व्यक्तित्व : बेगम की ठुमरी की मुरीद थी पूरी दुनिया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 15 अक्तूबर 2020

व्यक्तित्व : बेगम की ठुमरी की मुरीद थी पूरी दुनिया

begam-akhtar
लखनऊ,  बेगम अख्तर का नाम आते ही मन में गजल,ठुमरी और दादरा का ख्याल आता है जिसे सुन कर लोग झूम उठते थे । उनकी आवाज का जादू ऐसा था कि कोई एकबार सुन ले तो उनका दीवान हो जाये ।उनकी शख्सीयत बेमिसाल थी तो लखनऊ को अपने इस हुनरमंद शख्सीयत पर नाज था और है । बेगम की ठुमरी को सुनने वाला उनका मुरीद हो जाता था । वो अपनी मर्जी की मालकिन थी । सात अक्तूबर 1914 को फैजाबाद में जन्मीं बेगम अख्तर 1938 में लखनऊ आयीं और यहीं की हो कर रह गईं । उनका लखनऊ आना आइडियल फिल्म कंपनी के काम से हुआ था । हालांकि वो फिल्मों में गाने के लिये तब की बंबई और आज की मुम्बई चली गईं लेकिन वहां की दुनिया उन्हें रास नहीं आई और लखनऊ की याद सताने लगी । फिल्मी दुनिया की चमक दमक उन्हें पसंद नहीं थी इसलिये वापस लखनऊ आ गईं । बेगम अख्तर ने संगीत प्रेमियों को गजल की विरासत सौंपी । उन्होंने कई जगह अपनी आवाज का जादू बिखेरा । ,, ऐ मोहब्बत तेरे अंजाम पे रोना आया ,, गजल जब दूरदर्शन पर अब भी जब सुनाई देती तो लोग ठिठक कर सुनने को बाध्य हो जाते । उनका दिल हमेशा लखनऊ के लिये धड़कता था । उन्होंने लंबे समय तक लखनऊ दूरदर्शन के लिये काम किया । इतिहासकार योगेश प्रवीण कहते हैं कि वो अपनी मर्जी की मालकिन थी । राजा महराजाओं को भी उनकी जिद के आगे झुकना पड़ता था । बेगम का जन्म जिस महीने में हुआ ,उसी महीने में उनका इंतकाल भी हुआ । बेगम ने 30 अक्तूबर 1974 को दुनिया छोड़ दी । उनकी वसीयत के अनुसार पुराने लखनऊ के ठाकुरगंज इलाके में उनकी मां के बगल में ही उनकी मजार है । उनकी जन्म और पुण्यतिथि पर कुछ लाेग जुटते हैं और मोमबत्ती जला कर चले जाते हैं । गंगा जमुनी तहजीब के इस शहर में कोई यह देखने वाला भी नहीं कि उनकी कब्र अब किस हालत में है ।

कोई टिप्पणी नहीं: