बिहार : कमल पर दबेगी ऊँगली तभी होगा विकास : नड्डा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 12 सितंबर 2020

बिहार : कमल पर दबेगी ऊँगली तभी होगा विकास : नड्डा

nadda-in-darbhanga
दरभंगा/ पटना : बिहार विधानसभा चुनाव से पहले बिहार आत्मनिर्भर अभियान की शुरुआत करते हुए भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने दरभंगा में कहा कि यहां मखाने का करीब 600 करोड़ रुपये का व्यापार होता है, हमारी कोशिश है कि हम इसे आगे बढ़ाएं। इसके लिए इंफ्रास्ट्रक्चर, मार्केट, कुशल व्यक्ति चाहिए। इसलिए आत्मनिर्भर भारत पैकेज में से 1 लाख करोड़ रुपये की व्यवस्था किसानों के लिए है। नड्डा ने कहा कि पिछली सरकारों ने 40 साल में सिर्फ एक AIIMS दिया। अटल जी ने अपने कार्यकाल में 6 AIIMS दिए और मोदी जी ने देश को 23 AIIMS दिए, जिसमें बिहार को 2 AIIMS दिए हैं। बिहार के लोगों की बात PM गंभीरता से सुनते हैं। कमल पर आपकी उंगली दबती है तो यहां का विकास होता है। इससे पहले आत्मनिर्भर बिहार अभियान के तहत पटना में कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए नड्डा ने कहा कि मखाना में बिहार पूरे विश्व में अव्वल है, पूरे विश्व के 90 फ़ीसदी मखाना का उत्पादन बिहार में होता है। इसकी प्रोसेसिंग से लेकर इसके विपणन से लेकर हर क्षेत्र में इसे बढ़ावा देकर आत्मनिर्भर बनाया जा सकता है, इसकी ब्रांडिंग करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि लीची मुजफ्फरपुर का पूरे विश्व में जाना जाता है, इसे आगे बढ़ाने में बीजेपी के नेता और कार्यकर्ता सेतु का काम करें। इसमें हम सभी का व्यक्तिगत सहभागिता हो तब आत्मनिर्भर बिहार बन पाएगा। पॉलिटिकल नेता के पास पॉलिटिकल इच्छाशक्ति नहीं थी, जिसकी वजह से पूरी व्यवस्था चरमराई हुई थी। लेकिन, अब पॉलिटिकल विल है, इच्छा शक्ति के बूते बेहतर काम किए जा रहे हैं, पॉलिटिकल विल के साथ-साथ रचनात्मक कार्यक्रम भी किया जा रहा है। कार्यक्रम को मूर्त रूप देने का जिम्मा अब हम लोगों के ऊपर है।

कोई टिप्पणी नहीं: