बिहार : कैदी फांसी के फंदे से झूला - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 4 सितंबर 2020

बिहार : कैदी फांसी के फंदे से झूला

prisioner-hanged-in-jail
पटना, 04 सितम्बर। पटना की बेउर जेल में शुक्रवार को कैदी फांसी के फंदे से झूल गया। अन्य कैदियों के शोर करने पर पुलिस ने उसे गंभीर अवस्था में पीएमसीएच में भर्ती कराया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मृतक की पहचान गौरी यादव के रूप में हुई है। गौरी पटना के बाढ़ का रहने वाला था।  बताया जाता है कि गौरी बेउर जेल के बाथरूम फंदे से झूला। जब दूसरे कैदी बाथरूम गए तो घटना की जानकारी हुई। कैदियों के शोर करने पर पुलिस पहुंची और गौरी को इलाज के लिए पीएमसीएच में भर्ती कराया, जहां उसने दम तोड़ दिया। काराधीक्षक ने बताया कि गौरी यादव ने फांसी लगाकर जान दे दी। घरेलू कारणों से वह पिछले एक सप्ताह से तनाव में था।



घर में आर्थिक किल्लत से था परेशान 
मिली जानकारी के अनुसार आदर्श केंद्रीय कारा बेउर में 14 माह से विचाराधीन कैदी 35 वर्षीय गौरी यादव ने शौचालय में गमछे से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। कारा अधिकारी उसे पीएमसीएच ले गए, जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। वह बाढ़ के दल्लीचक का रहने वाला था। हत्या के एक मामले में पिछले साल 19 जून से ही  बेउर जेल के गंगा खंड के 5-8 वार्ड में बंद था। कारा सूत्रों की मानें तो गौरी यादव जमानत नहीं मिलने और घर में आर्थिक किल्लत से वह परेशान था। शुक्रवार सुबह से ही वह चुपचुप था।

बाथरूम से नहीं निकला तो कैदियों ने दी सूचना
नहाकर खाना खाने के बाद दोपहर में वह शौचालय के लिए अपने वार्ड से निकला था। वहां गमछे से फांसी लगाकर आत्महत्या करने की कोशिश की। काफी देर तक नहीं निकला तो कैदियों ने इसकी सूचना कारा प्रशासन को दी। शौचालय का दरवाजा तोड़ा गया तो वह छत से लटकता मिला। तत्काल उसे नीचे उतारा गया। विदित हो कि दो दिन पहले भी एक कैदी ने बिजली के तार को मुंह में लेकर आत्महत्या करने का प्रयास किया था, लेकिन उसे बचा लिया गया था। 

दो साल पहले गोवर्धन राय उर्फ गोवरी
बेउर जेल में कैदी ने लगाई फांसी और पीएमसीएच में इलाज के दौरान मौत हो गयी थी।कैदी हत्या और अपहरण के मामले में सजायाफ्ता था।पुलिस ने बताया कि उसने जेल में कैदियों से कई बार मारपीट की थी।बेऊर जेल में शनिवार को एक कैदी ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। कैदी का नाम गोवर्धन राय उर्फ गोवरी था। कैदी को फांसी लगाते देख दूसरे कैदियों ने हंगामा किया। जेल प्रशासन उसे लेकर तुरंत पटना मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल पहुंचा (पीएमसीएच) जहां इलाज के दौरान कैदी की मौत हो थी।कैदी गोवर्धन राय कई दिनों से बीमार था। उसे बेउर जेल के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हत्या और अपहरण के मामले में वह सजायाफ्ता था। वह मनेर का रहने वाला है।कैदी मानसिक रूप से कमजोर था। फुलवारी जेल में उसने कैदियों से कई बार मारपीट की थी। इसके बाद उसे बेउर जेल शिफ्ट किया गया था। 

कोई टिप्पणी नहीं: