झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 25 अगस्त - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 25 अगस्त 2020

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 25 अगस्त

सामान्य सर्दी बुखार वालों को भी कोरोना पोजेटिव से दुविधा
जब कोरोना का ईलाज नही तो फिर टेस्ट क्यों ...?
jhabua news
थांदला । पवन नाहर । विगत एक सप्ताह में नगर में 50 से अधिक कोरोना मरीज आ चुके है। इसमें सबसे बड़े आश्चर्य की बात तो यह है कि इनमें से अधिकांश व्यक्तियों को हल्का सा सर्दी बुखार ही आया था। जब ये ट्रीटमेंट के लिए शासकीय अस्पताल गए तो इन्हें कोरोना जाँच करवाने की सलाह दी गई। सभी ने डॉक्टर्स के परामर्श को उचित मानते हुए कोरोना टेस्ट करवा लिया व सर्दी आदि की दवाई ले कर घुमते फिरते रहे। जाँच आने में दो से लेकर छह दिन भी लग गए तब तक ऐसे कई मरीज तो ठीक भी हो गए है। कई मरीज ऐसे भी सम्पर्क में आये है जिन्होंने जाँच नही करवाते हुए बाहर दाहोद जाना उचित समझा व वे वहाँ बिना कोरोना जाँच के मेडिसिन से ठीक भी हो गए ऐसे अनेक उदाहरण इस प्रतिनिधि के पास मौजूद है इधर भी व्यक्ति की ठीक होने के बाद जाँच रिपोर्ट पोजेटिव आने पर उनके घरवालों को भयभीत कर दिया है। वैसे देखा जाए तो जिलें में अभी तक शुद्ध कोरोना संक्रमण से किसी की मौत नही हुई है जबकि जितनी भी मौत हुई है उनमें कोरोना पोजेटिव आना भी महज इत्तेफाक ही हो सकता है या फिर यह कहा जा सकता है कि नए पुराने रोग में कोरोना अपना असर दिखा रहा है तो कोई आश्चर्य की बात नही। वास्तविक कोरोना संक्रमण की गम्भीरता व उसकी स्थिति पर यदि प्रशासन अभी तक अपना रुख स्पष्ट नही कर सका तो यह प्रशासन की नाकामी ही है। 


कोरोना संक्रमण का बढाने में प्रशासन की अहम भूमिका
यदि नगर में कोरोना संक्रमण बड़ा है व खतरनाक है तो प्रशासन किस नींद में सोया हुआ है। कोरोना जाँच करने पर जिस व्यक्ति की जाँच की उसे जाँच रिपोर्ट आने तक कोरन्टीन करने के बजाय खुला छोड़ा जाता है यही नही जाँच रिपोर्ट आने के बाद पोजेटिव मरीजों के यहाँ दो दो दिनों तक कन्टेन्टमेंट एरिया नही बनाया जाता है कही कही तो गली को दोनों तरफ से सील कर दिया जाता है तो कही आसपास के एक एक घर को जाली से बन्द किया जाता है तो कही एक घर को भी ठीक से बन्द नही किया जाता है। अब प्रशासन को कोरोना को लेकर सभी के सामने वास्तविकता बताना चाहिए।

जब ईलाज नही तो टेस्ट क्यों ...?
आज भारत में कोरोना के मरीज तेजी से बढ़ रहे है। देखा जाए तो अब लोगों को कोरोना को लेकर भय भी लगने लगा है। आसमान छुते कोरोना मरीजों में जब सोशल मीडिया व स्वयं प्रशासन ठीक मरीजों की व नेगेटिव रिपोर्ट की जानकारी देने के बजाय कोरोना पॉजिटिव मरीजों की जानकारी ही देगा व उन्हें खुला भी छोड़ देगा तो भय लगना स्वाभाविक ही है।  एक रिसर्च व दुनिया के बड़े डॉक्टर्स के साथ प्रबुद्ध जनों का कहना है कि जब कोरोना का ईलाज ही नही है तो कोरोना की जाँच को भी बन्द कर देना चाहिए। वेक्सीन बनने में अभी भी पता नही कितना समय लगेगा व इसकी कोई मेडिसिन उपलब्ध भी नही है ऐसे में जनता को भय मुक्त बनाने के लिए कोरोना टेस्ट को शिथिल कर देना सही कदम हो सकता है। वैसे भी देखा जाए तो भारत  में अभी तक 1ः जाँच भी नही हुई है व इतने मरीज आ चुके है इससे यह समझा जा सकता है कि वास्तविक आंकड़ा तो और भी भयानक था लेकिन फिर भी अनेक व्यक्ति कब कोरोना पॉजिटिव हुए कब उससे मुक्त हो गए होंगे बता पाना मुश्किल जरूर है लेकिन इसकी सत्यता से इंकार भी नही किया जा सकता। फिर कोरोना की पहचान व बचने के उपायों पर ध्यान देने की जरूरत है। हैदराबाद के मशहूर डॉक्टर ने सिद्ध किया है कि जिस व्यक्ति को बुखार नही है ऐसे व्यक्ति को 97ः स्थिति में कोरोना नही है। वही उन्होंने बताया कि हर व्यक्ति को कोरोना से बचाव व रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने के लिये विटामिन ई के साथ मल्टी विटामिन का उपयोग करना चाहिए। सर्दी जुकाम अथवा सामान्य स्थिति में पीने के लिये गर्म जल का सेवन करना चाहिए। बुजुर्ग व्यक्तियों को ओआरएस का घोल या नींबू पानी जिसमें चीनी व नमक की मात्रा हो उपयोग में लाना चाहिए। उन्होंने बताया कि ओक्सो मीटर की छोटी मशीन का उपयोग कर अपने शरीर की ऑक्सीजन आसानी से मापी जा सकती है जो सामान्य परिस्थिति में 90 से ज्यादा रहती है। यदि किसी व्यक्ति की ऑक्सीजन इससे कम होती तो उसे स्वयं को होम कोरन्टीन कर लेना चाहिए ज्यादा कम होने की स्थिति में डॉक्टरों से सम्पर्क करना चाहिए। एक्सपर्ट के अनुसार अधिकांश व्यक्ति सुरक्षा के तमाम इंतजाम के बावजूद कोरोना पोजेटिव आ गए है जिसका मुख्य कारण उनके मास्क पहनने व उतारने का तरीका सही न होकर मास्क में नाक वालें स्थान को बार - बार टच करना है, वही हाथों को सेनेटाइज करने में भी लापरवाही रहती है जिससे वे भी कोरोना संक्रमित हो जाते है। कोरोना संक्रमण से बचाव का सबसे कारगर उपाय है आप भीड़ का हिस्सा नही बनते हुए सेल्फिश बने अन्य की नही सोचते हुए स्वयं को ही अनुशासित बनाये तभी कोरोना संक्रमण से बच सकते है।


बाईक सवार बाईक सहित नदी में गिरे - लोगों ने बचाई जान

jhabua news
थांदला। नगर के घोड़ा कुंड स्थित रपट पर वर्षा काल के दौरान रोड उखड़ जाने से सोमवार को दौलतपुरा निवासी युवक और अपने मित्र के  साथ संतुलित होकर बाईक सहित नदी में गिर गया जिससे तेज बहाव होने से युवक की मोटरसाइकिल बह जाने से वाहन का पता नहीं चला मौजूद लोगों ने दोनों युवक को बाहर निकाला युवक सुभाष पिता रसिया डामोर, अपने मित्र के साथ दौलतपुरा से थांदला आया था युवक को मामूली चोट भी लगी है जिसे उपचार हेतु सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचाया गया।

नवागत कलेक्टर श्री सिंह द्वारा कार्यभार ग्रहण

jhabua news
झाबुआ। नवागत कलेक्टर श्री रोहित सिंह ने सोमवार को झाबुआ में कार्यभार ग्रहण किया। श्री सिंह ने कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा से कार्यभार प्राप्त किया। श्री सिंह दतिया से स्थांतरित होकर झाबुआ आए हैं। श्री सिंह झाबुआ जिले के 44 वे कलेक्टर हैं। वे अधिकारियों से  परिचय प्राप्त किया और झाबुआ जिले में कोविड-19 की स्थिति की सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त की। इस अवसर पर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री सिद्धार्थ जैन, अपर कलेक्टर श्री एस.पी.एस. चैहान, सहायक कलेक्टर श्री आकाश सिंह, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व मेघनगर श्री जे.एस. बघेल, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व पेटलावद, श्री शिशिर गेमावत, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व झाबुआ श्री एम.एल.मालवीय,उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री अनिल भाना डिप्टी कलेक्टर सुश्री ज्योति परते, सुश्री संघवी, श्री एल.एन.गर्ग सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। नवागत कलेक्टर श्री सिंह का कलेक्टेªट पहुचने पर अधिकारियों द्वारा पुष्प गुच्छ भेट कर आत्मीय स्वागत किया गया।

पिछले 24 घण्टे में सर्वाधिक वर्षा थांदला में दर्ज

झाबुआ, 24 अगस्त 2020। जिले में पिछले 24 घण्टे में 773.4 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज की गई है। सर्वाधिक वर्षा थांदला में 61.0 मि.मी. दर्ज की गई है। सबसे कम वर्षा रामा में 19.8मि.मी. दर्ज की गई है। झाबुआ में 55.8 मि.मी., राणापुर में 23.0 मि.मी., मेघनगर में 55.0 मि.मी. तथा पेटलावद में 60.6 मि.मी. वर्षा दर्ज की गई है।
अधीक्षक  भू - अभिलेख से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में इस वर्ष 1 जून से अब तक 773.4 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज की गई है। थांदला में सर्वाधिक 1004.8 मि.मी. तथा सबसे कम रामा में 616.2 मि.मी. वर्षा दर्ज की गई है। इस दौरान झाबुआ में 783.1 मि.मी., पेटलावद में 775.9 मि.मी., राणापुर में 571.0 मि.मी.तथा मेघनगर में 944.8 मि.मी. वर्षा हो दर्ज की गई है। जिले की औसत वर्षा 773.4 मि.मी. निर्धारित है।

शासकीय योजनाओं में निर्धारित लक्ष्य की पूर्ति के लिये हर संभव प्रयास किये जाए - श्री सिंह

jhabua news
झाबुआ । शासकीय योजनाओं के निर्धारित लक्ष्य की पूर्ति के लिये अभी से प्रयास किये जाए। लक्ष्य पूर्ति के लिये कोई कसर न छोड़ी जाए। इसके लिये इमानदारी से प्रयास किये जाए। यह निर्देश नवागत कलेक्टर श्री रोहित सिंह ने सोमवार को कार्यभार ग्रहण करने की तुरन्त बाद कलेक्टेªट सभा कक्ष में जिला अधिकारियों को दिये। श्री सिंह ने इस बैठक में कोविड-19 के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम के लिये किये गये प्रबंध की जानकारी प्राप्त की और इस महामारी की रोकथाम एवं बचाव के लिये और अधिक प्रयास करने के निर्देश दिये। श्री सिंह ने इस बैठक में विभागवार योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की और स्वरोजगार योजनाओं में बैंक अधिकारियों से समन्वय स्थापित कर प्रकरणों को स्वीकृत कराने और उनमें वितरण सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। श्री सिंह ने जिला स्तरीय समन्वय समिति की समीक्षा बैठक इसी सप्ताह में रखी जाने के निर्देश भी दिये। श्री सिंह ने इस बैठक में खरीब सीजन के आदान व्यवस्था की समीक्षा की और आवश्यक निर्देश दिये। उन्होंने एन.आर.सी केन्द्रों में बच्चों की उपस्थिति की स्थिति की समीक्षा की और इन कन्द्रों में कम वजन के बच्चों को भर्ती करने के निर्देश भी दिये। इस बैठक में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री सिद्धार्थ जैन, अपर कलेक्टर श्री एस.पी.एस.सिंह चैहान, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व पेटलावद श्री शिशिर गेमावद, सहायक कलेक्टर श्री आकाश सिंह, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व झाबुआ श्री एम.एल. मालवीय, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व थांदला श्री जे.एस. बघेल, डिप्टी कलेक्टर श्री एल.एन.गर्ग, सुश्री ज्योति परते, सुश्री संघवी सहित विभिन्न विभागों के जिला अधिकारी उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: