सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 09 सितम्बर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 9 सितंबर 2020

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 09 सितम्बर

पारदी समाजजनों ने की भूमि के पट्टे देने की मांग कलेक्ट्रेट पहुंचकर दिया  डिप्टी कलेक्टर को  ज्ञापन

sehore news
सीहोर। श्यामपुर तहसील क्षेत्र  के खाईखेड़ा, ग्यारसपुरा, चौकी टप्पर, खेरट बरखेड़ा मेंं  निवासरत  पारदी समाज के नागरिकों  ने कृषि  भूमि  के पट्टे और  कम बारिश  से  खराब हुए सोयाबीन का सर्वे कराकर मुआवजा राशि देने की मांग प्रशासन से   की है। इस संबंध में पारदी समाज  के द्वारा डिप्टी कलेक्टर को ज्ञापन भी दिया गया  है। पारदी जाति  के कृषकों ने  बताया की वर्ष 1996 से लगातार कृषि कार्य कर अपने परिवार का भरण पोषण कर रहे है। प्रशासन के द्वारा  भूमि का पटटा अधिकार   प्रमाण  पत्र  नहीं दिया  गया  है।  जिस   कारण अनेक कृषक  हितैशी शासकीय  योजनाओं  का लाभ नहीं ले पा  रहे है। इस   संबंध में क्षेत्र के  जनप्रतिनिधियों    और  प्रशासनिक  अधिकारियों   को  कई बार अवगत  करा  चुके है लेकिन  कोई सुनने को तैयार नहीं है। मांग  करने  वालों  में टिकाराम,कन्टेल,अजिश कुमार,खगक्या, शितेन्द्र . हरदीप नन्दन सिह, लक्ष्मीमल,सुलोचना बाई,किरन कुमार,बलतूर सिंह, झीरमीरसा,सन्देश बलतूर सिह, रहीन बाइर्, विवची लाल, कुवर बाई, छीतकुवेर लाल,राजकिरन पीगाराम, विरसेन्द्र, गिदोरीलाल, शिवचरण, अवधनारायण केशमल बाई रंगलाल गाजी अवधनारायण आदि शामिल है।



शमशान भूमि से हटवाया जाए कब्जा सुरक्षा के लिए की जाए तार फेन्सिंग

sehore news
सीहोर। झरखेडा स्थित शासकीय शमशान भूमि पर अवैधानिक रूप से किए  गए कब्जे को हटवाकर सुरक्षा  के  लिए  सीमांकन  और तारफेसिंग करने की मांग ग्रामीणों के  द्वारा की गई है। कलेक्ट्रेट पहुंचे ग्रामीणों ने बताया की शासकीय रिकार्ड में शमशान की भूमि दर्ज है। जिस पर ग्राम के कुछ दबंग लोगों द्वारा शमशान भूमि पर अवैध कब्जा कर लिया गया  है। जिससे शमशान पहुंचने वाले ग्रामीणों को बहुत परेशानी होती रही है। इस मामले में तहसीलदार दोराहा को भी अवगत कराया गया है लेकिन अतिक्रमणकर्ता पर कोई कार्यवाहीं नहीं कह गई है। अतिक्रमणकर्ताओं  के  द्वारा शमशान अंतेष्टी करने पहुंचने वाले ंग्रामीणों के साथ भीलड़ाई झगडा किया जाकर दहशत का माहौल बनाया जा रहा  है।  ग्राम के हरिश  सगर,  राहुल सगर, लखनलाल सगर  रतनलाल,चंदा सगर,  गंगा   प्रसाद, केनी प्रसाद,  संतोष  पंचम, भगवान सिंह, चंन्नालाल,चंदर आदि ने  शिकायती पत्र डिप्टी कलेक्टर प्रगति  वर्मा को देकर अतिक्रमणकर्ताओं पर कार्रवाहीं की मांग  की है।

इंदिरा काँलोनी मंडी पुलिस लाईन में कई सालों से नहीं की गई सफाई, नाली चौक नागरिकों  कलेक्ट्रेट पहुुंचकर बताई समस्या  

sehore news
सीहोर। इंदिरा कॉलोनी गल्ला मण्डी पुलिस लाईन के नागरिक गंदगी कूढ़े कचरे  और मलबे से भरी चौक नाली से हैरान परेशान है। नाली को कई सालों से साफ नहीं किया गया है। नागरिकों  ने कई बार   क्षेत्रीय  जनप्रतिनिधि को  समस्या  से  अवगत कराया  है लेकिन  समस्या के  निराकरण के प्रति जनप्रतिनिधि सजग नहीं है। वार्ड क्रमांक 22 मंडी के निवासियों का  गंदगी के कारण निकला मुश्किल हो रहा है वहीं बुजुर्ग बच्चे उक्त गंदगी में पनप रहे मच्छरों के काटने से बीमार हो रहे है। पुलिस लाईन की सुरक्षा दीवार के पास नागरिकों के  निकलने के  लिए मात्र तीन फिट का रास्ता है रास्ते के बीच में पेड़ लगा हुआ है जिसके कारण आवागमन में काफी परेशानी होती है तो इधर नाली की गंदगी ने परेशानी को और बढ़ा दिया  है।  क्षेत्र के कई लोगों ने पुलिस लाईन  की दीवार को अवैधानिक  रूप  से तोड़कर रास्ता बना लिया है। मात्र तीन फिट का रास्ता नागरिकों  के लिए परेशानी बना  हुआ  है। कॉलोनी के योगेश अहिरवार,राहुल, दीपक ,मुकेश, राकेश, विजय, मनोहर, बालमुकंद,हरीश, राधेश्याम  राधा बाई, लक्ष्मी बाई, कांता  बाई  आदि ने प्रशासन से क्षेत्र में  नियमित साफ सफाई कराने रास्ते  की समस्या  के  निरकारण कराने की मांग की है। 

संतोष टायर से कमला डागर तक सीसी सड़क का भूमि पूजन करेंगी नपाध्यक्ष श्रीमति अरोरा  
पार्षद खंगराले द्वारा वर्क आर्डर जारी कराए जाने पर नागरिकों में उत्साह
sehore news
सीहोर। अनुसुचित  वार्ड  क्रमांक 11 में संतोष टायर से कमला डागर के मकान तक सीसी सड़क निर्माण का भूमि पूजन आज  नपाध्यक्ष श्रीमति अमिता जसपाल अरोरा के द्वारा किया जाएगा।  क्षेत्रीय पार्षद श्रीमति  आरती नरेंद्र खंगराले  के द्वारा ठेकेदार आशीष विश्वकर्मा  के  नाम  अथक  प्रयासों   से उक्त सीमेंट रोड का वर्क आर्डर जारी कराए जाने पर सुदामा  नगर के नागरिकों  में उत्साह का माहौल उत्पन्न हो गया। श्रीमति खंगराले ने बताया की उक्त  कीचड़  युक्त सड़क  भोपाल नाका से लिंक  होने  के कारण  काफी मात्रा में  ट्रेक्टर ट्राली सहित अन्य  भारी वाहनों  के  निकलने से  सड़क  पूर्णता: क्षतिग्रस्त हो  गई थी। उक्त सड़क निर्माण का वर्क आर्डर  जारी होने पर नागरिकों  ने  राहत  की सांस  लेते   हुए  नपाध्यक्ष श्रीमति अरोरा एवं  क्षेत्रीय पार्षद श्रीमति खंगराले एवं  सेवादल कांग्रेसके  जिलाध्यक्ष नरेंद्र खंगराले का क्षेत्र  के श्यामलाल  महोबिया, भागीरथ  मीणा, मनोहर बोयत, सूरत तोमर, विष्णू  प्रसाद व्यास, गौरव विश्वकर्मा, अंकित  व्यास, लखन  जोहरे, हेमंत  भल्लावी,कमला डागर, रूकमणी बाई, रामप्यारी बाई बतासी बाई,  कमला  बाई सरला  बोयत  कीरण  तोमर, लक्ष्मी व्यास, लक्ष्मी जोहरे, सूनीता सूर्यवंशी, लक्ष्मी राठौर, रजनी कुशवाहा, ग्यारसी बाई  सहित अन्य नागरिकों  ने आभार व्यक्त किया। पार्षद  श्रीमति  आरती नरेंद्र खंगराले  ने भूमि  पूजन कार्यक्रम में  नागरिकों से अधिक  से  अधिक संख्या  में पहुंचने  की अपील की है।



30 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई वर्तमान में कोरोना एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 288 है

sehore news
मुख्य  चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर  सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि आज 30 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है। सीहोर शहरी क्षेत्र से 19 व्यक्तियों की कोरोना जांच पॉजीटिव आई जो हाउसिंग बोर्ड, चरखालाईन, भोपाल नाका, नेहरु कॉलोनी, अंबेडकर नगर, गंज, गांधी रोड़ के निवासी हैं। आष्टा विकासखंड से 6 व्यक्तियों की जांच पॉजीटिव आई है जो कन्नोद रोड़ आष्टा, चाचाखेड़ी, छापर, शिवखेड़ी, एवं स्थानीय आष्टा निवासी हैं। नसरुल्लागंज के सुभाष कॉलोनी से 3 व्यक्तियों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। बुदनी के पीलीकरार एवं लोरासखुर्द से 1-1 व्यक्ति की  रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव प्राप्त हुई है। जिले में कुल एक्टिव/ पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 288 है। आज 10 व्यक्तियों को स्वस्थ होने के उपरांत डिस्चार्ज किया गया है। अब तक कुल रिकवर/डिस्चार्ज किए गए व्यक्तियों की संख्या 551 हो गई है। सीहोर के बड़ा बाजार निवासी एक 68 वर्षीय व्यक्ति की भोपाल में उपचार के दौरान मृत्यु की सूचना आज प्राप्त हुई है। उसे 5 अगसत को उपचार के लिए भोपाल में भर्ती किया गया था। जिले में कोरोना संक्रमण से मृत्यु की संख्या 23 हो गई है। आज 438 यक्तियों के  सैम्पल कोरोना जांच हेतु लिए गए है। जिसमें सीहोर शहरी क्षेत्र से आज 64 सैम्पल जांच हेतु लिए गए है। श्यामपुर के 87, आष्टा से 74, नसरूल्लागंज के 68, बुदनी के 109 इछावर के 36  सैम्पल कोरोना जांच हेतु लिए गए हैं। आज पॉजीटिव मिले नए कंटेनमेंट जोन सहित समस्त कंटेनमेंट एवं बफर जोन में स्वास्थ्य दलों द्वारा सघन स्वास्थ्य सर्वे किया जा रहा है। वहीं पॉजीटिव मिले व्यक्तियों के करीबी संपर्क वाले व्यक्तियों की पहचान कर उनकी सूची तैयार की जा रही है। प्रत्येक  कंटेनमेंट जोन में सर्वे के लिए एक से दो दल लगाए गए है । सर्वे दल के प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को बनाया गया है तथा स्वास्थ्य सर्वे दल में ए.एन.एम., आशा कार्यकर्ता, आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाई गई है। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 862 है जिसमें से 23 की मृत्यु हो चुकी है 551 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है तथा वर्तमान में 288 पॉजीटिव व्यक्तियों का उपचार चल रहा है।  आज कुल 438 सैंपल जांच हेतु लिए गए। जिले से अब तक कुल 16470 सेम्पल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 14077 सेंपलों की रिपोर्ट अब तक निगेटिव प्राप्त हुई है। आज 661 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है। कुल 1487 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 64 है। जिले में कुल कंटेंमेंट एरिया 280 है जिनमें से 60 एक्टिव एवं 220 इनेक्टिव एरिया हैं। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में है उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 काल सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर-7247704181 है कोविड-19 से संबंधित जानकारी इस संपर्क नंबर पर ली व दी जा सकती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसीन के लिए संपर्क नंबर 07562-401259 जारी किया गया है तथा राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर काल करके भी टेलीमेडिसीन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104  नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। ई-संजीवनी ओपीडी सेवा हेतु www.esanjeevaniopd.in पंजीयन कराया जा सकता है। कलेक्टेट कार्यालय सीहोर में भी जिला स्तरीय काॅल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-226470 है तथा होम क्वारंटाइन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है। जिस पर संस्थागत क्वारंटाइन अथवा होम क्वारंटाइन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साईकोलाजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्ष मानसिक सेवा प्रदाताओं से निःशुल्क प्राप्त कर सकते है।

‘हेलो आशा‘ फोन इन कार्यक्रम का प्रसारण आज

‘‘हेलो आशा‘‘ फोन इन कार्यक्रम ‘‘मातृ स्वास्थ्य’’ विषय पर 10 सितम्बर को दोपहर 1 बजे से 1:30 बजे तक आकाशवाणी भोपाल से प्रसारित किया जायेगा। कार्यक्रम प्रसारण के दौरान श्रोता आकाशवाणी के फोन नं. 0755-2660902, 2660903 पर सवाल पूछ सकते है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने निर्देश दिए है कि सभी आशायें, महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता इस कार्यक्रम को ग्राम आरोग्य केन्द्र में बैठकर रेडियो पर स्थानीय ग्रामीण महिलाओं के साथ खुद सुनें तथा गांव के अन्य लोगों को कार्यक्रम की जानकारी देकर सुनने के लिए प्रेरित करें। 

किसान टोल फ्री नंबर 1800116515 पर दे सकते हैं फसल नुकसानी की सूचना प्रभावित फसलों को लेकर बीमा कंपनी के साथ कलेक्टर ने ली बैठक

sehore news
किसान कल्याण तथा कृषि विकास उपसंचालक श्री एस.एस.राजपूत ने जानकारी देते हुए बताया कि जिले में प्रभावित फसलों के सर्वे/सफल कटाई प्रयोग करने के संबंध में कलेक्टर श्री अजय गुप्ता की अध्यक्षता में बुधवार को बीमा कंपनी के साथ बैठक आयोजित की गई। बैठक के दौरान संबंधितों को आवश्यक निर्देश भी दिए गए। जिले में अधिक वर्षा से सोयाबीन, धान, मक्का एवं अन्य अधिसूचित फसलें प्रभावित हुई हैं। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना अन्तर्गत खरीफ 2020 के लिए प्रभावित फसलों को बीमा क्लेम प्रदाय के लिए शासन द्वारा एग्रीकल्चर इंश्योरंस कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड भोपाल को अधिकृत किया गया है। जिले के किसानों से अपील की गई है कि नुकसानी का आंकलन करने के लिए बीमा कंपनी के टोल फ्री नंबर - 1800116515 एवं जिला प्रतिनिधि श्री धनराज वर्मा के मोबाईल नंबर 9589194094 पर फसल नुकसानी की सूचना दे सकते हैं।   

काले गेहूं की खेती से लाभ ही लाभ कमाकर खुश है महेश (सफलता की कहानी)

sehore news
जिले की श्यामपुर तहसील अन्तर्गत ग्राम बिछिया में एक उन्नत किसान महेश कुमार द्वारा विभिन्न किस्मों की उन्नत खेती की जा रही है जिसमें काले गेंहू’ की खेती में उन्होंने सफलता के नये-नये मुकाम हासिल किये हैं एवं सामान्य उपज के मुकाबले तीन गुना तक लाभ प्राप्त कर रहे है। महेश कुमार बताते हैं कि सर्वप्रथम काले गेंहू की रिसर्च भारत के नेशनल एग्रीफूड बायोटेक्नोलाजी संस्थान (एन.ए.बी.आई.) द्वारा की गई थी जिसका उपयोग अनेक बीमारियों में स्वास्थ्य लाभ के लिये किया जाता है। काले गेंहूं द्वारा डायविटीज, मोटापा, जोडों के दर्द, हार्ट अटेक, शरीर में वायरस कंट्रोल, एंटीएजिंग, कब्ज, रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि, ब्लड प्रेशर, केंसर, मानसिक थकान दूर करना, एंटी आक्सीडेंट, एंटीबायोटिक, आंतों का इंफेक्शन, एनीमिया, शरीर में फ्रीरेडिकल्स कंट्रोल, न्यूरोलाजिकल संबंधित इत्यादि जानलेवा बीमारियों में अत्यधिक लाभ प्राप्त होता है। काले गेंहूं में एन्थोसायनिन सामान्य गेहू के मुकाबले में 15 से 20 गुना तक पाया जाता है। इसके अलावा यह विटामिन बी, फालिक एसिड, मैग्नीशियम, मैंगनीज, जिंक, केल्शियम, आयरन, कापर, पौटेशियम, फाईवर एवं अमीनों एसिड, फायबर, प्रोटीन जैसे पोषक तत्वों से भी भरपूर है। इसका उत्पादन एवं देखभाल लगभग सामान्य गेंहू जैसा ही होता है जबकि मंडियों में इसका सामान्य गेंहू के मुकाबले काफी अधिक मूल्य प्राप्त होता है।

शासकीय कार्यों की सुविधाओं के मद्देनजर कलेक्टर ने किए अधिकारियों के मध्य कार्य विभाजन

कलेक्टर श्री अजय गुप्ता द्वारा शासकीय कार्यों की सुविधा को दृष्टिगत रखते हुए जिले में पदस्थ डिप्टी कलेक्टर के मध्य कार्य विभाजन किया गया है। डिप्टी कलेक्टर - श्रीमती प्रगति वर्मा को प्रभारी अधिकारी स्थापना/लेखा जिला प्रशासन, लोक सूचना अधिकारी, शस्त्र लायसेंस शाखा, विस्फोटक पदार्थ अधिनियम, औषधि लायसेंस, नजूल अधिकारी, नजारत शाखा, मुख्य प्रतिलिपिकार, सदर वासिर बाकी नवीस, अपनी प्रभार की शाखाओं के अन्तर्गत 10 हजार रुपये तक के वित्तीय अधिकार एवं समय-समय पर कलेक्टर द्वारा सौंपे गए महत्वपूर्ण कार्य विभाजित किए गए हैं। डिप्टी कलेक्टर - श्री विजय कुमार मण्डलोई को प्रभारी अधिकारी भारत निर्वाचन, स्थानीय निर्वाचन, ज्युडिशियल/व्यवहार वाद, वरिष्ठ लिपिक -01 एवं 02, शिकायत एवं जांच/आवेदन/पीजी.सेल/जलसुनवाई/जन शिकायत/प्रकोष्ठ/जीआरसेल/आयोग/लोकायुक्त/समाधान ऑनलाईन/टीएल/, एनसीएसटी शिकायत प्रकोष्ठ, जीएमएफसी शाखा एवं प्रभार की शाखाओं के अन्तर्गत 10 हजार रुपये तक के वित्तीय अधिकार एवं समय-समय पर कलेक्टर द्वारा सौंपे गए महत्वपूर्ण कार्य विभाजित किए गए हैं। डिप्टी कलेक्टर - विष्णु प्रसाद यादव को प्रभारी अधिकारी धर्मस्व, आरएम, अल्प बचत, आवक/जावक, प्रपत्र एवं लायब्रेरी शाखा, एस डब्ल्यू, जनगणना, लोक सेवा प्रबंधन/ई-गवर्नेंस/सीएम हेल्प लाईन, सूचना प्रोद्योगिकी, सूखा राहत/दंगा राहत/बाढ़ राहत, अल्प संख्यक प्रकोष्ठ, सहायक अधीक्षक सामान्य/राजस्व, भू-अभिलेख, सीलिंग/भू-प्रबंधन/डायवर्सन/पटावारी प्रशिक्षण शाला एवं प्रभार की शाखाओं के अन्तर्गत 10 हजार रुपये तक के वित्तीय अधिकार एवं समय-समय पर कलेक्टर द्वारा सौंपे गए महत्वपूर्ण कार्य विभाजित किए गए हैं।
मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत एवं अपर कलेक्टर को अपने कार्यों के साथ-साथ सौंपे अतिरिक्त कार्य प्रभार  

अपर कलेक्टर श्री विनोद कुमार चतुर्वेदी के 31 अगस्त को सेवानिवृत्त होने से कलेक्टर श्री अजय गुप्ता द्वारा मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री हर्ष सिंह (भा.प्र.से.) को अतिरिक्त प्रभार एवं अपर कलेक्टर गुंचा सनोबर (भा.प्र.से.) को अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है। मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत - श्री हर्ष सिंह (भा.प्र.से.) सीहोर को- राजस्व- सीहोर, इछावर, आष्टा, बुदनी, नसरुल्लागंज, श्यामपुर, रेहटी एवं जावर तहसील अन्तर्गत भू- राजस्व संहिता 1959 की धारा 60,161, 165 को छोड़कर कलेक्टर की क्षेत्राधिकारिता के प्रकरणों का निराकरण प्रत्येक 10 वां प्रकरण छोड़कर, मप्र कृषि खातों की अधिकतम सीमा अधिनियम 1960 के अन्तर्गत सीहोर इछावर, आष्टा, बुदनी, नसरुल्लागंज, श्यामपुर, रेहटी एवं जावर के सभी प्रकरणों का निराकरण प्रत्येक 10 वां प्रकरण छोड़कर, राजस्व पुस्तक परिपत्र खण्ड 6 के अन्तर्गत सहायता प्रकरणों का निराकरण, पंचायत राज अधिनियम अन्तर्गत समस्त कार्य प्रत्येक 10 वां प्रकरण छोड़कर, पशु क्रुरता अधिनियम एवं गोवंश प्रतिशेध अधिनियम 2004 के अन्तर्गत प्रकरणों का निराकरण, उर्वरक नियंत्रण आदेश 1985 के अन्तर्गत आवश्यक वस्तु अधिनियम से संबंधित मामले, मप्र आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत प्रकरणों का निराकरण, नजूल प्रकरणों का अपीलीय प्रकरण, सड़क दुर्घटना के प्रकरणों का निराकरण, मुख्यमंत्री घोषणा आदि से संबंधित कार्य सौंपे गए हैं।    अपर कलेक्टर/अतिरिक्त जिला दण्डाधिकरी - गुंचा सनोबर (भा.प्र.से.) सीहोर को- जिले की समस्त तहसील क्षेत्रान्तर्गत अपर जिला दण्डाधिकारी, सैनिक कल्याण, कलेक्टर को प्रदत्त निजी मकानों के किराया निर्धारण, श्रम पदाधिकारी एवं मप्र भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार मंडल, प्रभारी अधिकारी स्वास्थ्य विभाग, रेडक्रास, ई उपार्जन, वाहन अधिग्रहण अधिकारी, जिला सत्कार अधिकारी, उप जिला निर्वाचन अधिकारी भारत निर्वाचन एवं स्थानीय निर्वाचन, विशेष विवाह अधिनियम अन्तर्गत विवाह अधिकारी, प्रभारी अधिकारी भू-अर्जन शाखा, जिला विभागीय जांच/सतर्कता अधिकारी, अपनी प्रभार की शाखाओं के अन्तर्गत 25 हजार रुपये तक के वित्तीय अधिकार, मुख्यमंत्री सहायता कोष अन्तर्गत 50 हजार तक के प्रस्ताव भेजने संबंधी नस्ती के निराकरण के अधिकार, प्रभारी अधिकारी मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदार एवं अंतिम निराकरण के अधिकार- समस्त कर्मचारियों की वार्षिक वेतन वृद्धि, सामान्य/विभागीय भविष्य निधि से अग्रिम एवं आंशिक विकर्षण, स्थापना के अन्तर्गत तृतीय चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के आकस्मिक, अर्जित एवं लघुकृत अवकाश, स्वीकृति के पूर्ण अधिकार, समस्त अधिकारी/कर्मचारियों के यात्रा देयक की स्वीकृति एवं प्रति हस्ताक्षर के अंतिम अधिकार, सदर वासिल, वासी, नबीस, जीएमएफसी, सहायक अधीक्षक सामान्य, सहायक अधीक्षक राजस्व, टंकण शाखा, आवक-जावक जनगणना, व्यवहारवाद से संबंधित चरित्र सत्यापन, संरक्षता प्रमाण पत्र, उत्तराधिकारी प्रमाण पत्र, मप्र राज्य बीमारी सहायता योजना अन्तर्गत गरीबी रेखा के प्रमाण पत्र, अल्प बचत शाखा, उप संचालक अभियोजन एवं शासकीय अभिभाषक की नस्तियों का अंतिम निराकरण एवं कलेक्टर द्वारा समय-समय पर सौंपे गए महत्वपूर्ण कार्यों का दायित्व सौंपा गया है।

ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में कोरोना से बचाव के लिए जागरूकता अभियान निरंतर चले -मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रिपरिषद बैठक के पूर्व कोविड-19 की मध्यप्रदेश में स्टेट्स की जानकारी ली। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अन्य स्थानों से रोगी भोपाल और अन्य बड़े नगरों में उपचार के लिए  आ रहे हैं। ये  रोगी अपना उपचार  जिला स्तर पर ही करवा सकते हैं। प्रत्येक जिले में  उपचार उपलब्ध है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि वर्तमान केस संख्या को देखते हुए बिस्तर क्षमता भी बढ़ाएं। इसके साथ ही प्रत्येक जिले में कंट्रोल कमांड केन्द्र  सक्रिय हों,  यहां डॉक्टर भी परामर्श देने  के लिए उपलब्ध हों। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि किसी भी अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी न हो, यह सुनिश्चित किया जाए। आवश्यक हो तो    प्रदेश में औद्योगिक क्षेत्र में उपयोग में लाई जा रही ऑक्सीजन का भी उपचार में प्राथमिकता से उपयोग होना चाहिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इसे सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आम जन द्वारा मॉस्क  के उपयोग की अनिवार्यता भी सुनिश्चित हो। इसके लिए भी अभियान चलता रहे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नगरीय प्रशासन और पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग प्रचार कार्य  करें। जागरूकता के प्रयास बढ़ें, बसों में यात्री अनिवार्य रूप से  मास्क लगाएं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अनलॉक के बाद अब बाजार खुल रहे हैं, साथ ही चुनौती भी बढ़ रही हैं। इसलिए निरंतर सावधानियाँ बरती जाएं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 4 बड़े नगरों भोपाल, इन्दौर, ग्वालियर, जबलपुर में जिलों से काफी रोगी आते हैं।यह स्थिति बहुत आदर्श नहीं है क्योंकि अन्य जिलों में भी नागरिक  इलाज करवा सकते हैं,लेकिन यहां व्यवस्थाएं भी पुख्ता हों।  इन अस्पतालों में जरूरत के मान से  अधिक बिस्तर  व्यवस्था भी की जाए। बैठक में जानकारी दी गई कि इस समय प्रदेश में रिकवरी रेट 76 प्रतिशत है। मध्यप्रदेश में मृत्यु दर भी कम हुई है। मृत्यु दर 2.4 से 1.4 प्रतिशत हुई है। इस समय मध्यप्रदेश में करीब 17 हजार एक्टिव केस हैं। मध्यप्रदेश में लगभग 40% रोगी घरों में क्वारेंटाइन होकर उपचार लाभ ले रहे हैं। निजी अस्पतालों की क्षमता भी  बढ़ाई जा रही है। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि प्रदेश में बेड उपलब्धता की समस्या नहीं है लेकिन भविष्य के महीनों के लिए आवश्यक प्रबंध किए जा रहे हैं। इस समय भोपाल, इंदौर जैसे नगरों में आईसीयू बेड लगभग 55% भरे हुए हैं। वर्तमान में करीब 21%  रोगी जिनमें कोविड के लक्षण हैं, ऐसे रोगी होम आइसोलेशन है। अब फीवर क्लीनिक में सेंपल कलेक्शन दिया जा सकेगा। इसके साथ ही कोविड-19 के उपचार के लिए अधिकृत अस्पताल दाखिल रोगी को व्यय हुई राशि का बिल भी देंगे। यह रोगी पर निर्भर होगा कि उसका शत-प्रतिशत या कुछ हिस्सा भुगतान करना चाहे तो कर सकता है। प्रदेश में 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को आईसीयू बेड की उपलब्धता प्राथमिकता से सुनिश्चित की जाएगी। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस उपस्थित थे।

प्रधानमंत्री ने स्वनिधि योजना के लाभार्थियों से संवाद किया मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा स्वनिधि योजना गरीबों के लिये वरदान साबित हुई

कोरोना वायरस महामारी का संक्रमण के दौर में गरीब लोगों की आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के लिये रेहड़ी-पटरी वालों और ठेले पर सामान बेचने वालों की समस्याओं को देखते हुए भारत सरकार ने प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना जून माह से लागू की है। मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कम समय में प्रदेश के सभी छोटे सड़क विक्रेताओं को योजना का लाभ दिलाने का प्रयास किया है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज ऑनलाइन के माध्यम से प्रदेश के हितग्राहियों से चर्चा की। प्रधानमंत्री ने प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को बधाई देते हुए उनकी सराहना की। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने स्वनिधि योजना प्रारम्भ कर गरीबों के लिये यह योजना वरदान साबित हुई है। प्रदेश में एक लाख से अधिक हितग्राहियों को अभी तक राशि वितरित कर रोजगार मुहैया कराया है। प्रधानमंत्री ने वीसी के माध्यम से इन्दौर जिले के सांवेर निवासी श्री छगनलाल, ग्वालियर निवासी श्रीमती अर्चना शर्मा और रायसेन सांची निवासी श्री डालचन्द कुशवाह से चर्चा कर योजना के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने स्वनिधि योजना का लाभ लेने वाले प्रदेश के समस्त हितग्राहियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उन्हें चर्चा के दौरान हितग्राहियों में विश्वास और उम्मीद दिखाई दी और उनके श्रम और आत्मबल से वे बेहद खुश हैं। प्रधानमंत्री ने वीसी के माध्यम से कहा कि कम समय में योजना लागू कर प्रदेश के एक लाख से अधिक लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया है, वह बधाई के पात्र हैं। लॉकडाउन के दौरान रेहड़ी-पटरी वालों और ठेले पर सामान बेचने वाले अपना जीवन यापन करने के लिये काम नहीं कर पा रहे हैं, इस वजह से उन्हें काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। इस समस्या को देखते हुए भारत सरकार ने प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना लागू की है। स्ट्रीट वेण्डर आत्मनिर्भर निधि के अन्तर्गत रेहड़ी-पटरी वालों को अपना काम दोबारा से शुरू करने के लिये सरकार के द्वारा 10 हजार रुपये का लोन मुहैया कराया जा रहा है। वीसी में प्रधानमंत्री ने प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के अलावा भारत सरकार की अन्य मुख्य योजनाएं जैसे प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि ज्यादा से ज्यादा व्यक्ति लेनदेन में डिजिटल का अधिक से अधिक उपयोग करें। सरकार का प्रयास हो देश का प्रत्येक गरीब आत्मनिर्भर बने। कोरोना महामारी के चलते प्रत्येक व्यक्ति सावधानी, सुरक्षा, सोशल डिस्टेंसिंग और साफ-सफाई का विशेष ध्यान दे।

धान, ज्वार बाजरा का समर्थन मूल्य पर पंजीयन शुरु किसान 15 सितंबर से 15 अक्टूबर तक करा सकते हैं पंजीयन

जिला आपूर्ति अधिकारी सीहोर ने जानकारी देते हुए बताया कि खरीफ विपणन वर्ष-2020-21 में समर्थन मूल्य पर FAQ गुणवत्ता की धान एवं मोटे (ज्वार, बाजरा)अनाज कह खरीदी की जाएगी। जिसका समर्थन मूल्य धान 1868, ज्वार 2620 एवं बाजरा 2150 रुपये है। उपार्जन के लिए किसान 15 सितंबर 2020 से 15 अक्टूबर तक अपना पंजीयन करा सकते हैं। उपार्जन केन्द्रों पर पंजीयन प्राप्त 10:30 बजे से सांयकाल 5:30 बजे तक समस्त कार्य दिवसों में करवा सकते हैं। जिले में 10 केन्द्र स्थापित किए गए हैं। जिनमें प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति मर्या.रेहटी, बोरदी, बायां, माथनी, बुदनी, शाहगंज, जवाहरखेड़ा, बकतरा एवं प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति मर्या गादर शामिल हैं। कृषक अपना पंजीयन एमपी किसान एप, ई-उपार्जन पंजीयन एप, ई-उपार्जन कियोस्क कॉमन सेंटर, लोक सेवा केन्द्र पर जाकर करा सकते हैं। उन्होंने बताया कि प्राथमिक कृषि सहकारी साख संस्थाएं विगत खरीफ एवं रबी विपणन मौसम में जिन किसानों द्वारा समर्थ मूल्य पर खाद्यान्न विक्रय करने के लिए ई- उपार्जन पोर्टल पर पंजीयन कराया गया था ऐसे किसानों को खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में पंजीयन के लिए दस्तावेज देने की आवश्यकता नहीं है। किसान के विगत वर्ष के पंजीयन में उल्लेखित आधार नंबर, बैंक खाता, मोबाईल नंबर, में किसी प्रकार के परिवत्रन की आवश्यकता होने पर संबंधित पर संबंधित दस्तावेज प्रमाण स्परूप पंजीयन केन्द्र पर लाना होगा। वनाधिकार पट्टाधारी सिकमी दार किसानों को वन पट्टा एवं सिकमी अनुबंध की प्रति उपलब्ध कराना होगी। सिकमीधारी कृषक एवं वन पट्टाधारी किसान पंजीयन की सुविधा केवल समिति स्तर पर उपलब्ध होंगी। ऐसे किसान जिन्होंने वर्षों में रबी, खरीफ पंजीयन नहीं कराया है उन्हें समिति स्तर पर पंजीयन के लिए आधार नंबर, बैंक खाता, मोबाईल नंबर की जानकारी केन्द्र पर उपलब्ध कराना होगी। जनधन, ऋण, नाबालिक, बंद एवं अस्थायी रूप से रोके गए खाते आदि में पंजीयन मान्य नहीं होगा।

कोई टिप्पणी नहीं: