विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 31 अगस्त - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 31 अगस्त 2020

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 31 अगस्त

मुख्यमंत्री के नाम विधायक भार्गव ने किसानों को एवं बाढ पीडितों को तत्काल राहत राशि हेतु ज्ञापन सौंपा

vidisha news
विदिशाः- विधायक शशांक भार्गव, कांग्रेस जिला अध्यक्ष कमलसिलाकारी जी वरिष्ठ कांग्रेस नेता राकेश कटारे जी एवं विधायक प्रतिनिधी मनोज कपूर सहित सैकडों कांग्रेस कार्यकर्ता एवं किसानों ने मुख्यमंत्री म.प्र.शासन को 4 सूत्रीय ज्ञापन कलेक्टर विदिशा को सौंपा जिसमें पीला मोजेक बीमारी, अफलन अतिवर्षा से विदिशा जिले में सोयाबीन, उडद, व धान की फसल में अतिवर्षा से हुई क्षति के साथ ही खरीफ की अन्य फसलों को शत प्रतिशत क्षति हुई है व बाढ से आमनागरिकों के घरों व घरेलू सामान को भी काफी अधिक नुकसान हुआ है, जिसके संबंध में तत्काल मुआबजा राशि हेतु विधायक शशांक भार्गव ने मुख्यमंत्री से तत्काल 4 सूत्रीय ज्ञापन अनुसार मांगों का तत्ताकल कार्यवाही किये जाने का अनुरोध किया। 

मुख्यमंत्री जी द्वारा व्हीसी के माध्यम से समीक्षा आज

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के द्वारा वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से समीक्षा बैठक एक सितम्बर की सांय छह बजे से आयोजित की गई है। वीडियो कांफ्रसिंग में जिन बिन्दुओं पर समीक्षा की जाएगी उनमें बाढ एवं आपदा राहत, समर्थन मूल्य पर धान खरीदी, कानून व्यवस्था एवं कालाबाजारी तथा मिलावट के विरूद्व अभियान, ट्रांसफार्मर एवं बिजली संबंधी शिकायतों का निपटारा, नवीन पात्रता पर्चीधारी हितग्राहियों को खाद्यान्न वितरण, पथ विक्रेता उत्थान योजना (शहरी एवं ग्रामीण), वनाधिकार पट्टो के संबंध में, बिजली बिलो में राहत तथा विद्युत संबंधी शिकायतो का निराकरण, किसान, दुग्ध उत्पादकों एवं मछली पालको को क्रेडिट कार्ड एवं ऋण उपलब्धता, स्व-सहायता समूहों का सशक्तिकरण, अविवादित नामांतरण एवं बंटवारा तथा जेईई/नीट परीक्षार्थियों की परिवहन व्यवस्था इत्यादि वीडियो कांफ्रेसिंग की एजेण्डा में शामिल है।



बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा सजग, सतर्क रहने की अपील 

vidisha news
कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने सोमवार को विदिशा नगरीय क्षेत्र खासकर बेतवा एवं बेस नदी के वेकवाटर से जलभराव से उत्पन्न बाढ जैसी स्थिति का भ्रमण कर जायजा लिया है। कलेक्टर डॉ जैन भ्रमण के दौरान आमजनों से चर्चा करते हुए जिले के सभी नागरिकों से आग्रह किया है कि जिले में हुई वर्षा एवं अन्य जिलो का वर्षा जल बेतवा एवं अन्य सहायक नदियों के जल में शामिल होने से बेतवा नदी खतरे का निशान 1373 फीट से करीबन छह फीट ऊपर बह रही है। कलेक्टर डॉ जैन ने जिले में बारिश के कारण नदी नालों में उफान आने के कारण सजग, सतर्क रहने की अपील आमजनों से उनके द्वारा की गई है। कलेक्टर डॉ जैन ने नागरिकों से आव्हान किया है कि जलभराव क्षेत्र जैसे पुल, पुलिया, तालाब, नदियों के पास ना पहुंचे। कई बार सेल्फी लेने के चक्कर में दुर्घटनाओं के शिकार हो जाते है। अतः ऐसे स्थलों पर ना जाएं जहां दुर्घटना होने की संभावना अधिक हो। स्वंय सहयोग करेंं व अपने आस-पास पडौसी दोस्तों को भी इस तरह की सलाह दें। 

बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों पर सतत नजर रखने हेतु अधिकारियों को दायित्व सौपे गए

कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने सोमवार को अपने चेम्बर में बैठक आहूत कर जिले में बाढ प्रभावित क्षेत्रों में किए गए प्रबंधो की समीक्षा की। कलेक्टर डॉ जैन ने गूगल मेप के माध्यम से बाढ प्रभावित क्षेत्रों के पहुंच मार्गो पर निगरानी रखने के निर्देश दिए है। कलेक्टर डॉ जैन ने जल संसाधन, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को पृथक-पृथक विभिन्न क्षेत्रों की जबावदेंही सौंपी है। कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने पूर्व में सम्पन्न हुई आपदा प्रबंधन की बैठक में लिए गए निर्णयोंं का जिक्र करते हुए संबंधित विभागो को पूर्ण सजग एवं सतर्कता के साथ आपदा प्रबंधन के संबंध में जारी चेकलिस्ट के अनुसार कार्यो को मूर्तरूप देने के निर्देश दिए है। कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने ऐसे पुल पुलियां जिनके उपर जल का बहाव हो रहा है उस पर किसी भी प्रकार से आवागमन ना हो के पुख्ता प्रबंध सुनिश्चित करने के निर्देश संबंधित निर्माण विभागो के अधिकारियों को दिए है। कलेक्टर डॉ जैन ने ऐसे पुल पुलियों पर बेरिकेटस अनिवार्यत बनाकर पुल पुलियों के दोनो तरफ स्थापित किए जाएं और चौकीदारो को दायित्व सौंपे जाए ताकि किसी भी प्रकार की मानव जनहानि को रोकते हुए अन्य क्षति ना हो पर विशेष बल दिया है। कलेक्टर डॉ जैन ने इसी प्रकार के निर्देश जल संसाधन विभागों के अधिकारियों को दिए है। उन्होंने संबंधित को निर्देशित करते हुए कहा कि कार्य क्षेत्रों के सभी बडे़, मध्यम, लघु डेम परियोजना क्षेत्र में तथा बडे़ तालाबो में जल भराव के उपरांत वेस्ट वेयर अथवा गेट खोलने के पूर्व पानी के बहाव क्षेत्र में आने वाले ग्रामों में पूर्व में ही मुनादी कराई जाए ताकि जलभराव की परिस्थतियों में ग्राम प्रभावित ना हो।  कलेक्टर डॉ जैन ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री को भी निर्देश दिए है कि ग्रामीण क्षेत्रों में वर्षाकाल के दौरान पेयजल के स्त्रोत अशुद्व ना हो का ध्यान रखा जाए। उन्होंने हेण्डपंपो, कुओं में जल शुद्वि हेतु बिलिचिंग पाउडर तथा क्लोरिन टेबलेट डालने के निर्देश दिए है। इसी प्रकार की कार्यवाही प्रत्येक अनुविभाग स्तर पर क्रियान्वित करने तथा ग्रामीणजनों की प्राप्त होने वाली पेयजल संबंधी शिकायतों को सर्वोच्च प्राथमिकता से पूरा कराएं। कलेक्टर डॉ जैन ने बाढ़ से प्रभावितों के लिए सुरक्षित स्थलों पर पहुंचाने एवं राहत शिविरों में रहने वालों के लिए तमाम बुनियादी आवश्यकताओं की पूर्ति सुनिश्चित कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए है। पुलिस अधीक्षक श्री विनायक वर्मा ने सुरक्षा हेतु पुल पुलियों पर बेरिकेट्स की अनिवार्यतः पर बल देते हुए कहा कि यदि कोई चौकीदार का कहना नही मानता है तो अविलम्ब पुलिस की जानकारी में लाएं ताकि जल बहाव वाले पुल पुलियोंं पर यातायात पर पूर्णतः विराम लग सकें। उन्होंनें बताया कि प्रत्येक थाना स्तर पर गोताखोरो की सूची संधारित की गई है अतः आवश्यकता पड़ने पर नजदीक के थाना प्रभारी से सम्पर्क कर सकते है। उन्होंने बताया कि आपदा प्रबंधन के तहत प्रत्येक थाना स्तर पर आवश्यक प्रबंध भी सुनिश्चित किए गए है जिसमें सर्चलाइट, रस्सा इत्यादि शामिल है। जिला पंचायत सीईओ श्री मयंक अग्रवाल ने बताया कि आवश्यक पड़ने पर पंचायत भवनों के साथ-साथ स्कूलों में बाढ़ पीडितों को सुरक्षित रूप से ठहराने के प्रबंध सुनिश्चित किए गए है ततसंबंध में सभी पंचायतों के सचिवों एवं अन्य ग्राम स्तरीय अमले को उपरोक्त कार्यो हेतु पूर्व में ही तैनाती से अवगत कराया गया है। उक्त बैठक में अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह, विदिशा एसडीएम श्री गोपाल सिंह वर्मा, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री एसके जैन, लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री योगेन्द्र सिंह, मुख्य नगरपालिका अधिकारी श्री सुधीर सिंह, जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री राजेन्द्र शर्मा जिला खनिज अधिकारी श्री मेहताब सिंह रावत, जिला परिवहन अधिकारी श्री गिरजेश वर्मा मौजूद थे। 

पेयजल समस्या निदान हेतु कंट्रोल रूम गठित

vidisha news
कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वारा अतिवृष्टि व बाढ के कारण प्रभावित पेयजल स्त्रोतो की जानकारियां त्वरित प्राप्त कर हल कराने के निर्देश लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री को दिए है। कलेक्टर के निर्देशो के अनुपालन में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के द्वारा क्रियान्वित व्यवस्थाओं की जानकारी देते हुए विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री एसके जैन ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में अतिवृष्टि के कारण यदि कोई पेयजल स्त्रोत दूषित अथवा प्रभावित होता है तो संबंधित क्षेत्र के रहवासी अविलम्ब जिला मुख्यायल पर संचालित कंट्रोल रूप पर सम्पर्क कर जानकारी दे सकते है ताकि सुधार संबंधी कार्य शीघ्र सम्पादित हो सकें। एचई के कार्यपालन यंत्री श्री जैन ने बताया कि कंट्रोल रूम प्रातः आठ बजे से रात्रि आठ बजे तक क्रियाशील रहेगा। कंट्रोल रूम का प्रभारी श्री रविन्द्र चक्रवर्ती मोबाइल नम्बर 9111525311 तथा कंट्रोल रूम में अलग-अलग पाली हेतु नियुक्त शासकीय कर्मचारियों में से श्री महेन्द्र कुमार विश्वकर्मा मोबाइल नम्बर 9981026161 और श्री राजेन्द्र कुशवाह का मोबाइल नम्बर 9131206827 पर आमजन प्रभावित पेयजल स्त्रोंतो की जानकारी से अवगत करा सकते है ताकि सुधार कार्य शीघ्र सम्पादित हो सकें। 



अमेरिकन इंडिया फाउंडेशन के द्वारा विदिशा व भोपाल में पीपीई किट प्रदाय की

vidisha news
कोरोना वायरस कोविड 19 के संक्रमण से बचाव हेतु आम जनता को इलाज उपलब्ध कराने और डाक्टरों के साथ स्वास्थ्य विभाग के दल को सुरक्षित करने के लिए पीपीई किट महत्वपूर्ण और जरूरी सामग्री को मध्यप्रदेश में अमेरिकन इंडिया फाउंडेशन की मदद से भोपाल स्वास्थ्य विभाग को चार हजार पीपीई किट उपलब्ध कराई है फाउंडेशन के द्वारा विदिशा जिले में भी तकरीबन 12 लाख रूपए की सामग्री पूर्व में ही उपलब्ध कराई जा चुकी है। जिसमें मास्क, पीपीई किट, पोर्टेबल वेंटिलेटर शामिल है। 

चार स्थलों के राहत शिविरों में साढे आठ सौ को आश्रय

विदिशा जिला मुख्यालय पर बेतवा व बैस नदी में बाढ़ आने से उक्त दोनो नदियों का बेकवाटर विदिशा शहर के खासकर नदी किनारे की बस्तियों में भर जाने के कारण प्रशासन द्वारा उपरोक्त क्षेत्रों के रहवासियों को सुरक्षित स्थलों, राहत शिविरों में ठहराने के प्रबंध सुनिश्चित किए गए है। विदिशा एसडीएम श्री  गोपाल सिंह वर्मा ने बताया कि रंगई क्षेत्र अंतर्गत गणेश मंदिर, काली माई मंदिर, हनुमान मंदिर के समीपवर्ती रहवासियों के अलावा रामजानकी नगर के तीन सौ, जतरापुरा लुंहागीपुरा के दौ सौ प्रभावितों के अलावा, सुनपुरा, बैस क्षेत्र के साढे आठ सौ लोगो को राहत शिविर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने आवास जतरापुरा क्षेत्र में, भगत सिंह कालोनी के स्कूल में, रंगई, कृष्णा गार्डन व निर्माणाधीन मार्ग, जय काम्पलेक्स में राहत शिविर संचालित हो रहे है। शिविरों में रहने वालो के लिए बुनियादी आवश्यकताओं की पूर्ति सुनिश्चित कराई गई है उन्हें स्वच्छ भोजन, पानी के अलावा आवश्यक वस्त्रों जिसमें ओढ़ने बिछाने के तथा चिकित्सकों द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है।

शिविरों का आयोजन

विद्युत बिलो की समस्याओं के निराकरण हेतु वितरण केन्द्रों पर शिविरों का आयोजन किया जा रहा है कि जानकारी देते हुए मध्य प्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी लिमिटेड के उप महाप्रबंधक श्री अवधेश त्रिपाठी ने बताया कि उपभोक्ताओं की विद्युत बिलो संबंधी समस्याओ के निराकरण हेतु जोन स्तर पर एक सितम्बर से 14 सितम्बर तक शिविरों का आयोजन किया जाएगा शिविर नियत तिथि व स्थल पर तय अवधि प्रातः दस बजे से सायं चार बजे तक उपभोक्ता अपने बिलो की समस्याओं का समाधान प्राप्त कर सकेंगे। महाप्रबंधक श्री अवधेश त्रिपाठी ने बताया कि विदिशा शहर जोन वन में एक सितम्बर को, जोन टू में तीन सितम्बर को शिविर आयोजित किए गए है इसी प्रकार विदिशा ग्रामीण क्षेत्रांतर्गत मिर्जापुर में पांच सितम्बर, सात सितम्बर को ग्यारसपुर में, नौ सितम्बर को नटेरन में , 11 एवं 14 सितम्बर को शमशाबाद मेंं आयोजित किया गया है।

जिले में अब तक 908.9 मिमी औसत वर्षा दर्ज

जिले में अब तक 908.9 मिमी औसत वर्षा दर्ज हुई है कि जानकारी देते हुए अधीक्षक भू-अभिलेख ने बताया कि 31 अगस्त को जिले में दो मिमी औसत वर्षा दर्ज हुई है। तहसीलों में स्थापित वर्षामापी यंत्रो पर 31 अगस्त सोमवार को दर्ज वर्षा की जानकारी तदानुसार विदिशा, सिरोंज, गुलाबगंज  सहित प्रत्येक तहसील में क्रमशः दो-दो मिमी, लटेरी में पांच मिमी, ग्यारसपुर में चार मिमी, कुरवाई में एक मिमी वर्षा दर्ज हुई हैं शेष अन्य दो तहसील बासौदा एवं नटेरन मेंं वर्षा नगण्य रही। 

कृषकों से दावा आपत्तियां दस तक आमंत्रित

खरीफ फसल गिरदावरी वर्ष 2020 से संबंधित जानकारी के आधार पर मोबाइल एप के माध्यम से गिरदावरी की जाकर प्रविष्टियां दर्ज की गई है। पटवारियों के द्वारा की गई फसल गिरदावरी में यदि किसी कृषक को दावा अथवा आपत्ति दर्ज करानी है तो वे अपने दावे आपत्तियां संबंधित तहसीलदार को दस सितम्बर तक प्रस्तुत कर सकते है। 

कोई टिप्पणी नहीं: