बिहार : मुजफ्फरपुर में ऐपवा कार्यालय पर हुआ हमला का जोरदार विरोध - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 19 अगस्त 2020

बिहार : मुजफ्फरपुर में ऐपवा कार्यालय पर हुआ हमला का जोरदार विरोध

aipwa-protest-for-office-attack
पटना. भाजपा-जदयू राजनीतिक कारणों से माले को निशाना बना रही हैं. नगर विकास मंत्री व मुजफ्फरपुर के स्थानीय भाजपा विधायक सुरेश शर्मा के खिलाफ वहां शहर को जलजमाव से मुक्ति के लिए लगातार आंदोलन चल रहा है, उसी की खुन्नस में अपराधियों को आगे करके माले कार्यालय पर हमला करवाया गया है. भाकपा-माले की उच्चस्तरीय टीम मुजफ्फरपुर गई है. इस टीम में पार्टी के पोलित ब्यूरो के सदस्य धीरेन्द्र झा, केंद्रीय कमिटी की सदस्य व ऐपवा की महासचिव मीना तिवारी तथा दरौली विधायक सत्यदेव राम शामिल हैं. इस टीम पूरे घटनाक्रम का जायजा लिया.अपराधियों को संरक्षण देने वाले पुलिस अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की सरकार से मांग. बिहार की तमाम महिला संगठनों ने भाकपा माले  और ऐपवा के साथियों पर किए गए हिंसक हमले की निन्दा की है.  दुखद है कि यह हमला बीजेपी के गुंडों और अपराधियों द्वारा किया गया. जिस में महिलाओं के साथ अभद्रता,और भयानक हिंसा की गई और कार्यालय में तोड़ फोड़ किया गया. इस तरह के हमले को सरकार और भाजपा के नेता प्रश्रय दे रहे हैं. हम महिला संगठनों कि तरफ से मांग करते है कि महिलाओ पर हुए हमले के विरूद्ध कठोर कार्रवाई हो.


महिला संगठनों ने कहा है कि चूंकि प्रगतिशील या वामपंथी संगठन के कार्यालय महिलाओं और गरीबों में जागृति लाने के केन्द्र होते हैं इसलिए भाजपा ऐसे कार्यालयों को अपना निशाना बना रही है और  बिहार में नीतीश सरकार के प्रशासन का संरक्षण हासिल कर रही है.  आज पटना में महिला संगठन के प्रतिनिधियों ने कहा कि मुजफ्फरपुर में ऐपवा कार्यालय पर हुआ हमला दरअसल बिहार में प्रगतिशील विचारों पर हमले की सोची-समझी साजिश का हिस्सा है .महिला अधिकारों के लिए संघर्ष में मुजफ्फरपुर में ऐपवा सक्रिय है इसलिए साजिश के तहत हमला करवाया गया .तथ्यों से स्पष्ट है कि इस साजिश में भाजपा के साथ मिठनपुरा थाना प्रभारी भी शामिल हैं.  थाना प्रभारी ने कार्यालय पर हमले के दोषियों के विरुद्ध समय रहते कार्रवाई नहीं किया,बाद में हमलावरों की तरफ से मुकदमा करवाया गया और इसके बहाने आधी रात में  बिना महिला पुलिस के मुहल्ले में जाकर महिलाओं के साथ बुरी तरह बदतमीजी की गई,पीटा गया जिसमें एक महिला का हाथ टूट गया और 6 अन्य के बांह,गर्दन, पीठ पर गंभीर चोट आई. महिला संगठनों ने मिठनपुरा थान प्रभारी को तत्काल मुअत्तल करने, घायल महिलाओं को मुआवजा देने और अपराधियों को गिरफ्तार करने की मांग की है.निवेदिता,बिहार महिला समाज ,रामपरी, जनवादी महिला समिति(एडवा) ,कंचनबाला, लोकतांत्रिक जनपहल,अनामिका कुमारी, अ.भा.महिला सांस्कृतिक संगठन, लीना, कम्युनिटी हेल्थ सेंटर, अख्तरी बेगम, मुस्लिम महिला मंच, डा.मीरा दत्त, तलाश पत्रिका,चन्द्रकान्ता,कामायनी स्वामी, एनएपीएम, आस्मां खान, एएसड्बल्युएफ, शोहिनी, जनजागरण शक्ति संगठन, आकांक्षा, विमुक्ता, प्रतीक्षा  और सरोज चौबे, ऐपवा.

कोई टिप्पणी नहीं: