विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 04 अगस्त - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 4 अगस्त 2020

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 04 अगस्त

जिला कोविड हेल्थ सेंटर विदिशा (क्ण्ब्ण्भ्ण्ब्ण्) तत्काल प्रभाव से चालू किया जाये- विधायक भार्गव

विदिशाः- विदिशा विधायक शशांक भार्गव ने प्रमुख सचिव स्वास्थ्य विभाग म.प्र. शासन एवं कलेक्टर विदिशा के साथ ही मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जिला विदिशा को पत्र लिखकर मांग की, कि पिछले चार माहों से अधिक समय से कोविड नाम की महामारी पूरे देश में भयाभव रूप ले चुकी है, ऐसे में आमनागरिकों की स्वास्थ्य की महती आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए मेरा अनुरोध है कि विदिशा जिला अस्पताल में आज तक जिला कोविड हेल्थ सेंटर (क्ण्ब्ण्भ्ण्ब्ण्) प्रारंभ नहीं किया गया है जिसे तत्काल प्रभाव से चालू किया जाये, विदिशा जिला अस्तपताल के साथ-साथ जिले के बडे कस्बे सिरोंज एवं गंजबासौदा में भी कोविड हेल्थ सेंटर अबिलम्ब चालू कराये जाने के निर्देश दिये जावें, साथ ही जिला कोविड हेल्थ सेंटर विदिशा स्थित मेडिकल काॅलेज में पदस्थ प्रोफेसरों के माध्यम से संचालित किया जाये क्योंकि देखने में यह आया है कि किसी मरीज को हार्ट, ब्लड प्रेसर, शुगर, अस्थमा इत्यादि अन्य बीमारीयाॅ होती है तो जिला अस्पताल में जाने पर सीधे कोविड सेंटर में भर्ती कर अन्य बीमारीयों को भूल कर कोविड का ईलाज शुरू कर दिया जाता है उचित ईलाज के आभाव में दूसरी बीमारी से ग्रसित व्यक्ति को वास्तविक बीमारी का ईलाज नहीं मिल पाता। ऐसी परिस्थितियों में जिला कोविड हेल्थ सेंटर तत्काल प्रारंभ किया जाये एवं जिले के नागरिकों को समय पर बीमारी का पता चल सके एवं उसका सही समय पर ईलाज की सुविधा प्राप्त हो सके इस हेतु जिला अस्पताल सहित जिले के सिरोंज एवं बासौदा स्थित अस्पतालों के साथ-साथ अन्य बडे सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में कोविड हेल्थ सेंटर की प्रमुख आवश्यकता है जिससे कि बीमारी को नियंत्रित किया जा सके एवं आम आदमी के लिए भी कोविड के अलावा अन्य बीमारीयों के ईलाज की सुविधा भी उचित रूप से प्राप्त हो सके इस बाबत् शासन प्रशासन तत्काल कार्यवाही करे इस हेतु विधायक भार्गव द्वारा प्रमुख सचिव को लिखे अपने पत्र में कोविड हेल्थ सेंटर प्रारंभ किये जाने हेतु तीन दिवस की निश्चित समय अवधि में प्रारंभ किये जाने अनुरोध भी किया। 

आवारा पशुओं की टेगिंग उपरांत गौ-शालाओें में रखा जाएगा

vidisha news
कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने आज लंबित आवेदनो की समीक्षा के दौरान पशु चिकित्सा सेवाएं विभाग के अधिकारी को निर्देश दिए है कि जिले के विभिन्न चौराहो पर आवारा पशुधन जिसमें गाय भी शामिल है को चौराहो पर सबसे पहले टेगिंग कार्य कराया जाए तदोपरांत नजदीक की गौ-शाला में गायो को भिजवाने के प्रबंध सुनिश्चित किए जाए।  कलेक्टर डॉ जैन ने उपरोक्त कार्य की समय सीमा विभागीय अधिकारी को ही निर्धारित कर अवगत कराने और स्वयमेव तय समय सीमा में शत प्रतिशत कार्य पूर्ण कराने के निर्देश दिए है। विभाग के अधिकारी ने आश्वस्त कराया कि एक सप्ताह की अवधि में जिले के चौराहो पर विचरण करने वाले सभी आवारा पशुओं को टेगिंग कार्य पूर्ण कर लिया जाएगा। 

पशुपालको को केसीसी जारी

कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने आज लंबित आवेदनो की समीक्षा बैठक में स्पष्ट निर्देश दिए है कि जिले में पशुपालक गतिविधियों से रोजगार क्रियान्वित करने वाले पशुपालकों को किसान क्रेडिट कार्ड जारी करने का कार्य सर्वोच्च प्राथमिकता से पूरा किया जाए।  कलेक्टर डॉ जैन ने कहा कि ततसंबंध में पशुपालन विभाग के अपर मुख्य सचिव द्वारा भी पत्राचार कर दिशा निर्देश जारी किए गए है जिसमें रिजर्व बैंक आफ इंडिया द्वारा जारी गाइड लाइन का भी उल्लेख है। कलेक्टर ने कृषकों की तर्ज पर पशुपालकों को भी केसीसी जारी करने के निर्देश भी दिए है।  कलेक्टर डॉ जैन ने कहा कि सांची दुग्ध संघ से संबंद्व पशुपालकों के अलावा अन्य पशुपालकों को भी शत प्रतिशत केसीसी जारी किए जाने है। उन्होंने कॉ-आपरेटिव बैंक के सीईओ श्री विनय प्रकाश सिंह को सर्वोच्च प्राथमिकता से उक्त कार्य को शीघ्रतिशीघ्र पूरा कराने के निर्देश दिए है। इस दौरान बताया गया कि जिले में केवल सांची दुग्ध संघ के माध्यम से संचालित दुग्ध समितियों के सदस्यों, पशुपालकों की 3304 समिति सदस्यों के आवेदन प्रपत्र भरे गए है इनमें से 2658 आवेदन पत्रों का सत्यापन कार्य कर 1885 आवेदनों को विभिन्न बैंको को प्रेषित किए गए है और अब तक 158 केसीसी कार्ड की ऋण सीमा में वृद्वि की गई है।  कलेक्टर डॉ जैन ने पशुपालन गतिविधियों के केसीसी कार्ड जारी कार्य को टीएल बैठक में सम्मिलित करने के निर्देश दिए है साथ ही उक्त कार्य की हर रोज मॉनिटरिंग करने हेतु डॉ पीके मिश्रा को अधिकृत किया गया है। कलेक्टर ने जिले के सभी ऐसे पशुपालक जिन्हें अब तक केसीसी जारी नही हुए है उन सबसे एक सप्ताह की अवधि में आवेदन फार्म प्राप्त कर बैकों में जमा कराकर केसीसी जारी करने की प्रक्रिया क्रियान्वित की जाए। 

बिना प्रोटोकॉल के मरीज रैफर ना करें-कलेक्टर 

कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने आज टीएल बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए है कि जिले में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओ का क्रियान्वयन किया जाए।  जिले से मरीजो को रैफर करने से पहले प्रोटोकाल का पालन कराया जाना सुनिश्चित करें।  कलेक्टर डॉ जैन ने निर्देश दिए है कि भोपाल की जिस भी चिकित्सालय को मरीज जिले से रैफर किए जाने है। रैफर से पहले संबंधित चिकित्सालय से सम्पर्क कर मरीज भेजने की जानकारी से अवगत कराएं ताकि मरीज के पहुंचते ही उस चिकित्सालय में तमाम व्यवस्थाएं प्राप्त हो सकें। उन्होंने कहा कि अनेक बार संज्ञान में लाया गया कि रैफर किए गए मरीज को एक सवा घंटा बाहर प्रतीक्षा करनी पड़ी है। अतः अब से पहले सम्पर्क करें सहमति प्राप्ति के उपरांत ही संबंधित चिकित्सालय को मरीज रैफर करने की कार्यवाही की जाए। उक्त प्रक्रिया पूरे जिले में क्रियान्वित हो। 

नियमित समीक्षा करें

कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने आज मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए है कि खण्ड स्तरीय चिकित्सकों के कार्यो की सतत मानिटरिंग के लिए नियमित समीक्षा अनिवार्य करें। अतः दिवस निर्धारित कर उनके कार्यो की समीक्षा करें।  कलेक्टर डॉ जैन ने खासकर कोरोना वायरस कोविड 19 के संक्रमण को रोकने के लिए विकासखण्ड स्तरों पर किए गए प्रबंधो और उनका क्रियान्वयन धरातल पर जारी गाइड लाइन अनुसार हो रहा है कि नहीं का आंकलन कर वस्तुस्थिति से अवगत कराएं। पॉजिटिव चिन्हित मरीज की कांटेक्ट ट्रेसिंग तथा कंटेनमेंट जोन में सम्पादित किए जाने वाले कार्य स्वास्थ्य अमले तथा एमएमयू के द्वारा सम्पादित किए जा रहे है कि नहीं की समीक्षा कर उनके कार्यो में होने वाली त्रुटियों में सुधार लाने के निर्देश दिए है।

कोविड केयर सेन्टरों में भर्ती मरीजों के लिए फल जूस की सतत उपलब्धता

कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने आज जिला मुख्यालय के साथ-साथ खण्ड मुख्यालयों पर संचालित हो रहे कोविड केयर सेन्टरों की व्यवस्थाओं की समीक्षा कलेक्ट्रेट के बेतवा सभागार कक्ष में की। कलेक्टर ने स्पष्ट निर्देश दिए है कि कोविड केयर सेन्टरों में भर्ती मरीजो को हर रोज तीन सौ रूपए की डाइट देनी है। इसके लिए शासन स्तर पर गाइड लाइन जारी की जा चुकी है।  कलेक्टर डॉ जैन ने कहा कि भर्ती मरीजो के सुबह चाय, नाश्ता, दोपहर और रात्रि का भोजन पौष्टिक हो। भोजन में तेलीय पदार्थो की मात्रा कम हो। कलेक्टर ने प्रत्येक कोविड केयर सेन्टर में फल जूस तथा भुने हुए चने व नमकीन की मात्रा सतत वार्डो में सतत उपलब्ध रहें को सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए है। उन्होंने कहा कि भर्ती मरीज जब चाहें जितनी बार फल, जूस का सेवन करने के लिए फ्री रहें। इसके अलावा खेल के दौरान नमकीन बिस्किट खाने की इच्छा हो तो भी मरीज वार्ड के अन्दर नियत स्थल से स्वंय उठाकर उनका सेवन कर सकें। इसी प्रकार की व्यवस्था फल और जूस के संबंध में भी क्रियान्वित की जाए। उन्होंने कहा कि दानदाताओं के द्वारा जो फल मरीजो के लिए दिए जा रहे है वे खराब ना हो का विशेष ध्यान दिया जाए।  

कलेक्टर द्वारा व्हीसी के माध्यम से समीक्षा

vidisha news
कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने आज वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से अनुविभाग स्तर पर सम्पादित होने वाले कार्यो की समीक्षा की। एनआईसी के व्हीसी रूम कक्ष में पुलिस अधीक्षक श्री विनायक वर्मा, जिला पंचायत सीईओ श्री मयंक अग्रवाल, अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह सहित विभिन्न विभागो के अधिकारी मौजूद थे। कलेक्टर डॉ जैन ने सर्वप्रथम समस्त एसडीएम, एसडीओपी तथा बीएमओ को आरआरटी और एमएमयू टीम के कार्यो पर विस्तारपूर्वक प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि आरआरटी का कार्य राजस्व अधिकारियों के द्वारा जबकि एमएमयू टीम के कार्य चिकित्सा अमले द्वारा किया जाना है। उन्होंने कंटेनमेंट जोन में किसी भी प्रकार की अव्यवस्थाएं निर्मित ना हो पर विशेष ध्यान देने के निर्देश देते हुए कहा कि कोरोना पॉजिटिव मरीज के प्रथम कंटेक्ट सूची में शामिल व्यक्तियों को कोरोन्टाइन करने  के उपरांत पांच से दस दिन के बीच में सेम्पल लिए जाएं।  जिन भी व्यक्तियों का सेम्पल लिया जा रहा है वे कोरोन्टाइन अनिवार्यतः किए जाए। कलेक्टर डॉ जैन ने कोविड केयर सेन्टर के संचालन हेतु जारी गाइड लाइन पर भी गहन प्रकाश डालते हुए कहा कि भर्ती मरीजो को मनोरंजन के संसाधनो के साथ-साथ खाद्य पदार्थो की सतत आपूर्ति की जाए।  कलेक्टर डॉ जैन ने समस्त एसडीएमों को निर्देश दिए है कि कोरोना वायरस कोविड 19 के संक्रमण को रोकने के लिए स्थानीय स्तर पर जो भी निर्णय लिए जाने है के लिए स्वतंत्र है। सभी निर्णय जनहितैषी हो और लिए गए निर्णयों का क्रियान्वयन कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि फीवर क्लीनिक में आने वाले सभी सर्दी, जुकाम मरीजो का सेम्पल लिया जाए। इसके अलावा यदि कोई व्यक्ति स्वयमेव सेम्पल देना चाहता है तो उसे हताश ना करें बल्कि सेम्पल लेने की प्रक्रिया सम्पादित करें।  पुलिस अधीक्षक श्री वर्मा ने कहा कि कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए जो-जो दायित्व पुलिस को सौंपे गए है कि सतत मॉनिटरिंग करने के निर्देश एसडीपीओ को उन्होंने दिए है। कंटेनमेंट जोन में किसी भी प्रकार की अव्यवस्थाएं निर्मित ना हो पर विशेष ध्यान देकर समय सीमा में कार्यवाही निचले स्तर पर हो। उन्होंने जारी नवीन एसओपी के संबंध में मार्गदर्शन देते हुए कहा कि राजस्व और पुलिस अधिकारी आपसी समन्वय स्थापित कर स्थानीय समस्याओं का निदान करें।  पुलिस अधीक्षक श्री वर्मा ने रोको टोको अभियान पर बल देते हुए कहा कि इसे शहरी क्षेत्र ही नही बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी क्रियान्वित किया जाए। उन्होंने मास्क की अनिवार्यतः और सोशल डिस्टेन्सिग का पालन सुनिश्चित कराने हेतु स्थानीय स्तर पर किए जाने वाले प्रबंधो को सदोउदाहरण बताया। 

जिले में 76 कंटेनमेंट जोन एक्टिव

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ केएस अहिरवार ने बताया कि जिले में अब तक 112 कंटेनमेंट जोन बनाए गए है जिसमें 36 कंटेनमेंट जोन से विमुक्त हुए है शेष 76 कंटेनमेंट जोन वर्तमान में प्रभावशील है जिसमें सर्वाधिक विदिशा विकासखण्ड में 37 इसके पश्चात् सिरोंज में 15, बासौदा में सात, कुरवाई में छह, ग्यारसपुर एवं नटेरन में क्रमशः पांच-पांच तथा लटेरी विकासखण्ड में एक कंटेनमेंट जोन प्रभावशील है।

कोरोना वायरस प्रभावित 267 मरीज पूर्ण स्वस्थ हुए

कोरोना वायरस कोविड 19 वायरस से संक्रमित 356 व्यक्ति चिन्हित हुए है जिसमें से अब तक 267 व्यक्ति पूर्ण स्वस्थ होकर कोविड केयर सेन्टर से डिस्चार्ज हुए है जबकि वर्तमान में 87 व्यक्तियों का इलाज जारी है।  मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ केएस अहिरवार ने बताया कि पूर्ण स्वस्थ हुए 267 व्यक्तियों में से सर्वाधिक सिरोंज विकासखण्ड के 102, विदिशा के 89, बासौदा के 31, नटेरन के 21, कुरवाई के 11, ग्यारसपुर के नौ तथा लटेरी के चार शामिल है। 

पांच तहसीलो में वर्षा दर्ज

मंगलवार चार अगस्त को विदिशा जिले की पांच तहसीलो में वर्षा दर्ज की गई है। अब तक जिले में 492.2 मिमी वर्षा दर्ज हुई है। जबकि गतवर्ष उक्त अवधि में 430.3 मिमी वर्षा हुई थी।  अधीक्षक भू-अभिलेख कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगलवार की प्रातः आठ बजे जिन तहसीलो में वर्षा दर्ज की गई है उनमें लटेरी में नौ मिमी, कुरवाई में छह मिमी तथा बासौदा, ग्यारसपुर तथा नटेरन में क्रमशः दो-दो मिमी वर्षा दर्ज हुई है जबकि शेष अन्य तहसीलो में वर्षा नगण्य रही।

राजस्व अभिलेखों की नकले ऑनलाइन प्राप्त करें

जिले के समस्त राजस्व प्रकरणों में पारित आदेशों को स्कैन कार्य भू-अभिलेख के माध्यम से पूरा किया गया है। अभिलेख, पंचशाला, खसरा ओर नामांतरण पंजी की प्रमाणित प्रतिलिपियां अभिलेखागार, नकल शाखा में ना आकर सीधे लोक सेवा केन्द्र, एमपी ऑनलाइन, आईटी सेन्टर से एक अगस्त से प्राप्त की जा रही है। इसके लिए दर निर्धारित की गई है। तदानुसार अभिलेखो के प्रथम पृष्ठ तीस रूपए तत्पश्चात् प्रत्येक अतिरिक्त पृष्ठ के लिए 15 रूपए देय होंगे।  नागरिक नए एवं पुराने अभिलेखों की डिजीटल हस्ताक्षरित प्रतिलिपि बेवसाइट https://mpbhulekh.gov.in में ऑन लाइन कर प्राप्त कर सकते है। वही लोक सेवा केन्द्र एमपी ऑन लाइन के कियोस्क के माध्यम से भी प्राप्त की जा सकती है। इसके अलावा तहसील कार्यालय स्थित आईटी सेन्टर के माध्यम से तथा डिजीटल हस्ताक्षरित भू-अभिलेख प्रतिलिपि प्राप्त कर सकते है। अब अभिलेखागार नकल शाखा में जाने की आवश्यकता नहीं है।  भू-अभिलेख प्रतिलिपि हेतु लागू दरें के संबंध में बताया गया कि प्रथम पृष्ठ तीस रूपए में जिन अभिलेखों का प्रदाय किया जाएगा उनमें खसरा एक साल, पांच साल, खाता जमाबंदी (खतौनी), अधिकार अभिलेख, खेवट, वाजिब-उल-अर्ज, निस्तारपत्रक, ए-4 साइज में नक्शे की प्रति, नामांतरण पंजी की प्रति, किसी राजस्व प्रकरण में आदेश की प्रति, पत्रिका की प्रति, राजस्व प्रकरण, राजस्व प्रकरण पंजी की प्रति (ए-4 साइज में) इसके अलावा हस्तलिखित खसरा पंचसाला एवं राजस्व प्रकरण  (स्कैन की गई प्रति ए-4 आकार में) प्रत्येक के प्रथम पृष्ठ क्रमशः तीस-तीस रूपए में जबकि पूर्व उल्लेखितों के प्रत्येक अतिरिक्त पृष्ठ क्रमशः 15-15 रूपए में प्रदाय की जाएगी।

नीति आयोग द्वारा आकांक्षी जिलो की ग्रेडिंग जारी देश में विदिशा ओवर ऑल रैकिंग में प्रथम 

भारत सरकार के नीति आयोग द्वारा देश के 112 जिलो को आकांक्षी जिलो की श्रेणी में शामिल किया गया है जिसमें मध्यप्रदेश के विदिशा सहित आठ जिले भी शामिल है।  जिला पंचायत सीईओ श्री मयंक अग्रवाल ने बताया कि नीति आयोग द्वारा जारी ओवर ऑल रेकिंग में विदिशा जिला प्रथम स्थान पर है। जिले ने 64.9 प्रतिशत कम्पोजिट स्कोर जून 2020 की जारी प्रोगेसिव सूचकांक सूची में हासिल किए है। शिक्षा के क्षेत्र में वर्ष 2018 से अब तक क्रियान्वित कार्यो तथा गुणात्मक सुधार के मामले में विदिशा जिला देश में आठवें स्थान पर है।

कोई टिप्पणी नहीं: