बिहार : ब्रहमेश्वर मुखिया हत्याकांड में आईपीएस अधिकारी से होगी पूछताछ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 14 सितंबर 2020

बिहार : ब्रहमेश्वर मुखिया हत्याकांड में आईपीएस अधिकारी से होगी पूछताछ

cbi-investigation-on-brahmeshawar-mukhiya-murder
पटना : राज्य के चर्चित ब्रहमेश्वर मुखिया हत्याकांड का अनुसंधान एक नाटकीय मोड़ पर पहुंच गया है। जल्द ही सीबीआई बिहार कैडर के एक आईपीएस अधिकारी से पूछताछ करने वाली है। 1994 बैच के चर्चित आईपीएस ऑफिसर अमिताभ कुमार दास को फोन कर इस आशय की जानकारी दी गई है। जल्द ही केंद्रीय जांच एजेंसी की टीम उनसे मुलाकात कर ब्रह्मेश्वर मुखिया हत्याकांड से संबंधित साक्ष्य की जानकारी हासिल करने वाली है। खबर की पुष्टि करते हुए अमिताभ दास ने कहा कि उन्हें दो दिन पूर्व सीआईबी ऑफिस से फोन कर ब्रह्मेश्वर मुखिया हत्याकांड से संबंधित जानकारी साझा करने का आग्रह किया गया। दास ने कहा कि वे अपना बयान दर्ज करवाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।



केंद्रीय जांच एजेंसी तब हरकत में आ गई जब इस पुलिस पदाधिकारी ने अपने लेटर हेड पर उक्त हत्याकांड के साजिशकर्ता के नाम का खुलासा करने का दावा किया। साथ ही जांच एजेंसी द्वारा 10 लाख रुपए इनाम की राशि उन्हें दिए जाने की पेशकश की। ज्ञात हो कि सीबीआई ने उक्त कांड से संबंधित जानकारी देने वालों को 10 लाख का इनाम देने की घोषणा की थी। जांच एजेंसी को इस चर्चित हत्याकांड में अभी तक कोई भी महत्वपूर्ण सुराक हाथ नहीं लगे हैं। रणवीर सेना के तथाकथित संस्थापक कहे जाने वाले ब्रह्मेश्वर मुखिया की गोली मारकर हत्या तब कर दी गई थी जब वे अपने आरा शहर स्थित कतिरा मुहल्ले वाले घर से सुबह टहलने निकले थे। घटना 1 जून 2012 को घटी थी। आक्रोशित भीड़ ने भोजपुर जिला मुख्यालय में काफी तोड़ फोड़ की थी तथा एक विवादास्पद राजनेता के साथ भी बदसलूकी की थी। प्रदेश के तत्कालीन डीजीपी अभयानंद को स्थिति संभालने के लिए आरा पहुंच कर कैंप करना पड़ा था। इतना हीं नहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी अपना दौरा रद्द करना पड़ा था। हत्याकांड की आंच राजधानी पटना तक भी पहुंची थी। परिवार की मांग पर उक्त हत्याकांड की जांच सीआईबी को दी गई थी। जुलाई 2013 में शुरू जांच का निष्कर्ष अभी तक सिफर ही रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं: