भोपाल में विश्व शांति दिवस मनाया गया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 21 सितंबर 2020

भोपाल में विश्व शांति दिवस मनाया गया

world-peace-day-in-bhopal
भोपाल। प्रख्यात गांधीवादी श्री राजागोपाल पी. वी. ने विश्व शांति दिवस के उपलक्ष्य में उपवास किया। भोपाल में अनंत मंडी द्वारा संधारित कृषि भूमि पर कम्युनिटी द्वारा "प्लांटलेशन फ़ॉर पीस" के तहत 20 से भी ज़्यादा पौधों का रोपण किया गया। हर वर्ष सम्पूर्ण विश्व में "21 सितंबर" को "विश्व शांति दिवस" के रूप में मनाया जाता है। विश्व शांति दिवस का उद्देश्य सभी के साथ मिलकर समाज में शांति स्थापित करना है। इस उद्देश्य के पीछे की सोच कोरोनाकाल में समाज में आशा, उदारता एवं दया की भावना स्थापित करना है। दिन की शुरुआत "प्लांटलेशन फ़ॉर पीस" के साथ हुई जिसके तहत भोपाल के नीलबड़ में एक स्थान पर वृक्षारोपण किया गया। यह स्थान एक युवा समूह अनंत मंडी द्वारा संधारित किया जाता है जिसमें वे कम्युनिटी के सहयोग के साथ कृषि करते हैं। यह कृषि और खाद्य वितरण का एक वैकल्पिक सामाजिक आर्थिक मॉडल है। जो निर्माता और उपभोक्ता को कृषि के जोखिमों को साझा करने की अनुमति देता है। 



पौधारोपण के पहले सभी ने मिलकर जय जगत गीत गाया इसके बाद देश के ग्रीन ड्राइव में योगदान देने के लक्ष्य के साथ, ग्लोबल वार्मिंग का पता लगाने और इस प्रकार जलवायु परिवर्तन पर इसके प्रभाव को कम करने, और अंततः अगली पीढ़ी के लिए एक बेहतर वातावरण प्रस्तुत करते हुए, टीम ने 20 से अधिक पेड़ लगाए।  पी.वी. राजगोपाल के साथ समान अधिकार कार्यकर्ता श्रीमती कुमुद सिंह, वरिष्ठ पत्रकार श्री सुनील गुप्ता, गांधीवादी विचारक श्री अरुण धान्यक, एकता परिषद के राष्ट्रीय समन्वयक श्री अनीश तिलनकेरी और अनंत मंडी एवं गो रूर्बन से जुड़े युवाओं को का एक समूह मौजूद रहा। प्रख्यात गांधीवादी और एकता परिषद के संस्थापक पी.वी. राजागोपाल ने विश्व शांति दिवस पर सुबह 6 बजे से एक दिन का उपवास शुरू किया जो शाम 6 बजे तक जारी रहा। उन्होंने साझा किया कि उनका उपवास सरकार को संवाद करने और इस देश के सबसे गरीब लोगों के हित में निर्णय लेने का साहस देने के लिए है। उन्होंने देश में चल रहे किसान आंदोलन के साथ अपनी एकजुटता को भी बढ़ाया। जय जगत 2020, न्याय और शांति के लिए एक वैश्विक आंदोलन, जय जगत माह का आयोजन कर रहा है। जो 11 सितंबर (विनोबा की 125 वीं जयंती) से 11 अक्टूबर (जय प्रकाश नारायण की जयंती) तक चलेगा।  इस अवधि में, विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा, जिनमें से एक दुनिया भर में अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस पर उपवास है।

कोई टिप्पणी नहीं: