बिहार : अचानक मंच डोलने के बाद धड़ाम से गिरने से पप्पू यादव घायल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 2 नवंबर 2020

बिहार : अचानक मंच डोलने के बाद धड़ाम से गिरने से पप्पू यादव घायल

नेताओं का मंच टूटने का सिलसिला जारी

pappu-yadav-injured
मीनापुर। पीडीए के सीएम मुख्यमंत्री कैंडिडेट व जाप सुप्रीमो पप्पू यादव चुनावी सभा के दौरान बुरी तरह घायल हो गए हैं।उनका दाहिना हाथ पूरी तरह से फ्रैक्चर हो गया है। अचानक मंच के टूटने के कारण यह हादसा हुआ है। जब पप्पू यादव जनता सो संबोधित कर रहे थे, उसी दौरान अचानक मंच डोलने लगा।अभी लोग कुछ समझ पाते की अचानक मंच धड़ाम से गिर गया। दरअसल मुजफ्फरपुर के मीनापुर में पीडीए प्रत्याशी वीणा देवी के पक्ष में चुनावी सभा कर रहे थे।पप्पू यादव को सुनने के लिए काफी संख्या में भीड़ जुटी हुई थी। लोग बड़े गंभीर होकर पप्पू यादव को सुन भी रहे थे। इसी बीच मंच पर काफी संख्या में लोग इकट्ठे हो गए।मंच पर लोगों की बढ़ती भीड़ के कारण अचानक टूट गया। मंच टूटने के बाद तत्काल वहां भगदड़ मच गयी।समर्थकों ने किसी तरह पप्पू यादव को टूटे मंच के मलबे से बाहर निकाला। आनन फानन में उन्हें पास के अस्पताल ले जाया गया। जहां प्राथमिक उपचार किया गया।पप्पू यादव के साथ कई समर्थकों को भी हल्की चोटें आयी है। जिन्हे इलाज के लिए पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बता दें कि पप्पू यादव लगातार चुनावी सभाएं कर रहे हैं।पीडीए समर्थित प्रत्याशियों की जीत के लिए एक दिन में कई-कई विधानसभा क्षेत्र में रैलियां कर रहे हैं।उन्होंने प्रतिज्ञा पत्र से पीडीए की घोषणा पत्र जारी की है।जिसमें उन्होंने 5 साल में बिहार में विकास करने का दावा किया है।उनकी माने तो अगर वो बिहार की सूरत नहीं बदल पाए तो राजनीति से सन्यास ले लेंगे।घटना के बाद जाप अध्यक्ष ने कहा कि जनता के प्यार और आशीर्वाद से मुझे ज्यादा चोट नहीं आई। लोगों की दुआएं मेरे साथ है। मैं स्वस्थ होकर जल्द ही जनता के बीच पुन: लौटूंगा। प्रथमदृष्टया यह मालूम होता है कि मंच पर समर्थकों की अधिक भीड़ हो जाने के कारण मंच टूट गया। बिहार विधानसभा चुनाव में आए दिन नेताओं के मंच टूट जा रहे हैं। अभी हाल में ही जिन्ना की तस्वीर के मामले में चर्चा में आए जाले विधानसभा के कांग्रेस उम्मीदवार मशकूर अहमद उस्मानी का मंच भाषण के बीच में ही टूट गया था। कांग्रेस नेता मशकूर ने मंच से जैसे ही सरकार गिराने की बात कही उसके सेकेंड भर के अंदर ही उनका ही मंच गिर गया। मंच टूटने से पहले मशकूर उस्मानी अपने भाषण में कहते नजर आ रहे हैं कि जनता को सरकार चुनने का मौका मिलता है।लोकतंत्र में लोग जानते है किसको कब उठाना है और कब गिरा देना है।जैसे ही मशकूर गिरा देना कहते हैं वैसे ही वो मंच समेत खुद ही गिर जाते हैं। इससे पहले पश्चिम चंपारण के बागही देवराज में कांग्रेस पार्टी की एक सार्वजनिक रैली के दौरान गुरुवार को मंच टूट गया था। कांग्रेस के नेता इमरान प्रतापगढ़ी और अखिलेश सिंह के साथ पार्टी के कई कार्यकर्ता मंच पर मौजूद थे, जिन्हें हल्की चोटें आई थीं।वहीं जेडीयू नेता और तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) के ससुर चंद्रिका राय (Chandrika Rai) की चुनावी सभा का मंच गिर गया था. मंच पर चंद्रिका राय को माला पहनाने की होड़ मची थी और उसी दौरान मंच टूटकर गिर गया था।

कोई टिप्पणी नहीं: