बेतिया : मेरी आडलीन को अंतर्राष्ट्रीय मदर टेरेसा अवार्ड - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 28 अगस्त 2020

बेतिया : मेरी आडलीन को अंतर्राष्ट्रीय मदर टेरेसा अवार्ड

merry-idelin-mother-terresaa-award
बेतिया. कोलकाता की मां टेरेसा अब संत हैं. उन्हीं के नाम पर अवार्ड रखा गया है.पश्चिमी चम्पारण की चुहड़ी पल्ली में रहने वाली विख्यात सामाजिक कार्यकत्री सुश्री मेरी आडलीन को अंतर्राष्ट्रीय मदर टेरेसा अवार्ड 2020 से सम्मान से सम्मानित की गयी हैं. मदर टेरेसा के जयंती दिवस और अंतर्राष्ट्रीय महिला समानता दिवस के अवसर पर स्वर्ण भारत परिवार, दिल्ली के द्वारा राजकीय +2 उच्च विद्यालय, कुमारबाग की शिक्षका सुश्री मेरी आडलीन को अंतर्राष्ट्रीय मदर तरेसा अवार्ड 2020 प्रदान किया गया. सुश्री आडलीन ने कहा कि देश के बाईस महिलाओं  को यह अवार्ड दिया गया है, जिनमें उनका भी नाम शामिल है. यह अवार्ड पाकर काफी प्रसन्नता हो रही है. मदर टेरेसा और अपनी माँ को आदर्श, प्रेरणास्रोत मानने वाली आडलीन ने कहा कि मेरा प्रयास रहेगा कि मदर टेरेसा की जीवन के सेवाभाव, त्याग-तपस्या और भलाई के गुण को खुद में सम्माहित कर गरीब, वृद्धा, अनाथ और जरूरतमंदों की सदा सेवा करती रहूं.पूर्व से ही समाज सेवा करती रही हूं, आगे भी इसे करती रहूंगी.


 वही स्वर्ण भारत परिवार के फाउंडर - सह - अध्यक्ष श्री पीयूष पंडित ने कहा कि देश के 22 महिलाओं को यह अवार्ड प्रदान किया गया है. मेरी आडलीन को समाज सेवा के लिए यह अवार्ड दिया गया है. इनका कार्य , सोच, विचार, कर्मठता में मदर टेरेसा की छवि पूरे राष्ट्र को दिखती है. साथ ही सामाजिक सेवा के माध्यम से राष्ट्र निमार्ण के हित में इन सभी महिलाओं का अद्वितीय योगदान है. वही नेक्स्ट जेन की सीईओ अजिता सिंह ने कहा कि स्वर्ण भारत परिवार और नेक्स्ट जेन अवार्ड  मदर टेरेसा के जयंती पर इन कर्मठ महिलाओं को सम्मानित कर खुद गौरवान्वित है. सुश्री मेरी आडलीन के पिताजी श्री डेनिस लौरेंस पीटर ने कहा कि हम सभी को अपनी बेटी के उपलब्धियों पर गर्व होता है, लेकिन इससे ज्यादा गर्व होता है कि  यह धरातल से जुड़कर लोगों के बीच जाकर कार्य करती है.अभी कोरोना काल में जहाँ हरेक व्यक्ति खुद को सुरक्षित रखने के लिए घर में थे, वही आडलीन कोरोना काल, लॉक डाउन और बाढ़ की त्रासदी में जिले के कई पंचायतों के जरूरतमंदों को भोजन, राशन और आर्थिक रूप सहायता पहुंचाने में लगी रही.

कोई टिप्पणी नहीं: