बसपा विधायकों के मामले में जारी नोटिस तामील करवाने के निर्देश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 7 अगस्त 2020

बसपा विधायकों के मामले में जारी नोटिस तामील करवाने के निर्देश

congress-bsp-case-in-court
जयपुर, 06 अगस्त, राजस्थान उच्च न्यायालय ने बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के विधायकों काे कांग्रेस में शामिल करने के मामले में एकल पीठ के नोटिस आठ अगस्त तक तामील करवाने के निर्देश दिये हैं। मुख्य न्यायाधीश इंद्रजीत मोहंती और प्रकाश गुप्ता ने बसपा की तरफ से दायर याचिका का निस्तारण करते हुए नोटिस विशेष संदेशवाहक के जरिए जैसलमेर के जिला न्यायाधीश को भेजने के निर्देश दिये। जरुरत पड़ने पर वह पुलिस अधीक्षक की मदद ले सकेंगे। इसके अलावा यह नोटिस राजस्थान पत्रिका के बाड़मेर जैसलमेर, संस्करण में भी प्रकाशित करवाने के निर्देश दिये, जहां एक पांच सितारा होटल में बसपा के छह विधायकों के ठहरने की बात की जा रही है। न्यायालय ने एकल पीठ को छह बसपा विधायकों के कांग्रेस में शामिल करने के विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी के फैसले पर रोक लगाने के मामले के प्रार्थनापत्र पर 11 अगस्त को सुनवाई करके फैसला करने के भी आदेश दिये हैं। बसपा ने याचिका दायर की है कि जिसमें न्यायालय में मामले के लम्बित रहते उसके छह विधायकों को फ्लोर टेस्ट में मतदान करने पर रोक लगाने की गुजारिश की गयी है। 18 सितम्बर 2019 को छह बसपा विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने के विधानसभा अध्यक्ष के फैसले पर सुनवाई के लिये भाजपा विधायक मदन दिलावर की याचिका को न्यायालय ने खारिज करके नया प्रार्थनापत्र लगाने के निर्देश दिये थे। बसपा की तरफ से भी नये सिरे से याचिका दायर की गयी। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस के विधायकों की जैसलमेर में एक होटल में बाड़ेबंदी के चलते नोटिस तामील नहीं हो पा रहे थे।

कोई टिप्पणी नहीं: