बिहार : चुनाव से पूर्व जेल से बाहर आ सकते हैं शहाबुद्दीन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 20 सितंबर 2020

बिहार : चुनाव से पूर्व जेल से बाहर आ सकते हैं शहाबुद्दीन

shahabudin-may-out-on-pairol
पटना : बिहार विधानसभा चुनाव का समय नजदीक आते ही सभी राजनीतिक पार्टियों में हलचल शुरू हो गई है। इस बीच अब पूर्व बाहुबली सांसद और राजद सुप्रीमो के करीबी नेता शहाबुद्दीन 3 साल बाद जेल से बाहर आ सकते हैं। 3 साल से जेल में बंद पूर्व बाहुबली सांसद शहाबुद्दीन बाहर निकल सकते हैं। दरअसल अपने पिता के निधन के बाद शहाबुद्दीन ने पैरोल की अर्जी दाखिल की है। मालूम हो कि 19 सितंबर को बिहार के बाहुबली नेता शहाबुद्दीन के पिता का निधन हो गया था। 



शहाबुद्दीन ने अपने पिता के निधन के बाद जेल प्रशासन से पैरोल देने की अपील की है ताकि वो पिता के सुपुर्दे खाक की प्रक्रिया में शामिल हो सकें। शहाबुद्दीन कई मामलों में फिलहाल दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद हैं। जिसके बाद पिता के मौत के बाद अंतिम क्रिया कर्म के मद्देनजर बेटे का फर्ज निभाने के लिए उन्होंने पैरोल की अर्जी दाखिल की है। तिहाड़ में बंद पूर्व सांसद को पैरोल पर लाने की कानूनी कयावद रात में ही उनके वकीलों ने शुरू कर दी है। फिलहाल तिहाड़ जेल के डीजी के पास शहाबुद्दीन की यह अपील लंबित है। इस अर्जी में शहाबुद्दीन ने दो सप्ताह के लिए पेरोल पर बाहर जाने की इजाजत मांगी है। मो.शहाबुद्दीन के पिता शेख मोहमद हसीबुल्लाह का 90 वर्ष की उम्र में शनिवार की रात निधन हो गया था। वो पिछले कई दिनों से शेख हसीबुल्लाह बीमार चल रहे थे।

कोई टिप्पणी नहीं: