सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 27 ऑक्टूबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 28 अक्तूबर 2020

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 27 ऑक्टूबर

शेहला से पति ने तीन बार बोला तलाक कोतवाली पुलिस ने दर्ज किया केवल दहेज प्रताडऩा का मामला

sehore news
सीहोर। तीन तलाक के मामले कोतवाली पुलिस दर्ज करने को तैयार नहीं है।  पुलिस दहेज एक्ट में ही मामले दर्ज कर फरियादिया पीडि़त मुस्लिम समाज  की महिलाओं और उनके परिजनों को चलता कर रहीं है। शहर में अबतक इस तरह के दो मामले सामने आ चुके है। सेकड़ाखेड़ी रोड भारती नगर निवासी शेहला पिता स्वर्गीय अबुसालेह के मामले में भी पुलिस ने मारपीट कर तीन तलाक देकर घर से निकाले वाले जमशेद नगर निवासी शेहला के पति शाहरूख पुत्र वहीद के खिलाफ दहेज के लिए परेशान करने का मामला दर्ज किया है। जबकी उक्त मामला साफ तौर पर तीन तलाक कानून के अंतर्गत आता है। फरियादिया शेहला का विवाह 19.11.2019 को रिति रिवाज अनुसार कस्वा जमशेद नगर निवासी शाहरुख आ . वहीद के साथ हुआ था । विवाह के दो माह बाद से ही शाहरूख व ससुर वहीद खा , सास सायरा बी  गुड्डी ननंद सबिया , फोजिया , देवर गुफरान द्वारा शेहला से सिलाई मशीन , गैस टंकी , एससीडी टीवी , मोबाईल एवं दो पहिया वाहन की मांग की जाने लगी थी।  शाहरूख ने  भी शेहला से अनेक घर से नगदी रूपये पैसे लाने की मांग की गई। कई बार शेहला  के  पिता ने शाहरूख  को रूपये पैसे दिए।  इस के बाद भी शेहला को शारीरिक व मानसिक प्रताडऩा दी गई। जिस  से पीडि़ता का  स्वास्थ्य खराब हो गया । स्वास्थ्य खराब होने पर पति व ससुराल वालों ने इलाज कराने से मना कर दिया । बीते दिनों शेहला को शाहरूख  ने तीन बार तलाक बोलकर आधी रात को घर से निकाल दिया । शेहला ने आपबीती अपने पिता व परिवारजनों बताई सदमें  के कारण शेहला के पिता अबुसालेह की मौत हो गई। बावजूद कोतवाली पुलिस ने केवल दहेज प्रताडऩा का हीं मामला दर्ज किया है। पीडि़त शेहला ने अमानवीय घटना करने वाले पति व उसके परिजनों के विरुद्ध तीन तलाक  कानून अंतर्गत कड़ी कानूनी कार्यंवाही करने की मांग जिला प्रशासन से की है।

संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत की उपस्थिति में "किसान खेत पाठशाला" हेतु मास्टर ट्रेनर्स का प्रशिक्षण हुआ प्रारंभ

 

sehore news
प्रदेश में सीहोर जिले से "किसान खेत पाठशाला" अभियान को प्रारंभ किया जा रहा है। जिस संबंध में चयनित मास्टर ट्रेनर्स का प्रशिक्षण कार्यक्रम मंगलवार को संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत की उपस्थिति में जिला पंचायत सभाकक्ष में शुरू हुआ। इस अवसर पर भोपाल कलेक्टर श्री अविनाश लावानिया, विदिशा कलेक्टर श्री पंकज जैन, ज़िला पंचायत सीइओ भोपाल श्री विकास मिश्रा भी उपस्थित थे। श्री कियावत ने बताया कि इस अभियान का मुख्य उद्देश्य कृषको की आय को दोगुना करना है। उपलब्ध संसाधनों से ही किस प्रकार बेहतर फसल उत्पादन हो सके यह बात ग्रामीण स्तर तक पहुंचानी है। किसानों की लागत में कमी लाना, बीज-खाद-कीटनाशक प्रबंधन आदि की जानकारी, सिंचाई के लिए उपकरणों की जानकारी, फसल कटाई से पूर्व व बाद का प्रबंधन, मृदा परीक्षण की उपयोगिता, पोषण संवेदी कृषि के प्रति जागरूकता, पशुपालन के लिए कृषको को प्रेरित कर दुग्ध उत्पादन क्षमता में वृद्धि, पशु आहार प्रबंधन, पशुओं का उपचार आदि की जानकारी किसानों को प्रदान करते हुए उन्हें यह भी समझना है कि किस प्रकार वे अपने खेत की मेढ़ पर फलदार वृक्ष ऊगा सकते हैं, खाली पड़ी ज़मीन पर फल या बेल-नुमा सब्ज़ी के पौधे लगा सकते हैं। कृषकों के पारंपरिक ज्ञान को विज्ञान व तकनीक से मज़बूती प्रदान करके उनकी आय में वृद्धि के स्त्रोत उत्पन्न करना है। संभागायुक्त ने कलेक्टर, पंचायत विभाग, कृषि विभाग, उद्यानिकी विभाग आदि को निर्देशित किया कि सभी आपस मे समन्वय कर इस अभियान को सफल बनायें। ग्राम पंचायत स्तर पर परंपरागत व्यवस्थाओं के साथ साथ तकनीक व प्रबंधन के ज़रिए कृषकों की आय बढ़ाने का प्रयास करें। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि किसानों से नरवाई प्रबंधन के बारे में बात अवश्य की जाए। ज़िला प्रशासन ज़िले में आने वाले हार्वेस्टरों कि जांच कर बिना रिपर वाले हार्वेस्टर को ज़िले में न आने दिया जाए। नरवाई जलाने से मिट्टी की गुणवत्ता नष्ट होती जाती है और मिट्टी में रहने वाले कृषक मित्र जीव जैसे केंचुआ भी मर जाता है। अतः कृषको को नरवाई न जलाने के लिए प्रेरित करें साथ ही इस संबंध में नियामों का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध कारवाही करने के निर्देश कलेक्टर को दिए।श्री कियावत ने कहा कि हमारा किसानों से सीधा संवाद होना चाहिए ताकि आपदा की स्थिति में भी हम उनके साथ मिलकर समस्या से लड़ सकें। sms या व्हाट्सएप के माध्यम से समय समय पर किसानों को सही जानकारी भी भेजी जाएगी। इसके अलावा उन्होंने ग्राम पंचायत स्तर पर प्रदर्शनी लगाने के भी निर्देश दिए। प्रदर्शनी में कृषि संबंधी सभी आयामो पर चर्चा, पौधे रोपने की बारीकियां व शासन द्वारा कृषकों के लिए चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी आदि दी जाएगी। उन्होंने सभी मास्टर ट्रेनर को निर्देशित किया कि ऐसे प्रयास किए जाएं कि खेत पाठशालाओं के माध्यम से फसलों की उत्पादन, उत्पादकता एवं कृषकों की आय में वृद्धि के लिए मील का पत्थर साबित हो, इस भावना को ध्यान में रखते हुए कृषकों के बीच सामन्‍यजस स्थापित कर पाठशालाएं आयोजित की जाएं। बैठक में कलेक्टर श्री अजय गुप्ता, ज़िला पंचायत सीइओ श्री हर्ष सिंह, कृषि महाविद्यालय के डीन, उपसंचालक कृषि श्री एसएस राजपूत, कृषि विज्ञान केन्द्र सेवनिया के वैज्ञानिक डॉ जेके कन्नोजिया, डॉ विमलेश कुमार सहित अन्य संबंधित अधिकारी, वैज्ञानिक व मास्टर ट्रेनर्स उपस्थित थे। (फोटो संलग्न)

2 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई वर्तमान में कोरोना एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 101 है

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि पिछले 24 घंटे के दौरान 2 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है। सीहोर शंकर कालोनी एवं स्थानीय आष्टा से 1-1 व्यक्ति कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है। जिले में एक्टिव/ पॉजीटिव की संख्या 101 है। 34 व्यक्तियों को रिकवर होने के उपरांत डिस्चार्ज किया गया है। जिले में कुल डिस्चार्ज/रिकवर व्यक्तियों की संख्या 1944 है। संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु संख्या 41 है। आज 131 सैम्पल लिए गए है। सीहोर शहरी क्षेत्र से 14  सैम्पल लिए गए, नसरूल्लागंज 55, आष्टा से 30, इछावर से 13, श्यामपुर से 08, बुदनी से 11 सैम्पल लिए गए हैं। आज पॉजीटिव मिले नए कंटेनमेंट जोन सहित समस्त कंटेनमेंट एवं बफर जोन में स्वास्थ्य दलों द्वारा सघन स्वास्थ्य सर्वे किया जा रहा है। वहीं पॉजीटिव मिले व्यक्तियों के करीबी संपर्क वाले व्यक्तियों की पहचान कर उनकी सूची तैयार की जा रही है। प्रत्येक कंटेनमेंट जोन में सर्वे के लिए एक से दो दल लगाए गए है । सर्वे दल के प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को बनाया गया है तथा स्वास्थ्य सर्वे दल में ए.एन.एम. आशा कार्यकर्ता, आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाई गई है। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 2086 है जिसमें से 41 की मृत्यु हो चुकी है 1944 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है तथा वर्तमान में एक्टिव/ पॉजीटिव की संख्या 101 है। आज 131 सैंपल जांच हेतु लिए गए। जिले से अब तक कुल 33011 सेम्पल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 30132 सेंपलों की रिपोर्ट अब तक निगेटिव प्राप्त हुई है। आज 561 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है। कुल 722 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में है उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 काल सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर-7247704181 है कोविड-19 से संबंधित जानकारी इस संपर्क नंबर पर ली व दी जा सकती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसीन के लिए संपर्क नंबर 07562-401259 जारी किया गया है तथा राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर काल करके भी टेलीमेडिसीन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। ई-संजीवनी ओपीडी सेवा हेतु www.esanjeevaniopd.in पंजीयन कराया जा सकता है। कलेक्टेट कार्यालय सीहोर में भी जिला स्तरीय काल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-226470 है तथा होम क्वारंटाइन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है जिस पर संस्थागत क्वारंटाइन अथवा होम क्वारंटाइन व्यक्ति या उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साईकोलाजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से निःशुल्क प्राप्त कर सकते है।

अल्पसंख्यक प्री-मेट्रिक, पोस्ट मेट्रिक एवं मेरिट कम मीन्स छात्रवृत्ति योजनाओं में केवल नवीनीकरण पात्रता के संबंध में निर्देश   

पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक कल्याण विभाग सहायक संचालक ने जानकारी देते हुए बताया कि भारत सरकार अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के माध्यम से संचालित अल्पसंख्यक प्री-मेट्रिक, पोस्ट मेट्रिक एवं मेरिट कम मीन्स छात्रवृत्ति योजनाओं के अन्तर्गत वर्ष 2020-21 में आवेदकों द्वारा भरे जाने वाले केवल नवीनीकरण आवेदनों के लिए 50 प्रतिशत अंकों की पात्रता को शिथिल किया गया है।    

जिले में अवैध मदिरा के विरुद्ध चलाये गए अभियान के अन्तर्गत 26 प्रकरण में 30 व्यक्तियों को किया गिरफ्तार

मध्यप्रदेश आबकारी आयुक्त द्वारा अवैध रूप से बेची जा रही मदिरा के विरुद्ध विशेष अभियान चलाए जाने के आदेश तथा अन्य स्थानों में इस प्रकार से बेची जा रही अवैध मदिरा के सेवन से हुई जनहानियों को देखते हुए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता द्वारा जिले में आबकारी से संबंधित अपराधों के विरुद्ध विशेष अभियान चलाए जाने के निर्देश जिला आबकारी अधिकारी को दिए गए। कलेक्टर के निर्देशानुसार जिला आबकारी अधिकारी श्रीमती कीर्ति दुबे के नेतृत्व में सीहोर वृत के सीहोर, दोराहा, आष्टा बुदनी, नसरुल्लागंज में 19 से 25 अक्टूबर 2020 तक मध्यप्रदेश आबकारी अधिनियम की धारा 1915 के अंतर्गत 26 प्रकरण कायम कर 30 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया। इन प्रकरणों में करीब 10.49 बल्क लीटर देशी मदिरा, 4.55 लीटर विदेशी मदिरा 10 लीटर हाथ भट्टी कच्ची मदिरा एवं 20 ग्राम महुआ लहान जप्त किया गया।    इस कार्रवाई में समस्त टीम का योगदान रहा। अवैध मदिरा के विरुद्ध आगे भी इसी प्रकार अभियान निरंतर जारी रहेगा।       

किसानों के लिये मोबाइल एप लॉच

कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय भारत सरकार द्वारा किसानों के लिये एप तैयार किया गया है। इस FARMS (Farm Machinery Solutions) एप को डाउनलोड करके किसान अपने कृषि कार्य हेतु 200 किमी के क्षेत्र में स्थित फार्म मशीनरी बैंक संचालकों से कृषि मशीनरी तत्काल किराये पर प्राप्त कर आधुनिक उन्नत मशीनों से खेती कर सकते है। 

अमानक बीज विक्रेताओं का लायसेंस निरस्त कर दंडात्मक कार्यवाही करने के कृषि अधिकारियों को दिए निर्देश

संयुक्त संचालक किसान कल्याण तथा कृषि विकास श्री बी के बिलैया ने किसान कल्याण तथा कृषि विकास स्तर के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि  बीज गुण नियंत्रण अंतर्गत प्रभावी कार्यवाही हेतु मध्यप्रदेश शासन, किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग से प्राप्त निर्देशानुसार कार्रवाई सुनिश्चित करें। बीज अधिनियम 1966,  बीज नियम 1968 एवं  बीज नियंत्रण  आदेश 1983 मे निहित प्रावधान अनुसार लाइसेंस निलंबित/निरस्त/ न्यायालयीन कार्यवाही सुनिश्चित की जाये। जारी आदेश में कहा गया है कि बीज कंपनियों द्वारा अप्रमाणित किस्में जिन्हें  अन्य नाम देकर विभागीय अनुमति के बिना विक्रय किया जा रहा है तथा बीजों की गुणवत्ता के बारे में भ्रामक जानकारी प्रसारित की जा रही है, इस पर तुरंत रोक लगाएं। जिला स्तर के एवं क्षेत्रीय स्तर के सभी अधिकारी सघन जांच करें, यदि कोई भी डीलर, डिस्ट्रीब्यूटर और ट्रेडर बिना विभागीय विक्रय अनुमति के तथा अप्रमाणित भ्रामक बीजों  का विक्रय कर रहा है तो उसका बीज विक्रेता लायसेंस तुरंत निरस्त कर उसके विरुद्ध दंडात्मक कार्यवाही भी करें। इसकी जानकारी निर्धारित प्रारूप में किसान कल्याण तथा कृषि विकास संचालनालय के ईमेल  dagseed@mp.gov.in पर प्रतिदिन भेजना सुनिश्चित करें।  शासन से प्राप्त निर्देशों के तारतम्य में जिला स्तर पर सहायक संचालक किसान कल्याण तथा कृषि विकास स्तर के अधिकारी को दल प्रमुख बनाकर क्षेत्रीय बीज निरीक्षकों का संयुक्त जांच दल का गठन किया जाएगा जो जिला स्तरीय जांच दल सघन जांच करेगा। अनियमितता के पाए जाने पर बीज अधिनियम 1966,  बीज नियम 1968 एवं  बीज नियंत्रण आदेश 1983 मे निहित प्रावधान अनुसार लाइसेंस निलंबित,निरस्त,कर न्यायालयीन  कार्यवाही सुनिश्चित की जाये। की गई कार्रवाई का साप्ताहिक प्रतिवेदन संचालनालय भेजना सुनिश्चित करेंगे। आदेश में उपरोक्त्त कार्यवाही तत्काल प्रभाव से करने के निर्देश भी दिए गए हैं।  

छह दिवसीय ऑनलाइन अल्पविराम कार्यक्रम 31 अक्टूबर तक

मध्यप्रदेश शासन अध्यात्म विभाग अंतर्गत संचालित राज्य आनंद संस्थान द्वारा छह दिवसीय ऑनलाइन अल्पविराम कार्यक्रम 26 से 31 अक्टूबर 2020 हेतु पंजीयन प्रारंभ है। संस्थान की वेबसाइट www.anandsansthan.mp.in पर जाकर पंजीयन किया जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए राज्य आनंदम संस्थान के स्टेट मास्टर ट्रेनर डॉ केपी तिवारी से मो. 9407816488 पर संपर्क किया जा सकता है। 

मच्छरदानी का उपयोग करने और घरों के आस-पास नीम का धुआं करने की स्वास्थ्य विभाग ने नागरिकों को दी सलाह

मलेरिया - डेंगू से बचाव के लिए बच्चों को पूरे अस्तीन के कपड़े पहनायें

वर्तमान मौसम परिवर्तन की स्थितियों में सामान्य रूप से मच्छर जनित बीमारियों से प्रभावित होने की आशंका आमजन के लिए बढ़ जाती है। वर्षा के बाद जगह-जगह पानी भरा है जिसमें मलेरिया और डेंगू के मच्छर पनपते है ऐसे पानी भराव वाली स्थानों पर दवाई का छिड़काव व बड़ी जगहों पर गम्बूसिया मछली डाली जा रही है। घरों में टयूब-टायर, बर्तनों में पानी भरा नहीं रहने दें। प्रत्येक 2-3 दिन में कूलर का पानी बदलते रहें। घरों में मच्छरदानी का प्रयोग करें। बच्चों को पूरे अस्तीन के कपड़े पहनायें और शाम को घरों के आस-पास नीम का धुआं करें।  बुखार के लक्षण दिखाई देने पर तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर जाकर उचित जांच एवं उपचार कराना चाहिए। मलेरिया की जांच कराए रक्त पट्टिका बनाकर खून को जांच कराए। डॉक्टर की सलाह पर ही दवाई गोली ले और इसके साथ ही टाइफाइड से बचने के लिए  पेयजल छानकर एवं उबालकर उपयोग करें, बाहर का खाना खाने से बचें। ठेले पर बिकने वाले खाद्य पदार्थों एवं पेय पदार्थों का उपयोग नहीं करें । फल या सब्जी को पानी से धोकर ही उपयोग करें। खाना खाने से पहले अपने हाथ साबुन से अच्छी तरह धोएं। व्यक्तिगत स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें। घर के आसपास साफ-सफाई का ध्यान रखें। किचन में भोज्य पदार्थ ढांक कर रखें। पानी पीने के लिए हेंडल वाले मग का उपयोग करें। बासी भोजन का प्रयोग ना करे, ताजा भोजन करें। दरवाजों के हैंडल, टेलीफोन व नल पर होने वाली गंदगी से बचें। नियमित तथा तेज बुखार के साथ उल्टी की शिकायत होने पर नजदीकी शासकीय स्वास्थ्य केन्द्र पर चिकित्सक से संपर्क करें। सभी सरकारी अस्पतालों में मलेरिया और डेंगू  की जॉच उपचार की सुविधा निःशुल्क उपलब्ध है।  

अखिल भारतीय सैनिक स्कूल प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन 19 नवम्बर तक

अखिल भारतीय सैनिक स्कूल प्रवेश परीक्षा 2021 के लिए इच्छुक अभ्यर्थी 20 अक्टूबर से आगामी 19 नवंबर के मध्य aissee.nta.nic.in पर केवल ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। परीक्षा शुल्क का भुगतान डेबिट, क्रेडिट कार्ड, इंटरनेट बैंकिंग या पेटीएम वॉलेट का उपयोग करते हुए पेमेंट गेटवे के माध्यम से किया जाएगा। देश भर के 33 सैनिक स्कूलों में कक्षा छठी एवं कक्षा नवी में शैक्षणिक वर्ष 2021-22 में प्रवेश के लिए एआईएसएसईईई 2021 का संचालन करेगा। सैनिक स्कूल केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से संबद्ध का अंग्रेजी माध्यम आवासीय एवं सीबीएसई से संबद्ध और सैनिक स्कूल सोसायटी द्वारा संचालित विद्यालय हैं। यह विद्यालय राष्ट्रीय रक्षा अकैडमी, भारतीय नौसेना अकैडमी तथा अन्य प्रशिक्षण अकैडमी में प्रवेश के लिए कैडेटों को तैयार करते हैं। परीक्षा की तिथि आगामी 10 जनवरी 2021 रहेगी। परीक्षा का मोड पेन एवं पेपर ओएमआर आधारित रहेगा। पेपर पेटर्न बहुविकल्पीय प्रश्नों का होगा। कक्षा छठी में प्रवेश के लिए उम्मीदवार की आयु 31 मार्च 2021 को 10 वर्ष से 12 वर्ष के बीच होना चाहिए। सभी सैनिक स्कूलों में छात्राओं के लिए प्रवेश परीक्षा केवल कक्षा छठी में उपलब्ध है। कक्षा 9वीं में प्रवेश के लिए उम्मीदवार की आयु 31 मार्च 2021 तक 13 वर्ष से 15 वर्ष के बीच होनी चाहिए और प्रवेश के समय मान्यता प्राप्त स्कूल से कक्षा आठवीं में उत्तीर्ण होना चाहिए। परीक्षा शुल्क अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के लिए 400 रूपए एवं अन्य के लिए 550 रूपए रहेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: