मुजफ्फरपुर: 16 सितंबर से 29 सितंबर तक विटामिन -ए कार्यक्रम चलाया जाएगा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 28 अगस्त 2020

मुजफ्फरपुर: 16 सितंबर से 29 सितंबर तक विटामिन -ए कार्यक्रम चलाया जाएगा

vitamin-a-progrme-bihar
मुजफ्फरपुर. स्वास्थ्य विभाग मुजफ्फरपुर के द्वारा 16 सितंबर से 29 सितंबर तक विटामिन -ए कार्यक्रम चलाया जाएगा. यह राष्ट्रीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम एवं सघन दस्त नियंत्रण पखवाड़ा एक अभियान के रूप में चलाया जाएगा.इस संबंध में जिलाधिकारी डॉ.चंद्रशेखर सिंह  की अध्यक्षता में समाहरणालय स्थित सभाकक्ष में बैठक आहूत की गई. जिसमें जिलाधिकारी द्वारा उक्त तीनों कार्यक्रमों के सफलतापूर्वक क्रियान्वयन करने के मद्देनजर महत्वपूर्ण निर्देश दिए गए.            


विटामिन-ए कार्यक्रम
कोविड-19 महामारी को देखते हुए राज्य सरकार के निर्देश के आलोक में 9 माह से 5 वर्ष तक के बच्चों के स्वास्थ्य एवं पोषण स्तर में सुधार लाने के लिए तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने के लिए 16 सितंबर 2020 से 29 सितंबर 2020 तक विटामिन- ए की खुराक पिलाई जाएगी। इस लिए जिला प्रखंड एवं ग्रामीण स्तर पर विभिन्न प्रकार की गतिविधियों का क्रियान्वयन किया जाएगा ताकि कार्यक्रम की सफलता को शत-प्रतिशत सुनिश्चित किया जा सके। इसके तहत 9 माह से 5 वर्ष तक के बच्चों को विटामिन- ए सिरफ पिलाने लिए आशा कार्यकर्ता द्वारा प्रतिदिन गृह भ्रमण का कार्यक्रम किया जाएगा। इसके पूर्व अभियान के सात दिन पहले आशा द्वारा  तिथि वार  अपना माइक्रो प्लान बनाकर संबंधित एएनएम को दिया जाएगा ताकि इसका संधारण प्रखंड स्तर पर हो सके। प्रत्येक आशा कार्यकर्ता अपने कार्य क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले 9 माह से 5 वर्ष तक के उम्र के बच्चों को विटामिन- ए सिरफ की खुराक गृह भ्रमण कर पिलाना सुनिश्चित करेंगी परंतु यह ध्यान रखा जाएगा कि यदि बच्चे को पिछले 4 माह में विटामिन- ए की खुराक पिलाई गई है तो उस बच्चे को विटामिन ए की खुराक ना दी जाए। गृह भ्रमण के दौरान आशा कार्यकर्ता द्वारा मास्क/ग्लब्स  का उपयोग किया जाएगा। बच्चों को दवा पिलाने से पहले आशा द्वारा  साबुन से अपने  हाथों को धोया जाएगा और कोविड-19 के तहत बनाए गए प्रोटोकाल का पालन अनिवार्य रूप से किया जाएगा। साथ ही आशा को यह भी सुनिश्चित करना होगा कि यदि बच्चे को सर्दी, खांसी बुखार का कोई लक्षण है तो उसे स्वास्थ्य जांच हेतु नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र भेजे।  कोविड-19 कंटेनमेंट जोन में उक्त गतिविधि का आयोजन नहीं किया जाएगा।स्थिति सामान्य होने के बाद ही उन क्षेत्रों में यह अभियान चलाया जाएगा ।।                      

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम                       
उक्त कार्यक्रम का आयोजन भी 16 से 29 सितंबर 2020 तक किया जाएगा जिसमें जिले के सभी लक्षित बच्चे जिनका उम्र 1 से 19 वर्ष तक का हो ,तो आशा कार्यकर्ता द्वारा गृह भ्रमण कर कृमि नाशक एल्बेंडाजोल की दवा अपने समक्ष खिलवाना सुनिश्चित करेंगी। इस अभियान के आयोजन के क्रम में आईसीडीएस,शिक्षा विभाग पंचायती राज एवं जीविका के साथ समन्वय स्थापित किया जाएगा।उक्त गतिविधि के दौरान कोविड-19 लिए जारी किए गए प्रोटोकॉल या दिशानिर्देश जैसे सामाजिक दूरी, मास्क,ग्लब्स इत्यादि से संबंधित दिशा निर्देशों का पालन करना अनिवार्य होगा। 


सघन दस्त नियंत्रण पखवाड़ा                    
 उक्त पखवाड़े का आयोजन भी 16 सितंबर से 29 सितंबर 2020 तक किया जाएगा। दस्त से होने वाले शिशु मृत्यु को शून्य स्तर तक लाने के उद्देश्य से जिला में सघन दस्त नियंत्रण पखवाड़ा आयोजित किया जा रहा है। सघन दस्त नियंत्रण पखवाड़ा के दौरान अंतर अंतर्विभागीय समन्वय द्वारा डायरिया की रोकथाम के उपायो, डायरिया होने पर ओआरएस,जिंक के प्रयोग उचित पोषण तथा समुचित इलाज के पहलुओ पर क्रियान्वयन किया जाना है। इसमें समस्त 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चे शामिल होंगे या 5 वर्ष की उम्र तक के समस्त बच्चे जो पखवाड़े के दौरान दस्त रोग से ग्रसित हो ।वैसे उप केंद्र जहां एएनएम ना हो, सफाई की कमी वाले स्थानों पर निवास करने वाली जनसंख्या /क्षेत्र, शहरी झुग्गी -झोपड़ी, कठिन पहुंच वाले क्षेत्र ,बाढ़ प्रभावित क्षेत्र, ईट- भट्ठा वाले क्षेत्र, अनाथालय तथा ऐसा चिन्हित जहां दो तीन वर्ष पूर्व दस्त के मामले अधिक संख्या में पाए गए हो, इस अभियान का प्राथमिकता वाला क्षेत्र होगा। पखवाड़े में 5 वर्ष तक के  रोगग्रस्त बच्चों को ओआरएस घोल और जिंक की दवाई के प्रति लोगों को जागरूक करने के साथ उपचार भी किया जाएगा ।इसके लिए हर स्तर पर सघन जागरूकता विभिन्न गतिविधियों के द्वारा की जाएगी। उक्त रोग के फैलने का प्रमुख वजह दूषित पेयजल,  शौचालय का अभाव तथा कुपोषण भी है। उक्त पखवाड़े के तहत आशा अपने क्षेत्र के 5 वर्ष तक के उम्र के बच्चों की  लाइन लिस्ट तैयार करते हुए सभी घरों में ओआरएस वितरण करेंगी। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि सभी गतिविधियां 16 सितंबर से 29 सितंबर तक आयोजित की जाएंगी, उन गतिविधियों के दौरान कोविड-19 से सम्बंधित जारी प्रोटोकॉल या दिशा-निर्देश जैसे सामाजिक दूरी, मास्क /ग्लब्स का उपयोग  संबंधित दिशानिर्देशों का पालन अनिवार्य रूप से करना सुनिश्चित किया जाएगा।जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि कार्यक्रम के क्रियान्वयन की प्रभावी रणनीति बनावे एवं शीघ्र ही माइक्रो प्लान बनाकर प्रस्तुत किया जाए। इसके सफल क्रियान्वयन हेतु उन्मुखीकरण ,प्रशिक्षण, प्रचार -प्रसार एवं सघन  सामाजिक जागरूकता गतिविधियां कराई जाए तथा जिला स्तर पर उन गतिविधियों का सतत अनुश्रवण किया जाए। बैठक में सिविल सर्जन मुजफ्फरपुर, डीपीएम ,आईसीडीएस डीपीओ ,डीपीआरओ कमल सिंह, एसीएमओ, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी, केयर और डब्ल्यूएचओ के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: