विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 17 नवम्बर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 17 नवंबर 2020

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 17 नवम्बर

औषधि विक्रेता खांसी-जुकाम के मरीजों की जानकारी सार्थक लाइट एप पर करेंगे अपलोड


vidisha news
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने जिले के समस्त औषधि विक्रेताओं को निर्देश दिए हैं कि कोविड-19 के बचाव एवं रोकथाम के लिए बुखार, खांसी, सर्दी जुकाम, सांस लेने में तकलीफ जैसे लक्षण के व्यक्तियों, मरीजों की जानकारी संकलित करने के लिए एमपी ऑनलाइन की लिंक एड्रेस http:fda.mponline.gov.in तथा भारत सरकार की एप्लीकेशन सार्थक लाईट एप के माध्यम से ऐसे मरीजों की जानकारी की एंट्री करें। लिंक एड्रेस एवं सार्थक लाईट एप्लीकेशन स्थापित कर वांछित जानकारी की प्रतिदिन प्रविष्टि करना सुनिश्चित करें। 


टाईफाईड से बचाव के लिए दूषित पेयजल और संक्रमित खाद्य पदार्थों का उपयोग नहीं करें


वर्तमान मौसम परिवर्तन की स्थितियों में सामान्य रूप से टाईफाईड और जलजनित बीमारियों से प्रभावित होने की आशंका आमजन के लिए बढ़  जाती है। टाईफाईड यानी मोतीझरा जिसे सामान्य भाषा में मियादी बुखार कहा जाता है, टाईफाईड सालमोनेला टाईफी नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। ये बेक्टीरिया सामान्यतरू दूषित पानी या संक्रमित खाद्य पदार्थों में ही पनपता हैं। दूषित पानी या संक्रमित भोज्य पदार्थ का उपयोग करने से व्यक्ति बीमार हो जाता है। तेज बुखार के साथ उल्टी, बदन दर्द, कमजोरी, सिरदर्द, पेटदर्द, भूख ना लगना आदि टाईफाईड के मुख्य लक्षण है।  लक्षण दिखाई देने पर तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर जाकर उचित जांच एवं उपचार कराना चाहिए। पेयजल छानकर एवं उबालकर उपयोग करें, बाहर का खाना खाने से बचें। ठेले पर बिकने वाले खाद्य पदार्थों एवं पेय पदार्थों का उपयोग नहीं करें। फल या सब्जी को पानी से धोकर ही उपयोग करें। खाना खाने से पहले अपने हाथ साबुन से अच्छी तरह धोएं। व्यक्तिगत स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें। घर के आसपास साफ-सफाई का ध्यान  रखें। किचन में भोज्य पदार्थ ढांक कर रखें। पानी पीने के लिए हेंडल वाले मग का उपयोग करें। बासी भोजन का प्रयोग ना करे, ताजा भोजन करें। दरवाजों के हैंडल, टेलीफोन व नल पर होने वाली गंदगी से बचें। नियमित तथा तेज बुखार के साथ उल्टी की शिकायत होने पर नजदीकी शासकीय स्वास्थ्य केन्द्र पर चिकित्सक से संपर्क करें। सभी सरकारी अस्पतालों में टाईफाईड की जॉच उपचार की सुविधा निःशुल्क उपलब्ध है। 


’नवीन मान्यता तथा नवीनीकरण के लिए आवेदन की अंतिम तिथि आज’


कोविड-19 महामारी के कारण स्कूल संचालकों की समस्याओं के दृष्टिगत वर्ष 2021-2022 में नवीन मान्यता तथा नवीनीकरण के लिए एमपी ऑनलाईन के मान्यता पोर्टल पर आवेदन किए जाने की अंतिम तिथि 18 नवंबर तक है। समस्त जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि मान्यता नवीनीकरण के लिए एमपी ऑनलाईन के मान्यता पोर्टल पर 18 नवंबर तक आवेदन अपलोड कराएं । वहीं 8 दिसंबर तक संबंधित जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा गठित दल के द्वारा किए गए निरीक्षण उपरांत अपनी अनुशंसा सहित प्रतिवेदन संभागीय संयुक्त संचालक को भजें। इसके पश्चात 31 दिसंबर तक संभागीय संयुक्त संचालक द्वारा नवीन मान्यता प्रकरणों, नवीनीकरण प्रकरणों में निर्णय लिया जाएगा।

’28 फरवरी तक रहेगी प्रथम अपील के निराकरण की अवधि’

28 फरवरी 2021 तक आयुक्त लोक शिक्षण द्वारा नवीन मान्यता एवं मान्यता नवीनीकरण के प्रकरणों में ऑनलाईन प्राप्त प्रथम अपील के निराकरण की अवधि तथा 16 मार्च तक जिन संस्थाओं के आवेदन आयुक्त लोक शिक्षण संचालनालय, मप्र स्तर पर निरस्त हुए हैं, उनके द्वारा मान्यता समिति को ऑनलाईन द्वितीय अपील की अवधि रहेगी। जबकि 15 अप्रैल तक मान्यता समिति द्वारा नवीन मान्यता एवं मान्यता नवीनीकरण के प्रकरणों में ऑनलाईन प्राप्त द्वितीय अपील के निराकरण की अवधि तथा मान्यता प्राप्त होने के बाद मंडल द्वारा निर्धारित तिथि तक संस्था द्वारा संबद्धता शुल्क जमा किए जाने पर माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा संबद्धता दी जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं: