मेक्सिको की प्राचीन गुफा में आगंतुकों की आवाजाही बंद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 1 अगस्त 2020

मेक्सिको की प्राचीन गुफा में आगंतुकों की आवाजाही बंद

human-presence-in-maxico-cave
मेक्सिको सिटी, 31 जुलाई, मेक्सिको में उस प्राचीन गुफा में आगंतुकों और स्थानीय लोगों की आवाजाही बंद कर दी गई है, जहां प्रारंभिक काल में मानव के रहने के सबूत मिले थे। मेक्सिको के ‘नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एंथ्रोपोलॉजी एंड हिस्ट्री’ ने कहा कि ज़ाकाटेकास राज्य में सुदूर चिकिहुइटेव गुफा में आगंतुकों की आवाजाही बंद कर दी गई है। संस्थान ने कहा कि वैज्ञानिक ‘‘(गुफा के तल) के तलछट में प्रारंभिक काल के मनुष्यों के डीएनए की तलाश कर रहे हैं। डीएनए हजारों वर्ष तक संरक्षित रहते हैं।’’ गुफा ज़ाकाटेकास में कॉन्सेप्सियन डेल ओरो के पास एक पहाड़ी पर स्थित है। हिमयुग की प्रसिद्ध गुफाओं की तरह यहां मानव की मौजूदगी के पत्थरों की पेंटिंग, चूल्हे या जानवरों की हड्डियों जैसे सबूत मौजूद नहीं है। ‘नेचर’ पत्रिका में इस महीने प्रकाशित हुए एक लेख के अनुसार गुफा में पाए गए पत्थर के औजार बताते हैं कि लगभग 26,500 साल पहले उत्तरी अमेरिका में लोग रहते थे। यह वैज्ञानिकों के अनुमान से लगभग 10,000 साल पहले है। ज़ाकाटेकास के ऑटोनोमस विश्वविद्यालय के साइप्रियन एर्डेलीन और अन्य ने कहा कि उन्हें पत्थरों के औजार और उन्हें बनाने का मलबा मिला है। ऐसा प्रतीत होता कि लोग सर्दी से बचने के लिए गुफा का इस्तेमाल करते थे। हालांकि उनकी टीम को वहां से अभी तक किसी मनुष्य का डीएनए नहीं मिला है। 

कोई टिप्पणी नहीं: