मधुबनी : भाकपा कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री का पुतला फूंका - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 4 अगस्त 2020

मधुबनी : भाकपा कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री का पुतला फूंका

cpi-protest-for-flood-relief-madhubani
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) मधवापुर प्रखंड क्षेत्र के बिशनपुर पंचायत अंतर्गत पकड़शाम गांव में भाकपा (माले) कार्यकर्ताओं ने जिले को बाढ़ प्रभावित व पूरे उत्तर बिहर को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र घोषित करने व तत्काल प्रभाव से राहत कार्य चलाने की मांग करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला फूंका। भाकपा माले कार्यकर्ताओं ने उत्तरी और पूर्वी बिहार के सभी जिलों को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र घोषित करने, कोरोना लॉक डाउन से तबाह मज़दूर-किसानों के ऊपर आयी दूसरी बड़ी तबाही को देखते हुए सभी बाढ़ प्रभावित परिवारों को 25-25 हज़ार रुपये की सहायता राशि तत्काल देने, पानी से घिरे गांव-टोलों और ऊंची जगहों पर शरण लिए परिवारों के लिये ड्राई फ़ूड पैकेट्स और पानी की व्यवस्था जरिए, एवं मवेशियों के लिये पर्याप्त चारे की व्यवस्था, नाव पर्याप्त संख्या में उपलब्ध हो, तथा चलंत मेडिकल सेन्टर ज़िला परिषद क्षेत्र के स्तर पर हो,सभी किसानों और बटाईदारों को 20 हज़ार रुपये प्रति एकड़ फसल क्षति मुआबजा दिए जाने, सभी खेत मज़दूरों, ग्रामीण मज़दूरों और प्रवासी मज़दूरों को मासिक 7500 रुपये का बेरोजगारी भत्ता दो। बाढ़ की लगातार तबाही झेल रहे उत्तर-पूर्वी बिहार के दलित-गरीबों के लिये दो मंजिला पक्का मकान देने की योजना दिल्ली-पटना की सरकार बनाये, बाढ़-सूखा से मुक्ति के लिये मुकम्मल योजना बनाओ, बाढ़ राहत के सुचारू अभियान चलाने को लेकर तत्काल सर्वदलीय बैठक बुलाया जाने की मांग को ले मुख्यमंत्री का पुतला फूंका। इस पुतला दहन कार्यक्रम में मधवापुर प्रखंड माले सचिव कामेश्वर राम, अशेशर पासवान, राम प्रसाद सदाय, होरिल सदाय, जय शंकर सदाय, दिनेश सदाय, बिपत्ती देवी, मालती देवी, संगीत देवी सहित लगभग एक सौ माले कामरेडों ने भाग लिया।

कोई टिप्पणी नहीं: