बिहार : दानापुर से निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे बाहुबली रीतलाल यादव - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 14 सितंबर 2020

बिहार : दानापुर से निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे बाहुबली रीतलाल यादव

rit-lal-yadav-will-fight-from-danapur
दानापुर। दानापुर विधानसभा की विधायिका आशा सिन्हा को लगातार तीन बार चुनाव जिताने वाले कार्यकर्ताओं ने ही उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। क्षेत्र में चुनाव प्रचार के दौरान उन्हें विरोध का सामना तो करना पड़ ही रहा था।अब तो कार्यकर्त्ता पार्टी दफ्तर पहुँच कर उम्मीदवार बदलने की मांग को लेकर प्रदर्शन करने लगे हैं।चुनाव प्रचार करने में काफी गर्मजोशी दिखा रही हैं।वहीं राजद परिवार के नज़दीक रहने वाले बाहुबली विधान पार्षद रीतलाल यादव को झटका लगा है।अब बाहुबली ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में अपने क्षेत्र में चुनाव की तैयारी में लग भीड़ गए हैं। दानापुर सीट से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में ताल ठोक रहे है। 

दानापुर से निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे बाहुबली रीतलाल यादव
दानापुर विधानसभा की सीट हाॅट सीट बन गयी है। हाल हीं में आरजेडी में शामिल हुई चंद्रिका राय की भतीजी करिश्मा राय को लेकर चर्चा है कि वो आरजेडी उम्मीदवार के तौर पर यहां से चुनाव लड़ेंगी ऐसे में रीतलाल यादव की दावेदारी कमजोर पड़ती नजर आ रही है। आरजेडी से टिकट मिलने की उम्मीद टूटने पर उन्होंने इस सीट से निर्दलीय हीं चुनावी मैदान में उतरने का एलान कर दिया है। रीतलाल यादव ने कहा कि चुनाव लड़ने की चुनौती मैंने अपनी जनता के लिए स्वीकार की है और विरोधी जिस रूप में मेरे सामने होंगे मैं उनको कड़ी टक्कर दूंगा। चुनाव के लिए मैं हर तरह से तैयार हूं। बिहार में बढ़ते अपराध को लेकर रीतलाल यादव ने कहा कि अपराध का मूल कारण बेरोजगारी है। बेरोजगारी दूर होगी तो अपराध नहीं होंगे। शराबबंदी को लेकर सीएम नीतीश पर हमला करते हुए रीतलाल यादव ने कहा कि कल शराब खुलेआम बिकता था आज लुकाछिपा का बेचा जा रहा है।आपको बता दें रीतलाल यादव ने पहले भी कहा था कि एमएलसी के तौर पर उनका कार्यकाल नवंबर महीने के बाद से 7 महीने से ज्यादा नहीं बचा है और इसीलिए वह विधानसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं। उन्होंने कहा थाअगर किसी राजनीतिक दल से उन्हें उम्मीदवार बनाने का ऑफरआता है तो वह विचार करेंगे लेकिन अगर टिकट नहीं मिला तब भी वह निर्दलीय चुनाव जरूर लड़ेंगे।



तीन बार से दानापुर विधानसभा सीट से 
आशा सिन्हा तीन बार से दानापुर विधानसभा सीट से विधायक हैं। लेकिन विधायक के खिलाफ इस बार भारी नाराजगी है।नाराजगी ऐसी है कि अब बीजेपी कार्यकर्ता ही सड़कों पर उतर कर विरोध जता रहे हैं। सैकड़ों बीजेपी कार्यकर्ताओं ने पार्टी का झंडा लेकर सगुना मोड़ पर विधायक आशा सिन्हा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। उन पर क्षेत्र का विकास नहीं करने का आरोप लगाया। कार्यकर्ताओं की मांग थी कि इस बार पार्टी का उम्मीदवार बदला जाए । स्थानीय बीजेपी कार्यकर्ताओं का कहना था कि अगर पार्टी आशा सिन्हा को टिकट  नहीं दे बल्कि किसी दूसरे योग्य उम्मीदवार को मैदान में उतारे। अगर बीजेपी ऐसा नहीं करती है तो हमलोग उम्मीदवार उतारेंगे। गौरतलब है कोरोना काल में जनता के बीच नहीं जानेवाले सभी विधायक लोगों के निशाने पर हैं। उनका हर जगह विरोध हो रहा है। लेकिन आशा सिन्हा की समस्या ये है कि उनकी पार्टी के कार्यकर्त्ता भी उनकी जगह किसी दूसरे को उम्मीदवार बनाने की मांग कर रहे हैं। आशा सिन्हा इसे विरोधियों की साजिश बता रही हैं।सगुना मोड़ पर इकट्ठा हुए बीजेपी के कार्यकर्ताओं और समर्थकों ने विधायक आशा सिन्हा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और उन पर क्षेत्र का विकास नहीं करने का आरोप लगाया।बीजेपी कार्यकर्ताओं की मांग है कि दानापुर से इस बार पार्टी का उम्मीदवार बदला जाए।स्थानीय बीजेपी कार्यकर्ताओं का यह भी कहना है कि अगर पार्टी आशा सिन्हा को टिकट देती है तो ऐसे में वह अपने ही बीते किसी योग्य उम्मीदवार को मैदान में उतारेंगे।

आम लोगों और कार्यकर्ता से दूर रहने वाले विधायकों के खिलाफ 
नेता और कार्यकर्ता से लेकर ग्रामीण इन दिनों बिहार में मोर्चा खोल दिया हैं. विधानसभा चुनाव से पहले जनता से दूर रहने वाले ये कई दलों के विधायक अब ग्रामीणों के बीच जा रहे हैं।लेकिन पहले से नाराज ग्रामीणों को अब मौका मिल गया है। ऐसे में विधायकों को गांव से भगाने से लेकर दौड़ा रहे हैं।सैकड़ों लोगों के बीच इन दिनों कई दलों के विधायकों को लोग सवाल जवाब कर रहे और उनसे पांच सालों का हिसाब मांग रहे हैं।

दानापुर विधान क्षेत्र में राजद का क्रेज बढ़ा 
राजद के संभावित प्रत्याशी होने का दावा करके इंजीनियर प्रेम किशोर,केडी यादव,सुजीत सिंह परमार,राम अवधेश सिंह यादव और करिश्मा यादव जनसम्पर्क अभियान चला रहे हैं।दानापुर नगर परिषद के पूर्व अध्यक्ष सह राजद नेता राजकिशोर यादव ने राजनीतिक जीवन में कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा था।पायदान-दर-पायदान आगे बढ़ते रहे थे।शहर में गरीबों के बीच उनकी अलग पहचान थी।मगर नगर परिषद का यह किंग मेकर कोरोना के सामने हार गया।उनके पुत्र  इंजीनियर प्रेम किशोर मैदान मारने को बेताब हैं। दानापुर नगर परिषद के अध्यक्ष दीपक कुमार मेहता भी चुनावी दंगल फतह करने का प्रयास कर रहे हैं। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव तो करिश्मा यादव के पक्षधर हैं

इसके साथ ही करिश्मा यादव दानापुर में जोरशोर से 
चुनाव प्रचार करने में काफी गर्मजोशी दिखा रही हैं।वहीं राजद परिवार के नज़दीक रहने वाले बाहुबली विधान पार्षद रीतलाल यादव को झटका लगा है।अब बाहुबली ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में अपने क्षेत्र में चुनाव की तैयारी में लग भीड़ गए हैं। दानापुर सीट से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में ताल ठोक रहे है। विवेक यादव आदर देते हुए कहते हैं कि मैडम जी कभी चित्रकूट नगर भी चले आएं।इसके बाद डीएवी  दुखन राम स्कूल के पास। वहां भी जाकर देखे, क्या हाल है सड़क का और नाले का ?15 साल में आपने किया क्या है मैडम जी?  जरा पांच काम तो बता दीजिए। आप जहां रहते हो शिवाला पास वहां सड़क नहीं है कितनी तकलीफ से हो रही है जनता को क्या बताएं? हम आपको आपको दानापुर की जनता कभी माफ नहीं करेगी।2020 का चुनाव बहुत निकट आ चुका है।मैडम कुर्सी पर से उठा कर आप को भगा दिया जाएगा। सारा जनता ने मन बना लिया है। रोयल ऋषम ने मैडम जी से कहा कि वार्ड नं.21 के पंचशील नगर में कब रोड और नाल बनेगा? कम से कम नाला का निर्माण करवा दीजिये।मोहन कुमार ने कहा कि 15 साल जनता के ठगने के लिए बहुत है।   सुधीर कुमार ने भविष्यवाणी कर दी कि आप की हार निश्चित हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: