बेतिया : नियोजन, ऋण मेला, परामर्श-सह-प्रशिक्षण कार्यक्रम सम्पन्न - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 12 सितंबर 2020

बेतिया : नियोजन, ऋण मेला, परामर्श-सह-प्रशिक्षण कार्यक्रम सम्पन्न

बेतिया में नियोजन, ऋण मेला, परामर्श-सह-प्रशिक्षण कार्यक्रम सम्पन्न।27 व्यक्तियों को सौंपा गया साढ़े तीन करोड़ रूपये का ऋण स्वीकृति पत्र।विभिन्न बैंकों द्वारा बढ़ चढ़ कर लिया गया हिस्सा।उद्यमियों की समस्याओं का आॅन स्पाॅट किया गया समाधान।चम्पारण के उत्पादों को बेहतरीन ब्रांड के रूप में स्थापित करें उद्यमी।छोटी-छोटी समस्याएं आती रहेंगी, हिम्मत नहीं हारना है, इस ऐतिहासिक शुरूआत को कामयाब बनाना है....
niyojan-mela-betiyh
बेतिया। जिला औद्योगिक नवप्रवर्तन योजना अंतर्गत आज दिनांक-11.09.2020 को जिला निबंधन एवं परामर्श केन्द्र, बेतिया के प्रांगण में नियोजन, ऋण मेला, परामर्श-सह-प्रशिक्षण कार्यक्रम का सफलतापूर्वक आयोजन जिला प्रशासन की ओर से किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन जिलाधिकारी, श्री कुंदन कुमार, सहायक समाहर्ता, श्री कुमार अनुराग, उप विकास आयुक्त, श्री रवीन्द्र नाथ प्रसाद सिंह, कार्यपालक पदाधिकारी, नगर परिषद, बेतिया, श्री विजय उपाध्याय, प्रबंधक, जिला निबंधन-सह-परामर्श केन्द्र, श्री शैलेश पाण्डेय सहित सभी जिलास्तरीय पदाधिकारियों द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर किया गया। 



तदुपरांत इस कार्यक्रम में उपस्थित विभिन्न क्षेत्रों के हुनरमंद कामगारों की काउंसिलिंग जिलाधिकारी द्वारा स्वयं की गयी। काउंसिलिंग के दौरान मधुबनी प्रखंड के धनहा थानान्तर्गत निवासी श्री दीपक चौधरी ने बताया कि वह फुड प्रोसेसिंग क्षेत्र में प्रोडक्ट का उत्पादन इसी जिले में करना चाहता है, जिसके लिए उन्हें 05 लाख रूपये की आर्थिक मदद चाहिए। जिलाधिकारी द्वारा आह्वान किया गया कि किस बैंक द्वारा श्री चौधरी के प्रोडक्ट्स को विकसित करने के लिए ऋण मुहैया करायी जायेगी। इस पर सेन्ट्रल बैंक आॅफ इंडिया के प्रबंधक द्वारा हामी भरी गयी और श्री चौधरी को फूड प्रोसेसिंग विकसित करने हेतु 05 लाख रूपये का ऋण देने की सहमति आॅन स्पाॅट जतायी गयी। वहीं लुधियाना में कम्प्यूटर कढ़ाई का कार्य करने वाले श्री लालबाबू प्रसाद ने बताया कि वे भी इसी जिले में रहकर कम्प्यूटर कढ़ाई को डेवलप करना चाहते हैं तथा जिले के लोगों को भी इस रोजगार से जोड़कर मदद करना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि इस कार्य को करने के लिए उन्हें 20 लाख रूपये की आवश्यकता है। श्री प्रसाद को ऋण की सुविधा उपलब्ध कराने हेतु आईडीबीआई बैंक से बातचीत की गयी। इसी तरह नेपाल में कारपेंटर का कार्य करने वाले, बैरिया निवासी श्री कपिलदेव शर्मा, फुड प्रोडक्शन का कार्य करने वाले नौतन निवासी, श्री जितेन्द्र सहनी, स्क्रबर मेकिंग-पैकिंग का कार्य करने वाले मझौलिया निवासी श्री प्रेम कुमार, गारमेंट्स का कार्य करने वाले नौतन निवासी मो0 अली, साउंड सिस्टम का प्रोडक्शन करने वाले योगापट्टी निवासी श्री विनोद राम, बर्तन वगैरह बनाने वाले श्री राजन साह आदि काउंसिलिंग के द्वारा काफी संतुष्ट दिखे तथा जिला प्रशासन द्वारा उन्हें आश्वस्त किया गया कि सभी को इसी जिले में उद्योग अधिष्ठापित करने के लिए जिला प्रशासन हरसंभव प्रयास करेगा। ये सभी लोग कोविड-19 के आपदा में घर वापस आए हैं। साथ ही उद्यमियों की समस्याओं का आॅन स्पाॅट समाधान भी किया गया।

इस कार्यक्रम में 27 व्यक्तियों को लगभग साढ़े तीन करोड़ रूपये का ऋण स्वीकृति पत्र जिलाधिकारी एवं अन्य अधिकारीगण के द्वारा सौंपा गया। जिन व्यक्तियों को ऋण स्वीकृति पत्र दिया गया उनमें अरूण कुमार, अर्चना कुमारी कुशवाहा, फिरोज कैसर, मो0 सोएब ताहिर, धामु कुमार सोनी, मोतीलाल साह, सोनामती देवी, शिवेन्द्र नाथ पाण्डेय, रंजन सोनी, रत्नेश कुमार गुप्ता, मुगल आजम अंसारी, मुकेश वर्णवाल, मनबोध यादव, सविता चौधरी आदि के नाम शामिल हैं। वहीं बैंक आॅफ बड़ौदा द्वारा 04, स्टेट बैंक आॅफ इंडिया द्वारा 08, सेन्ट्रल बैंक आॅफ इंडिया द्वारा 04, इंडियन बैंक द्वारा 01, यूको बैंक द्वारा 01, पंजाब नेशनल बैंक द्वारा 01, बैंक आॅफ इंडिया द्वारा 01 तथा अन्य बैंकों द्वारा भी ऋण स्वीकृति प्रदान की गयी है। बैंक प्रबंधकों द्वारा बताया गया कि शीघ्र ही शेष बचे ऋण आवेदनों का डिस्पाॅजल कर करते हुए संबंधित आवेदकों का ऋण स्वीकृत कर लिया जायेगा। वहीं दूसरी ओर इस कार्यक्रम में उपस्थित देश के विभिन्न शहरों लुधियाना, सूरत, जलाधंर आदि में उद्योगों का संचालन करने वाले उद्यमी जो अब इसी जिले में अपने उद्योगों का अधिष्ठापन जिला प्रशासन के सहयोग से करा रहे हैं, शरीक हुए। उन्होंने सभी उपस्थित लोगों का उत्साहवर्धन करते हुए बताया कि पश्चिम चम्पारण जिले में उद्योग अधिष्ठापित करने हेतु जिला प्रशासन द्वारा उन्हें भरपूर सहयोग मिला है। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन का सहयोग इसी तरह मिलता रहा तो पश्चिम चम्पारण जिला शीघ्र ही उद्योगों का हब बन जायेगा। श्रीमती अर्चना कुमारी द्वारा बताया गया वे तथा उनके पति यहां साड़ी, लहंगा, सूट वगैरह का उत्पादन शुरू करने वाले हैं। उत्पादन से संबंधित बड़ी मशीने पहुंच गयी है तथा अन्य छोटी-छोटी मशीने शीघ्र पहुंच जायेगी तथा उत्पादन शुरू कर दिया जायेगा। इसी तरह मझौलिया प्रखंड निवासी मो0 शोएब ताहिर जिले में रेडिमेड गारमेंट्स यूनिट चालू करने वाले हैं। बहादुरगढ़ में जूता-चप्पल आदि का प्रोडक्शन करने वाले श्री रत्नेश कुमार गुप्ता ने कहा कि जिला प्रशासन के सहयोग से इसी जिले में पहले हवाई चप्पल बनाने की शुरूआत की जायेगी उसके बाद धीरे-धीरे जूता तथा अन्य चप्पलों का उत्पादन शुरू किया जायेगा। इस पर जिलाधिकारी ने कहा कि आप सभी काफी मेहनती हैं, शीघ्र ही सभी मशीनें तथा राॅ-मेटेरियल मंगाकर अविलंब उत्पादन शुरू करें। चम्पारण के उत्पादों को बेहतरीन ब्रांड के रूप में स्थापित करें उद्यमी। 

जिलाधिकारी, श्री कुंदन कुमार द्वारा कार्यक्रम में उपस्थित सभी व्यक्तियों का उत्साहवर्धन किया गया। उन्होंने कहा कि कोविड-19 से उत्पन्न विकट परिस्थिति में भी लाॅकडाउन के दौरान जिले में वापस लौटे कामगारों/श्रमिकों की बेहतरी के लिए जिला प्रशासन हरसंभव प्रयास कर रहा है। बहुत सारे कामगारों/श्रमिकों को रोजगार भी मुहैया करा दिया गया है। कई सारे श्रमिक अब उद्यमी बन गये हैं और दूसरे लोगों को रोजगार भी दे रहे हैं। इसके साथ ही वैसे उद्यमी जो देश के अन्य राज्यों में अपना उद्यम संचालित कर रहे हैं और वे पश्चिम चम्पारण जिले में अपना उद्योग अधिष्ठापित करना चाहते हैं, उन सभी का स्वागत है। जिला प्रशासन उन्हें हरसंभव मदद पहुंचा रहा है। उन्होंने बैंक प्रबंधकों द्वारा जरूरतमंदों को ऋण मुहैया कराने हेतु साधुवाद दिया तथा कहा कि बैंकों से जरूरतमंदों की काफी आशाएं हैं, आप सभी इसी तरह जरूरतमंदों को ऋण मुहैया कराते रहे तथा इस जिले की बेहतरी के लिए अपनी सहभागिता देते रहें। इस कार्यक्रम में वियाडा के प्रतिनिधि भी शामिल हुए। सभी उद्यमियों को बिहार सरकार द्वारा दिए जा रहे विभिन्न सुविधाओं को भी विस्तृत रूप से बताया गया। इस पर परिचर्चा की गयी कि कैसे चम्पारण के उत्पादों को बेहतरीन ब्रांड के रूप में स्थापित करना है।  उन्होंने कहा कि जिले की बेहतरी के लिए तथा आने वाली पीढ़ियों को खुशहाल जिंदगी देने के लिए सभी को टीम वर्क करना होगा। सभी को मिलजुल कर समन्वित प्रयास कर इस ऐतिहासिक कदम को आगे बढ़ाते रहना होगा ताकि पश्चिम चम्पारण जिला विकास के पथ पर सदैव आगे बढ़ता रहे तथा इस जिले का नाम देश ही नहीं वरन विश्व में भी रौशन होता रहे। उन्होंने कहा कि इस दौरान कई छोटी-छोटी समस्याएं आएंगी, इन समस्याओं से हमें निराश नहीं होना है, हिम्मत नहीं हारना है, बल्कि सकारात्मक सोच के साथ मिलजुल आगे बढ़ते रहना है।

कोई टिप्पणी नहीं: