी देते हुए बताया कि अनुविभागीय अधिकारी जिला होशंगाबाद द्वारा अवगत कराया गया है कि वर्तमान में कोविड 19 के संक्रमण की रोकथाम को दृष्टिगत रखते हुए होशंगाबाद जिले में धारा 144 लागू है। रक्षाबधन पर्व के दौरान महादेव मंदिर पचमढ़ी पर बड़ी संख्या में अन्य जिलों के लोग बड़ी संख्या में आने की संभावना रहती है। किन्तु कोरोना महामारी के दृष्टिगत क्षेत्र को प्रतिबंधित किया गया है। श्रद्धालुओं से अपील की गई है कि शासन के नियमों का पालन करते हुए प्रतिबंधित क्षेत्र में यात्रा न करें।

राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन अंतर्गत संचालित शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों व सिविल डिस्पेंसरी के समय निर्धारण के संबंध में निर्देश जारी

मिशन संचालक, एनएचएम मध्य प्रदेश ने समस्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी मध्य प्रदेश को  राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत संचालित शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों एवं सिविल डिस्पेंसरी के समय निर्धारण के लिए पत्र के माध्यम से निर्देशित किया है। राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत संचालित समस्त शहरी स्वास्थ्य संस्थाओं के समय में समानता लाए जाने के उद्देश्य से एवं मरीज की सुविधा के लिए समस्त सिविल डिस्पेंसरी एवं शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का समय प्रातः 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक निर्धारित किया जाता है। शासकीय कार्यालय में संचालित सिविल डिस्पेंसरी का समय कार्यालयीन समय अनुसार 10:30 बजे से 5:30 बजे तक रहेगा। राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत संचालित संजीवनी क्लीनिक का संचालन समय पूर्व की भांति प्रातः 10:00 से 6:00 बजे तक रहेगा। उक्त संबंध में संस्था स्तर पर अन्य सभी स्वास्थ्य सेवाएं ओपीडी, टेस्ट (8 कार्ड टेस्ट संस्थापक एवं 48 टेस्ट हब एंड स्पोक के माध्यम से जिला अस्पताल पर ) मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य सेवा प्रदायगी एवं टीकाकरण, परिवार कल्याण सेवा, असंचारी रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत असंचारी रोग की स्क्रीनिंग, हाइपरटेंशन, डायबिटीज, ओरल कैंसर स्क्रीनिंग, प्राथमिक उपचार सेवा, सामुदायिक गतिविधियां (आउटरीच कैप का संचालन) पुन: रक्षित राष्ट्रीय क्षय नियंत्रण कार्यक्रम अंतर्गत सेवाएं, रेफरल सर्विस एवं दवा वितरण उपलब्ध कराया जाना पूर्व की भांति सुनिश्चित करें। साथ ही प्रत्येक संस्था पर कोविड-19 हेतु फीवर क्लीनिक भी पूर्व की भांति संचालित रहेंगे। प्रत्येक संस्था पर फीवर क्लीनिक हेतु राज्य कार्यालय द्वारा दिए गए दिशा निर्देशों का अनुसरण किया जाए ताकि फीवर क्लीनिक के द्वारा अधिक से अधिक आमजन को स्वास्थ्य सेवा का लाभ पहुंचाया जा सके। 

कोई टिप्पणी नहीं: