विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 03 नवम्बर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 3 नवंबर 2020

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 03 नवम्बर

घाटखेड़ी चैराहे से करैया मार्ग निर्माण कार्य स्वीकृती पर विधायक भार्गव का आभार व्यक्त किया


विदिशाः- विदिशा विधायक शशांक भार्गव के सफल प्रयासो से अहमदपुर से करैया रोड पर ग्राम घाटखेड़ी चैराहे से करैया मार्ग तक डामरीकरण कार्य की स्वीकृती पर ग्रामवासियों द्वारा विधायक शशांक भार्गव के प्रति हृदय से आभार व्यक्त किया है, ग्रामवासियों ने कहा, कि सड़क निर्माण कार्य के अभाव में काफी परेशानी का सामना करना पड रहा था। विधायक जी से ग्राम के लोगों ने आग्रह किया, जिसके क्रम में विधायक भार्गव द्वारा प्रधानमंत्री ग्राम संड़क योजना अंतर्गत उक्त कार्य की स्वीकृती हेतु प्रस्तावित किया गया जिसके केे क्रम सड़क निर्माण की स्वीकृती हो सकी एवं ग्राम वासियो की वर्षाे से चली आ रही सड़क की मांग पूरी होने पर स्थानीय ग्रामवासियां एवं कार्यकर्ताओं न विधायक शशांक भार्गव का आभार व्यक्त किया। आभार व्यक्त करने वालो में प्रमुख किसान नेता मोहर सिंह रघुवंशी, विकास ठाकुर, मलखान सिंह, जितेन्द्र ठाकुर, बुल्लन शर्मा, राजू ठाकुर, वीरेन्द्र ठाकुर, धीरज सिंह ठाकुर, इमरतसिंह, दशरथ सिंह ठाकुर, अमर सिंह ठाकुर, मदन ठाकुर, लईक खान, लखपत सिंह धाकड़, विकास शर्मा, छगन ठाकुर, राजाराम किरार, राजकुमार शर्मा, आदि ने विधायक विदिशा के विकास के प्रति दिये जा रहे सहयोग के लिए धन्यवाद व्यक्त किया।

किसान खेत पाठशाला का आयोजन जारी हर रोज 54 ग्राम पंचायतों में दी जा रही है जानकारी 

vidisha news
विदिशा जिले के कृषकों को कृषि संबंधी अद्यतन तमाम जानकारियां सुगमता से ग्राम पंचायत में ही उपलब्ध हो सकें इसके लिए जिले में नवाचार किसान खेत पाठशाला के माध्यम से किया गया है।  किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उप संचालक श्री पीके चौकसे ने किसान खेत पाठशाला आयोजन के तहत उद्वेश्यों की प्राप्ति हेतु क्रियान्वित रणनीति के अनुसार कार्यो के सम्पादन हेतु हर रोज 54 ग्राम पंचायतों में दल के सदस्य पहुंचकर प्रत्येक ग्राम पंचायत में मौजूद किसानों को मिट्टी का परीक्षण, बीजोपचार, कीटव्याधि से बचाव के उपाय, सिंचाई के प्रबंध के अलावा आधुनिक तरीको से कृषि, उद्यानिकी फसलो को लेने के अलावा आमदनी में वृद्वि हो इसके लिए पशुधन को बढ़ावा देने के प्रबंधो से अवगत कराया जा रहा है। हर ग्राम पंचायत में प्रथम चरण में संवाद स्थापित कर जानकारी दी जाती है और किसानो की शंकाओं का समाधान किया जाता है। इसके पश्चात् ग्राम के किसी एक कृषक के यहां आधुनिक कृषि के संबंध में बताई गई जानकारियों के अनुसार प्रेक्टिकल अवगत कराया जाता है जैसे कि किसानबंधु अपने खेत की मिट्टी का परीक्षण कराने के लिए किस प्रकार मिट्टी को इकट्ठा करें। बीजोपचार से होने वाले फायदे, बुआई कराने के उपयोग में लाए जाने वाले उपकरण खरपतवार से बचाव के उपाय तथा सिंचाई के प्रबंधन इत्यादि की जानकारी दी जा रही है। इसी प्रकार फलोद्यान को बढावा देने के लिए उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों, कर्मचारियों द्वारा उद्यानिकी फसलों की पैदावार से होने वाले मुनाफो को अवगत कराया जा रहा है वही उन्नत नस्ल के गाय, भैस पालन से होने वाले दुग्ध उत्पादन की वृद्वि तथा देशी नस्ल के गौवंशीय पशुओं की नस्ल सुधार हेतु विभाग के माध्यम से योजनाओं के तहत लाभ लेने के उपायों से अवगत कराया जा रहा है।

किसान खेत पाठशाला 12 नवम्बर तक आयोजित 

किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उप संचालक श्री पीके चौकसे ने बताया कि जिले में किसान खेत पाठशाला का आयोजन 12 नवम्बर तक जारी रहेगा। गठित दल जिले के 54 ग्राम पंचायतों में हर रोज भ्रमण कर रहे है। उप संचालक श्री चौकसे ने विकासखण्डवार गठित दल की जानकारी देते हुए बताया कि बासौदा में सर्वाधिक दस दल गठित किए गए है। विदिशा एवं सिरोंज में क्रमशः नौ-नौ, नटेरन में आठ, ग्यारसपुर एवं कुरवाई में क्रमशः सात-सात तथा लटेरी में चार दल गठित किए गए है।

’समग्र आईडी से अपनी पात्रता जान सकते हैं खाद्यान्न उपभोक्ता’

पूरे प्रदेश में खाद्य सुरक्षा योजना से लाभान्वित परिवारों का सत्यापन किया जा रहा है। तैनात कर्मचारियों द्वारा घर-घर जाकर एम-राशन मित्र एप के माध्यम से सत्यापन किया जा रहा है। प्रत्येक उपभोक्ता गुगल प्ले स्टोर से इस एप को स्टाल कर सकते हैं। इसके माध्यम से उपभोक्ता अपनी पात्रता की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। एप में परिवार की समग्र आईडी से लागिन करने पर खाद्यान्न की पात्रता, पात्रता पर्ची के अनुसार परिवार के सदस्यों की जानकारी तथा परिवार प्रोफाइल की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। इसके माध्यम से आसपास की उचित मूल्य दुकान पीओएस मशीन की स्थिति, दुकान को खाद्यान्न आवंटन एवं वितरण की भी जानकारी प्राप्त की जा सकती है। शासन द्वारा खाद्यान्न वितरण के संबंध में दी जाने वाली सूचनाओं और सुविधाओं के लिए भी एम-राशन मित्र एप बहुत उपयोगी है। 

फुटकर आतिशबाजी लायसेंस हेतु आवेदन की अंतिम तिथि आज

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी डॉ पंकज जैन ने बताया है कि दीपावली पर फुटकर आतिशबाजी विक्रय के अस्थायी लायसेंस जारी करने हेतु संबंधित व्यवसायी अपने आवेदन पत्र चार नवम्बर की सांय चार बजे तक संबंधित उपखण्ड मजिस्ट्रेट कार्यालय में जमा कर सकते है।  अस्थायी अनुज्ञप्तियां अधिकतम 15 दिन के लिए जारी होगी अर्थात 11 नवम्बर से 25 नवम्बर तक के लिए। अस्थायी अनुज्ञप्तियां एलई-5 में जारी करने के अधिकार उपखण्ड मजिस्ट्रेट को दिए गए है। ततसंबंध में अन्य विस्तृत जानकारी व आवेदन प्रारूप एवं शर्तो के लिए संबंधित स्थानीय उपखण्ड मजिस्ट्रेट (एसडीएम) कार्यालय में कार्यालयीन दिवसों अवधि में संपर्क कर प्राप्त की जा सकती है।  कलेक्टर डॉ जैन ने बताया कि विदिशा जिले की तहसील क्रमशः विदिशा, बासौदा, सिरोंज, कुरवाई, लटेरी, ग्यारसपुर, नटेरन, शमशाबाद, त्योंदा, गुलाबगंज, पठारी में संबंधित उपखण्ड मजिस्ट्रेट द्वारा चयनित स्थानो के लिए हाट बाजारो को छोड़कर निर्धारित प्रारूप पर आवेदन पत्र, आवेदक के दो छाया चित्रों व चालान की मूल प्रति, आयु, निवास संबंधी दस्तावेंजो की छाया प्रति सहित संबंधित उपखण्ड मजिस्ट्रेट कार्यालय में इच्छुक आवेदक नियत तिथि तक आवेदन कर सकते है। ताकि उन्हें दीपावली पर्व 2020 पर आतिशबाजी विक्रय अस्थायी अनुज्ञप्ति जारी की जा सकें। 

विदेशी पटाखो के विक्रय पर प्रतिबंध

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी डॉ पंकज जैन ने जिले में विदेशी पटाखो के विक्रय पर पूर्णतः प्रतिबंध लगाने का आदेश जारी कर दिया है।  मिनिस्ट्री आफ कामर्स एण्ड इंडस्ट्री पेट्रोलियम एण्ड एक्सक्यूसिव सेफ्टी आर्गेनाइजेशन के द्वारा जारी पत्र का हवाला देते हुए कलेक्टर डॉ जैन ने पुलिस अधीक्षक, समस्त उपखण्ड मजिस्ट्रेट को पत्र प्रेषित कर जिले में विदेशी पटाखो के विक्रय संग्रह, भण्डारण पर प्रतिबंध लगाते हुए संबंधितों को पटाखा दुकानो का निरीक्षण करते हुए विदेशी फायर वर्क्स का विक्रय अथवा भण्डारण पाए जाने पर विस्फोटक अधिनियम अनुसार कार्यवाही कर अवगत कराने के निर्देश प्रसारित किए है। 

आत्म निर्भर भारत अभियान के उद्वेश्यों की प्राप्ति समय सीमा में करें

vidisha news
आत्म निर्भर भारत अभियान के तहत निर्धारित उद्वेश्यों की प्राप्ति समय सीमा में सुनिश्चित करने के निर्देश कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने सोमवार को समीक्षा बैठक में संबंधित विभागों के जिलाधिकारियों को दिए है।  कलेक्टर चेम्बर में सम्पन्न हुई इस बैठक में किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उप संचालक श्री पीके चौकसे, जिला उद्योग एवं व्यापार केन्द्र के महा प्रबंधक श्री पीडी वंशकार, लीड़ बैंक आफीसर श्री बीएल बघेल, नावार्ड के प्रतिनिधि के अलावा उद्यानिकी विभाग के सहायक संचालक श्री केएल व्यास तथा अशासकीय सदस्य श्री राम रघुवंशी के अलावा अन्य सदस्य मौजूद थे।  बैठक में प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्यम उन्नयन योजना, कृषि अवसंरचना कोष, आपरेशन ग्रीन्स (टॉपू टू टोटल) इत्यादि बिन्दुओं पर गहन विचार विमर्श कर निर्णय लिए गए है। उद्यानिकी विभाग के सहायक संचालक श्री केएल व्यास ने बताया कि एक जिला एक उत्पाद अर्थात ओडीपी के तहत विदिशा जिले को प्याज उत्पादन हेतु चिन्हित किया गया है। किन्तु विदिशा जिले में प्याज की बिक्री सीधे की जाती है अतः प्याज से बनने वाली खाद्य सामग्री के लिए किसी भी प्रकार का उद्योग स्थापित नही है साथ ही प्याज का रकवा क्षेत्र अन्य मसालीय फसलों से कम है। अतः बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया है कि प्याज के स्थान पर धनिया को एक जिला एक उत्पाद के लिए विदिशा जिले को गतवर्ष के अनुसार चिन्हित किया जाए।  बैठक में आत्म निर्भर भारत अभियान कार्यक्रम के चार प्रमुख अवयवो से अवगत कराया गया जिसमें निजी एवं समूह सूक्ष्म उद्योगो को सहायता, ब्राडिंग और विपणन सहायता, संस्थान सुदृढीकरण हेतु सहायता, मजबूत परियोजना प्रबंधन फ्रेमवर्क की स्थापना उपरोक्त अवयवो पर पृथक-पृथक चर्चा कर क्रियान्वयन में होने वाली दिक्कतो का समाधान किया गया है।  बैठक में एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फण्ड (कृषि अवसंरचना कोष) के तहत वित्तीय सहायता के लिए केन्द्र पोषित योजनाओं की जानकारी दी गई जिसमें ब्याज, अनुदान, प्रोत्साहन एवं ऋण गारंटी के संबंध में तथा किसानों के लिए विपणन सहकारी समितियां, बहुउद्वेशीय सहकारी समितियां, एग्री इन्टरप्रेन्योर एवं स्टार्टअप्स, बैंकिंग परिस्थितिकी तंत्र, उपभोक्ता के अलावा योजनाओं का क्रियान्वयन अवधि, समूहो को अनुदान, विभिन्न स्तरों पर घटक तहत पोस्ट हार्वेस्ट प्रबंधन परियोजनाएं जैसे ई-मार्केटिंग प्लेटफार्म, गोदाम, साइल, पैक हाउस, परख इकाई, ग्रेडिग एवं सोर्टिग यूनिट, कोल्ड चैन, लॉजिस्टिक्स सुविधा, प्राथमिक प्रसंस्करण, राईपेनिंग चेम्बर के अलावा वित्तीय सहायता के घटक व लागत मापदण्ड सहायता पैटर्न, जिला स्तरीय निगरानी समिति के अलावा ऑपरेशन ग्रीन्स (टॉप टू टोटल) के उद्वेश्यों, पात्र फसले योजना की अवधि, पात्रता व सहायता के मापदण्ड, अनुदान के लिए दावा प्रस्तुत करना इत्यादि की विस्तृत जानकारी दी गई है।

कोई टिप्पणी नहीं: