विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 13 नवम्बर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 13 नवंबर 2020

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 13 नवम्बर

भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू जी की जयंति पर एस.ए.टी.आई. केम्पस स्थित नेहरू जी की प्रतिमा पर कंाग्रेसी करेंगे श्रद्धा सुमन अर्पित


vidisha news
विदिषाः भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू जी की 131 वें जन्मदिवस के अवसर पर आज दिनांक 14.11.2020 दिन शनिवार को समय प्रातः 11 बजे स्थानीय एस.ए.टी.आई. काॅलेज स्थित पं. जवाहरलाल नेहरू जी की प्रतिमा पर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सहित विधायक शषांक भार्गव श्रद्धा सुमन अर्मित करेंगे। विधायक कार्यालय से जारी विज्ञप्ति में सभी ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष विदिषा शहर एवं ग्रामीण, युवा कांग्रेस, जिला कांग्रेस सेवादल, जिला असंगठित कामगार कांग्रेस, जिला महिला कांग्रेस, एन.एस.यू.आई., किसान कांग्रेस, पिछडा वर्ग विभाग, अल्प संख्यक कांग्रेस, अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ के पदाधिकारी, जनप्रतिनिधी एवं सभी मोर्चा संगठनों ने श्रद्धा सुमन कार्यक्रम में उपस्थित होने की अपील की है।


’सातवें वेतनमान की 25 प्रतिशत अन्तर राशि का भुगतान ऑनलाईन होगा’


जिला कोषालय अधिकारी द्वारा बताया गया कि शासन द्वारा सातवें वेतनमान की तृतीय किश्त को दो भागों में भुगतान किए जाने के आदेश किए गए हैं। इस आदेश के तहत तृतीय किश्त का 25 प्रतिशत भुगतान किया जाना है। यह भुगतान IFMIS System के माध्यम से भुगतान किया जाएगा। नियमानुसार इस राशि से जीपीएफ, डीपीएफ, एनपीएस, कटौता करने के साथ ही भुगतान की सुविधा उपलब्ध कराई गयी है। उन्होंने समस्त आहरण संवितरण अधिकारी से कहा है कि वे अन्तर राशि ऑनलाईन देयकों का जनरेशन कर कोषालय को सूचित करें। 


’फीस प्रतिपूर्ति के संबंध में जारी की समय सारणी’


निःशुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 के अंतर्गत गैर अनुदान मान्यता प्राप्त प्रायवेट स्कूलों में वंचित समूह एवं कमजोर वर्ग के निःशुल्क अध्ययनरत बच्चों की फीस प्रतिपूर्ति के संबंध में समय-समय पर निर्देश जारी किए गए है। जिन अशासकीय स्कूलों द्वारा ऑनलाईन प्रपोजल प्रस्तुत नहीं किए है, उनके संबंध में प्रपोजल तैयार करने तथा जिले स्तर से फीस प्रतिपूर्ति के लिए समय सारणी जारी की गई है।  जारी समय सारणी अनुसार सत्र 2017-18 के लिए प्रायवेट स्कूल द्वारा ऑनलाईन फीस प्रतिपूर्ति का प्रस्ताव जमा करने की अंतिम तिथि 20 नवंबर है। नोडल अधिकारी द्वारा सत्यापन की अंतिम तिथि 27 नवंबर तथा जिला शिक्षा केंद्र से प्रस्ताव के निराकरण की अंतिम तिथि 5 दिसंबर है। इसके अलावा सत्र 2018-19 के लिए प्रायवेट स्कूल द्वारा ऑनलाईन फीस प्रतिपूर्ति का प्रस्ताव जमा करने की अंतिम तिथि 25 नवंबर है। वहीं नोडल अधिकारी द्वारा सत्यापन की अंतिम तिथि 2 दिसंबर तथा जिला शिक्षा केंद्र से प्रस्ताव के निराकरण की अंतिम तिथि 15 दिसंबर है।  सत्र 2019-20 की फीस प्रतिपूर्ति के लिए पोर्टल प्रारंभ है। जिला परियोजना समन्वयक समस्त गैर अनुदान मान्यता प्राप्त अशासकीय स्कूल, जिनकी सत्र 2019-20 की फीस प्रतिपूर्ति होना है, उन प्रायवेट स्कूलों को नोडल अधिकारी से मेप करें। साथ ही नोडल अधिकारी को निर्देशित करें कि स्कूल द्वारा बनाए गए प्रपोजल पर 7 दिवस में सत्यापन की अनिवार्यतः कार्यवाही पूर्ण करें।


प्रवेश की तिथि बढ़ाई गई - आईटीआई में 20 तक प्रवेश’


भारत सरकार के अनुमोदन अनुसार आईटीआई में प्रवेश तिथि 20 नवम्बर 2020 तक बढाई गई है। आईटीआई में संचालित ट्रेड्स में उपलब्ध रिक्त सीटों पर प्रवेश के लिये पुनरू ऑनलाईन नवीन रजिस्ट्रेशन एवं च्वॉइस फिलिंग के लिए 15 नवम्बर 2020 तक पोर्टल खुला रहेगा। ऐसे आवेदक जिन्होंने पूर्व में च्वॉइस फिलिंग कर रखी थी, अब वह स्वतरू समाप्त हो जाएगी अर्थात् पूर्व में रजिस्टर्ड आवेदकों के लिये पुनरू नवीन च्वॉइस फिलिंग करना अनिवार्य होगा, अन्यथा च्वॉइस फिलिंग नहीं करने की स्थिति में प्रवेश प्राप्त नहीं कर सकेंगे। कोविड-19 को दृष्टिगत रखते हुए प्रवेश शुल्क दो किश्तों में जमा करने की सुविधा के तहत प्रवेश लेते समय प्रथम किश्त 2 हजार रूपए तथा 3 माह बाद शेष राशि रूपये 2380 जमा करना होंगे तथा रिक्त सीटों की जानकारी के लिये नजदीकी शासकीय आईटीआई अथवा कियोस्क सेन्टर से जानकारी प्राप्त कर सकते है। संचालित एक वर्षीय व दो वर्षीय इंजीनियरिंग, नॉन इंजीनियरिंग ट्रेड्स में डीएसटी, एनसीवीटी की सीटें रिक्त हैं, जिनमें आवेदक च्वॉइस फिलिंग कर प्रवेश ले सकते हैं। 


शीत ऋतु में कोविड-19 के नियंत्रण के लिए सामान्य निर्देश’


जन समुदाय में ठंड से समुचित बचाव  (Protection from cold exposure) के उपाय जैसे लम्बी आस्तीन वाले परिधानों का उपयोग, ऊनी कपड़े अथवा कई परतों वाले वस्त्र पहनना, सिर तथा तलवों में ठंड से बचाने, शारीरिक तापमान में आकस्मिक परिवर्तन से बचाव जैसे उपायों संबंधी जागरूकता लाई जाए। शीत ऋतु में प्रायः घरों में खिड़की- दरवाजे बंद रखे जाने के कारण घरेलू सदस्यों में श्वसन संक्रमण जैसे सर्दी, खांसी, मौसमी फ्लू आदि की भी अधिकता देखी जाती है, जिसके बचाव के लिए शारीरिक दूरी, मास्क का उपयोग, बार-बार हाथों की स्वच्छता साबुन-पानी से हाथ धोकर अथवा सैनिटाईजर का उपयोग कर तथा श्वसन शिष्टाचार का पालन कर सुनिश्चित किया जाए। सर्दियों के मौसम में अक्सर धुआँ अथवा प्रदूषणयुक्त हवा नीचे जमती है, जिससे श्वसन, ह््रदय रोग से ग्रस्त व्यक्तियों तथा बुजुर्गों को अधिक समस्या हो सकती है। ऐसी संवेदनशील व्यक्तियों द्वारा घर से बाहर निकलने से परहेज किया जाए। बंद तथा भीड़-भाड़ वाले स्थलों जैसे बाजार, मनोरंजन, पार्क, थियेटर, धार्मिक आयोजन विवाह समारोह आदि में जाने से बचा जाए। यदि ऐसे स्थलों पर जाना अत्यंत आवश्यक है तो, सामूहिक जमावट वाले स्थलों पर कोविड-19 की रोकथाम के लिए समुचित व्यवहारों का पालन किया जाए।

’कोविड-19 की रोकथाम के लिए समुचित व्यवहार’

न्यूनतम 6 फीट की शारीरिक दूरी अपनाई जाए। फेस कवर, मास्क का उपयोग अनिवार्यतः किया जाए। हाथ गंदे न दिखने पर भी बार-बार साबुन पानी से न्यूनतम 40-60 सेकेण्ड तक अथवा एल्कोहॉलयुक्त हैन्ड सैनिटाईजर न्यूनतम 20 सेकेण्ड तक अच्छी तरह साफ किया जाए। खांसते-छींकते समय मुख को टिशू, रूमाल, मुडे हुए बाह का उपयोग करने संबंधी श्वसन शिष्टाचार का पालन किया जाए। उपयोग किये गये टिशू का सुरक्षित निपटान ढक्कन वाले डस्टबिन में किया जाए। अपने स्वास्थ्य की स्व-निगरानी की जाए एवं कोई भी लक्षण होने पर राज्य जिला हेल्प लाइन जिले का एसटीडी कोड व 1075 पर संपर्क किया जाए। सार्वजनिक स्थलों पर थूकने को वर्जित किया जाए।

’शीत ऋतु में कार्यस्थलों पर बरती जाने वाली सावधानियाँ’

कार्यस्थलों के खुले क्षेत्रों जैसे उद्यान, फूड, कोर्ट आदि का नियमित विसंक्रमण 1 प्रतिशत सोडियम होईपोक्लोराईट सॉल्यूशन से सुनिश्चित किया जाए। कार्यस्थलों के दरवाजे के हैन्डल, लिफ्ट के बटन, हैंड रेल, झूले, फिसल-पट्टियाँ, कुर्सी, टेबल, बेंच, शौचालय के नल आदि तथा दीवार एवं फर्श की सफाई ऑफिस खुलने से पहले 1 प्रतिशत सोडियम होईपोक्लोराईट सॉल्यूशन से सुनिश्चित करें। कार्यस्थलों पर सार्वजनिक हाथ धुलाई के स्थानों पर साबुन अथवा हैंड सैनिटाईजर की पर्याप्त व्यवस्था रखी जाए। पेयजल एवं हैंड वॉशिंग स्टेशन, शौचालय, शावर आदि की नियमित सफाई सुनिश्चित की जाए। सार्वजनिक स्थलों पर जगह-जगह पर ढक्कन वाले डस्टबिन रखे जाए ताकि समस्त अधिकारियो, कर्मचारियों तथा स्टाफ द्वारा उपयोग किये गये फेस कवर, मास्क का सुरक्षित निपटान किया जा सके। लिफ्ट में शारीरिक दूरी अपनाई जाए एवं एक समय पर केवल सीमित व्यक्तियों को ही प्रवेश दिया जाए।

’शीत ऋतु में संभावित प्रकरणों की वृद्धि को दृष्टिगत रखते हुए प्रशासनिक व्यवस्थाएं’

ऐसी बसाहटों, क्षेत्रों में जहाँ नवीन रूप से अधिक संख्या में एक्टिव कोविड-19 के प्रकरण प्रतिवेदित हो रहे हो वहाँ कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग की कार्यवाही को सुढृढ़ किया जाए। वर्तमान में कोविड-19 रोगियों की संख्या अनुरूप चिकित्सालयों में पर्याप्त बिस्तरों तथा ऑक्सीजन की उपलब्धता है किंतु प्रदेश में कोविड-19 के प्रकरण बढ़ने की संभावित परिदृश्य के लिए कार्ययोजना तैयार रखी जाए। शीत ऋतु को दृष्टिगत रखते हुए अस्पतालों में साफ एवं धुले हुए रजाई, कम्बल, श्वसन समस्याओं के प्रबंधन के लिए आवश्यक औषधियाँ, नेबुलाईजर, ऑक्सीजन आपूर्ति आदि की पर्याप्त व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाए। कोविड-19 संक्रमण की बढ़ने की स्थिति में कोविड-19 जाँच तथा सैम्पलिंग की सुविधा, रेफरल, होम आईसोलेशन अस्पतालों में उपलब्ध बिस्तर ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए समुचित नियोजन एवं आवश्यक रणनीतियाँ सुनिश्चित की जाए।

कोई टिप्पणी नहीं: