बिहार : एक लोटा पानी से होगा राजद का तर्पण: संबित पात्रा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 18 सितंबर 2020

बिहार : एक लोटा पानी से होगा राजद का तर्पण: संबित पात्रा

sambit-patra-attack-rjd-in-patna
पटना : पीम मोदी के जन्मदिन पर भाजपा द्वारा पूरे देश में सेवा सप्ताह मनाया जा रहा है। इस मौके पर आज अनेकों जगह प्रेस वार्ता आयोजित की गई है। पत्रकारों से मुखातिब होने भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा पटना पहुंचे थे। भाजपा कार्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान संबित ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि बिहार में विधानसभा चुनाव का माहौल बन रहा है। बिहार में नीतीश कुमार के अलावा और दूसरा चेहरा कौन है? दूसरा पक्ष कहां और कौन है, यह देश में चर्चा का विषय बना है। नीतीश कुमार वर्सेस नन है अथवा यह कह सकते हैं कि लड़ाई विकास बनाम जेल की है। यानी विकासवाले बनाम जेल वाला। पात्रा ने कांग्रेस व राजद पर निशाना साधते हुए कहा कि विपक्ष के परिवार में संपत्ति बंटवारे की लड़ाई चल रही है। एक जगह भाई-भाई में लड़ाई तो एक जगह भाई-बहन के बीच में लड़ाई चल रही है। पात्रा ने भाई-भाई और भाई-बहन तेजस्वी-तेज प्रताप तथा राहुल-प्रिंयका को लेकर कही। भाजपा प्रवक्ता ने तेजप्रताप पर निशाना साधते हुए कहा कि लालटेन में न तेज है और न प्रताप। रघुवंश बाबू को तेजप्रताप जी ने एक लोटा पानी बताया था। और कहा कि समुद्र में से एक लोटा पानी निकाल देने से कुछ नहीं होगा। मैं बता दूं कि इस बार इसी एक लोटा पानी से राजद का राजनैतिक तर्पण होगा। वहीं सुशांत मामले को लेकर संबित पात्रा ने कहा कि सुशांत सिंह का मामला सत्य वर्सेज असत्य का मामला है। बिहार की पुलिस के साथ महाराष्ट्र में क्या व्यवहार किया गया। महाराष्ट्र में असत्य को बचाया जा रहा, सत्य को दबाया जा रहा है। विकास की बात करते हुए भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि बिहार में 15 सालों में बहुत कुछ बदल गया है। हर विभाग का बजट कई गुणा बढ़ गई है। किसानों को लेकर केंद्र सरकार और राज्य सरकार ने बड़ा काम किया है। 72 लाख किसानों को बिहार में किसान सम्मान निधि के तहत 6 हजार हर साल मिल रहे हैं। इसके आलावा केंद्र सरकार द्वारा बुद्ध और रामायण सर्किट के लिए छह सौ करोड़ दिए गए। डिजिटल क्रांति के लिए बिहार में 450 करोड़ खर्च किया गया। नागरिक उड्डयन पर 27 सौ करोड़ रुपये दिए गए। पटना एयरपोर्ट के विस्तार पर दो हजार करोड़ खर्च हो रहे हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: