बिहार : पप्पू यादव ने शपथ पत्र के साथ प्रतिज्ञा पत्र जारी किया। - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 25 सितंबर 2020

बिहार : पप्पू यादव ने शपथ पत्र के साथ प्रतिज्ञा पत्र जारी किया।

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने एनडीए दलित और अतिपिछड़ा को परजीवी समझता है।मैं तीन साल के अंदर प्रतिज्ञा पत्र का एक-एक लाइन नहीं लागू कर पाया तो राज्यपाल को इस्तीफा दे दूंगा।
pappu-yadav-oath-paper
पटना (आर्यावर्त संवाददाता) जन अधिकार पार्टी (जाप) ने बिहार विधानसभा चुनाव से पहले अपना 'प्रतिज्ञा पत्र' (चुनावी मैनिफेस्टो) जारी किया। इस प्रतिज्ञा पत्र को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने शपथ पत्र के साथ जारी किया। राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने प्रथम न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष प्रतिज्ञा पत्र तैयार शपथ पत्र तैयार किया। JAP राज्य की वर्तमान स्थिति को बदलने के लिए प्रतिबद्ध है। अगर हम सत्ता में आते हैं तो प्रत्येक समुदाय से एक डिप्टी सीएम बनाएंगे। हमारी पार्टी प्राथमिक स्तर से लेकर उच्च शिक्षा तक सभी को मुफ्त शिक्षा सुनिश्चित करेगी और प्राथमिक शिक्षा में मैथिली को प्राथमिकता दी जाएगी। हम लड़कों और लड़कियों को  क्रमश: बाइक और स्कूटी पुरस्कार देंगे, जो प्रथम श्रेणी के साथ इंटर की परीक्षा पास करेंगे।  स्टूडेंट क्रेडिट स्कीम के तहत ऋण राशि को भी चार लाख से बढ़ाकर 10 लाख किया जाएगा।पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी ने आज चुनावी घोषणा पत्र नहीं बल्कि प्रतिज्ञा पत्र जारी किया है। उन्होंने यह प्रतिज्ञा पत्र एफिडेविट के साथ जारी किया है। 

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) को लेकर पप्पू यादव लगातार बिहार सरकार पर हमलावर हैं।पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी ने आज चुनावी घोषणा पत्र नहीं बल्कि प्रतिज्ञा पत्र जारी किया है। उन्होंने यह प्रतिज्ञा पत्र एफिडेविट के साथ जारी किया है। पप्पू यादव ने प्रतिज्ञा पत्र जारी करने के मौके पर लालू-नीतीश के 30 साल के बनाम उन्हें तीन साल देने की बात कही। पप्पू यादव ने कहा कि 30 सालों में बिहार का क्या हुआ।उनकी सरकार में लिंग, भाषा, जाति और धर्म पर ध्यान दिया जाएगा। बिहार की जनता का इस्तेमाल किया गया है जो ईश्वर के दूत हैं। छह महीने के अंदर राज्य से भ्रष्टाचार खत्म करने की बात भी उन्होंने कही। पप्पू यादव ने घोषणा किया है कि बिहार के बालू माफिया, शिक्षा माफिया उनकी सरकार में 6 महीने के अंदर जेल में होंगे।अगर वो ऐसा नहीं कर पाएंगे तो सीएम की कुर्सी से रिजाइन दे देंगे।लड़कियों की शादी में 10 लाख तक लोन की बात भी उन्होंने की है। खास बात यह कि इस पर किसी प्रकार का ब्याज नहीं लगेगा। साथ ही  बिहार में सुशांत सिंह राजपूत के नाम पर फिल्म सिटी बनाने की घोषणा भी उन्होंने की।



जाप प्रमुख ने अंतरराष्ट्रीय स्तर का स्टेडियम बनाने की भी बात कही है।उन्होंने साथ ही कहा कि मैं राज्य में एक लाख करोड़ का इवेस्टमेंट लाऊंगा। इन्वेस्ट करने वाली कंपनियों को 4 महीने के अंदर जमीन दूंगा।सीमांचल के अंदर फूड प्रोसेसिंग प्लांट लगाने की भी उन्होंने बात कही।साथ ही पप्पू यादव ने कहा कि वो बिहार को दो सालों के अंदर फार्मा इंडस्ट्री का हब बनाएंगे।रोजगार को उन्होंने अपनी प्राथमिकता बताई है। पप्पू यादव ने कहा कि अगर उनकी सरकार अगर बनती है तो दो साल के अंदर वो बिहार को शिक्षा का हब बनाएंगे।उन्होंने कहा कि उनकी पहली प्राथमिकता रोजगार प्रदान करना होगी।साथ ही पप्पू यादव ने कहा कि वो बीपीएल सूची को रिव्यू करेंगे और जरूरतमंद लोगों को इससे जोड़ा जाएगा। बड़ा ऐलान करते हुए पप्पू यादव ने कहा, 'नियोजित, संविदा, वित रहित शिक्षकों जैसे शब्द खत्म होंगे। सभी की राज्य में परमानेंट नौकरी होगी।संविधा पर नहीं बल्कि सीधी नियुक्ति की जाएगी।फर्जी एनजीओ को 3 महीने के अंदर कैंसिल किया जाएगा।' उन्होंने ये भी कहा कि नीतीश कुमार के बनाये सारे निगम की कार्यप्रणाली की जांच कर उसे बंद किया जाएगा।  पप्पू यादव ने नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए कहा कि पांच साल में वो अपना डीएनए भूल गए हैं। सीएम नीतीश कुमार सिर्फ सुशांत, रिया, ऐश्वर्या पर ही बोलते हैं। उन्होंने कई परिवारों को बर्बाद कर दिया है। साथ ही उन्होंने कहा कि लोग आज भी बैकवार्ड-फारवार्ड करते हैं।एनडीए को लालू के नाम पर ऊंची जातियों को नहीं डराना चाहिए। उन्होंने कहा कि एनडीए दलित और अतिपिछड़ा को परजीवी समझता है।मैं तीन साल के अंदर प्रतिज्ञा पत्र का एक-एक लाइन नहीं लागू कर पाया तो राज्यपाल को इस्तीफा दे दूंगा।

कोई टिप्पणी नहीं: