स्वतंत्रता दिवस कविता : भारत को आगे बढ़ाएं! - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 14 अगस्त 2020

स्वतंत्रता दिवस कविता : भारत को आगे बढ़ाएं!

indipendence-day-poem

भारत को आगे बढ़ाएं!
आओ हम सब मिलकर
इस आजादी को नमन करें
आओ हम इस मिट्टी का तिलक करें
यह धरती है वीर-जवानों और बलिदानों की
आओ हम सब मिल कदम बढ़ाएं
भारत को आगे बढ़ाएं!
कलाम की इंसानियत को अपनाएं
जात-पात, ऊंच-नीच, छोटा-बड़ा, भेद-भाव
और बदले की भावना से ऊपर उठें
अगर कोई धर्म अपनाना है
तो इंसानियत का धर्म अपनाएं।
क्योंकि इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नहीं होता
आखिर में इंसान ही इंसान के काम आता है।

- बरुण कुमार सिंह
(बरुण कुमार सिंह)
ए-56/ए, प्रथम तल, लाजपत नगर-2
नई दिल्ली-110024
मो. 9968126797
ई-मेल: barun@live.in

कोई टिप्पणी नहीं: